logo
logo
(Trust Registration No. 393)
aima profilepic
Pardeep Kumar
All India Media Association

दिनदहाड़े गोली मारकर कंप्यूटर संचालक की हत्या, आरोपी को लोगों ने मौके पर दबोचा।

पानीपत में दिल दहला देने वाली वारदात हो गई है। एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मृतक हारट्रोन कंप्यूटर सेंटर का संचालक था। वारदात आपसी विवाद के चलते की गई है।

मृतक की पहचान परमहंस कुटिया के रहने वाले 40 साल के विनोद बराड़ा के तौर पर हुई है। पुलिस के अनुसार उन्हें व्यक्ति की हत्या की जानकारी मिली। जिसके बाद मौके पर बड़ी संख्या में फोर्स पहुंची।

आपसी विवाद के चलते वारदात को अंजाम दिया गया है। पुलिस के अनुसार हत्यारोपी को लोगों ने भागने नहीं दिया और मौके पर ही दबोच लिया। आरोपी से पूछताछ की जा रही है।

..........
0
465 views    0 comment
0 Shares

सफीदो: ज्ञानी राम मैमोरियल अस्पताल को लेकर 1 और बड़ा खुलासा, डॉक्टर के सी भट्टी का CCIM का रजिस्ट्रेशन भी निकला फर्जी

आपने झोलाछाप डॉक्टरों के बारे में तो सुना होगा लेकिन हम आपको झोलाछाप एक अस्पताल की असलियत बता रहे हैं। अस्पताल का डॉक्टर बिना किसी डिग्री डिप्लोमा के 6 साल से मरीजों का फर्जी इलाज कर रहा है। अस्पताल के अंदर जो मेडिकल स्टोर है उसने दवाइयां देने के लिए एक ढाबा संचालक को नियुक्त किया गया है। अब ऐसे में आप साफ अंदाजा लगा सकते हैं की अस्पताल में आने वाले मरीजों की जान के साथ कितना खिलवाड़ होता होगा।

बिना डिग्री के डॉक्टर चला रहा आईसीयू
ढाबा मालिक बेच रहा मेडिकल स्टोर पर दवाइयां, स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के बावजूद चल रहा अवैध धंधा।

सफीदों के ज्ञानी राम मेमोरियल अस्पताल के डॉक्टर की फर्जी डिग्री का मामला कुछ दिन पहले सामने आया था तो आप अस्पताल में चल रहे मेडिकल स्टोर को लेकर भी बड़ा खुलासा हुआ है।

स्वास्थ्य विभाग की जांच में सामने आया कि अस्पताल में मौजूद मेडिकल स्टोर का मालिक एक ढाबा चलाने वाला व्यक्ति है ,जिसने एक फार्मासिस्ट महिला से लाइसेंस किराए पर लिया है। स्वास्थ्य विभाग की जांच रिपोर्ट में जांचकर्ता डॉक्टर पाले राम ने लिखा के अस्पताल में चल रहे मेडिकल स्टोर पर जिस फार्मासिस्ट का लाइसेंस लगाया गया है वह महीने में एक या दो बार आती है उनके स्थान पर एक ढाबा चलाने वाला दीपक नामक व्यक्ति जो मात्र दसव पास है लोगों को दवाइयां देता है। जोकि नियमों के खिलाफ है।

डॉक्टर पाले राम ने स्वास्थ्य विभाग को कहीं पेज की रिपोर्ट प्रस्तुत की है, जिसमें अस्पताल को लेकर गंभीर टिप्पणियां की गई हैं।

 सप्ताह पहले जब सोशल मीडिया पर डॉक्टर की फर्जी डिग्री को लेकर एक रिपोर्ट वायरल हुई थी उसके बाद अस्पताल के डॉक्टर के सी भट्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सफाई देते हुए कहा था कि उसने बीएएमएस की डिग्री की हुई है और जिसे उसने CCIM में रजिस्टर करवाया हुआ है। जिसके लिए उसने सर्टिफिकेट की कॉपी भी प्रस्तुत की।

