logo
logo
(Trust Registration No. 393)
aima profilepic
Manindar Manish
All India Media Association
0
0 views    0 comment
0 Shares

0
0 views    0 comment
0 Shares

0
0 views    0 comment
0 Shares

0
0 views    0 comment
0 Shares

1
0 views    0 comment
1 Shares

रांची (झारखंड)। कम पानी में कृषि कार्यों से दोगुना मुनाफा कमा खुशहाल उद्यमी बन रहे किसान

हमेशा से परंपरागत तरीके से खेती करने वाली रांची के ओरमांझी की रहनेवाली महिला किसान सुनीता देवी ने नहीं सोचा था कि सिंचाई के तरीके में बदलाव लाने से उत्पादन में बहुत फ़र्क आयेगा और पानी की भी समस्या नहीं रहेगी। सुनीता ने सिंचाई की कठिनाई को टपक सिंचाई से दूर करते हुए दूसरे किसानों के लिए एक मिसाल पेश की है। आज सुनीता ग्रामीण विकास विभाग अंतर्गत झारखण्ड स्टेट लाईवलीहुड प्रमोशन सोसाईटी के तहत झारखण्ड बागवानी सघनीकरण टपक सिंचाई परियोजना से जुड़कर टपक सिंचाई से खेती शुरू कर अच्छी आमदनी कर रही हैं।

सुनीता कहती हैं, टपक सिंचाई योजना से उनकी जिंदगी में काफी बदलाव आ गया। हमारे पास सिंचाई के लिए सिर्फ कुआँ था, जो अक्सर सूख जाता था। जिस कारण हम सिंचाई के लिए पूरी तरह बारिश पर ही आश्रित थे। लेकिन, अब ड्रिप के लग जाने के बाद खेती करना काफी आसान हो गया है। आज एक साथ कई तरह की फसल की खेती कर सालाना 1.5 लाख तक की आमदनी कर लेती हूं। 

सुनीता की ही तरह झारखण्ड बागवानी सघनीकरण टपक सिंचाई परियोजना ने राज्य की हजारों महिला किसानों के जीवन में बदलाव की नई कहानी लिखी है। पश्चिमी सिंहभूम के तांतनगर प्रखण्ड के चिरची गांव निवासी संकरी परंपरागत तरीके से खेती कर सालाना 20-25 हज़ार रुपये अर्जित करती थी, अब वह टपक सिंचाई परियोजना से जुड़कर सालाना 80-90 हज़ार रुपये का मुनाफा कमा रही हैं।

राज्य के 9 जिलों के 30 प्रखण्ड में इस परियोजना का क्रियान्वयन किया जा रहा है। अब तक पूरे राज्य में करीब 11800 किसान सूक्ष्म टपक सिंचाई एवं अन्य सुविधाओं को लेकर अच्छे उत्पादन से ज्यादा कमाई कर उद्यमिता के पथ पर हैं। अबतक इस परियोजना से जुड़ने के लिए करीब 23 हजार किसानों का पंजीकरण किया जा चुका है। राज्य सरकार की प्राथमिकताओं में किसानों को सुविधाओं से लैस करना है, ताकि झारखण्ड के कठिन भौगोलिक परिस्थितियों में भी उन्हें सिंचाई समेत किसी प्रकार की दिक्कत ना हो। इसी कड़ी में राज्य के किसानों को टपक सिंचाई के जरिए कम पानी में बेहतर फसल उपजाने के लिए प्रशिक्षण एवं सुविधा मुहैया करायी जा रही है। जिसका उद्देश्य राज्य के कृषकों को स्थायी एवं पर्यावरण अनुकूल कृषि के जरिए सब्जी उत्पादन में बढ़ोतरी दर्ज करवाना है। सरकार अपने उद्देश्य में सफल भी हो रही है, जिससे हजारों कृषक जो पहले साल में एक फसल पर निर्भर रहते थे, अब साल में तीन-चार फसल उपजाकर अच्छी कमाई कर रहे हैं।

..........
1
0 views    0 comment
0 Shares

रांची (झारखंड)। मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने आज दन्ता हॉस्पिटल, बोकारो में अत्याधुनिक प्राइम स्कैन इकोसिस्टम ऑफ मशीन का ऑनलाइन उद्घाटन किया

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने आज वर्चुअल माध्यम से दन्ता हॉस्पिटल, बोकारो में अत्याधुनिक प्राइम स्कैन इकोसिस्टम ऑफ मशीन का उद्घाटन किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड जैसे राज्य में दंत चिकित्सा के क्षेत्र में इस अत्याधुनिक मशीन का स्थापित होना गौरव की बात है।

