logo
(Trust Registration No. 393)
AIMA MEDIA
logo

राजकीय महाविद्यालय पिहानी में मनाया गया आजादी का अमृत महोत्सव

हरदोई। पिहानी कस्बे के राजकीय महाविद्यालय में आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम बड़ी धूमधाम के साथ मनाया गया। मुख्य अतिथि के तौर पर ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन के लखनऊ मंडल के मंडल अध्यक्ष श्री अतुल कपूर मौजूद रहे। मुख्य अतिथि श्री अतुल कपूर व कार्यकारी प्राचार्य भैयालाल ने महात्मा गांधी की मूर्ति पर माल्यार्पण किया। विद्यालय में मौजूद छात्र-छात्राओं ने वंदे मातरम के गगनभेदी उद्घोष लगाएं। इस मौके पर मुख्य अतिथि अतुल कपूर ने कहा किगुलामी की बेड़ियों से देश को स्वतंत्र कराने की लड़ाई कब शुरू हुई बताना कठिन है, लेकिन गोस्वामी तुलसीदास ने जब 'पराधीन सपनेहुं सुख नाहीं' का उद्घोष किया तो उनके मानस में देश को स्वतंत्र कराने की ही कामना रही होगी। उन जैसे संतों ने ही हमारे अंदर स्वाभिमान की चिंगारी पैदा की, जो आगे चलकर स्वतंत्रता व स्वराज की मशाल बनकर उभरी और 1947 में हमने आजादी प्राप्त की। स्वाभिमान और स्वतंत्रता के बाद अब देश स्वावलंबन के रास्ते पर निरंतर आगे बढ़ रहा है। स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर शुरू हुआ 'आजादी का अमृत महोत्सव' स्वावलंबन की दिशा में उठाया गया एक महत्वपूर्ण कदम है, जिसे भारत सरकार ने 15 अगस्त 2023 तक मनाने का निर्णय किया है। विद्यालय के कार्यकारी प्राचार्य भैया लाल ने कहा कि‘आजादी का अमृत महोत्सव’ प्रगतिशील भारत की आजादी के 75 साल और इसके लोगों, संस्कृति और उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास को मनाने और मनाने के लिए भारत सरकार की एक पहल है। यह महोत्सव भारत के लोगों को समर्पित है, जिन्होंने न केवल भारत को अपनी विकासवादी यात्रा में लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, बल्कि उनके भीतर प्रधानमंत्री मोदी के भारत 2.0 को सक्रिय करने के दृष्टिकोण को सक्षम करने की शक्ति और क्षमता भी है, जो आत्मनिर्भर की भावना से प्रेरित है। आजादी का अमृत महोत्सव भारत की सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक पहचान के बारे में प्रगतिशील है। “आज़ादी का अमृत महोत्सव” की आधिकारिक यात्रा 12 मार्च, 2021 को शुरू होती है, जो हमारी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के लिए 75 सप्ताह की उलटी गिनती शुरू करती है और 15 अगस्त, 2023 को एक वर्ष के बाद समाप्त होगी। प्रधान मंत्री, श्री नरेंद्र मोदी ने 12 मार्च, 2021 को साबरमती आश्रम, अहमदाबाद से ‘दांडी मार्च’ को हरी झंडी दिखाकर ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ का उद्घाटन किया। यह समारोह स्वतंत्रता की हमारी 75वीं वर्षगांठ से 75 सप्ताह पहले शुरू हुआ और 15 अगस्त, 2023 को समाप्त होगा। इस मौके पर विधायक प्रतिनिधि विपिन मिश्रा समेत कई लोग मौजूद रहे।

