logo
(Trust Registration No. 393)
अपने विचार लिखें....

गोंदिया वन विभाग के अंतर्गत आने वाले जिले के नागजीरा नवेगांव टाइगर रिजर्व फॉरेस्ट के तहत अर्जुनी मोरगांव तहसील के नवेगांवबांध अभयारण्य क्षेत्र में प्रतापगढ़ पहाड़ी के पास रामघाट बीट के कक्ष क्रमांक 254 ब संरक्षित क्षेत्र में एक शेर की करंट लगाकर शिकार किए जाने का मामला गुरुवार 13 जनवरी को सामने आया। वन विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार रामघाट बीट भाग 1 के कक्ष क्रमांक 254 संरक्षित वन में 13 जनवरी 2022 की सुबह वन विभाग के वनरक्षक आरडी राने व वन मजूर को वन्य प्राणी शेर मृत अवस्था में दिखाई दिया जिसके पश्चात कर्मचारियों द्वारा इस घटना की जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को दी।
जानकारी प्राप्त होते ही गोंदिया के वनसंरक्षक तथा क्षेत्र संचालक नवेगांव नागझिरा व्याघ्र प्रकल्प गोंदिया आर एस रामानुजम, उप वन संरक्षक वन विभाग गोंदिया कुलराज सिंह , सहायक वनसंरक्षक आरआर सदगीर, मानद वन्यजीव रक्षक मुकुंद धुर्वे घटनास्थल पर पहुंचे।
घटनास्थल पहुंचने के पश्चात मृतक शेर के शव का निरीक्षण किए जाने पर उसका शिकार 2 दिनों पूर्व किए जाने की प्राथमिक जानकारी सामने आई तथा मृतक शेर के सामने के 2 दांत व कुछ अंग भी गायब दिखाई दिए एवं मृतक शेर नर प्रजाति का होने के साथ अंदाज़ 5 वर्ष आयु का प्राथमिक रूप से सामने आया तथा उसकी मौत विद्युत करंट लगने से हुई है। मृतक शेर का शव विच्छेदन करने के लिए पशु संवर्धन विकास विभाग के अधिकारी घटनास्थल पर शाम 4:30 बजे पहुंचे किंतु ठंड के दिनों में सूर्यास्त जल्दी होने के चलते शव विच्छेदन का कार्य पूर्ण रूप से नहीं हो पाने के कारण 14 जनवरी की सुबह शव विच्छेदन करने का तय किया गया है ।
मृतक शेर के शव को सुरक्षित रख सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए तथा मृतक शेर का शव विच्छेदन राष्ट्रीय व्याघ्र संवर्धन प्राधिकरण नई दिल्ली द्वारा जारी किए गए नियमानुसार किया जाएगा तथा शव विच्छेदन के पश्चात प्राप्त रिपोर्ट से शेर की मृत्यु की अधिक जानकारी सामने आ पाएंगी उपरोक्त शेर के शिकार के प्रकरण में अपराध दर्ज कर गोंदिया वन विभाग के स्निफर डॉग की सहायता से आरोपियों की तलाश शुरू की गई है।
मामले की जांच उप वनसंरक्षक वन विभाग गोंदिया कुलराज सिंह के मार्गदर्शन में अर्जुनी मोरगांव के वन परीक्षेत्र अधिकारी बीटी दुर्गे द्वारा की जा रही है।

1
249 views
  
1 shares