इससे दांतों से संबंधित सभी बीमारियों का संपूर्ण इलाज हो सकेगा। यहां के लोगों को दांतों की बीमारियों के लिए बड़े शहरों के बड़े अस्पतालों का रुख नहीं करना होगा। उन्होंने इसके लिए हॉस्पिटल के संचालकों को बधाई दी।

इस मौके पर हॉस्पिटल के संचालकों ने बताया कि झारखंड और बिहार में पहली बार इस अत्याधुनिक प्राइम स्कैन इकोसिस्टम ऑफ मशीन की सुविधा लोगों को मिलने जा रही है। इस मशीन के जरिए दांतो का कारगर और सटीक इलाज हो सकेगा ।

इसके अलावा दांतों के इलाज में पहले जहां कई कई -कई दिन लग जाते हैं, वहीं इस मशीन के माध्यम से अब काफी कम समय में दांतों से जुड़ी बीमारियों का पूरा उपचार हो सकेगा। लोगों को दांतो के इलाज के लिए बार-बार चिकित्सकों और अस्पताल में जाने की जरूरत नहीं होगी।

इस मौके पर मुख्यमंत्री के सचिव श्री विनय कुमार चौबे और दन्ता के डॉ अभय सिन्हा तथा डॉ मनीषा सिन्हा  के अलावा हॉस्पिटल के कई चिकित्सक मौजूद थे।

..........
1
0 views    0 comment
0 Shares

0
682 views    0 comment
4 Shares

0
68 views    0 comment
2 Shares

1
79 views    0 comment
2 Shares

जमशेदपुर (झारखंड)। पोटका प्रखंड के हल्दीपोखर साप्ताहिक हाट में सीओ व प्रशासन के नेतृत्व में मास्क चेकिंग अभियान चलाया गया

पोटका प्रखंड के हल्दीपोखर साप्ताहिक हाट (शनिवार) में सीओ इम्तियाज अहमद व इंस्पेक्टर इंद्रदेव राम के नेतृत्व में मास्क चेकिंग अभियान चलाया गया। बाजार मेन रोड, सब्जी बाजार, ओडिशा रोड में लोंगो से मास्क पहनने की अपील किया गया।

मौके पर मास्क नहीं पहने 94 लोगों का कोरोना जांच भी किया गया। हालांकि जांच में पाजिटिव केस नहीं मिला। सीओ ने लोगों से कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मास्क पहने, सोशल डिस्टेंस का पालन करें एवं कोरोना का दोनों टीका अवश्य लें। तभी कोरोना पर काबू पाया जा सकता है।

इस अवसर पर थाना प्रभारी अमित कु.रविदास, अंचल निरीक्षक नवीन पूर्ति, राजस्व उपनिरीक्षक परमानंद सिंह, सुमित कुमार सहित अन्य उपस्थित थे।

..........
2
122 views    0 comment
1 Shares

जमशेदपुर (झारखंड)। झारखंड राज्य में मिनी लौकडाउन को 31 जनवरी तक बढ़ाया गया, जानें कौन सी पाबंदियां रहेंगी जारी

झारखंड में जारी पाबंदियों को 31 जनवरी तक बढ़ाया गया। राज्य सरकार ने कोरोना महामारी को देखते हुए झारखंड में जारी पाबंदियां 31 जनवरी तक बढ़ा दी हैं। फिलहाल मौजूदा गाइडलाइन अगले आदेश तक जारी रहेंगी।

आपदा प्रबंधन की बैठक में यह फैसला लिया गया है। बता दें कि राज्य में कोरोना संक्रमण के प्रसारब को देखते हुए 15 जनवरी तक पाबंदियां लगायी गयी थीं।

जानें कौन सी पाबंदियां रहेंगी जारी:

सभी पार्क, स्विमिंग पूल, जिम, चिड़ियाघर, पर्यटन स्थल, खेल स्टेडियम पूर्णत: बंद रहेंगे, स्कूल, कॉलेज, कोचिंग इंस्टीट्यूट बंद रहेंगे परंतु इन संस्थानों में 50% क्षमता के साथ प्रशासनिक कार्य होंगे, आगामी सिनेमाहॉल, रेस्टोरेंट, बार एवं शॉपिंग मॉल 50% क्षमता के साथ खुलेंगे, रेस्टोरेंट, बार एवं दवा दुकानें अपने नॉर्मल समय पर बंद होंगे बाकी सभी दुकानें रात्रि 8 बजे तक ही खुली रहेंगी, आउटडोर आयोजन में अधिकतम एक सौ लोग शामिल हो सकेंगे, इनडोर आयोजनों में कुल क्षमता का 50% या 100 दोनों में से जो कम हो, के साथ कार्यक्रम हो सकेंगे, सरकारी एवं निजी संस्थानों के कार्यालय 50% क्षमता के साथ खुले रहेंगे। बायोमेट्रिक अटेंडेंस पर प्रतिबंध रहेगा।

