logo

संतों का आह्वान : 'हर हिन्दू की सहभागिता से हो श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण'

-कार्यकर्ताओं की 20 हजार टोलियां करेंगी  घर-घर संपर्क
          इंदौर (मध्य प्रदेश)। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उसके सम वैचारिक संगठनों के कार्यकर्ताओं की एक बैठक केशव विद्या पीठ में हुई जिसमें विश्व हिन्दू परिषद्  के प्रांतीय संगठन मंत्री नन्ददास  ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र की भूमिका रखी। उन्होंने बताया की किस प्रकार से सम्पूर्ण देशवासी  सैकड़ों वर्षों से श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए व्रत लिए हुए थे कोई दशकों से नंगे पैर ही चल रहा था तो किसी ने मंदिर निर्माण से पहले पगड़ी नहीं बांधने की शपथ ले रखी है। प्रभु श्रीराम का यह मंदिर ऐसे सभी हिन्दू बंधुओं की भावनाओं को संबल प्रदान करेगा। 
         
 बैठक में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र अभियान मालवा प्रान्त के संयोजक सोहन विश्वकर्मा ने विश्व हिन्दू परिषद् के केन्द्रीय मार्गदर्शक संतों के प्रन्यासी मंडल की बैठक में संतों द्वारा प्ररित प्रस्तावों की चर्चा की। इसमें प्रथम प्रस्ताव में केन्द्रीय सत्ता द्वारा राष्ट्रीय हितों एवं भारतीय संस्कृति के प्रति सकारात्मक चिंतन की सराहना की और प्रभु श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने के लिए तथा अन्य तीर्थ क्षेत्रों के लिए समग्र विकास की योजना के लिए साधुवाद किया गया तथा दूसरे प्रस्ताव में सभी संगठनों के कार्यकर्ताओं तथा सम्पूर्ण हिन्दू समाज का साधुवाद किया, जिन्होंने इतने दशकों तक इस पुनीत कार्य के लिए सतत संघर्ष किया और तन मन धन के साथ सम्पूर्ण समर्पण के साथ कार्य करते हुए श्रीराम जन्मभूमि के विषय को पीढ़ी  दर पीढ़ी जीवंत रखा।

          बैठक में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रान्त कार्यवाह शम्भू गिरी ने सभी सम वैचारिक संगठनों के कार्यकर्ताओं तथा सम्पूर्ण देश के हिन्दू समाज द्वारा  राम जन्मभूमि के लिए किये गए संघर्ष का स्मरण किया और कहा कि इस पुनीत कार्य में अपना तन मन धन समर्पित कर कार्य करने वाले लाखों कार्यकर्ताओं के जीवन हम सभी के लिए प्रेरणादायी हैं। श्रीराम जन्मभूमि के विशाल भवन के स्वरूप का वर्णन करते हुए उन्होंने बताया की ये  ऐतिहासिक श्रीराम जन्मभूमि  मंदिर हजारों वर्षों तक सम्पूर्ण विश्व के लिए अध्यात्मिक ऊर्जा का केंद्र बनेगा इसका निर्माण लगभग 40 माह में पूर्ण होना है।

           उन्होंने बताया कि मालवा प्रान्त के सभी संवैचारिक संगठनों के कार्यकर्ता प्रत्येक गांव , गली मोहल्ले के सभी घरों तक जायेंगे धन रूपी समिधा एकत्र करेंगे। इस कार्य को ठीक प्रकार से संचालित करने के लिए सभी संगठनों की ग्राम और मोहल्ले की अभियान टोलियों का गठन किया जायेगा। ये टोलियाँ मकर संक्रांति पर्व से घर –घर संपर्क करके प्रत्येक हिन्दू घर तक रामजन्मभूमि मंदिर आन्दोलन का इतिहास बताएँगे।  सभी संगठनों और हिन्दू समाज के हजारों समयदानी कार्यकर्ता अपना  समय देकर हिन्दू समाज का जागरण करेंगे और  जिस प्रकार रामसेतु के निर्माण में गिलहरी का योगदान भी बहुत महत्वपूर्ण है उसी प्रकार  भव्य और दिव्य श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के सभी देशवासियों का योगदान अपेक्षित है।

बैठक के समापन पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रान्त संघचालक डॉ. प्रकाश शास्त्री ने कहा कि प्रभु श्रीराम की जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के लिए सैकड़ों वर्षों से चले आ रहे सतत संघर्ष के परिणामस्वरूप  इस पवित्र कार्य की पूर्णाहुति का समय आ गया है हम  सभी की तन मन धन की सहभागिता से ही यह कार्य पूर्ण होगा।  सभी समाजों के सभी परिवारों  की सहभागिता ही प्रभु श्री राम  जन्मभूमि मंदिर को दिव्यता और भव्यता प्रदान करेगी।
 

All News