logo
(Trust Registration No. 393)
अपने विचार लिखें....

ऐसे ईडी के हत्थे चढ़ा हेमंत सोरेन का चहेता पंकज मिश्रा, अब पहुंचा होटवार जेल, मुख्यमंत्री की भी बढ़ीं मुश्किलें

आखिरकार मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा होटवार जेल तक पहुंच ही गया। आइएएस पूजा सिंघल सीए सुमन कुमार के बाद अब पंकज मिश्रा का नया ठिकाना होटवार जेल बन गया है। मंगलवार शाम ईडी ने उसे गिरफ्तार किया।

ऐसे ईडी के हत्थे चढ़ा हेमंत सोरेन का चहेता पंकज मिश्रा, अब पहुंचा होटवार जेल, मुख्यमंत्री की भी बढ़ीं मुश्किलें
Jharkhand News: ऐसे ईडी के हत्थे चढ़ा हेमंत सोरेन का चहेता पंकज मिश्रा, अब पहुंचा होटवार जेल, मुख्यमंत्री की भी बढ़ीं मुश्किलें

रांची, राज्य ब्यूरो। Hemant Soren MLA Representative Pankaj Mishra Arrest मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा का झारखंड के संताल क्षेत्र में काफी दबदबा रहा है। कहा जाता है कि उनकी मर्जी के बिना संताल इलाके में कोई भी कारोबारी धंधा नहीं कर सकता है। अवैध खनन करने वाले पंकज मिश्रा के दरबार में ही हाजिरी लगाते हैं। झारखंड की भ्रष्ट आइएएस पूजा सिंघल की गिरफ्तारी के बाद से ही पंकज मिश्रा ईडी यानी प्रवर्तन निदेशालय के निशाने पर आ गए थे। पूजा सिंघल के मामले में जब जिला खनन पदाधिकारियों से पूछताछ होने लगी तो हर किसी के जुबान पर पंकज मिश्रा और पूजा सिंघल का ही नाम था। अब पंकज मिश्रा होटवार जेल पहुंच गया है, जहां पहले से पूजा सिंघल और सीए सुमन कुमार भी मौजूद हैं। पूजा सिंघल की गिरफ्तारी के बाद जब मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बरहेट विधानसभा क्षेत्र के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा का नाम उछला तो ईडी ने संताल में लंबे समय तक कैंप किया, जिसके बाद वहां के अवैध उत्खनन का पूरा अर्थशास्त्र खंगाला। फिर शुरू हुआ बड़हरवा टेंडर विवाद में मनी लांड्रिंग के तहत ईडी का अनुसंधान।



संताल क्षेत्र में अवैध खनन और तस्करी का किंगपिंग

झारखंड के साहिबगंज जिले के बड़हरवा में टेंडर विवाद के बाद मनी लांड्रिंग का मामला सामने आया था। ईडी की टीम इसी मामले की जांच कर रही थी। पंकज मिश्रा से संताल के क्षेत्र में अवैध पत्थर खनन और अवैध परिवहन से संबंध रहा है। यह बात भी सामने आई थी कि संताल क्षेत्र से बड़े पैमाने पर पत्थरों की तस्करी बांग्लादेश तक होती है। यह अवैध करोबार पंकज मिश्रा के संरक्षण में ही होता है। ईडी ने संताल में अवैध उत्खनन का अर्थशास्त्र भी खंगाला। ईडी को सूचना थी कि संताल के क्षेत्र में अवैध पत्थर खनन, परिवहन आदि पर पंकज मिश्रा का सीधा नियंत्रण है। ईडी ने इससे संबंधित दस्तावेजों के आधार पर अवैध खनन, परिवहन के बारे में पंकज मिश्रा से जानकारी ली। इसके बाद मंगलवार को पंकज मिश्रा के करीबी व्यवसायी दाहू यादव को पूछताछ के लिए बुलाया। दाहू यादव ने अपने वकील के माध्यम से ईडी को सूचना भिजवाई कि उनकी मां की तबीयत खराब है, इसलिए वे ईडी के सामने प्रस्तुत होने में असमर्थ हैं।

नेताओं और नौकरशाहों तक पैसे पहुंचाता था पंकज

बताया जा रहा कि ईडी को अपने सूत्रों से पता चला कि अवैध खनन से 100 करोड़ रुपये का संबंध पंकज मिश्रा से है। ईडी ने पिछले दिनों बयान जारी कर यह संकत दे दिया था कि राजनेताओं व नौकरशाहों तक अवैध खनन का पैसा जाता है। इस संबंध में भी पंकज मिश्रा से ईडी ने सवाल किया था और उसके बाद से ही गिरफ्तारी की तैयारी शुरू हो गई थी। मनरेगा घोटाले में छानबीन के बाद से अब तक ईडी ने 36.58 करोड़ रुपये जब्त किया है। जब्त राशि को अवैध खनन, परिवहन से संबंधित बताया गया है। छह मई को आइएएस पूजा सिंघल व उनके सहयोगियों से जुड़े 36 ठिकानों पर ईडी ने छापेमारी की थी। तब ईडी ने 19.76 करोड़ रुपये नकदी जब्त किया था। इसके बाद गत आठ जुलाई को ईडी ने साहिबगंज, बरहेट, राजमहल, मिर्जा चौकी व बरहड़वा के 19 ठिकानों पर छापेमारी की, तब इन ठिकानों से 5.34 करोड़ रुपये नकदी जब्त किया था। कुछ दिन के बाद ही ईडी ने मुख्यमंत्री के बरहेट विधानसभा क्षेत्र के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा, दाहू यादव व उनके सहयोगियों के 37 बैंक खाते में पड़े 11.88 करोड़ रुपये नकदी को जब्त किया।

139
8188 views
  
1 shares