4
11 views    0 comment
0 Shares

ਤਸਵੀਰਾਂ ਵਿੱਚ ਤੁਸੀਂ ਮੇਰੇ ਭਾਰਤ ਸਰਕਾਰ ਤੋਂ ਮਾਨਤਾ ਪ੍ਰਾਪਤ ਪੱਤਰਕਾਰੀ ਦਾ ਲੇਬਰ ਕਾਰਡ ਦੇਖ ਸਕਦੇ ਹੋ। ਮੈਨੂੰ ਪੱਤਰਕਾਰ ਵੱਜੋਂ ਕੰਮ ਕਰਦਿਆਂ ਹੁਣ ਤਾਂਈ 8 ਵਾਂ ਸਾਲ ਚੱਲ ਰਿਹਾ ਹੈ ਤੇ ਸੱਤ ਸਾਲ ਦਾ ਇਸ ਪੱਤਰਕਾਰੀ ਦੇ ਕੰਮ ਵਿੱਚ ਤਜਰਬਾ ਹੈ। ਮਿਲੀ ਸੂਚਨਾ ਅਨੁਸਾਰ ਮੇਰੇ ਸੁਣਨ ਵਿੱਚ ਆਇਆ ਕਿ ਸਿੱਧਵਾਂ ਬੇਟ ਵਿਖੇ ਵਾਹਨ ਤੇ ਰੀਸ ਨਾਲ ਪੱਤਰਕਾਰੀ ਦਾ ਚਿੰਨ੍ਹ ਲਗਾ ਕੇ ਪੁਲਿਸ ਨੂੰ ਗੁੰਮਰਾਹ ਕਰ ਰਹੇ ਸਨ , ਜੋ ਕਿ ਅਜੇ ਅਧੂਰੀ ਸੂਚਨਾ ਮਿਲੀ ਹੈ। ਜਿਸਨੂੰ ਪੱਕੇ ਠੋਸ ਪ੍ਰਮਾਣ ਤੋਂ ਬਿਨਾਂ ਨਹੀਂ ਮੰਨਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ। ਇਸ ਅਧੂਰੀ ਸੂਚਨਾ ਬਾਰੇ ਕੁਝ ਕੁ ਜਾਣਕਾਰੀ ਪੇਂਟਰ ਛਿੰਦੇ ਤੋਂ ਮਿਲੀ ਹੈ। ਮੈਂ ਆਪਣੇ ਬਾਰੇ ਸਭਨਾਂ ਦੇ ਧਿਆਨ ਵਿੱਚ ਇਹ ਗੱਲ ਲਿਆਉਣਾ ਚਾਹੁੰਦਾ ਹੈ ਕਿ ਮੈਂ ਜਾਅਲੀ ਪੱਤਰਕਾਰ ਨਹੀਂ ਹਾਂ ਤੇ ਕਾਰਡ ਧਾਰਕ ਪੱਤਰਕਾਰ ਹਾਂ। ਮੈਂ ਪੱਤਰਕਾਰੀ ਮਸੀਹੀ ਸੰਸਾਰ ਤੋਂ ਜਨਵਰੀ 2016 ਵਿੱਚ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤੀ , ਹੁਣ ਮੈਂ ਮਸੀਹੀ ਸੰਸਾਰ ਵਿੱਚ ਪਾਰਟ ਟਾਈਮ ਤੇ ਆੱਲ ਇੰਡੀਆ ਮੀਡੀਆ ਵਿੱਚ ਫੁੱਲ ਟਾਈਮ ਪੱਤਰਕਾਰੀ ਕਰਦਾ ਹਾਂ। ਪੱਤਰਕਾਰ ਦੀ ਪਛਾਣ ਖ਼ਬਰ ਤੋਂ ਹੁੰਦੀ ਹੈ।

5
1461 views    0 comment
0 Shares

4
32 views    0 comment
0 Shares

6
635 views    0 comment
1 Shares

0
0 views    0 comment
0 Shares

0
220 views    0 comment
0 Shares

38
532 views    0 comment
0 Shares

खेत से सड़े हुए गंध ।।
गवाह, राजम सिटी (विजयनगरम):
सोमवार को एक युवक के शव की पहचान करने वाले ग्रामीणों ने पुलिस को पोगी गांव की जोनल रेंज में सूचित किया। इस मामले को जानने के बाद, परिवार के सदस्यों ने शरीर की जांच की और गड़बु अपालसुरी (25) की पहचान की। ग्रामीणों के अनुसार, एडालासुरी के अप्पालसुरी, जिन्होंने कर्नाटक के मिर्चियार्ड में काम किया था, इस महीने की 19 तारीख को गांव में आए थे। 20 वीं की सुबह बाहर जाने वाला बेटा नहीं आ रहा था और परिवार के सदस्यों ने मिर्चयार्ड ठेकेदार को आवाज दी थी।
ठेकेदार ने कहा कि वह यहां नहीं आया, लेकिन कोई परिणाम नहीं था।
सोमवार दोपहर खेत में जाने वाले ग्रामीणों ने सड़ी हुई गंध का निरीक्षण किया और परिवार के सदस्यों और पुलिस को सूचित किया। पुलिस मौके पर पहुंची और शव की जांच की। निबंध ई। श्रीनिवास ने कहा कि उनके पिता ने पुरुषोत्तम पुलिस के साथ एक शिकायत दर्ज कराई थी कि उनके बेटे की मौत का संदेह था।