..........
1
0 views    0 comment
1 Shares

रांची (झारखंड)। गरीब परिवारों को पेट्रोल में प्रति लीटर 25 रुपए छूट मिलने की कवायद तेज, मुख्यमंत्री ने कार्य प्रगति की समीक्षा की

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने राज्य सरकार द्वारा 26 जनवरी 2022 से राज्य में राशन कार्डधारी परिवार जिनके पास बाइक, स्कूटी अथवा अन्य दो पहिया वाहन है, लेकिन पेट्रोल महंगा होने के कारण नहीं भरा पा रहे हैं उन्हें पेट्रोल की खरीद पर प्रति लीटर 25 रुपए छूट देने की योजना को अमलीजामा पहनाने हेतु कार्य प्रगति की उच्चस्तरीय समीक्षा  की। मुख्यमंत्री ने पदाधिकारियों से कहा कि पेट्रोल के दाम बढ़ने के कारण सबसे अधिक असर गरीब, मजदूर, किसान और मध्यम वर्ग के परिवारों को हुआ है। राज्य सरकार का प्रयास है कि झारखंड में गरीब, मजदूर, किसान और मध्यम वर्ग के लोगों को पेट्रोल की बढ़ती महंगाई से राहत दी जाए। मुख्यमंत्री ने पदाधिकारियों को निर्देशित किया कि संबंधित सभी विभाग बेहतर समन्वय बनाकर जल्द एक तंत्र विकसित करें, जिससे हम आगामी 26 जनवरी से पात्र लोगों को पेट्रोल की खरीद पर छूट दे सकें।

बैठक में राज्य के मुख्य सचिव श्री सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजीव अरुण एक्का, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विनय कुमार चौबे, खाद्य आपूर्ति व सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामले विभाग की सचिव श्रीमती हिमानी पांडे, परिवहन सचिव श्री के.के.सोन सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने समीक्षा बैठक में उपस्थित सभी पदाधिकारियों को निर्देशित किया कि खाद्य आपूर्ति विभाग, परिवहन विभाग तथा एनआईसी जल्द एक ऐप्प बनाए जिससे लोगों को पेट्रोल की खरीद पर प्रति लीटर 25 रुपए की राशि उनके बैंक खाते में सब्सिडी के रूप में जमा हो सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक गरीब परिवार को हर महीने अधिकतम 10 लीटर तक की पेट्रोल की खरीद पर प्रति लीटर 25 रुपए अधिकतम 250 रुपए सब्सिडी दी जाए। मुख्यमंत्री ने इस योजना के सफल संचालन के लिए बेहतर कार्य योजना बनाते हुए ससमय इसे लागू करने का निर्देश पदाधिकारियों को दिया है।

..........
4
455 views    0 comment
4 Shares

जमशेदपुर (झारखंड)। बिगड़ते मौसम के बीच में बन्ना गुप्ता फैन्स क्लब के सदस्य जी.सी मोहंती प्रतिनिधि शिक्षा विभाग के नेतृत्व में पश्चिम विधानसभा के गरीबों में कार्यकर्ताओं संग 200 जरूरतमंद लोगों को कंबल का वितरण किया 

माननीय मंत्री श्री बन्ना गुप्ता जी के दिशा निर्देश पर ठंड के बड़ते प्रकोप को देखते हुए एवं मकर संक्रांति पर्व पर आज कदमा उलीयान मेन रोड के समीप 200 गरीबों के बीच कम्बल वितरण किया गया।

इस अवसर पर मनोज झा वरिष्ठ महामंत्री कांग्रेस जिला कमेटी, कदमा सोनारी कांग्रेस अध्यक्ष बबुआ झा, मुख्य कार्यालय प्रभारी संजय तिवारी, कदमा थाना अध्यक्ष कैलाश रजक, बिजली विभाग के रवि दुबे, शिक्षा विभाग के अमित कुमार, जयप्रकाश साहू, निगरानी विभाग के राजकुमार दास, राकेश जसवाल, विशाल(पिंटू), छोटू, मुख्य रूप से शामिल थे।

