logo
(Trust Registration No. 393)
अपने विचार लिखें....

हरियाणा एटक एवं हरियाणा खेत मजदूर यूनियन के राज्य स्तरीय आहवान पर आज उपायुक्त कार्यालय के सामने पुल के नीचे प्रभावशाली धरना  दिया गया।

धरनार्थियों को एटक के प्रदेश उपाध्यक्ष दरियाव सिंह कश्यप, जिला प्रधान पवन कुमार सैनी, उप प्रधान संजय कुमार तंवर हरियाणा खेत मजदूर यूनियन के जिला अध्यक्ष कृष्ण लाल लौहारी, जिला कार्यकारी सचिव भूपेन्द्र कश्यप, हरियाणा किसान सभा के जिला प्रधान सेवा सिंह मलिक, जिला सचिव राम रतन सैनी आदि ने सम्बोधित किया।

वक्ताओं ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार देश विरोधी, जन विरोधी नीतियों को तानाशाहीपूर्ण तरीके से लागू कर रही है। किसान, मजदूर नेताओं ने जोर देते हुए कहा कि सरकार सार्वजनिक सम्पत्तियों को बडे़ बडे़ उद्योगपतियों को नाममात्र के भाव पर बेच रही है, जिसके चलते एस सी /बी सी का आरक्षण बेमायने होकर रह गया है। बाद में सी टी एम पानीपत को मुख्यमंत्री के नाम मांगपत्र दिया गया। मांगपत्र में कृषि सम्बन्धी तीनों काले कानूनों को रद्द करने, चार लेबर कोड व बिजली कानून 2020 रद्द करने, कर्मचारियों की पुरानी पैंशन नीति बहाल करने, पेट्रोल - डीजल - रसोई गैस सहित अन्य जरुरी वस्तुओं की बढती कीमतों पर रोक लगाने, खेत मजदूरों व औद्योगिक मजदूरों को रिहायशी प्लाट देने और उन पर पक्का मकान बनाने के लिए प्रति प्लाट पांच लाख रुपये की ग्रांट देने, मनरेगा के तहत साल में 200 दिन काम एवं 600 रुपये प्रतिदिन मजदूरी देने, 55 वर्ष से ऊपर के सभी पुरुषों, महिलाओं को 6000 रुपये मासिक पैंशन देने व पैंशन का कानून बनाने आदि मांगे शामिल हैं। धरने में शीश राम, जयपाल कश्यप, जय भगवान, पिरथी सिंह सैनी, धर्मबीर गुलाटी, हरपाल सिंह रंगा, जय प्रकाश, राम कैलाश यादव, नवल किशोर ,छात्र नेता रुपेश सैनी आदि कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

6
11662 views
  
1 shares