0
0 views    0 comment
0 Shares

प्रकाशन में
विद्यालम एमरोव को देखते हुए, जिन्होंने शीर्ष अधिकारियों को एक झूठी रिपोर्ट प्रस्तुत की
उरवाकोंडा चिंता पर आदिवासी जनजातियाँ
काजू का बगीचा हम की आजीविका है
हम 50 वर्षों से खेती कर रहे हैं। कृषक हम आक्रमणकारियों के रूप में सील कर रहे हैं
संयुक्त कलेक्टर को उरवाकोंडा का दौरा करना चाहिए
विषय:- एमएस साई लक्ष्मी नरसिम्हा की ग्रेनाइट कंपनी यूआरएस में राजस्व सीमा में राजस्व सीमा में
सूचकांक:- 1,
2. अनाकपल्ली जिले के जिले के कोमिरी गांव के कोमिरी गाँव के कोमिरी गाँव में आदिवासी परिवार पिछले 30 वर्षों से काजू के बगीचों में रह रहे हैं।
भूमि को 2013 में ग्रेनाइट एम/ साई लक्ष्मी नरसिम्हा ग्रेनाइट कंपनी में लागू किया गया था और राजस्व, वन और खनन अधिकारियों ने ग्राम सभा का संचालन किया और 2018 में 2018 में 45 एकड़ खनन की अनुमति दी।
खनन मालिकों ने उन्हें आदिवासी डी। पट्टा भूमि की खेती में काजू बागानों के अवैध हटाने पर विवाद के बारे में शिकायत की है।
1. 2012 में डी डीड्स द्वारा दी गई भूमि अब आदिवासियों की भूमि है, और पिछले दस वर्षों के लिए जनजातियों के लिए भूमि क्यों नहीं अगर 2012 में कर्म? राजस्व अधिकारियों ने एक सर्वेक्षण किया और खेती में उन लोगों के लिए रेल के लिए आवेदन करने के बाद रेल प्रदान की। अब ग्रेनाइट क्वारी विवाद आ गया है, इसलिए तसिल्डर का कहना है कि स्नातक की उपाधि प्राप्त भूमि में भूमि अलग है।
2. कंपनी ने कहा है कि काश्तकारों ने काम को अवरुद्ध कर दिया है जब खनन कंपनी काम की शुरुआत में आई है, यह दावा करते हुए कि सरकारी भूमि आक्रमणकारी हैं और कंपनी को 39 लाख सरकारी भूमि के साथ 99 साल के 3.93 एकड़ जमीन का भुगतान करना होगा। कंपनी का कल्टीवेटर सौदा करना अवैध है। यह साइट में पेड़ों को 7.5 लाख रुपये का भुगतान करने के लिए सहमत हो गया है, और कुछ अन्य आक्रमणकारियों ने उनके लिए मुआवजे की मांग की है। कंपनी एक और रुपये 20 लाख मुआवजे का भुगतान करने के लिए आगे आई है, यह दावा करते हुए कि कंपनी मुआवजे का भुगतान करने के लिए आगे आई है क्योंकि कंपनी मुआवजे की भरपाई के लिए आगे आई है।
3. कंपनी सरकार की भागीदारी के बिना मानवीय परिप्रेक्ष्य के साथ 20 लाख का भुगतान करने के लिए क्यों सहमत होती है। 4. जानकारी के बिना ग्रामीणों का संचालन कैसे करें। ग्राम राजस्व अधिकारियों ने ग्राम सभा को मंजूरी दे दी है कि ग्रामीणों के बिना भूमि सर्वेक्षण कैसे किया जाए।
हम आम लोगों को धोखा देने के लिए आदिवासी भूमि द्वारा दिए गए परमिटों को समाप्त करना चाहते हैं कि वे खनन कंपनियों को रिपोर्ट दे रहे हैं जो कि विद्यालम तसिल्डर के मालिकों को गुमराह कर रहे हैं।
इस कार्यक्रम में आदिवासी संघ के गोविंदराओ के मानद राष्ट्रपतियों ने भाग लिया। खेत लक्ष्मी है। आदिवासी समुदाय के नेता सोला ओ राजबाबू और अन्य