..........
0
695 views    0 comment
3 Shares

रांची (झारखंड)। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने देश में कोरोना के बढ़ते मामलों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से  विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री के साथ की समीक्षा बैठक, मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन शामिल हुए


प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आज कोविड-19 के तेजी से बढ़ते मामलों को लेकर उत्पन्न हुई चुनौतियों और उससे निपटने की तैयारियों को लेकर झारखंड के मुख्यमंत्री श्री हेमन्त  सोरेन समेत सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल माध्यम से उच्च स्तरीय बैठक की । उन्होंने कहा कि जिस तरह संक्रमितों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है, उसमे हमें बेहद सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है । उन्होंने कोरोना से निपटने का सबसे सशक्त हथियार वैक्सीनेशन को बताया।  प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्यों के सहयोग से एक बार फिर हम कोविड-19 से जीतकर अवश्य निकलेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को सुदृढ़ करने के साथ बेहतर प्रबंधन के जरिए कोविड-19 की पहली और दूसरी लहर को काफी हद तक काबू में किया। उसी तरह तीसरी लहर को नियंत्रित करने के लिए सभी आवश्यक और ठोस कदम उठाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूल- कॉलेज, जिम, पार्क समेत वैसे सभी संस्थान और सार्वजनिक स्थल बंद कर दिए गए हैं, जहां से संक्रमण के फैलने का खतरा ज्यादा है । भीड़ भाड़ नहीं लगे,  इस दिशा में भी अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दे दिए गए हैं। इसके अलावा कोविड-19 महामारी से बचाव का सबसे तरीका सतर्कता और सावधानी बरतना है। इस दिशा में लोगों को जागरूक करने के साथ उन्हें कोविड-19 दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए जागरूक किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछड़ापन और भौगोलिक क्षेत्र जटिल होने के कारण झारखंड में कोविड-19 टीकाकरण में थोड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ा है । लेकिन, बेहतर रणनीति बनाकर जांच में तेजी लाने के साथ ज्यादा से ज्यादा लोगों का टीकाकरण करने का कार्य तेज गति से चल रहा है । उन्होंने कहा कि राज्य में अब तक 80% लोगों को पहला टीका लग चुका है वही , दूसरा डोज लेने वालों की संख्या 50 प्रतिशत है ।इसके अलावा 15 से 18 वर्ष के लगभग 22 प्रतिशत किशोरों ने टीके की पहली डोज़ ले ली है । मुख्यमंत्री ने कहा कि टीकाकरण में तेजी लाने के लिए 150 मोबाइल टीकाकरण वाहनों का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके माध्यम से सुदूरवर्ती ग्रामीण इलाकों में लोगों को टीका लगाने का काम हो रहा है। उन्होंने बताया कि राज्य में अब तक 30,000 लोग बूस्टर डोज ले चुके है  ।मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया कि जल्द ही टीकाकरण के लक्ष्य को हासिल कर लिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि तीसरी लहर को देखते हुए कोविड-19 जांच का दायरा बढ़ा दिया गया है । पहले जहां सामान्य रूप से पूरे राज्य में 30 से 35 हज़ार सैंपल की जांच होती थी, वही आज 80 हज़ार कोरोना जांच हो रही है। जांच के लिए कई जिलों में आरटीपीसीआर  के साथ अत्याधुनिक कोबास मशीन का भी इस्तेमाल किया जा रहा है । उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन में रहने वाले संक्रमित की सतत निगरानी के साथ बेहतर उपचार और मेडिकल किट  की  व्यवस्था की गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड में भी कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े हैं। लेकिन, इससे निपटने के लिए सरकार ने जो कार्य योजना बनाई है, उस वजह से कहीं भी किसी तरह का अफरा तफरी और भय का माहौल नहीं है। मुख्यमंत्री ने बताया कि 25 दिसंबर से अब तक कोविड-19 की वजह से राज्य भर में 34 मौतें हुई है। लेकिन इनमें से 24 वैसे लोग शामिल है जिनकी उम्र 60 वर्ष से ज्यादा थी।  इसके अलावा अन्य मृतक भी किसी न किसी को गंभीर बीमारी से ग्रसित थे ।किसी भी व्यक्ति की मौत सिर्फ कोरोना की वजह से नहीं हुई है।

