logo
(Trust Registration No. 393)
अपने विचार लिखें....

गणेश उत्सव एवं अन्य पर्व मनाए जाने के संबंध में जिला स्तरीय शांति समिति की बैठक  आयोजित ==================================== छिंदवाड़ा ।कलेक्टर श्री सौरभ कुमार सुमन की अध्यक्षता में आज कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में गणेश उत्सव के मद्देनजर कानून एवं शांति व्यवस्था और अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं बनाए रखने के लिए शांति समिति की बैठक     हुई। बैठक में सदस्यों को शासन की नवीन गाइड लाइन से अवगत कराते हुए चर्चा की गई व विभिन्न सुझाव लिए गए और गणेश उत्सव एवं अन्य पर्व शांति व सद्भावनापूर्वक कोविड गाईड लाईन के तहत मनाने की अपील की गई।

बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री विवेक अग्रवाल, अतिरिक्त कलेक्टर श्रीमती रानी बाटड, सहायक कलेक्टर श्री अभिषेक सराफ, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री संजीव उईके, एसडीएम श्री अतुल सिंह, डिप्टी कलेक्टर श्री अजीत तिर्की, नगर निगम आयुक्त श्री हिमांशु सिंह व आरटीओ श्रीमती नेहा चौहान सहित अन्य अधिकारी और शांति समिति के सदस्यगण उपस्थित थे।

बैठक में बताया गया कि गणेश उत्सव कार्यक्रम का आयोजन 10 सितंबर से प्रारंभ होकर 20 सितंबर को पूर्वान्ह तक किया जायेगा। राज्य शासन द्वारा धार्मिक कार्यक्रम एवं त्योहारों के दृष्टिगत नवीन अतिरिक्त दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। प्रतिमा के लिए पंडाल का आकार अधिकतम 30x45 फीट नियत किया गया है।

झांकी निर्माताओं को आवश्यक रूप से यह सलाह दी गई कि वह ऐसी झांकियों की स्थापना एवं प्रदर्शन नहीं करें जिनमें संकुचित जगह के कारण श्रध्दालुओं/दर्शकों की भीड़ की स्थिति बने तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ना हो सके। झांकी स्थल पर श्रध्दालुओं/दर्शकों की भीड़ एकत्रित ना हो तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो, इसकी व्यवस्था आयोजकों को सुनिश्चित करनी होगी।


मूर्ति का विसर्जन संबंधित आयोजन समिति द्वारा किया जायेगा। विसर्जन स्थल पर ले जाने के लिए अधिकतम 10 व्यक्तियों के समूह की अनुमति होगी। इसके लिए आयोजकों को पृथक से संबंधित राजस्व अनुविभागीय अधिकारी से लिखित अनुमति प्राप्त करना आवश्यक होगा। गणेश समिति द्वारा गणेश प्रतिमा की स्थापना, विसर्जन स्थल, दिनांक, समय की सूचना सहित विसर्जन के लिए अधिकतम 10 व्यक्तियों की सूची आवेदन पत्र के साथ प्रस्तुत करनी होगी। आवेदन पत्र पर विभिन्न विभागों से अनापत्ति प्राप्त कर अनुमति प्रदान करने के लिए एकल विंडो व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए।


पंडाल में अस्थाई विद्युत कनेक्शन के लिए म.प्र.विद्युत मंडल के वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा कर पृथक से निर्देश प्रसारित किए जाएंगे। बैठक में सदस्यों को अवगत कराया गया कि भगवान गणेश की मूर्ति निर्धारित सीमा से अधिक उँचाई की निर्मित ना हो। मूर्तियों/प्रतिमाओं के निर्माण में परम्परागत मिट्टी का ही उपयोग किया जाये, पकी हुई मिट्टी पी.ओ.पी. (प्लास्टर आफ पेरिस) या किसी प्रकार के केमिकल एवं रासायनिक वस्तुओं का उपयोग मूर्ति निर्माण में नहीं किया जाये। साथ ही पूजन सामग्री जैसे फल-फूल, नारियल, वस्त्र आभूषण, सजावट के सामान जिनमें कागज एवं प्लास्टिक से निर्मित वस्तुएं शामिल हैं, को मूर्ति/प्रतिमाओं के विसर्जन के पूर्व निकालकर उन्हें अलग-अलग एकत्रित किया जाये ।


