logo
(Trust Registration No. 393)
Write Your Expression

देश की सेवा करने के लिए युवा वर्ग को नशे जैसी बुराइयों को त्यागने की जरूरत : एसपी हिमांशु गर्ग

कुरुक्षेत्र। पुलिस अधीक्षक हिमांशु गर्ग ने नशा मुक्त भारत अभियान के जागरुकता शिविर का शुभारम्भ किया ।

पिहोवा के मोक्ष नशा मुक्ति एवं परामर्श केन्द्र में किया जा रहा है 2400 मरीजों का इलाज, समाज कल्याण विभाग के सहयोग से आयोजित हुआ जागरुकता शिविर, एसपी ने नशा छोडऩे वाले 10 लोगों को किया सम्मानित। 

पुलिस अधीक्षक हिमांशु गर्ग ने कहा कि देश की सेवा करने के लिए युवा वर्ग को नशे जैसी बुराइयों की लत को छोडऩा होगा। जो युवक नशे का आदि होगा वह खुद को खतरे में डालने के साथ-साथ अपने पूरे परिवार को खतरे में डालने का काम कर रहा है।

इसलिए इस बुराई को छोडऩे का संकल्प लेना चाहिए। एसपी हिमांशु गर्ग शुक्रवार को देर सायं पिहोवा के मोक्ष नशा मुक्ति एवं परामर्श केन्द्र में जिला समाज कल्याण विभाग के तत्वावधान में नशा मुक्त भारत अभियान जागरूकता शिविर में बतौर मुख्यातिथि के रुप में बोल रहे थे। इससे पहले पुलिस अधीक्षक हिमांशु गर्ग, डीएसपी गुरमेल सिंह, डीएसपी मुख्यालय सुभाष चंद्र, जिला समाज कल्याण अधिकारी सुरजीत कौर, नशा मुक्ति केन्द्र के संचालक रोशन मोदगिल व डा. रुपिन्द्र कौर ने विधिवत रूप से जागरूकता शिविर का उदघाटन किया।

इस दौरान पुलिस अधीक्षक ने 10 ऐसे लोगों को सम्मानित किया, जिन्होंने नशे को त्यागने का काम किया। इन लोगों में पिहोवा से संदीप सिंह, दिवाना से जसविन्द्र, बकाली से मनजीत सिंह, अरुनैचा से प्रिंस, चीका से प्यारा राम, लाडवा से प्रवीणव राजेश, यमुनानगर से विक्रम, छपरा से सतीश कुमार, शाहबाद से विकास का नाम शामिल है। एसपी ने कहा कि आज देश के युवा खिलाड़ी ओलम्पिक जैसे खेलों में मैडल जीतने का काम कर रहे है।

इसके अलावा विभिन्न क्षेत्रों में एक मुकाम हासिल कर रहे है, वहीं दूसरी तरफ कुछ युवक अपने उद्देश्य से भटक कर नशे जैसी बुराईयों के चंगुल में फंस चुके है। इस प्रकार के युवा में नशे के चक्रव्यूह में फंस चुके है, जो बर्बादी की तरफ आगे बढ़ रहे है। इस तरह के युवक जेलों में अपना जीवन गुजार रहे है। इस प्रकार के युवकों का फिर से जीवन की धारा में लौटना मुश्किल हो जाता है। इसलिए युवा पीढ़ी को शुरु से ही नशे जैसी बुराई से दूर रहना चाहिए।

आज पूरे समाज को नशा मुक्ति का संकल्प लेने की जरूरत है। मनोवैज्ञानिक डा. जितेन्द्र कुमार ने भी लोगों को नशे की बुराईयों के बारे में विस्तार से बताया और अपील की कि नशे की लत से हमेशा दुर रहना चाहिए। डीएसडब्लयूओ सुरजीत कौर ने विभाग द्वारा चलाए जा रहे नशा मुक्ति अभियान पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सरकार के आदेशानुसार कुरुक्षेत्र को नशा मुक्त बनाने का प्रयास किया जा रहा है। संचालक डा. रोशन मोदगिल व डा. रुपिन्द्र कौर ने कहा कि इस समय केन्द्र में लगभग 2400 मरीजों का इलाज किया जा रहा है। इस कार्यक्रम के मंच का संचालन कांउसलर पूनम ने किया। इस मौके पर पीआरओ नरेश सागवाल, एसएचओ जगदीश चंद्र, एसएचओ प्रतीक सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

0
106 views