आरटीआई कार्यकर्ता सुधीर जाखड़ ने जब सीसीआईएम से यह जानकारी मांगी तो एक और बड़ा खुलासा सामने आया कि सीसीआईएम तो 2018 के बाद से अस्तित्व में ही नहीं है। यह संस्था ने 12 जून 2018 को उनसे संबंधित सभी सर्टिफिकेट को रद्द कर दिया था। बड़ी बात यह है कि 2018 से पहले सीसीआईएम से रजिस्ट्रेशन से पहले हरियाणा मेडिकल आफ काउंसिल से रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी था।

स्वास्थ्य विभाग पर उठ रहे सवाल

भले ही शिकायतकर्ता सुधीर जाखड़ की शिकायत के बाद स्वास्थ्य विभाग ने इस फर्जी अस्पताल की जांच करवाई और जांच में डॉक्टर को दोषी ठहराया लेकिन इससे बड़ी बात यह है कि अभी तक इस अस्पताल को गोविंद सेंटर जैसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां भी स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गई थी। हालांकि कोविड-19 के दौरान इस अस्पताल में मरीजों की मौत के बड़े आंकड़े सामने आए थे। एक बार स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच करने के लिए भी पहुंची थी। इसके बावजूद अस्पताल पर कोई कड़ी कार्रवाई नहीं हुई।

..........
1
19 views    0 comment
0 Shares

जींद में मिले कंकाल का भेद खुला, जानिए पूरा मामला

जींद। नगूरां में मिले नरकंकाल का भेद खुल गया है। यह कंकाल रीना नामक महिला का निकला, जिसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट परिजनों ने दर्ज कराई थी। असल में रीना लापता नहीं हुई थी बल्कि ससुराल वालों ने उसकी हत्या करने के बाद शव कूड़े के ढ़ेर पर फेंककर उसमें आग लगा दी।

 सीसीटीवी में रीना के ससुराल के कुछ सदस्य उसकी हत्या के बाद शव को बोरे में डालकर साइकिल पर ले जाते नजर आए हैं। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

7 दिसंबर नगूरां गांव में बधाना रोड पर झाड़ियों में नर कंकाल बरामद हुआ था। कंकाल विवाहिता रीना पत्नी संजय का मिला। ससुराल पक्ष के लोगों ने रीना की जला कर हत्या कर दी और इसके बाद कंकाल रूपी शव को झाड़ियों में कूड़े के ढ़ेर पर फेंक दिया गया था। मृतका रीना के कंकाल का पोस्टमार्टम खानपुर पीजीआई में अलेवा पुलिस ने करवा दिया है।

 पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज भी हासिल कर ली है। जिसके सहारे पुलिस के हाथ हत्यारों की गर्दन तक पहुंच गए। तीन लोग शव को ले जाते दिखे

यह सारा घटनाक्रम सीसीटीवी में कैद हो गया। वायरल वीडियो फुटेज में तीन लोग शव को बोरी में डालकर साइकिल पर ले जाते दिखाई दे रहे हैं। शव को साइकिल पर रीना को ससुर सूबे सिंह लेकर चल रहा है, जबकि आगे आगे उसका पति संजय भी दिखाई दे रहा है। इस दौरान एक युवती भी है, जिसे मंदबुद्धि बताया जा रहा है। जिस बोरी में रीना के शव को ले जाया गया था वह बोरी भी पुलिस ने बरामद कर ली है।

तीन बच्चों की मां थी

रीना (27) का विवाह 10 साल पहले नगूरां गांव के संजय से हुआ था। वह तीन बच्चों की मां थी। इनमे 2 बड़े लड़के और एक 4 साल की बेटी है। गुरुवार देर रात सीसीटीवी फुटेज के आधार पर मामले का खुलासा हो गया। इसकी सूचना जींद शहर में रोहतक रोड पर रहने वाले रीना के मायकेवालों को दी गई।शुक्रवार सुबह सैकड़ों लोग नागरिक अस्पताल में जमा हो गए। अलेवा पुलिस भी मायका पक्ष के बयान लें अस्पताल पहुंच गई थी। समाचार लिखे जाने तक कार्रवाई जारी रही। ससुरालजन बोले-50 हजार लेकर हुई गायबतीन दिन पहले ही 7 दिसंबर को भादंसं की धारा 346 आईपीसी के अंतर्गत संजय पुत्र सुबे सिंह जाति सैणी वासी नगूरां की शिकायत पर थाना अलेवा में केस दर्ज किया।