कोविड संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुये धार्मिक, सामाजिक आयोजन के लिये चल समारोह निकालने की अनुमति नहीं होगी । विसर्जन के लिये सामूहिक चल समारोह भी अनुमत्य नहीं होगा । सार्वजनिक स्थानों पर कोविड संक्रमण से बचाव के तारतम्य में झॉकियों, पण्डालों, विसर्जन के आयोजन में श्रध्दालु/दर्शक फेस कवर, सोशल डिस्टेसिंग एवं सेनेटाईजर का प्रयोग के साथ ही राज्य शासन व्दारा समय-समय पर जारी किये गये निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जाये । लाउड स्पीकर बजाने के संबंध में माननीय सर्वोच्च न्यायालय व्दारा जारी की गई गाईड लाईन का पालन किया जाना अनिवार्य होगा । बैठक में निर्देश दिए गए कि मूर्ति विसर्जन मार्ग पोला ग्राउण्ड, फव्वारा चौक, गोल गंज, छोटा बाजार, चार फाटक, साकेत होटल छोटा तालाब, बरारीपुरा, छापाखाना में साफ-सफाई एवं प्रकाश व्यवस्था एवं मार्ग के गड्ढों की मरम्मत करायें । विद्युत विभाग द्वारा लाइट कनेक्शन की व्यवस्था करें। गणेश विसर्जन 19 सितंबर से प्रारंभ होकर 20 सितंबर को पूर्वान्ह तक किया जायेगा । विसर्जन स्थल छोटा तालाब, नागपुर रोड की कुलबेहरा नदी, शिकारपुर की कुलबेहरा नदी, गांगीवाड़ा के पास कुलबेहरा नदी, सिंगोड़ी की पेंच नदी में पुलिस व्यवस्था, केन की व्यवस्था, गोताखोर व्यवस्था तथा नाव की व्यवस्था कराएं एवं साफ सफाई की जाये। नगर निरीक्षक गोताखोरों की एक बैठक लेकर व्यवस्था बनायें । विसर्जन स्थल पर मछुआरों द्वारा अस्थाई रूप से लकडियों के रैम्प (प्लेटफार्म) बनवाये जायें। छोटे तालाब में गंदे पानी का प्रवेश बंद कराया जाये । विसर्जन स्थल पर साफ-सफाई करायें । विसर्जन स्थल पर बेरियर होमगार्ड की तैनाती की जाये । इसी प्रकार की व्यवस्था जिले के समस्त राजस्व अनुविभागीय अधिकारी अपने स्तर से सुनिश्चित करायें। गणेश उत्सव पर्व के दौरान मोबाईल एम्बुलेंस/फायर ब्रिगेड एवं पुलिस प्रशासन की व्यवस्था की जाये । आकस्मिक चिकित्सा व्यवस्था रखना सुनिश्चित किया जाये । गणेश प्रतिमा मिट्टी की हो, गणेश पंडाल में एक सदस्य की उपस्थिति आवश्यक है। प्रतिमा एक रूट से ले जाकर विसर्जित की जायेगी। छोटा तालाब में एक बोट रखी जाये तथा कुलबेहरा नदी में दोनों तरफ घाट पर रोशनी एवं गोताखोरों की व्यवस्था किये जाने हेतु संबंधित विभागों को निर्देशित किया गया। साथ ही सभी को यह निर्देशित किया गया कि छोटी मूर्तियों का विसर्जन घर पर ही किया जाये ताकि पानी का दुरूपयोग न हो । पोला पर्व-कोविड-19 गाईड लाईन का पालन करते हुये प्रतीकात्मक रूप से पोला पर्व मनाया जायेगा। पोला पर्व में गुढी यात्रा के लिये अनुमत्य संख्या में ही यात्रा की अनुमति होगी । तीजा पर्व में पूजा व तीजा विसर्जन का कार्यक्रम होता है। आमजन/महिलाओं की सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुये लगातार पुलिस पेट्रोलिंग के निर्देश दिये गये । गणेश स्थापना के पश्चात ऋषि पंचमी का पर्व होता है, जिसमें कढ़ाई/भंडारा का कार्यक्रम होता है । सार्वजनिक कार्यक्रम की अनुमति नहीं होगी । कोविड-19 गाईड लाईन का पालन करते हुये ऋषि पंचमी का पर्व मनाना सुनिश्चित करें। जैन समुदाय व्दारा पर्यूषण पर्व मनाया जाता है। छोटी बाजार, गंज, गुलाबरा स्थित जैन मंदिरों में सुरक्षा व्यवस्था के लिये पुलिस प्रशासन को निर्देशित किया गया । बैठक में बताया गया कि पोला, तीजा एवं अन्य धार्मिक उत्सव में चल समारोह की अनुमति नहीं होगी ।

9
921 views