logo
(Trust Registration No. 393)
अपने विचार लिखें....

सुलतानपुर।  आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक कृषि विश्वविद्यालय कुमारगंज द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केंद्र,बरासिन, सुल्तानपुर पर 17 सितंबर 2021 को अंतरराष्ट्रीय पोषक अनाज वर्ष 2023 के परिपेक्ष्य में पोषण वाटिका महा अभियान एवं पौधारोपण कार्यक्रम मनाया गया। कार्यक्रम देश के सभी कृषि विज्ञान केंद्र में मनाया जा रहा है।

उक्त कार्यक्रम में जनपद के प्रगतिशील कृषक एवं महिलाएं तथा कन्याओं ने प्रतिभाग किया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि ग्राम के प्रधान श्री दान बहादुर जी थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष ने किया।

प्रगतिशील कृषक को महिलाओं को संबोधित करते हुए वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डॉ वीपी सिंह ने कहा कि कुपोषण की समस्या विकराल रूप ले रही है। अगली पीढ़ी को स्वस्थ रखने के लिए कुपोषण को दूर रखना अति आवश्यक है।

पोषण वाटिका एवं पौधारोपण अभियान को वृहद स्तर एवं व्यापक प्रचार प्रसार करना अति आवश्यक है एवं प्रत्येक कृषक को प्रत्येक वर्ष में कम से कम एक फलदार वृक्ष अवश्य लगाना चाहिए‌।

केंद्र के उद्यान के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ विनोद सिंह ने बताया कि कुपोषण समस्या महिलाओं एवं किशोरियों में अधिक दिखाई दे रही है। फलों में पाए जाने वाले पोषक तत्व को विस्तार से चर्चा करते हुए बताया कि फलदार पौधों में पोषक तत्व एवं विटामिन की भरपूर मात्रा पाई जाती है, जो कुपोषण की समस्या को दूर करने में सहायक सिद्ध होगी।

महिला वैज्ञानिक डॉ रेखा ने कृषक महिलाओं एवं किशोरियों को पोषण वाटिका एवं उनके रेखांकन पर विस्तृत जानकारी दी।

विशेष अतिथि के रुप में इफको के प्रतिनिधि श्री चक्रधर द्विवेदी जी ने कृषको एवं महिलाओं को वृक्षारोपण को गति देने एवं इफको के विभिन्न उत्पाद विशेषकर नैनो यूरिया एवं घुलनशील एनपीके  पर विस्तृत चर्चा की। बरासिन प्रधान श्री दान बहादुर जी ने सभी आगंतुक कृषको महिलाओं एवं कन्याओं का विशेष धन्यवाद दिया।

कार्यक्रम में ग्राम बरासिन, मठा, गोविंदपुर, बहुबरा, सरकोड़ा के प्रगतिशील कृषक एवं महिलाएं उपस्थित रहे। केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ सौरभ वर्मा ने धन्यवाद ज्ञापित किया। केंद्र के अन्य पदाधिकारी श्री बंशीलाल, श्री अवधेश, श्री शैलेंद्र एवं कुमारी दीपिका का विशेष सहयोग रहा।

0
231 views