 गया। 

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि उसकी पत्नी रीना उम्र 27 वर्ष पुत्री बुधराम वासी रोहतक रोड जींद रात को घर पर परिवार के साथ ठीक-ठाक सोई थी।

सुबह 6 बजे उठकर देखा तो रीना घर पर नहीं मिली सभी रिश्तेदारियों में पता करने पर पता नहीं चला। वो कहीं चली गई है और 50 हजार रुपए भी साथ ले गई। मेरी पत्नी की तलाश की जाए।

पति, सास, ससुर समेत 7 पर केस

गुमशुदगी के तहत दर्ज मामला अब हत्या में बदल गया है। अलेवा थाना में शव को खुर्द बुर्द करने, हत्या व 34 आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया गया है। अलेवा थाना प्रभारी बीरबल सिंह ने बताया कि पति संजय, ससुर सुबे सिंह, सास रतनी, ननदें रितु व ममता और करनाल जिले के बलाह गांव निवासी मामा ससुर किताबा व प्रताप को नामजद कर लिया गया है। आरोपियों को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

..........
0
274 views    0 comment
0 Shares

कैथल। हरियाणा के कैथल में एक भीषण सड़क हादसे में छह लोगों की मौत हो गई है। हादसा राजौंद पूंडरी रोड पर हुआ है जिसमें दो कारों में सवार छह लोगों की मौत हो गई है जबकि दो लोग घायल बताए जा रहे हैं। 

जानकारी के मुताबिक कैथल के राजौंद पूंडरी रोड पर सुबह करीब पौने सात बजे दो गाड़ियों की आमने सामने टक्कर हो गई जिसमें दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि चार लोगों ने अस्पताल में दम तोड़ दिया।

बताया जा रहा है कि हादसा तेज रफ्तार की वजह से हुआ है। हादसे में एक गाड़ी जींद से पूंडरी की तरफ आ रही थी जबकि दूसरी गाड़ी बिल्कुल सामने से आ रही है। 

एक गाड़ी में छह लोग सवार होकर जींद से पूंडरी वापस आ रहे थे तो दूसरी गाड़ी में सवार लोग गांव दबखेड़ी कुरुक्षेत्र से सफीदों के गांव मलार जा रहे थे। रास्ते में दोनों गाड़ी आपस में टकरा गई। जींद से पूंडरी लौट रही गाड़ी में सवार छह लोगों में से चार लोगों की मौत हो चुकी है। 

दूसरी गाड़ी में सवार दंपती की मौत हो गई और दो अन्य घायल हो गए हैं। पुलिस की तरफ से मृतकों के स्वजनों को सूचित किया जा चुका है। जींद से पूंडरी लौट रही गाड़ी बारात से लौट रही थी।

बारात से लौट रही आइ-10 गाड़ी में छह लोग सवार थे, जिनमें से चार की मौत हो गई है। मरने वाली की पहचान बरेली निवासी कार चालक 26 वर्षीय सत्यम, सैनी मोहल्ला पूंडरी निवासी 30 वर्षीय रमेश, मोर मोहल्ला नरवाना निवासी अनिल, गांव सातरोड हिसार निवासी शिवम की मौत हो गई है। इस गाड़ी में सवार सैनी मोहल्ला पूंडरी निवासी सतीश, नरवाना मोर मोहल्ला निवासी बलराज घायल हो गए हैं। 

वहीं दूसरी गाड़ी में सवार गांव दबखेड़ी कुरुक्षेत्र निवासी 40 वर्षीय विनोद और उसकी 35 वर्षीय पत्नी बाला देवी की मौत हो गई है। इस गाड़ी में सवार दंपती का सात वर्षीय बेटा विराज और महिला सोनिया घायल हो गए हैं।


..........
2
164 views    0 comment
0 Shares

झज्जर। हरियाणा में शुक्रवार रात आठ बजकर 15 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.3 दर्ज की गई। भूकंप का केंद्र हरियाणा के झज्जर जिले में रहा। अच्छी बात यह है कि तीव्रता अधिक न होने से फिलहाल कोई नुकसान का समाचार नहीं है।

राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र (पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय) के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. जेएल गौतम ने बताया कि भूकंप का केंद्र झज्जर में रहा और पृथ्वी की सतह के पांच किलोमीटर अंदर हलचल महसूस की गई है।

