logo
logo
(Trust Registration No. 393)
aima profilepic
Manindar Manish
All India Media Association

बीआरपी - सीआरपी को दिया गया प्रशिक्षण

विद्यालय में अध्ययनरत छात्र – छात्राओं को शत–प्रतिशत आधार पंजीकरण का मामला

बोकारो (झारखंड)। उपायुक्त श्री कुलदीप चौधरी के निर्देशानुसार मंगलवार को जिला शिक्षा परियोजना कार्यालय स्थित सभागार में जिले के चिन्हित प्रखंड साधन सेवी (बीआरपी) एवं संकूल साधन सेवी (सीआरपी) को प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण का उद्देश्य अपने – अपने पोषक क्षेत्र से संबंधित विद्यालयों में अध्ययनरत छात्र – छात्राओं का शत प्रतिशत आधार पंजीकरण के लक्ष्य को प्राप्त करना है।

प्रशिक्षण यूआइडी के जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (डीपीओ) शैलेंद्र कुमार ने दिया। उन्होंने बीआरपी – सीआरपी को यूआइडी (आधार कार्ड) के लिए भरे जाने वाले प्रपत्र, दस्तावेज व प्रक्रिया से अवगत कराया। प्रशिक्षु बीआरपी – सीआरपी को आधार पंजीकरण के अलावा आधार कार्ड में नाम, उम्र, पत्ता आदि के सुधार की प्रक्रिया से भी अवगत कराया। प्रशिक्षण में कुल 29 बीआरपी – सीआरपी शामिल हुए थे।

..........
1
1266 views    0 comment
1 Shares

नीलांबर पीतांबर जल समृद्धि योजना से बदल रही बंजर भूमि की तस्वीर, भूगर्भ जलस्तर में बढ़ोतरी और फसलों की सिंचाई के लिए हो रहा कारगर

2021-22 में ट्रेंच कम बंड की 73,034 योजनाएं एवं फील्ड बंड की 60,820 योजनाएं पूर्ण, वित्तीय वर्ष 2022- 23 में 99,345 योजनाओं के लक्ष्य पर सरकार कर रही कार्य

रांची (झारखंड)। नीलाम्बर-पीताम्बर जल समृद्धि योजना के तहत राज्य में जलछाजन सिद्धांत को अपनाते हुए ऊपरी टांड़ भूमि का परिपूर्णता में उपचार किया जा रहा है। राज्य सरकार द्वारा योजना के तहत वर्षा जल संचयन से सिंचाई की व्यवस्था की जा रही है। ट्रेंच कम बंड, चेक डैम, फील्ड बंड, सोख्ता गड्ढा, मेड़बंदी, तालाब जीर्णोद्धार आदि योजनाएं मनरेगा के तहत ली जा रही हैं। इससे एक ओर जहां ग्रामीणों को उनके गांव में ही रोजगार मिल रहा है, वहीं मॉनसून में व्यर्थ हो रहे वर्षा जल का संचयन भी हो रहा है।

राज्य भर में हो रहा कार्य

नीलांबर पीतांबर जल समृद्धि योजना के तहत वर्ष 2021-22 में ट्रेंच कम बंड की 73,034 योजनाएं एवं फील्ड बंड की 60,820 योजनाएं पूर्ण की गईं। सबसे अधिक ट्रेंच कम बंड का निर्माण गिरिडीह में 11,305, गढ़वा में 10,125 और लातेहार में 8,466 पूर्ण हुआ है। वहीं फील्ड बंड की योजनाएं सबसे अधिक सरायकेला में 6,676, पश्चिमी सिंहभूम में 6,150 और चतरा में 5,464 पूर्ण की गई हैं।

लक्ष्य की ओर बढ़ रही सरकार

वर्ष 2022- 23 में नीलांबर पीतांबर जल समृद्धि योजना के तहत सरकार 49,589 ट्रेंच कम बंड एवं 49,756 फील्ड बंड की योजनाओं के लक्ष्य पर कार्य कर रही है। जून 2022 तक ट्रेंच कम बंड की 7,490 एवं फील्ड बंड की 6,689 योजनाएं पूर्ण हो चुकी हैं, जबकि ट्रेंच कम बंड की 42,099 एवं फील्ड बंड की 43,067 योजनाओं पर कार्य जारी है।

नीलाम्बर-पीताम्बर जल समृद्धि योजना किसानों एवं प्रवासी मजदूरों के लिए रोजगार का साधन बने यह विभाग की प्राथमिकता है।नीलाम्बर-पीताम्बर जल समृद्धि योजना पूरे राज्य में मिशन मोड पर चलायी जा रही है। लोगों को अपने घर पर ही आजीविका का साधन उपलब्ध कराना सरकार का लक्ष्य है।

..........
1
21 views    0 comment
0 Shares

बिजली और पानी की समस्या का समाधान के लिए मंत्री बन्ना गुप्ता ने की उपायुक्त के साथ मेराथन बैठक