मुख्यमंत्री ने इस बैठक में सरकार के द्वारा कोविड-19 से निपटने के लिए की गई तैयारियों को साझा किया। उन्होंने कहा कि कोरोना के शुरुआती चरण में यहां के अस्पतालों और अन्य स्वास्थ्य केंद्रों में 25 सौ बेड थे, जो आज बढ़कर 25000 हो गई है। इसके अलावा जिलों के के साथ प्रखंडों में भी पीएसए प्लांट लग चुके हैं। ताकि ऑक्सीजन की किल्लत मरीजों को नहीं हो। ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि राज्य में फिलहाल लगभग 31 हज़ार सक्रिय मामले हैं। वही, करीब 11 सौ संक्रमित अस्पतालों में भर्ती हैं। इनमें से मात्र 250 मरीजों को ही ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही है। 

मुख्यमंत्री ने आशंका जाहिर करते हुए कहा कि कुछ ऐसे लोग जो टीका की दोनों डोज ले चुके हैं, उन्हें लगता है कि वे अब संक्रमित नहीं होंगे ।इस वजह से सार्वजनिक स्थलों, बाजारों और सड़कों पर बिना एहतियात बरतें मूवमेंट करते रहते हैं। ऐसे लोगों में भी कुछ संक्रमित होते हैं। जो दूसरों को संक्रमित करने का काम कर रहे हैं। इन लोगों की पहचान कर इनके मूवमेंट पर रोक लगाने के लिए व्यापक रणनीति बनाने पर केंद्र और राज्य सरकार मिलकर पहल करें, तभी संक्रमण को नियंत्रित करने में हम सक्षम होंगे। उन्होंने इस बात से भी अवगत कराया कि झारखंड में संक्रमण के ज्यादातर मामले राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों से आ रहे हैं। यहां भी निगरानी के साथ जांच की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित की जानी चाहिए।

इस मौके पर मुख्य सचिव श्री सुखदेव सिंह,  मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजीव अरुण एक्का, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विनय कुमार चौबे और राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक श्री रमेश घोलप मौजूद थे।

..........
0
330 views    0 comment
1 Shares

रांची (झारखंड)। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने देश में कोरोना के बढ़ते मामलों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से  विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री के साथ की समीक्षा बैठक, मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन शामिल हुए


प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आज कोविड-19 के तेजी से बढ़ते मामलों को लेकर उत्पन्न हुई चुनौतियों और उससे निपटने की तैयारियों को लेकर झारखंड के मुख्यमंत्री श्री हेमन्त  सोरेन समेत सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल माध्यम से उच्च स्तरीय बैठक की । उन्होंने कहा कि जिस तरह संक्रमितों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है, उसमे हमें बेहद सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है । उन्होंने कोरोना से निपटने का सबसे सशक्त हथियार वैक्सीनेशन को बताया।  प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्यों के सहयोग से एक बार फिर हम कोविड-19 से जीतकर अवश्य निकलेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को सुदृढ़ करने के साथ बेहतर प्रबंधन के जरिए कोविड-19 की पहली और दूसरी लहर को काफी हद तक काबू में किया। उसी तरह तीसरी लहर को नियंत्रित करने के लिए सभी आवश्यक और ठोस कदम उठाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूल- कॉलेज, जिम, पार्क समेत वैसे सभी संस्थान और सार्वजनिक स्थल बंद कर दिए गए हैं, जहां से संक्रमण के फैलने का खतरा ज्यादा है । भीड़ भाड़ नहीं लगे,  इस दिशा में भी अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दे दिए गए हैं। इसके अलावा कोविड-19 महामारी से बचाव का सबसे तरीका सतर्कता और सावधानी बरतना है। इस दिशा में लोगों को जागरूक करने के साथ उन्हें कोविड-19 दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए जागरूक किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछड़ापन और भौगोलिक क्षेत्र जटिल होने के कारण झारखंड में कोविड-19 टीकाकरण में थोड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ा है । लेकिन, बेहतर रणनीति बनाकर जांच में तेजी लाने के साथ ज्यादा से ज्यादा लोगों का टीकाकरण करने का कार्य तेज गति से चल रहा है । उन्होंने कहा कि राज्य में अब तक 80% लोगों को पहला टीका लग चुका है वही , दूसरा डोज लेने वालों की संख्या 50 प्रतिशत है ।इसके अलावा 15 से 18 वर्ष के लगभग 22 प्रतिशत किशोरों ने टीके की पहली डोज़ ले ली है । मुख्यमंत्री ने कहा कि टीकाकरण में तेजी लाने के लिए 150 मोबाइल टीकाकरण वाहनों का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके माध्यम से सुदूरवर्ती ग्रामीण इलाकों में लोगों को टीका लगाने का काम हो रहा है। उन्होंने बताया कि राज्य में अब तक 30,000 लोग बूस्टर डोज ले चुके है  ।मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया कि जल्द ही टीकाकरण के लक्ष्य को हासिल कर लिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि तीसरी लहर को देखते हुए कोविड-19 जांच का दायरा बढ़ा दिया गया है । पहले जहां सामान्य रूप से पूरे राज्य में 30 से 35 हज़ार सैंपल की जांच होती थी, वही आज 80 हज़ार कोरोना जांच हो रही है। जांच के लिए कई जिलों में आरटीपीसीआर  के साथ अत्याधुनिक कोबास मशीन का भी इस्तेमाल किया जा रहा है । उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन में रहने वाले संक्रमित की सतत निगरानी के साथ बेहतर उपचार और मेडिकल किट  की  व्यवस्था की गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड में भी कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े हैं। लेकिन, इससे निपटने के लिए सरकार ने जो कार्य योजना बनाई है, उस वजह से कहीं भी किसी तरह का अफरा तफरी और भय का माहौल नहीं है। मुख्यमंत्री ने बताया कि 25 दिसंबर से अब तक कोविड-19 की वजह से राज्य भर में 34 मौतें हुई है। लेकिन इनमें से 24 वैसे लोग शामिल है जिनकी उम्र 60 वर्ष से ज्यादा थी।  इसके अलावा अन्य मृतक भी किसी न किसी को गंभीर बीमारी से ग्रसित थे ।किसी भी व्यक्ति की मौत सिर्फ कोरोना की वजह से नहीं हुई है।