झज्जर से 11 किलोमीटर दूर उत्तर उत्तर-पूर्व व गुरुग्राम से 41 किलोमीटर दूर उत्तर-पश्चिम में भूकंप का केंद्र रहा। यह क्षेत्र भूकंपीय जोनिंग मैप के अनुसार जोन चार में आता है, मतलब यहां पर भूकंप आने की अधिक आशंका रहती है। भूकंप केंद्र के पास से ही फॉल्ट लाइन गुजर रही है। फॉल्ट लाइन में हुई हलचल भी भूकंप का कारण हो सकती है। जिस समय भूकंप के झटके आए उस समय लोग अचानक घर से बाहर निकल आए थे।

भूकंप के झटके के बाद लोग काफी देर तक घरों से बाहर खड़े रहे। जिला राजस्व अधिकारी बस्ती राम का कहना है कि फिलहाल भूकंप से कहीं भी नुकसान का समाचार नहीं है। भूकंप की तीव्रता कम होने की वजह से कोई भी जान माल की हानि नहीं हुई है। झज्जर बाहदुरगढ़ व रोहतक में कई लोगों ने भूकंप के झटकों को महसूस किया व सोशल मीडिया पर भूकंप आने का अपडेट डालना शुरू कर दिया।

..........
2
416 views    0 comment
0 Shares

हरियाणा की चारों पॉवर यूटिलिटी के कर्मचारियों को मिलेगा दिवाली बोनस मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने की 1500 रुपये बोनस देने की घोषणा।

नियमित के साथ -साथ अनुबंधित कर्मचारियों को भी मिलेगा बोनस मुख्यमंत्री के इस तोहफे से 36,000 से ज्यादा कर्मचारी लाभान्वित होंगे।

दीपों के त्योहार दीपावली के शुभ अवसर पर हरियाणा के चारों पॉवर यूटिलिटीज के कर्मचारियों को मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दिवाली बोनस देने की घोषणा की है। नियमित कर्मचारियों के साथ-साथ अनुबंधित कर्मचारियों को भी 1500-1500 रुपये बोनस स्वरूप दिए जाएंगे। मुख्यमंत्री के इस तोहफे से 36,000 से ज्यादा कर्मचारी लाभान्वित होंगे।

हरियाणा पॉवर जेनरेशन कॉरपोरेशन लिमिटेड के ग्रुप सी के 1399 नियमित कर्मचारियों और 68 अनुबंधित कर्मचारियों तथा ग्रुप डी के 303 नियमित कर्मचारियों और 151 अनुबंधित कर्मचारियों को 1500-1500 रुपये बोनस स्वरूप मिलेंगे। इसी प्रकार हरियाणा विद्युत प्रसारण निगम के ग्रुप सी के 3681 नियमित कर्मचारियों और 2003 अनुबंधित कर्मचारियों तथा ग्रुप डी के 390 नियमित कर्मचारियों और 573 अनुबंधित कर्मचारियों, उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम के ग्रुप सी के 6421 नियमित कर्मचारियों और 4415 अनुबंधित कर्मचारियोंतथा ग्रुप डी के 319 नियमित कर्मचारियों और 575 अनुबंधित कर्मचारियों, दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के ग्रुप सी के 8308 नियमित कर्मचारियों और 6907 अनुबंधित कर्मचारियों तथा ग्रुप डी के 286 नियमित कर्मचारियों और 918 अनुबंधित कर्मचारियों को 1500-1500 रुपये बोनस स्वरूप मिलेंगे।

..........
0
417 views    0 comment
0 Shares

राज्य में पटाखों की बिक्री और इस्तेमाल को लेकर हरियाणा राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने दिशा निर्देश जारी किए हैं। जारी दिशा निर्देश में कहा गया है कि दीपावली, गुरुपर्व और कार्तिक पूर्णिमा, क्रिसमस और नए साल पर अक्सर लोग आतिशबाजी करते हैं। कोविड-19 के बीच आतिशबाजी के वायुप्रदूषण से सर्दी के मौसम में बुजुर्ग, बच्चों व सह-रूग्णता वाले लोगों को सांस की समस्या हो सकती है। इसके साथ-साथ यह कोविड-19 के मरीजों के स्वास्थ्य पर भी प्रभाव डाल सकता है।

राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने यह दिशा निर्देश एनजीटी और सुप्रीम कोर्ट के विभिन्न निर्देशों के अनुपालन में आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 24 के तहत शक्तियों का प्रयोग करते हुए जारी किए हैं। एक सरकारी प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि एनसीआर के सभी 14 जिलों भिवानी, रोहतक, सोनीपत, चरखी दादरी, फरीदाबाद, गुरुग्राम, झज्जर, जींद, करनाल, महेंद्रगढ़, नूंह, पलवल, पानीपत और रेवाड़ी में सभी प्रकार के पटाखों की बिक्री या उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। उन्होंने कहा कि उपरोक्त निर्देश राज्य के उन सभी शहरों/कस्बों पर भी लागू होंगे जहां पिछले साल नवंबर के दौरान वायु गुणवत्ता का औसत खराब और उससे ऊपर की श्रेणी का था।

उन्होंने कहा कि जिन शहरों/कस्बों में वायु गुणवत्ता "मध्यम या कम" है, वहां केवल हरे पटाखे बेचे जा सकेंगे। इसके अलावा इन शहरों/कस्बों में दीपावली व अन्य त्यौहारों पर पटाखे फोड़ने का समय केवल रात 8 बजे से रात 10 बजे तक होगा।

छठ पूजा पर पटाखे फोड़ने का समय सुबह 6 बजे से सुबह 8 बजे तक रहेगा। जबकि क्रिसमस और नए साल की पूर्व संध्या पर आतिशबाजी का समय आधी रात के आसपास 11.55 से सुबह 12:30 बजे रहेगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड उपरोक्त शहरों और कस्बों की सूची अलग से जारी करेगा। इसे अपनी वेबसाइट पर ऑनलाइन उपलब्ध कराएगा और जनता की जानकारी के लिए इसका प्रचार भी करेगा।

जिन क्षेत्रों में पटाखों के उपयोग और फोड़ने की अनुमति है वहां सामुदायिक फायर क्रैकिंग को बढ़ावा दिया जाएगा। इन विशेष क्षेत्रों (सामुदायिक फायर क्रैकिंग) की संबंधित अधिकारियों द्वारा पहले से पहचान कर ली जाए तथा इसकी जानकारी लोगों तक प्रचारित की जाए। उन्होंने कहा कि शादियों और अन्य अवसरों पर केवल हरे पटाखों के इस्तेमाल की अनुमति है।

..........
0
311 views    0 comment
0 Shares

हरियाणा के झज्जर में पुलिस ने 13 मोस्टवांटेड बदमाशों की सूची जारी की है। इसमें पांच लाख रुपये तक के इनामी बदमाश शामिल है।

झज्जर के पुलिस अधीक्षक वसीम अकरम ने इन मोस्ट वांटेड अपराधियों को पकड़ने के लिए नई योजना बनाई है। झज्जर के एसपी वसीम अकरम ने कहा कि इनाम घोषित होने के बाद मोस्ट वांटेड आरोपितों को पकड़ने के लिए योजना बनाकर कार्रवाई अमल में लाए जाने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि मोस्ट वांटेड के संबंध में किसी भी प्रकार की सूचना देने वाले व्यक्ति को इनाम की राशि दी जाएगी तथा सूचना देने वाले व्यक्ति का नाम, पता व उसकी पहचान पूर्ण रूप से गुप्त रखी जाएगी। उन्होंने बताया कि विभिन्न आपराधिक मामलों में मोस्ट वांटेड बदमाशों को पकड़ने के लिए पुलिस द्वारा पांच लाख रुपए तक का इनाम घोषित किया गया है।