अगले माह होगी बीस सूत्री और क्राइम कंट्रोल पर बैठक : मंत्री बन्ना गुप्ता


रांची धनबाद (झारखंड) धनबाद परिषदन में आज स्वास्थ्य एवं आपदा प्रबंधन मंत्री सह धनबाद जिले के प्रभारी मंत्री बन्ना गुप्ता ने उपायुक्त धनबाद के साथ मेराथन बैठक कर जन समस्याओ के समाधान हेतु सकरात्मक पहल की। इस बैठक में झरिया विधायक श्रीमती पूर्णिमा नीरज सिंह, महगामा विधायक दीपिका पाण्डेय सिंह, धनबाद कांग्रेस जिलाध्यक्ष ब्रजेन्द्र सिंह के अलावे जिला उपायुक्त के साथ एसएसपी धनबाद, विधुत विभाग के जीएम , phed के एक्सक्यूटिव इंजीनियर, डीडीसी, एडीसी के अलावे वरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

अब धनबाद को मिलेगा 55MLD पानी, नया वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगेगा

इस अवसर पर मंत्री बन्ना गुप्ता ने जिले में हो रही पानी की समस्या पर उपायुक्त से जवाब तलब किया तो उपायुक्त ने बताया कि पानी की सप्लाई कम होने से दिक्कत हुई है तो तत्काल मंत्री बन्ना गुप्ता ने पेयजल मंत्री श्री मिथिलेश ठाकुर से बात कर इसे बढ़ाने का आग्रह किया तो पेयजल मंत्री ने उन्हें आश्वासन दिया कि 40MLD से बढ़ाकर कल से 55MLD की आपूर्ति मिलेगी, इसके साथ ही धनबाद में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाने की मांग मंत्री बन्ना गुप्ता ने किया जिसे स्वीकार करते हुए पेयजल मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने जल्द प्रकिया शुरुआत करने का वादा किया।

कुसुम बिहार के लोगों को राहत, नए पाईप लाइन द्वारा होगी जलापूर्ति

कई दिनों से पानी की समस्या से जूझ रहे कुसुम बिहार के लोगों के समस्या को विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह ने मंत्री जी के संज्ञान में लाया तो उन्होंने तुरंत उपायुक्त को निर्देश दिया कि नए पाइप लाइन बिछाकर स्थानीय निवासियों को पानी की आपूर्ति की जाये।

विधुत समस्या से मिलेगी निजात

कई दिनों से चल रहे विधुत की आँख मिचोली की खबर मंत्री बन्ना गुप्ता को स्थानीय लोगों ने दिया था, आज विधुत विभाग के महाप्रबंधक से बात कर कोडरमा डिवीसी में हो रही गड़बड़ी को सुधार कर निर्बाध बिजली वितरण करने का निर्देश दिया, उन्होंने निर्देश दिया कि 24 घंटे के अंदर इसका समाधान किया जाये।

गया पुल कार्य जल्द पूरा करने का निर्देश

मंत्री बन्ना गुप्ता ने उपायुक्त से गया पुल निर्माण के संदर्भ में समीक्षा कर स्थिति की जानकारी ली, उपायुक्त ने बताया कि जल्द ही सारे तकनीकी बाधाओं को दूर कर सकरात्मक पहल करते हुए जल्द कार्य को पूरा किया जायेगा।

जनता मार्किट के दुकानदारों को जल्द अलॉट करें दुकान

मंत्री बन्ना गुप्ता ने उपायुक्त को निर्देश दिया कि जनता मार्किट के दुकानदारों को और इंतजार न कराया जाये, तुरंत ही उन्हें तय करते हुए दुकान अलॉट कराया जाये।

अगले माह होगी बीस सूत्री और क्राइम कंट्रोल को लेकर बैठक

स्वास्थ्य मंत्री ने उपायुक्त से पिछले बीस सूत्री बैठक की अधतन कार्यवाई पर रिपोर्ट तलब किया साथ ही निर्देश दिया कि अगले माह 20 सूत्री की बैठक सुनिश्चित करें।

इसके साथ ही उन्होंने एसएसपी धनबाद को निर्देश किया कि सारे क्राइम रिपोर्ट तैयार करें और क्राइम सूची और उसके वस्तुस्थिति के साथ अगले माह क्राइम बैठक में क्राइम कंट्रोल पर कार्य योजना तैयार कर बैठक में आये।

..........
5
1500 views    0 comment
1 Shares

8
4634 views    0 comment
0 Shares

18
771 views    0 comment
0 Shares

7
2234 views    0 comment
0 Shares

उत्तरी घोड़ाबंधा पंचायत उप मुखिया का चुनाव संपन्न, नवनिर्वाचित उप मुखिया अलमताज़ को फूल माला पहनाकर स्वागत किया

