logo
(Trust Registration No. 393)
अपने विचार लिखें....

करनाल में रात 12 बजे हालात एक दम बदले हुए थे। दिन भर ड्यूटी देने वाले पुलिसकर्मी ड्यूटी कर के थक गए थे, वहीं दिन भर की नारेबाजी 8 किलोमीटर पैदल चलकर सचिवालय पहुंचने के बाद किसान भी थक गए थे। किसान करनाल के लघु सचिवालय के सामने सड़क पर डट गए। पुलिसकर्मियों की ड्यूटी भी थी,इसलिए वह भी सड़क पर ही लेट गए।

पुलिस और किसानों के बीच रात के वक्त यह सौहार्द एक नई इबारत लिख रहा था। लग रहा था बाप और बेटा साथ साथ है। लेकिन दोनों के कर्तव्य अलग अलग इस लिए अपने अपने कर्तव्यों का पालन करते हुए दोनो ने रात सड़क पर बिताई । सुबह दोनो फिर उसी उत्साह के साथ अपने अपने दायित्व निभाने के लिए अपने राह पर अडिग है।

सुबह किसानों ने कहा वे शांतिपूर्ण ढंग से अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे है अपनी मांगे मनवाने के लिए धरने पर लघु सचिवालय के गेट पर बैठे है । अब सरकार ने देखना है कि वे कब उनकी मांगे मानती है । साथ ही उन्होंने कहा कि हम किसान है किसी को नुकसान पहुंचाने नहीं आए , दुकानें , बाजार, बैंक खुलें वे किसी भी आम जन को परेशान करने नही आए । #जय #जवान #जय #किसान

20
2479 views
  
18 shares