इन बदमाशों पर हैं ईनाम घोषित : 1. मेनपाल निवासी बादली पर पांच लाख रुपये का इनाम रखा गया है। 2. सुरेंद्र उर्फ चीता निवासी निर्जन जिला जींद पर पचास हजार का इनाम घोषित किया गया है। 3. जगबीर उर्फ बच्ची निवासी गांव इस्सरहेड़ी जिला झज्जर पर दस हजार रुपए का इनाम रखा गया है। 4. जितेंद्र निवासी ग्वालिसन जिला झज्जर को पकड़ने के लिए दस हजार रुपए का इनाम रखा गया है। 5. रवि निवासी गांव घेवरा थाना कंझावला दिल्ली को पकड़ने के लिए पचास हजार रुपए का इनाम घोषित किया गया है। 6. अजय निवासी गांव आसौदा जिला झज्जर को पकड़ने के लिए दो लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया है। 7. शीशपाल उर्फ संतोष भारती निवासी दक्षिणी जिला बदायूं यूपी हाल महंत भारती ग्रुप कपिल मुनि आश्रम फतेहपुरी झज्जर को पकड़ने के लिए पचास हजार रुपए का इनाम रखा गया है। 8. दीपक उर्फ यूवी निवासी गांव दहकोरा जिला पर 25000 रुपए का इनाम घोषित किया गया है। 9. हिमांशु उर्फ भाऊ निवासी गांव रिटोली जिला रोहतक को पकड़ने के लिए 25000 रुपए का इनाम घोषित किया गया है। 10. परमिंदर उर्फ चीमा गांव मातन जिला झज्जर पर 25000 रुपए का इनाम रखा गया है। 11. साहिल उर्फ हंटर निवासी गांव दादरी तोए जिला झज्जर पर 50000 रुपए का इनाम रखा गया है। 12. सुमित निवासी गांव डीघल जिला झज्जर को पकड़ने के लिए 25000 रुपए का इनाम रखा गया है। 13. अनूप निवासी गांव चिनौत जिला हिसार पर 25000 रुपए का इनाम रखा गया है।

..........
0
262 views    0 comment
0 Shares

सोनीपत। जिले में पेट्रोल पंप पर तेल डलवाकर कार चालक फरार हो गए।

इसके बाद जब कार का नंबर चेक किया गया तो कार की नंबर प्लेट भी फर्जी निकली है। अब इस मामले में पुलिस युवकों की सीसीटीवी फुटेज के आधार पर खोजबीन कर रही है। जानकारी के मुताबिक सोनीपत में मुरथल जीटी रोड के पास स्थित हरियाणा एग्रो कॉरपोरेशन लिमिटेड के पेट्रोल पंप पर ईको स्पोट्र्स गाड़ी में आए दो युवक वारदात के बाद भाग गए। उन्होंने गाड़ी की टंकी व दो केन में साढ़े 14 हजार रुपये का डीजल भरवाया था। बाद में बिना पैसे दिए फरार हो गए।

पूरी घटना वहां लगे सीसीटीवी में कैद हो गई। पेट्रोल पंप के सेल्समैन ने मामले की शिकायत मुरथल थाना पुलिस को दी है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। हिसार के मॉडल टाउन एक्सटेंशन निवासी शेर सिंह ने मुरथल थाना पुलिस को बताया कि वह मुरथल स्थित हरियाणा एग्रो कॉरपोरेशन लिमिटेड के पेट्रोल पंप पर सेल्समैन है। पेट्रोल पंप पर हुई वारदात वहां लगे सीसीटीवी में कैद हो गई। युवकों ने पहले दो केन भरवाईं और बाद में गाड़ी में डीजल डलवाया। युवक चेहरे पर मास्क लगाए था। उसके बाद वह फरार हो गए। युवकों की गाड़ी का नंबर सीसीटीवी में देखकर जब उसने गाड़ी के नंबर की जानकारी जुटाई, तो वह फर्जी मिला।

..........
2
941 views    0 comment
0 Shares

दिल्ली निवासी एक निजी बैंक का अकाउंट रिलेशनशिप मैनेजर हरियाणा के पानीपत से लापता हो गया है। मैनेजर पानीपत में सनौली रोड स्थित पीजी में रहता था। उसके दोनों सिम भी कमरे पर ही मिले हैं। इकलौते बेटे के लापता होने के बाद से परिवार चिंतित है।

मैनेजर के पिता ने चांदनी बाग थाने में गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस मैनेजर की तलाश कर रही है। दिल्ली के रोहिनी निवासी शिव कुमार बंसल ने बताया कि वह गुरुग्राम स्थित एक स्टील की कंपनी में जॉब करते हैं।