जमशेदपुर (झारखंड)। जमशेदपुर उत्तरी घोड़ाबंधा पंचायत में आज उप मुखिया का चुनाव बारीनगर स्थित पंचायत भवन में संपन्न हुआ। खलीफा अलमताज़ ने शहज़ादी बेगम को दो वोट से पराजित किया। खलीफा अलमताज़ को 8 वोट और शहज़ादी बेगम को 6 वोट मिला। बस्तीवासियों ने नवनिर्वाचित उप मुखिया अलमताज़ को फूल माला पहनाकर स्वागत किया।

इस अवसर पर अधिवक्ता गुड्डू हैदर, अधिवक्ता रफीक अहमद, मुखिया छोटा टुडू, वार्ड सदस्य अरमान अली, शाहज़हाँ दारा, फरीदुद्दीन खान सन्नी, लाल बाबू, सोहैल अहमद खान, शाहनवाज़ सोनी, शोएब अहमद खान, मो फरीद आदि लोग उपस्थित थे।

..........
34
3516 views    0 comment
0 Shares

जिला उपायुक्त कार्यालय के समक्ष एक दिवसीय सत्याग्रह

अग्निपथ योजना को वापस लेने की मांग

अग्निपथ योजना के खिलाफ कांग्रेस का धरना-प्रदर्शन, योजना सेना के साथ और नौजवानों के साथ खिलवाड़ कर रही है केंद्र सरकार : मंत्री बन्ना गुप्ता


जमशेदपुर (झारखंड)। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी, झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देशानुसार केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के खिलाफ जमशेदपुर पश्चिमी विधानसभा क्षेत्र में जिला उपायुक्त कार्यालय के समक्ष एक दिवसीय सत्याग्रह का कार्यक्रम आयोजित किया गया।

इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि अग्निवीर योजना देश की सीमाओं की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ है। यह योजना सेना के साथ और नौजवानों के साथ खिलवाड़ है।

उन्होंने बताया कि सेना की ट्रेनिंग बहुत टफ होती है तभी जाकर देश के वीर जवान बॉर्डर पर और जरूरत पड़ने पर देश की सीमा के अंदर किसी भी विपरीत परिस्थिति में देश की रक्षा करते है।लेकिन अग्निविर के योजना के अंतर्गत महज 6 महीने में मार्च पास्ट बराबर भी सीख नहीं पाएंगे। उन्होंने कहा कि उसके साथ ही साढ़े तीन साल बाद रिटायर हो जाएंगे। आज पुरे देश में युवा वर्ग चार साल की नौकरी को स्वीकार नहीं कर रहा है। पुरे देश में युवा आंदोलन कर रहे है।मोदी सरकार पहले वन रैंक वन पेंशन की बात कर सत्ता में आई थी अब नो रैंक, नो पेंशन की बात कर युवाओ को धोखा दें रही है।

मंत्री बन्ना गुप्ता ने केंद्र सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि युवाओं को नौकरी देने के वायदे से सत्ता में आई बीजेपी सरकार आज ठेके पर सेना की भर्ती लें रही है, कोई सरकार भी 5 साल चलती है लेकिन ये सरकार महज साढ़े तीन साल की नौकरी वाली स्कीम लाकर युवाओं को ठगने का प्रयास कर रही है जो सरकार की नासमझी को दर्शाता है। इस योजना के विरोध में कांग्रेस पार्टी मजबूती से देश के युवाओ के साथ ख़डी है, जिस प्रकार मोदी सरकार ने जन दवाब में किसान बिल के काले कानून को वापस लिया था उसी प्रकार युवा आक्रोश के बाद मोदी जी को ये योजना वापस लेना होगा।

इस अवसर जन सत्याग्रह पश्चिम विधान सभा इंचार्ज गुड्डू गुप्ता, जिला अध्यक्ष बिजय खाँ, नट्टू झा, रघुनाथ पांडे ,श्रीवास्तव, राकेश्वर पांडेय, ब्रीजिन्द्र तिवारी, वरिय कांग्रेस नेता बल्देव सिंह, एल बी सिंह, अनन्द मय पात्रा, कमलेश पांडेय, धर्मेन्द्र सोनकर, फिरोज खान, अशोक सिंह, राजकिशोर यादव, रियाज खान, सूर्य राव, उषा य़ादव, मनोज झा, संजय तिवारी, बबुआ झा, प्रभात ठाकुर, कैलाश रजक, अमित प्रसाद, माजिद अख्तर, पप्पू सिंह, भवानी सिंह, अभिनंदन सिंह, बिलाल गुफरानी, रोशन, संतोष सिंह, ईश्वर सिंह, राकेश जयसवाल, मनोज भगत, यीशु अग्रवाल, जी सी मोहंती, जयप्रकाश साहू, जितेंद्र कुमार, एन के श्रीवास्तव, प्रेम राय, राजकुमार दास, जयकुमार, राजेश रजक, मानस गिरी, दिनेश पोद्दार, जितेंद्र सिंह, संजीव झा, शाहनवाज अहमद, रवि दुबे, अनिल सिंह, आगेस्टिंग विल्सन, गिच्चू अग्रवाल, शिबू सिंह, कलीम, सुमित सोनकर, उपेंदर, राजा गद्दी, फारुख गद्दी, प्रमोद रजक, गुलाम, अजय मिश्रा, अनूप मिश्रा, संजीव झा, राजेश गोराई, समीर यादव, अशोक पासवान, धनु महतो, बेबी सिंह, कुट्टी वर्मा, सुनैना देवी, सुमित्रा पांडा, सविता राय, रोशनी, रहुल छाबरा, मोती खान, गुरुसराण सिंह, संजय सिंह, बंटी शर्मा, बबन सुक्ला, बिनोद रजक, सूरज हरिपाल, मुकेश गुप्ता,संदीप बर्मन,पंकज बर्मन, साकिर, आलम, संजय शर्मा, अजमेरी खान, अफताब अहमद सिद्दीकी, इरशाद हैदर, संजर खान, बबलू नौशाद, मौलाना अंसार खान उपस्थित थे।