0
0 views    0 comment
0 Shares

0
0 views    0 comment
0 Shares

0
0 views    0 comment
0 Shares

0
109 views    0 comment
0 Shares

0
0 views    0 comment
0 Shares

स्लग: अवैध अतिक्रमण को लेकर कारवाही लगातार जारी।


संवाददाता: संजय सोनगरा पीथमपुर

एंकर: नगर पालिका पीथमपुर में अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही दूसरे दिन भी लगतार जारी रही। आज सुबह से ही भारी पुलिस बल के साथ नगर पुलिस अधीक्षक ततरुणेंद्र सिंह बघेल थाना सागौर राजेंद्र भदौरिया उपस्थित थे। तेहसीलादार व नगर पालिका का अतिक्रमण विरोधी दस्ते ने सागौर पहुंचते ही रोड़ निर्माण में बाधक मकानों को चिन्हित कर जेसीबी की मदद से बाधक निर्माण तोड़ने की कार्यवाही शुरू की बाधक निर्माण हटाने में मकान मालिकों ने तहसीलदार से समय देने का अनुरोध भी किया। साथ ही आरोप भी लगाए की यह एक तरफा कार्यवाही है। तहसीलदार ने नगर पालिका द्वारा पूर्व में दिए नोटिस का हवाला देते हुए सभी अतिक्रमणों को हटाने की कार्यवाही लगातार जारी रखने की बात कही है। वहीं वर्तमान पार्षद और नेता प्रतिपक्ष कांग्रेस के गोविंद परमार ने आरोप लगाया कि हमारी सीएमओ से बात हुई की जिसमे उन्होंने कहां था की हम वही तक तोड़ेंगे जहां तक चिन्हित किया गया है परंतु कई जगह प्रशासन द्वारा नियमो के विरुद्ध कारवाही करते हुए लोगो के मकानों को अनुचित क्षति पहुंचाई है। मनमानी तरह से अतिक्रमण हटाया गया है जिससे आमजन का काफी नुकसान है और इस कारवाही को लेकर जनता में काफी आक्रोश है।

बाइट: गोविंद परमार (नेता प्रतिपक्ष, कांग्रेस)
बाइट: डॉ मधु सक्सेना (सीएमओ, पीथमपुर)