उनका 30 वर्षीय बेटा उत्कर्ष बंसल फरवरी 2020 से पानीपत स्थित HDFC बैंक में करंट अकाउंट रिलेशनशिप मैनेजर के पद पर तैनात था और सनौली रोड स्थित रिषी कॉलोनी में पीजी में रहता था। शिव कुमार बंसल ने बताया कि उन्होंने 27 अक्टूबर को बेटे को सोशल मीडिया पर मैसेज किया। जवाब न मिलने पर कॉल किया, लेकिन बेटे ने कॉल रिसीव नहीं किया।

इसके बाद पिता ने बेटे के बैंक में फोन करके जानकारी ली तो पता चला कि वह दो दिनों से बैंक नहीं आया है। तब वह पानीपत पहुंचे। पीजी में गए तो कमरे में कुछ कपड़े नहीं मिले। लेकिन उसके दोनों मोबाइल सिम कमरे में ही थे। पीजी के मैनेजर ने बताया कि उत्कर्ष 27 अक्टूबर की सुबह ही कुछ सामान लेकर पीजी से निकला है। शिव कुमार ने बताया कि उनका बेटा उत्कर्ष 24 और 25 अक्टूबर को उनके पास दिल्ली में ही था। 25 अक्टूबर को वह पानीपत आया, लेकिन दो दिन बैंक नहीं गया। बैंक में बोला कि उसके परिवार में किसी की मौत हो गई है। घर पर रहने के दौरान उत्कर्ष ने किसी परेशानी का जिक्र नहीं किया। उत्कर्ष दो बहनों का इकलौता भाई है। अब परिजन लापता बेटे को लेकर चिंतित हैं।

..........
0
144 views    0 comment
0 Shares

तीन खेती कानूनों के विरोध में पिछले 11 माह से जारी किसानों के आंदोलन के चलते बंद दिल्ली की सीमा से सटे सिंधु व टीकरी बॉर्डर को खुलवाने के लिए हाई लेवल मीटिंग शुरू हो चुकी है।

बहादुरगढ़ के गौरेया पर्यटन केन्द्र में चल रही इस बैठक में हरियाणा सरकार द्वारा गठित हाई पावर कमेटी के अध्यक्ष गृह सचिव (ASC) राजीव अरोड़ा, DGP पीके अग्रवाल, ADGP संदीप, कमिश्नर पंकज यादव के अलावा झज्जर के डीसी श्याम लाल पूनिया, एसपी झज्जर वसीम अकरम व सोनीपत के एसपी राहुल शर्मा मौजूद है।

इसके अलावा भारकीय किसान यूनियन का प्रतिनिधि मंडल व उद्योगपति भी शामिल है। बैठक में किसान संगठन के पदाधिकारियों व बहादुरगढ़ के उद्योगपति को आमने-सामने बैठाया गया है। सिंधु व टीकरी बॉर्डर बंद होने से सबसे बड़ा नुकसान उद्योगपतियों को रहा है, क्योंकि आंदोलन शुरू होने के बाद से फैक्ट्रियों में काम बंद है। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हरियाणा सरकार ने दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे किसानों के आंदोलन के कारण बंद रास्तों को खुलवाने के लिए प्रदेश स्तरीय हाई पावर कमेटी गठित की थी। इसमें गृह सचिव राजीव अरोड़ा, डीजीपी पीके अग्रवाल, सीआईडी चीफ आलोक मित्तल व एडीजीपी (लॉ एंड ऑडर) के अलावा सोनीपत व झज्जर के डीसी-एसपी को शामिल किया गया।

यह हाई पावर कमेटी सोनीपत में एक बैठक भी कर चुकी है, जिसमें किसान संगठनों की तरफ से कोई शामिल नहीं हुआ था। लेकिन बहादुरगढ़ में आज हो रही बैठक में भारतीय किसान यूनियन का प्रतिनिधमंडल शामिल हुआ है।

इस मामले को लेकर किसान संगठन के पदाधिकारियों का कहना है कि कानूनी रूप से सरकार अपनी चाल में फंसाने की कोशिश कर रही है। पर किसान षड़यंत्र को समझते है। सरकार ने रास्ता बंद किया है तो वही खोलेगी। अब मामला सुप्रीम कोर्ट के आदेश से जुड़ा है तो सरकार किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर चलाना चाहती है। किसान वक्ता साफ कर चुके है कि तीनों कृषि कानूनों की वापसी समेत अन्य मांगे पूरी नहीं होने तक बॉर्डर से नहीं हटेंगे। किसानों के आंदोलन को 11 माह पूरे हो चुके है। आंदोलन की शुरूआत से ही अगर सबसे बड़ा नुकसान किसी को हुआ है तो वह उद्योगपतियों को हुआ है।