मुख्यमंत्री ने इस बैठक में सरकार के द्वारा कोविड-19 से निपटने के लिए की गई तैयारियों को साझा किया। उन्होंने कहा कि कोरोना के शुरुआती चरण में यहां के अस्पतालों और अन्य स्वास्थ्य केंद्रों में 25 सौ बेड थे, जो आज बढ़कर 25000 हो गई है। इसके अलावा जिलों के के साथ प्रखंडों में भी पीएसए प्लांट लग चुके हैं। ताकि ऑक्सीजन की किल्लत मरीजों को नहीं हो। ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि राज्य में फिलहाल लगभग 31 हज़ार सक्रिय मामले हैं। वही, करीब 11 सौ संक्रमित अस्पतालों में भर्ती हैं। इनमें से मात्र 250 मरीजों को ही ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही है। 

मुख्यमंत्री ने आशंका जाहिर करते हुए कहा कि कुछ ऐसे लोग जो टीका की दोनों डोज ले चुके हैं, उन्हें लगता है कि वे अब संक्रमित नहीं होंगे ।इस वजह से सार्वजनिक स्थलों, बाजारों और सड़कों पर बिना एहतियात बरतें मूवमेंट करते रहते हैं। ऐसे लोगों में भी कुछ संक्रमित होते हैं। जो दूसरों को संक्रमित करने का काम कर रहे हैं। इन लोगों की पहचान कर इनके मूवमेंट पर रोक लगाने के लिए व्यापक रणनीति बनाने पर केंद्र और राज्य सरकार मिलकर पहल करें, तभी संक्रमण को नियंत्रित करने में हम सक्षम होंगे। उन्होंने इस बात से भी अवगत कराया कि झारखंड में संक्रमण के ज्यादातर मामले राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों से आ रहे हैं। यहां भी निगरानी के साथ जांच की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित की जानी चाहिए।

इस मौके पर मुख्य सचिव श्री सुखदेव सिंह,  मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजीव अरुण एक्का, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विनय कुमार चौबे और राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक श्री रमेश घोलप मौजूद थे।

..........
0
191 views    0 comment
1 Shares

0
345 views    0 comment
2 Shares

रांची (झारखंड)। मुख्यमंत्री का मिला आदेश, बंधक बनी हुनरमंद बेटियां लौट रहीं अपने घर, बेंगलुरु से मुक्त करायी गईं छह युवतियां

मुसाबनी की हुनरमंद अंजली पान अब खुश है। उसकी घर वापसी सुनिश्चित हो गई है। कुछ घंटों में वह अपने परिवार से मिल सकेगी। राज्य सरकार ने उसे बेंगलुरू से सुरक्षित मुक्त करा लिया है। अंजली पान जैसी ही पोटका प्रखंड की अन्य छह युवतियां अपने घर लौट रही हैं। 