..........
19
3092 views    0 comment
1 Shares

4
3027 views    0 comment
1 Shares

माझी पारगना माहाल, धाड़ दिशोम के दो दिवसीय महासम्मेलन में मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन शामिल हुए

मुख्यमंत्री बोले- आदिवासी समाज की पारंपरिक स्वशासन व्यवस्था को अक्षुण्ण और सुदृढ़ करना हमारी विशेष प्राथमिकता

मुख्यमंत्री ने गलवान घाटी में शहीद वीर सपूत गणेश हांसदा की माता श्रीमती कापरा हांसदा को सौंपा नियुक्ति पत्र

आदिवासियों का संघर्ष ही उनकी पहचान है, अपने महापुरुषों और शहीदों के सपनों का झारखंड हम बनाएंगे

घाटशिला जमशेदपुर (झारखंड)। आदिवासी का अर्थ ही है- आदि समय से वास करना । हमें आदिवासी समाज की पारंपरिक स्वशासन व्यवस्था को ना सिर्फ अक्षुण्ण रखना है बल्कि इसे और भी सुदृढ़ करना है। मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन ने आज घाटशिला में माझी पारगाना माहाल, धाड़ दिशोम के दो दिवसीय महासम्मेलन के समापन समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए ये बातें कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस महासम्मेलन में संथाली आदिवासी समाज की आर्थिक- सामाजिक -राजनीतिक और पारंपरिक व्यवस्था, कला- संस्कृति, शिक्षा और स्वास्थ्य समेत कई महत्वपूर्ण विषयो पर आप सभी ने जो विचार विमर्श और गहन मंथन किया है, वह संताल आदिवासी समाज की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने की दिशा में बेहतरीन पहल है । इस कड़ी में सरकार की ओर से जो भी सहयोग की जरूरत होगी, उसे पूरा किया जाएगा।।

आदिवासियों का संघर्ष ही उनकी पहचान है

मुख्यमंत्री ने कहा कि आदिवासियों का संघर्ष ही उनकी पहचान है। लंबे समय से ही ये अन्याय का विरोध करते रहे हैं । देश की आजादी की लड़ाई में हम अपने आदिवासी वीर सपूतों के योगदान को कभी भुला नहीं सकते हैं । इन्होंने देश की खातिर सहर्ष ही अपनी कुर्बानी दे दी थी। अपने इन महापुरुषों और शहीदों के सपनों का झारखंड बनाना है । इसके लिए सरकार कृत संकल्प है। आज हम सभी को इन से प्रेरणा लेकर उनके बताए मार्गो पर चलना चाहिए।

जल जंगल और जमीन के रक्षक

आदिवासी समाज की जिंदगी में जल , जंगल और जमीन रचा बसा है। इसे बचाने के लिए वे अपना सब कुछ न्योछावर करने को हमेशा तैयार रहते हैं। इस बात से हम इंकार नहीं कर सकते हैं कि जल, जंगल और जमीन अगर नहीं रहा तो पर्यावरण को कितना नुकसान पहुंचेगा । जल जंगल और जमीन का हक और अधिकार आदिवासी समाज को मिले, यह हमारी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में शामिल है।

रोजगार के खुल गए द्वार, शिक्षा के लिए मिल रही स्कॉलरशिप

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में रोजगार के द्वार खुल गए हैं । सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। वहीं, स्वरोजगार के लिए युवाओं को मुख्यमंत्री रोजगार सृजन योजना के तहत 50 हज़ार रुपए से लेकर 25 लाख रुपए तक दिए जा रहे हैं । उन्होंने कहा कि आदिवासी समाज शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़े, इसके लिए कई योजनाएं शुरू की गई है। अनुसूचित जनजाति के विद्यार्थियों को विदेशों में उच्च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति दी जा रही है। हमारा प्रयास है कि आदिवासी समाज भी सभी के साथ कदम से कदम मिलाकर चले और आगे बढ़े।

