logo

माननीया राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु आज भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (IIIT) रांची के द्वितीय दीक्षांत समारोह म

माननीया राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु आज भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (IIIT) रांची के द्वितीय दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुईं

माननीया राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु ने आयोजित समारोह में छात्र-छात्राओं के बीच मेडल एवं उपाधि प्रमाण पत्र का वितरण किया

★ राज्य में डिजिटल स्किल यूनिवर्सिटी की स्थापना होगी

★ झारखंड के बच्चे-बच्चियों ने शिक्षा के क्षेत्र में भी अलग पहचान बनायी

★ राज्य में उद्योग के विस्तार का पुराना इतिहास रहा है

नामकुम, रांची (झारखंड)। जे०यू०टी० सभागार नामकुम में आयोजित भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (IIIT) रांची के द्वितीय दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि माननीया राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु, माननीय राज्यपाल श्री सी०पी० राधाकृष्णन, माननीय मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन, भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान रांची के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री अरुण जैन एवं निदेशक श्री विष्णु प्रिये सहित अन्य गणमान्य सम्मिलित हुए। माननीया राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु ने आयोजित समारोह में छात्र-छात्राओं के बीच मेडल एवं उपाधि प्रमाण पत्र का वितरण किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने अपने संबोधन में कहा कि आज भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (ट्रिपल आईटी) रांची का द्वितीय दीक्षांत समारोह आयोजित हो रहा है। आज काफी खुशी का दिन है। आज सिर्फ उन छात्र-छात्राओं का ही नहीं जो इस संस्थान से बेहतर शिक्षा प्राप्त कर निकल रहे हैं बल्कि आज पूरे राज्यवासियों के लिए भी खुशी का दिन है क्योंकि जे०टी०यू० नामकुम के इस सभागार में आयोजित दीक्षांत समारोह के मौके पर महामहिम राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु जी की गरिमामयी उपस्थिति हमसभी के बीच है। मैं अपनी ओर से राष्ट्रपति महोदया को कोटि-कोटि धन्यवाद देता हूं।

राज्य में कई जानी-मानी शिक्षण संस्थाएं स्थापित हुईं

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि झारखंड प्रदेश एक ऐसा प्रदेश है जहां आज से 100 वर्ष पहले से अधिक समय से अनेक गतिविधियां होती रही हैं। विशेषकर खनिज संपदाओं को लेकर झारखंड की अलग पहचान रही है। झारखंड में उद्योग की असीम संभावनाएं हमेशा रही हैं। राज्य में उद्योग के विस्तार का पुराना इतिहास रहा है। बड़े-बड़े उद्योग इसी राज्य में लगे हैं। एचईसी, बोकारो स्टील, टाटा स्टील, बिरला एलुमिनियम इंडस्ट्री, कोल इंडिया सहित कई विभिन्न उद्योग संस्थाओं ने इस राज्य में अपनी गतिविधियां चला रखा है। यही वजह है कि यहां बाहर से बड़े पैमाने पर लोगों का आना-जाना रहा है।

इस राज्य से अन्य राज्यों के लोगों का नाता-रिश्ता बना। इसी क्रम में झारखंड में शिक्षा का भी विस्तार हुआ। शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ते-बढ़ते कई जाने-माने शिक्षण संस्थाएं झारखंड में स्थापित हुईं। आईआईएम, बीआईटी मेसरा, बीआईटी सिंदरी, एक्सआईएसएस, एनआईटी सहित विभिन्न शिक्षण संस्थाएं राज्य में स्थापित हुई हैं, इसी कड़ी में भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (IIIT) भी जुड़ा है।

झारखंड के बच्चे-बच्चियों ने शिक्षा के क्षेत्र में भी अलग पहचान बनायी

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में भी झारखंड के बच्चे-बच्चियों ने देश में अलग पहचान बनाई है। यूपीएससी परीक्षाओं में भी झारखंड के छात्र-छात्राओं ने राज्य का नाम रोशन किया है। मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन ने कहा कि वर्तमान समय तकनीकी का समय। आज बहुत सी कंपनियां मानवरहित उत्पादन पर जोर दे रही हैं। वर्तमान समय में मशीन ऑपरेटेड उद्योग लग रही हैं। मोबाइल, गाड़ी, कागज-कलम सभी चीजें अब मशीनों से बन रही हैं। उद्योग पहले मजदूर चलाते थे। आज प्रत्येक क्षेत्र में कंपटीशन का दौर है। कंपटीशन के आधार पर व्यवस्थाएं खड़ी हो रही हैं।

ट्रिपल आईटी से प्राप्त शिक्षा आपके करियर में मील का पत्थर साबित होगा

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि आज दीक्षांत समारोह में सम्मिलित सभी मेडल विजेता एवं उपाधि प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (ट्रिपल आईटी) रांची से बेहतर शिक्षा मिली है। आने वाले समय में इस संस्थान से प्राप्त हुए शिक्षा आपके कैरियर में मील का पत्थर साबित होगा ऐसा मुझे विश्वास है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वैसे तो राज्य सरकार क्षमता विकास को लेकर कई कार्य कर रही है इसी कड़ी में राज्य में डिजिटल स्किल यूनिवर्सिटी स्थापित करने का प्रस्ताव है। डिजिटल स्किल यूनिवर्सिटी के प्रारंभ होने से कम-पढ़े लिखे नौजवान युवक-युवतियों को तकनीकी रूप से दक्ष बनाकर रोजगार से जोड़ा जा सकेगा। अंत में आप सभी छात्र छात्राओं को मेरी ओर से हार्दिक बधाई एवं अशेष शुभकामनाएं।

74
3376 views