सिलाई में निपुण अंजली पान ने बताया कि कौशल विकास केंद्र डिमना से प्रशिक्षण लेने के बाद वह अपने सहयोगियों के साथ बेंगलुरु स्थित एक वस्त्र उद्योग में सिलाई - कढ़ाई का काम करने गयी थी। वहां पहुंचने पर सभी को काम पर लगा दिया गया। लेकिन, जिस तरह की सुविधा देने की बात कही गयी थी, वैसी नहीं दी गई। उनके साथ अच्छा व्यवहार भी नहीं किया जा रहा था। उन्हें न तो सही तरह से रहने की सुविधा दी गयी और न ही खाने की सुविधा ही। वार्डेन से शिकायत करने पर वार्डेन द्वारा मारपीट की धमकी दी जाती थी। वे लोग घर लौटना चाहती थी, लेकिन आने नहीं दिया जा रहा था। उन्हें बंधक बनाकर रखा गया था।

युवतियों ने मामले की जानकारी कौशल विकास केंद्र डिमना को देने के साथ घर वापसी के लिए मुख्यमंत्री और स्थानीय विधायक से गुहार लगायी। मुख्यमंत्री के संज्ञान में मामला आते ही श्रम विभाग और पूर्वी सिंहभूम के उपायुक्त को यथाशीघ्र युवतियों के सुरक्षित वापसी का आदेश दिया गया। इसके उपरांत श्रम विभाग ने सक्रियता के साथ सभी के घर वापसी का मार्ग प्रशस्त किया।

..........
1
297 views    0 comment
2 Shares

1
0 views    0 comment
0 Shares

जमशेदपुर (झारखंड)। जिला उपायुक्त एवं वरीय पुलिस अधीक्षक राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुपालन का जायजा लेने सड़कों पर निकले, शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्र के विभिन्न चेक पोस्ट का किया निरीक्षण, कहा- जांच में बरतें सख्ती

पूर्वी सिंहभूम जिला में कोरोना के बढ़ते प्रसार को देखते हुए जिला प्रशासन अलर्ट मोड पर है। वैक्सीनेशन कार्यक्रम को गति देना हो या कोविड जांच बढ़ाना तथा भीड़ भाड़ वाले क्षेत्रों में लगातार मास्क चेकिंग अभियान चलाना, जिला प्रशासन द्वारा संक्रमण के रोकथाम हेतु सभी आवश्यक प्रयास किये जा रहे हैं। इसी क्रम में आज जिला उपायुक्त श्री सूरज कुमार एवं वरीय पुलिस अधीक्षक डॉ एम तमिल वणन मास्क चेकिंग अभियान व चेक पोस्ट पर किये जा रहे कोविड जांच का जायजा लेने सदलबल निकले।

शहरी क्षेत्र में दो मुहानी व कदमा टोल ब्रिज के निरीक्षण के क्रम में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को लेकर चेकपोस्टों पर अधिक सख्ती बरतने का निर्देश दिया। इस दौरान कुछ लोग बिना मास्क के पकड़े गए जिनको कड़ी फटकार लगाते हुए उठक बैठक कराया  तथा ऐसा करते दोबारा पकड़े जाने पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी गयी। उपायुक्त ने चेक पोस्ट पर प्रतिनियुक्त बल को कहा कि राज्य सरकार के निर्देशों का अनुपालन करें। छोटे-बड़े सभी वाहनों की जांच करें। रजिस्टर में उसकी विवरणी अंकित करें।

उपायुक्त ने कहा कि कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार फैल रहा है, हमें पहले से और ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। सभी मास्क एवं शारीरिक दूरी का पालन करें। बिना मास्क पहने लोगों को जिले में प्रवेश नहीं करने दें। मौके पर उपस्थित दंडाधिकारी व पुलिस पदाधिकारी से डीसी ने जिले में प्रवेश किए गए वाहनों की जानकारी ली, रजिस्टर देखे। रजिस्टर में विस्तृत जानकारी अपडेट करने को कहा। सभी वाहन जो प्रवेश करेंगे उसकी इंट्री रजिस्टर में करने को कहा।

वरीय पुलिस अधीक्षक ने पुलिस पदाधिकारियों एवं जवानों को भी जरूरी दिशा निर्देश दिये। कहा कि चेक पोस्ट पर किसी प्रकार की लापरवाही नहीं बरतें। लापरवाही की शिकायत मिलने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान एडीएम लॉ एंड ऑर्डर श्री नंदकिशोर लाल, निदेशक डीआरडीए श्री सौरभ सिन्हा, निदेशक एनईपी श्रीमती ज्योत्सना सिंह समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे। 