माझी पारगाना माहाल, धाड़ दिशोम का एप्प लांच

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर माझी पारगाना माहाल, धाड़ दिशोम के एप्प को लांच किया। इस तरह संताल आदिवासी समाज डिजिटल प्लेटफॉर्म पर आ गया। अब इस समाज की व्यवस्था और गतिविधियों की जानकारी एप्प के माध्यम से ली जा सकती है।

शहीद गणेश हांसदा की माता को मिला नियुक्ति पत्र

मुख्यमंत्री ने इस महासम्मेलन में शहीद गणेश हांसदा की माता श्रीमती कापरा हांसदा को नियुकि पत्र प्रदान किया। इस मौके पर शहीद की माता, पिता श्री सुबदा हांसदा और भाई श्री दिनेश हांसदा को मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया। ज्ञात हो कि 15-16 जून 2020 को गलवान घाटी में चीन के सैनिकों से लोहा लेते हुए भारतीय सेना के वीर सपूत गणेश हांसदा शहीद हो गए थे।

महासम्मेलन में मंत्री श्री चम्पाई सोरेन, मंत्री श्री बन्ना गुप्ता, विधायक श्री रामदास सोरेन, श्री मंगल कालिंदी, श्री संजीव सरदार और श्री समीर मोहंती, माझी पारगाना माहाल, धाड़ दिशोम के देश पारगाना श्री बैजू मुर्मू, तरफ पारगाना श्री हरिपदो मुर्मू, श्री दासमाथ हांसदा, श्रीमती पुनता मुर्मू, श्रीमती पदमावती हेम्ब्रम, श्री चांदराई हांसदा, श्री परमेश्वर मरांडी, श्री सुशील हांसदा, श्री बैजू टुडू, घाट पारगाना डॉ राजेंद्र प्रसाद टुडू, माझी श्री युवराज टूडू, श्री एल किस्कु और श्री पंचानन सोरेन तथा अन्य मौजूद थे।

..........
1
10836 views    0 comment
0 Shares

2
2664 views    0 comment
1 Shares

मांडर विधानसभा उपचुनाव की विजयी प्रत्याशी श्रीमती शिल्पी नेहा तिर्की ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात

रांची (झारखंड)। मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन से आज कांके रोड रांची स्थित मुख्यमंत्री आवासीय कार्यालय में मांडर विधानसभा उपचुनाव की विजयी प्रत्याशी श्रीमती शिल्पी नेहा तिर्की ने मुलाकात की। मुख्यमंत्री से यह उनकी शिष्टाचार भेंट थी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने श्रीमती शिल्पी नेहा तिर्की को उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं एवं बधाई दी।

मुख्यमंत्री ने श्रीमती शिल्पी नेहा तिर्की से कहा कि जिस आशा और विश्वास के साथ मांडर विधानसभा की जनता ने आपको विधायक के रूप में चुना है, उनके आशा और विश्वास पर खरा उतरकर एक आदर्श विधायक का उदाहरण पेश करें। मालूम हो कि मांडर विधानसभा उपचुनाव में श्रीमती शिल्पी नेहा तिर्की गठबंधन की उम्मीदवार थीं।

मौके पर झारखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री राजेश ठाकुर, पूर्व विधायक श्री बंधु तिर्की सहित अन्य उपस्थित थे।

..........
1
2781 views    0 comment
1 Shares

15 अगस्त को पुरानी पेंशन स्कीम राज्य भर में लागू : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन

रांची (झारखंड)। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने घोषणा की है कि 15 अगस्त को पुरानी पेंशन स्कीम राज्य भर में लागू हो जायेगी। मुख्यमंत्री रविवार को के मोहराबादी मैदान में आयोजित पेंशन महासम्मेलन के मंच से संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पेंशन योजना की मांग कर रहे कर्मचारी संगठनों के लिए यह अच्छा रहेगा।

सीएम ने कहा, अगली बार जब भी सम्मेलन में उपस्थित होउंगा, तब मेरे हाथ में पुरानी पेंशन स्कीम घोषणा करने के कागजात होंगे। उन्होंने कहा कि पुरानी पेंशन के लिए आंदोलन हो रहा है। हमारे कर्मचारी सरकार की आँखें हैं। आपकी वजह से हम योजनाएं ज़मीन पर उतार रहे हैं। सामाजिक सुरक्षा की चिंता पुरानी सरकार ने नहीं की। हम सर्वजन पेंशन दे रहे हैं। सामाजिक सुरक्षा हमारी सरकार की प्राथमिकता है।

..........
9
46 views    0 comment
0 Shares

मांडर उपचुनाव : कांग्रेस प्रत्याशी शिल्पी तिर्की की ऐतिहासिक जीत 

कदमा कांग्रेस कार्यालय 
के समक्ष लड्डू खिलाकर मनाया जश्न, कांग्रेस कार्यकर्ताओं में ख़ुशी का माहौल