हजारों करोड़ रुपए का नुकसान उठा चुके उद्योगपति सरकार से लेकर मानव अधिकार आयोग तक गुहार लगा चुके हैं। अकेले बहादुरगढ़ में 7 हजार से ज्यादा फैक्ट्रियां है, जिनमें 3 लाख से ज्यादा लोग काम करते हैं। आंदोलन के चलते कई कंपनियों पर ताला भी लटक चुका है। बैठक में उद्योगपति रास्ता खुलवाने की अपील करेंगे। इस बैठक में बहादुरगढ़ चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री की तरफ से सुभाष जग्गा, विकास सोनी, नरेन्द्र छिक्कारा, पवन जैन व हरिशंकर बोहती शामिल है।

..........
1
499 views    0 comment
0 Shares

चंडीगढ़ । हरियाणावासियों को यह जानकर बेहद खुशी होगी कि हरियाणा सरकार ने कैशलेस चिकित्सा सुविधा का आयोजन करने का फैसला किया है।

इस योजना के तहत छह जानलेवा बीमारियों के लिए राज्य सरकार की ओर से राशि दी जाएगी तथा लोगों का उपचार किया जाएगा।

इस सुविधा का लाभ केवल कर्मचारी और जो पेंशन लेने वाले हैं वहीं ले सकते हैं। यह सुविधा राज्य के लाभार्थियों को सरकारी अस्पतालों, मेडिकल कॉलेजों और सरकार के पैनल पर सभी 67 अस्पतालों में मिलेगी। इनमें कर्मचारियों व पेंशनर्स को 5 लाख रुपये तक के बिल का भुगतान नहीं करना होगा। ।
इस योजना में राज्य के सभी नियमित कर्मचारियों और पेंशनर्स को बीमारियों के लिए 5 लाख रुपए तक का नकद राशि रहित उपचार प्रदान किया जाएगा। क्या है हरियाणा कैशलेस चिकित्सा सहायता- What is Haryana Cashless Medical Facility Scheme स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि इसके लिए संबंधित विभागों को अपने कर्मचारियों के आधार लिंक सहित परिचय पत्र और पेंशनर्स के पीपीओ क्रमांक जारी करने होंगे जिससे मरीजों को अपनी पहचान बताने में किसी प्रकार की दिक्कत न आए।

सभी विभागों को अपनी वेबसाईट पर अपने कर्मचारियों/पेंशनर्स की सूची उपलब्ध करवानी होगी। इस योजना से मरीज को हृदय, मस्तिष्क रक्तश्राव, बिजली का झटका, कोमा, तीसरे व चौथे स्तर का कैंसर और दुर्घटनाओं सहित 6 जानलेवा आपात स्थितियों में कैशलेस सुविधा प्राप्त करवाई जाएगी।

इसमें सीटी स्कैन, एमआरआई, डायलिसिस, कार्डियक कैथ लैब जैसी महत्वपूर्ण सेवाएं भी शामिल हैं। सरकार के पैनल पर आधारित निजी अस्पतालों को अलग से सहायता केन्द्र और एक नोडल अधिकारी नियुक्त करवाया जाएगा जो मरीज के बिलों का आदान-प्रदान संबंधित काम करेगा।

इन अस्पतालों को बिलों की प्राप्ति के 60 दिनों में भुगतान किया जाएगा। इसके साथ ही सभी विभागों को नोडल अधिकारी की देखरेख में एक अलग विंग स्थापित करनी होगी जो अस्पतालों से प्राप्त होने वाले बिलों के भुगतान की प्रक्रिया को सरल बनाएंगे। हरियाणा कैशलेस चिकित्सा सहायता से जुड़ी अहम बातें- Important points of Haryana Cashless Medical Facility Scheme कैशलैस मैडिकल चिकित्सा सुविधा के दौरान पांच लाख रूपये तक की राशि के ईलाज का प्रावधान किया गया है।

..........
0
269 views    0 comment
0 Shares