1
353 views    0 comment
1 Shares

दारू नरसंहार ,दारू नरसँहार का जिम्मेदार कौन? दारू पीकर मरने वालों का शिनाख्त क्यों नहीं?औरंगाबाद जिले के मदनपुर थाना अंतर्गत कई ग्रामों में दारू पीकर मरने वालों का जनसंख्या लगातार बढ़ रहा है परंतु मरने वालों का शिनाख्त प्रशासन द्वारा नहीं कराया जा रहा है और परिजन अपने अपने शवों को श्मशान घाट में अंतिम यात्रा के लिए ले जा रहे हैं जो गैरकानूनी है।आप सभी को बताते चले कि दो दिनों से जहरीली शराब पीकर लोग लगातर मौत को प्राप्त हो रहे है परन्तु प्रसासन शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराने के बजाए उसे जलाने का छूट दे दिया है , आखिर क्यों ?मदनपुर थाना अंतर्गत ग्राम खिरियावां में बबलू कुमार गुप्ता , पिता-स्वर्गिये सीताराम साव की मृतु हो गयी ।परिजनों और ग्राम वाशियो से पूछ ताछ में पता लगा कि इनकी मृतु दारू पीने से हुई है । आगे पूछने पर ईनलोगों ने जो बताया यो थाने के लिए बहुत ही शर्मनाक है । इनलोगो ने बताया कि कल शाम में बबलू खिरियावां चौधरी टोला में दारू पिया था जिसके बाद उसके पेट मे जलन हुया और धीरे धीरे आंख की रौशनी जाने लगी ,तभी परिजन इलाज हेतु अस्पताल ले गए जहाँ देर रात्रि उसकी मृतु हो गई ।यह पूछने पर क्या शिनाख्त हुया है इन लोगो ने जबाब दिया कि शिनाख्त कराएगा कौंन यहाँ प्रसासन झांकी मारने भी नही आ रहा है क्योकि मंथली पैसा लेकर इनलोग ही दारू सरेआम बेचवा रहा है ।वही मदनपुर थाना अंतर्गत कमलेश राम पिता साधु राम ग्राम पड़रिया निवासी की भी आज मृत्यु हो गई है जिसका शव घर पर पड़ा हुआ है और परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है । यहां भी पूछताछ में पता चला कि शिनाख्त नहीं हो पाया है और शिनाख्त के लिए अब तक कोई प्रशासन नहीं आया है इसलिए हम लोग शव को जलाने जा रहे हैं आगे पूछताछ पर इन लोगों ने बताया कि हमारे ही गांव में के मोड़ पर ही दारू बिकता है । कल शाम में कमलेश राम पड़रिया मोड ग्राम निवासी नरेश चौधरी की पत्नी पतरकी के घर में जाकर दारु पिया था जिसके बाद से पेट में जलन होने लगा और धीरे-धीरे आंख की रोशनी जाने लगी जिसे देखते हुए परिजन आनन-फानन में इलाज हेतु हॉस्पिटल ले गए इलाज के दरमियान देर रात्रि इसकी मृत्यु हो गई और आज इसे श्मशान घाट में अंतिम यात्रा के लिए ले जाया जा रहा है। पूछ ताछ में ग्रामीण गुस्से से थाने को गाली देते हुए बताया कि पड़रिया मोड़ पर नरेस चौधरी की पत्नी दारू माफिया है जिसे लोग दूर दूर तक जानते है ।इसके दुकान में दिन भर दारू पीने वाले का भीड़ लगा रहता था जो कांड के बाद से ताला बंद कर पूरा परिवार भाग गया है । आगे इनलोगो ने बताया कि इस मोड़ पर कई दारू के भेंडर है जो सरेआम दारू बेचते है चुकी ये थाना को पैसा देकर मिलाय हुए है । जनता के बयान में कई लोगो का नाम आया - शंकर चौधरी पड़रिया मोड़,अरविंद चौधरी पिता-सतेंद्र चौधरी पड़रिया मोड़, नरेस चौधरी की पत्नी पतरकी पड़रिया मोड़, बिनोद चौहान पिता-रामस्वरूप चौहान पड़रिया ,संजय भुइया पड़रिया ये सभी यो भेंडर है जो मदनपुर थाने को पैसा देकर सरेआम दारू का धंधा चलाते है ।वही मदनपुर थाना के ही ख़िरीआवां चौधरी टोला में मखन पासवान सहित 23 घर मे एक ही जगह दारू सरेआम बिकता है जिसकी पुष्टि वहाँ के सभी ग्रामीण जनता के द्वारा किया जा रहा है। यह पूछने पर की आखिर आपलोग प्रसासन को क्यो खबर नही करते है में इनलोगो ने बताया कि दारू थाना के मिली भगत से ही बिक रहा है तो हम सूचना किसको दे । इसी तरह ग्राम बेरी निवाशी रविन्द्र सिंह की भी मृतु जहरीली शराब पीने से हो गयी और आज लगभग 8 बजे शव बेरी अपने निवाश स्थान पर हॉस्पिटल से आ गया ।इसकी भी शिनाख्त नही हो पाई है और अंतिम यात्रा के लिए श्मशान की तैयारी हो गयी । कल से आज तक जहरीली शराब पीने वालों की जनसंख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। अभी कई लोग हॉस्पिटल में तड़प रहे है जिसका जिमेवार ग्रामीण जनता थाना और सिर्फ थाना को ठहरा रही है जो पैसे कमाने के फिराक में किसी का जिंदगी ले सकता है ,।ग्रामीण जनता यहाँ तक बोल रही है कि हर दारू बेचने वाले का मदनपुर थाने में लिस्ट है जिससे मंथली पैसा चौकीदार के माध्यम से कलेक्शन करवाया जाता है और जो नही देता है उसे पकड़ कर जेल भेज दिया जाता है और जो दारू पकड़ाता है उसे चौकीदार के माध्यम से भेंडर को दे दिया जाता है।जो अब छुपा नही रह गया । आप सभी को बताते चले कि हर ग्राम का एक चौकीदार होता है। चौकीदार का काम ही है हर ग्राम का खबर देना फिर इतने मात्रा में सरेआम दारू की बिक्री बिना थाना के मेल से नही बेचा जा सकता है । आज यही सच छिपाने के लिए शवो का शिनाख्त नही करवाया जा है जो दुर्भाग्यपूर्ण है ।