जमशेदपुर (झारखंड)। झारखंड झारखंड विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी शिल्पी तिर्की जी की ऐतिहासिक जीत की खुशी में कदमा स्थित माननीय स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता जी के कार्यालय के समक्ष कार्यकर्ताओं ने लड्डू वितरण किया।

इस दौरान बबुआ झा, अर डी राय, शिव कुमार पासवान, संजय तिवारी, जयप्रकाश साहू, उज्वला गुहा, अमित प्रसाद, राजकुमार दास, मनोज भगत, राजू दास, दिनेश पोद्दार, आगेस्टिंग विल्सन, गिच्चू अग्रवाल, मानस गिरी, विशु दा उपस्थित थे।

..........
24
1706 views    0 comment
1 Shares

..........
0
79 views    0 comment
0 Shares

अबुआ बुगिन स्वास्थ्य कार्यक्रम

जनजातीय समुदाय के लोगों से कहना चाहूँगा कि वे हानिकारक व्यसनों के सेवन से परहेज करें : राज्यपाल रमेश बैस

खूँटी (झारखंड)। खूँटी में जनजातीय कार्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा “अबुआ बुगिन स्वास्थ्य” (हमारा बेहतर स्वास्थ्य) कार्यक्रम के अंतर्गत आयोजित “स्वास्थ्य मेला” के अवसर माननीय राज्यपाल महोदय संबोधित किया।

धरती आबा भगवान बिरसा मुंडा की इस पावन भूमि पर जनजातीय कार्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा “अबुआ बुगिन स्वास्थ्य” (हमारा बेहतर स्वास्थ्य) कार्यक्रम के अंतर्गत आयोजित इस “स्वास्थ्य मेला” में आप सभी के बीच आकर अपार खुशी हो रही है। इस कार्यक्रम के आयोजन के लिए मैं जनजातीय कार्य मंत्री, भारत सरकार श्री अर्जुन मुंडा जी को हार्दिक बधाई देता हूँ।

इस माटी के सपूत के साहस, त्याग व बलिदान की गाथा की पूरे विश्व में ख्याति है। हमारे देश के स्वतंत्रता आंदोलन में इन्होंने लोगों को प्रेरित करने का कार्य किया। हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा भगवान बिरसा मुंडा के जन्मदिन को “जनजातीय गौरव दिवस” के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया।

जनजातीय समुदाय का गौरवशाली इतिहास रहा है। अति प्राचीन काल से ही जनजाति समुदाय भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति के अभिन्न अंग रहे हैं तथा इनकी विश्वस्तरीय पहचान रही है। देश की आजादी में हमारे जनजातीय समुदाय के लोगों का अविस्मरणीय योगदान है।

झारखण्ड वीरों की भूमि है। देश की स्वतंत्रता आन्दोलन का एक लम्बा इतिहास रहा है जिसमें यहाँ के बहुत से विभूतियों ने अपना योगदान दिया है। लोगों को इन महानायकों की गाथा व उनके योगदानों के बारे में जानना चाहिए।

हम सभी को अपनी युवा पीढ़ी, बच्चों को अपने स्वतन्त्रता आंदोलन के महानायकों के योगदान से अवगत कराना बहुत जरूरी है। हमारे माननीय प्रधानमंत्री महोदय द्वारा इस दिशा में “आजादी का अमृत महोत्सव” मनाने का निर्णय लिया गया।

वर्तमान में पूरे भारतवर्ष में उत्साह व उमंग के साथ आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। आज़ादी का अमृत महोत्सव का अर्थ है, आज़ादी के उपरांत उपलब्धियों के अमृत का आनन्द, आगामी योजनाओं के संकल्प को पूर्ण करने के जोश व जज्बे का अमृत, आज़ादी की ऊर्जा का अमृत, स्वतंत्रता सेनानियों की प्रेरणा का अमृत, नए विचारों का अमृत, नए संकल्पों एवं परिकल्पनाओं का अमृत, आत्मनिर्भरता का अमृत।

लोगों के बेहतर स्वास्थ्य के प्रति प्रतिबद्धता होनी चाहिए। कहा गया है कि- स्वास्थ्य ही धन है और स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है। कहा जाए तो बेहतर स्वास्थ्य ही सभी व्यक्तियों के लिए सच्चे सुख का आधार है। ऐसे में, जनजातीय कार्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जनजातीय बहुल इस क्षेत्र में “स्वास्थ्य मेला” का आयोजन एक अत्यंत सराहनीय प्रयास है।

जनजातीय समाज का रहन-सहन प्रकृति के साथ होता है, लेकिन बदलते परिवेश व वातावरण एवं भोजन में मिलावटों के कारण कई स्वास्थ्य संबंधी विकार आ गये हैं। इनके निवास क्षेत्र में बेहतर स्वास्थ्य संरचना व आधुनिक चिकित्सा संसाधनों को और बेहतर बनाने की जरूरत है।