पोटका में कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन करते पाये गए लोगों पर दिखी उपायुक्त की सख्ती, सोशल डिस्टेंसिग का उल्लंघन करते पाये जाने पर 3 दुकानों को कराया सील।

शहरी क्षेत्र में निरीक्षण के पश्चात जिला उपायुक्त श्री सूरज कुमार द्वारा पोटका प्रखंड स्थित अंतरराज्यीय चेकपोस्ट रसुनचोपा व अंतरजिला चेकपोस्ट हाता तथा हल्दीपोखर बाजार का निरीक्षण किया गया। इस दौरान मास्क नहीं पहनने वालों व कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन करते पाये गए लोगों पर उपायुक्त ने कड़ी नाराजगी जाहिर की। हल्दीपोखर बाजार क्षेत्र में 3 दुकानों में सोशल डिस्टेंसिग का उल्लंघन करते पाये जाने पर 7 दिन के लिए दुकान सील कराया।   

इस दौरान मास्क नहीं पहनने वाले लोगों को मास्क पहनकर घर से निकलने की चेतावनी दी। जिला उपायुक्त ने स्पष्ट रूप से चेतावनी हुए जिलेवासियों से कहा कि किसी भी प्रकार से ओमिक्रोन वैरियंट को हल्के में नहीं लें। फिलहाल जिले में दूसरे लहर में कहर बरपाने वाले डेल्टा वैरियंट के ही मामले सामने आ रहे हैं ऐसे में अपनी सुरक्षा का विशेष ध्यान रखें।

उन्होंने कहा कि कई पश्चिमी देशों में ओमिक्रोन के कारण भी हॉस्पिटलाइजेशन होने वाले मरीजों की संख्या बढ़ी है ऐसे में इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करें तथा कोरोना संक्रमण रोकथाम के विरुद्ध इस लड़ाई में जिला प्रशासन का सहयोग करें।

मौके पर एडीएम लॉ एंड ऑर्डर श्री नंदकिशोर लाल, बीडीओ श्री महेंद्र रविदास, सीओ श्री इम्तियाज अहमद, डीएसपी श्री चन्द्रशेखर आजाद, इंस्पेक्टर इंद्रदेव राम व पुलिस बल मौजूद रहे।

..........
16
1197 views    0 comment
10 Shares

1
289 views    0 comment
2 Shares

1
288 views    0 comment
2 Shares

जमशेदपुर (झारखंड)। देश में कोरोना महामारी का प्रकोप को देखते हुए, बन्ना गुप्ता आइटी सेल के संस्थापक के नेतृत्व में महामृत्युंजय यज्ञ का आयोजन किया गया 

देश में कोरोना महामारी का प्रकोप को देखते हुए बन्ना गुप्ता आइटी सेल के संस्थापक पप्पू सिंह की ओर से बुधवार को मानगो के मरीना सिटी में महामृत्युंजय यज्ञ का आयोजन पूरे विधि-विधान के साथ किया गया। इसमें बनारस के साथ-साथ अन्य कई जगहों से कुल 131 पंडितों का जत्था पहुंचा हुआ है।

सभी पंडित महामृत्युंजय यज्ञ को सफल बनाने के लिए सुबह के 9.30 बजे से ही जुटे हुये हैं। मरीना सिटी में आयोजित एक दिवसीय कार्यक्रम में राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता जी समेत अन्य लोगों के स्वास्थ्य लाभ को लेकर महामृत्युंजय जाप का आयोजन किया गया  है।

..........
11
793 views    0 comment
6 Shares

0
795 views    0 comment
2 Shares

जमशेदपुर (झारखंड)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफिले को रोके जाने के विरोध में भाजपा जमशेदपुर महानगर ने मानव श्रृंखला बनाकर किया विरोध, भाजपा किसान मोर्चा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य अनमोल वर्मा "पप्पु" हुए शामिल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में पंजाब सरकार द्वारा हुईं चूक से पूरा देश हतप्रभ है। इस घटना से पूरे देश के  भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ साथ आम जनता में भी आक्रोश है।

देश की जनता के आक्रोश को साथ देने के लिए इस घटना का पुरजोर विरोध में भाजपा जमशेदपुर महानगर द्वारा आयोजित मानव श्रृंखला में भाजपा किसान मोर्चा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य अनमोल वर्मा "पप्पु"अपने साथियों के साथ हुए शामिल होकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के समर्थन में अपनी आवाज को बुलंद किये।

..........