26
931 views    0 comment
1 Shares

स्लग: अवैध अतिक्रमण को लेकर कारवाही लगातार जारी।


संवाददाता: संजय सोनगरा पीथमपुर

एंकर: नगर पालिका पीथमपुर में अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही दूसरे दिन भी लगतार जारी रही। आज सुबह से ही भारी पुलिस बल के साथ नगर पुलिस अधीक्षक ततरुणेंद्र सिंह बघेल थाना सागौर राजेंद्र भदौरिया उपस्थित थे। तेहसीलादार व नगर पालिका का अतिक्रमण विरोधी दस्ते ने सागौर पहुंचते ही रोड़ निर्माण में बाधक मकानों को चिन्हित कर जेसीबी की मदद से बाधक निर्माण तोड़ने की कार्यवाही शुरू की बाधक निर्माण हटाने में मकान मालिकों ने तहसीलदार से समय देने का अनुरोध भी किया। साथ ही आरोप भी लगाए की यह एक तरफा कार्यवाही है। तहसीलदार ने नगर पालिका द्वारा पूर्व में दिए नोटिस का हवाला देते हुए सभी अतिक्रमणों को हटाने की कार्यवाही लगातार जारी रखने की बात कही है। वहीं वर्तमान पार्षद और नेता प्रतिपक्ष कांग्रेस के गोविंद परमार ने आरोप लगाया कि हमारी सीएमओ से बात हुई की जिसमे उन्होंने कहां था की हम वही तक तोड़ेंगे जहां तक चिन्हित किया गया है परंतु कई जगह प्रशासन द्वारा नियमो के विरुद्ध कारवाही करते हुए लोगो के मकानों को अनुचित क्षति पहुंचाई है। मनमानी तरह से अतिक्रमण हटाया गया है जिससे आमजन का काफी नुकसान है और इस कारवाही को लेकर जनता में काफी आक्रोश है।

बाइट: गोविंद परमार (नेता प्रतिपक्ष, कांग्रेस)
बाइट: डॉ मधु सक्सेना (सीएमओ, पीथमपुर)

0
0 views    0 comment
0 Shares

0
0 views    0 comment
1 Shares

0
1 views    0 comment
1 Shares

0
0 views    0 comment
0 Shares

0
452 views    0 comment
0 Shares

0
541 views    0 comment
1 Shares

दिव्यांगजन को कृत्रिम व सहायक उपकरण प्राप्त कराने हेतु आयोजित किया जा रहा चिन्हांकन व परीक्षण शिविर

मेरठ। जिला दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी अनिल कुमार ने जनपद के दिव्यांगजनों को सूचित करते हुये बताया कि कृत्रिम सहायक उपकरण योजना के अन्तर्गत ट्राईसाईकिल, बैशाखी, व्हील चेयर, कान की मशीन तथा कृत्रिम हाथ पैर प्राप्त करने हेतु दिनांक 31 मई 2022 को नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, कंकरखेड़ा, दिनांक 01 जून 2022 को नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, रजबन, दिनांक 02 जून 2022 को नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, पल्हैडा, दिनांक 03 जून 2022 को नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, कसेरू बक्सर, दिनांक 04 जून 2022 को नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, ब्रहमपुरी, दिनांक 06 जून 2022 को जिला चिकित्सालय मेरठ, दिनांक 07 जून 2022 को नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, तारापुरी, दिनांक 08 जून 2022 को नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, जाकिर कालोनी, दिनांक 09 जून 2022 को नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, नंगला बट्टू, दिनांक 10 जून 2022 को नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य इस्लामाबाद केन्द्र तथा दिनांक 13 जून 2022 को विकास भवन परिसर, मेरठ में चिन्हांकन/परीक्षण शिविरों का आयोजन किया जा रहा है।

उन्होने बताया कि दिव्यांगजन आय प्रमाण पत्र ग्रामीण क्षेत्र में रू0 46,080/ से अधिक न हो व शहरी क्षेत्र में रू0 56,460/- से अधिक न हो (मा0 सांसद, मा0 विधायक, महापौर, पार्षद, नगर पंचायत अध्यक्ष, जिला पंचायत अध्यक्ष, जिले के प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट, तहसीलदार, खण्ड विकास अधिकारी अथवा ग्राम प्रधान द्वारा जारी आय प्रमाण पत्र मान्य होगा)। आधार कार्ड/वोटर आई0डी0/राशन कार्ड आदि, मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा जारी दिव्यांगता प्रमाण पत्र 40 प्रतिशत या उससे अधिक का हो तथा दिव्यांगता दर्शाता फोटों आदि अभिलेखो के साथ शिविर में उपस्थित होना सुनिश्चित करें।

1
110 views    0 comment
1 Shares