मुझे पूरा विश्वास है कि आज यहाँ आयोजित इस स्वास्थ्य मेला में चिकित्सकों द्वारा लोगों के स्वास्थ्य का बेहतर रूप से परीक्षण व जाँच किया जायेगा एवं उसके बाद उचित परामर्श दिया जायेगा। इस निःशुल्क सेवा से लोग अपनी बीमारियों का ससमय उपचार करा सकेंगे। मुझे बताया गया कि मरीजों को निःशुल्क औषधि भी दी जायेगी। मैंने देखा है कि स्वास्थ्य मेला के आयोजन से मन की बहुत सारी शंकाएँ भी दूर हो जाती हैं।

इस स्वास्थ्य मेला में 350 से अधिक चिकित्सकों का भाग लेना तथा स्वास्थ्य जगत के लिए एक व्यापक पहल है। मानव स्वास्थ्य की दिशा में खूँटी आकर लोगों का स्वास्थ्य जाँच करने के लिए मैं आप लोगों को बधाई देता हूँ। मुझे आशा है कि आप सभी के आगमन से यहाँ लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागृति आयेगी।

मुझे बताया गया कि सिकल सेल जनजातीय समुदाय में प्रचलित एक गंभीर आनुवांशिक रोग है। इस “स्वास्थ्य मेला” में इसकी भी जांच कर, इसका आकलन किये जाने की सूचना है। साथ ही, नेत्र विशेषज्ञों द्वारा आंखो की जांच की जायेगी एवं दृष्टि प्रभावित लोगों के बीच चश्मा का वितरण करना एक बहुत सराहनीय प्रयास है।

माननीय प्रधानमंत्री जी समाज के सभी वर्ग को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा सुलभ कराने की दिशा में प्रतिबद्ध है। इसके लिए उन्होंने झारखंड की धरती से “आयुष्मान भारत योजना” लागू की। खुशी है कि आज यहाँ आयुष्मान कार्ड का भी वितरण किया जा रहा है।

मुझे विश्वास है कि जनजातीय समुदाय में इस प्रकार के कार्यक्रम से स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता आयेगी। राज्य का हर नागरिक स्वस्थ हो, यह हम सभी का सपना है। ससमय रोगों का समुचित इलाज से अपने जीवन की रक्षा करना सबका कर्तव्य है।

जनजातीय समुदाय के लोगों से कहना चाहूँगा कि वे हानिकारक व्यसनों के सेवन से परहेज करें एवं भगवान बिरसा के जीवन से प्रेरित होकर एक स्वस्थ्य समाज के निर्माण मे अपना सहयोग करें।

मैं आज यह भी कहना चाहूँगा कि हमें सिर्फ इसी स्वास्थ्य मेला तक रुकना नहीं है। स्वास्थ्य विभाग को इस प्रकार के स्वास्थ्य मेलाओं को गांवों तक ले जाना होगा ताकि स्वस्थ एवं विकसित झारखंड का निर्माण हो। जिला में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी सक्रियता से कार्य करें। मैं चाहूँगा कि राज्य के विशेषज्ञ चिकित्सकों को समय-समय पर ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण कर लोगों का स्वास्थ्य के प्रति मार्गदर्शन करना चाहिए।

अन्त में, मैं यहाँ जनजातीय कार्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा आयोजित इस “स्वास्थ्य मेला” की सफलता की कामना करता हूँ एवं इसके आयोजन हेतु श्री अर्जुन मुंडा जी, माननीय केंद्रीय मंत्री, जनजातीय कार्य मंत्रालय, भारत सरकार तथा जिला प्रशासन के अधिकारियों, चिकित्सकों समेत उन सभी को पुनः बधाई देता हूँ, जिन्होंने कार्यक्रम के आयोजन में अपना सक्रिय योगदान दिया।

..........
1
1654 views    0 comment
0 Shares

माझी पारगना माहाल, धाड़ दिशोम के दो दिवसीय महासम्मेलन में मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन शामिल हुए

मुख्यमंत्री बोले- आदिवासी समाज की पारंपरिक स्वशासन व्यवस्था को अक्षुण्ण और सुदृढ़ करना हमारी विशेष प्राथमिकता

मुख्यमंत्री ने गलवान घाटी में शहीद वीर सपूत गणेश हांसदा की माता श्रीमती कापरा हांसदा को सौंपा नियुक्ति पत्र

आदिवासियों का संघर्ष ही उनकी पहचान है, अपने महापुरुषों और शहीदों के सपनों का झारखंड हम बनाएंगे

घाटशिला, जमशेदपुर (झारखंड)। आदिवासी का अर्थ ही है- आदि समय से वास करना । हमें आदिवासी समाज की पारंपरिक स्वशासन व्यवस्था को ना सिर्फ अक्षुण्ण रखना है बल्कि इसे और भी सुदृढ़ करना है। मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन ने आज घाटशिला में माझी पारगाना माहाल, धाड़ दिशोम के दो दिवसीय महासम्मेलन के समापन समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए ये बातें कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस महासम्मेलन में संथाली आदिवासी समाज की आर्थिक- सामाजिक -राजनीतिक और पारंपरिक व्यवस्था, कला- संस्कृति, शिक्षा और स्वास्थ्य समेत कई महत्वपूर्ण विषयो पर आप सभी ने जो विचार विमर्श और गहन मंथन किया है, वह संताल आदिवासी समाज की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने की दिशा में बेहतरीन पहल है। इस कड़ी में सरकार की ओर से जो भी सहयोग की जरूरत होगी, उसे पूरा किया जाएगा।

आदिवासियों का संघर्ष ही उनकी पहचान है

मुख्यमंत्री ने कहा कि आदिवासियों का संघर्ष ही उनकी पहचान है। लंबे समय से ही ये अन्याय का विरोध करते रहे हैं। देश की आजादी की लड़ाई में हम अपने आदिवासी वीर सपूतों के योगदान को कभी भुला नहीं सकते हैं । इन्होंने देश की खातिर सहर्ष ही अपनी कुर्बानी दे दी थी। अपने इन महापुरुषों और शहीदों के सपनों का झारखंड बनाना है। इसके लिए सरकार कृत संकल्प है। आज हम सभी को इन से प्रेरणा लेकर उनके बताए मार्गो पर चलना चाहिए।

जल जंगल और जमीन के रक्षक

आदिवासी समाज की जिंदगी में जल , जंगल और जमीन रचा बसा है। इसे बचाने के लिए वे अपना सब कुछ न्योछावर करने को हमेशा तैयार रहते हैं। इस बात से हम इंकार नहीं कर सकते हैं कि जल, जंगल और जमीन अगर नहीं रहा तो पर्यावरण को कितना नुकसान पहुंचेगा । जल जंगल और जमीन का हक और अधिकार आदिवासी समाज को मिले, यह हमारी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में शामिल है।

रोजगार के खुल गए द्वार, शिक्षा के लिए मिल रही स्कॉलरशिप

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में रोजगार के द्वार खुल गए हैं । सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। वहीं, स्वरोजगार के लिए युवाओं को मुख्यमंत्री रोजगार सृजन योजना के तहत 50 हज़ार रुपए से लेकर 25 लाख रुपए तक दिए जा रहे हैं । उन्होंने कहा कि आदिवासी समाज शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़े, इसके लिए कई योजनाएं शुरू की गई है । अनुसूचित जनजाति के विद्यार्थियों को विदेशों में उच्च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति दी जा रही है। हमारा प्रयास है कि आदिवासी समाज भी सभी के साथ कदम से कदम मिलाकर चले और आगे बढ़े।

माझी पारगाना माहाल, धाड़ दिशोम का एप्प लांच

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर माझी पारगाना माहाल, धाड़ दिशोम के एप्प को लांच किया। इस तरह संताल आदिवासी समाज डिजिटल प्लेटफॉर्म पर आ गया। अब इस समाज की व्यवस्था और गतिविधियों की जानकारी एप्प के माध्यम से ली जा सकती है।

शहीद गणेश हांसदा की माता को मिला नियुक्ति पत्र

मुख्यमंत्री ने इस महासम्मेलन में शहीद गणेश हांसदा की माता श्रीमती कापरा हांसदा को नियुकि पत्र प्रदान किया। इस मौके पर शहीद की माता, पिता श्री सुबदा हांसदा और भाई श्री दिनेश हांसदा को मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया। ज्ञात हो कि 15-16 जून 2020 को गलवान घाटी में चीन के सैनिकों से लोहा लेते हुए भारतीय सेना के वीर सपूत गणेश हांसदा शहीद हो गए थे।

महासम्मेलन में मंत्री श्री चम्पाई सोरेन, मंत्री श्री बन्ना गुप्ता, विधायक श्री रामदास सोरेन, श्री मंगल कालिंदी, श्री संजीव सरदार और श्री समीर मोहंती, माझी पारगाना माहाल, धाड़ दिशोम के देश पारगाना श्री बैजू मुर्मू, तरफ पारगाना श्री हरिपदो मुर्मू, श्री दासमाथ हांसदा, श्रीमती पुनता मुर्मू, श्रीमती पदमावती हेम्ब्रम, श्री चांदराई हांसदा, श्री परमेश्वर मरांडी, श्री सुशील हांसदा, श्री बैजू टुडू, घाट पारगाना डॉ राजेंद्र प्रसाद टुडू, माझी श्री युवराज टूडू, श्री एल किस्कु और श्री पंचानन सोरेन तथा अन्य मौजूद थे।

..........
1
1797 views    0 comment
0 Shares

18
3142 views    0 comment
1 Shares

4
1465 views    0 comment
0 Shares