logo
logo
(Trust Registration No. 393)
aima profilepic
Mohammad Neshar Ahmed
All India Media Association
1
220 views    0 comment
0 Shares

0
0 views    0 comment
0 Shares

मीरगंज के सबेया में बीडीसी सदस्य पर फायरिंग, पेट में लगी गोली, गोरखपुर रेफर
शहर में बेखौफ अपराधियों ने सोमवार को बीडीसी सदस्य को गोली मार दी. गंभीर रूप से घायल बीडीसी सदस्य को सदर अस्पताल में लाया गया, जहां डॉक्टरों ने हालत नाजुक देख बेहतर इलाज के लिए गोरखपुर रेफर कर दिया.

घटना मीरगंज थाने के सबेया डीह बाबा स्थान की है. घायल बीडीसी सदस्य गयासुद्दीन खान उर्फ मुन्ना खान बताये गये, जो हथुआ प्रखंड के कांधगोपी पंचायत के नवनिर्वाचित बीडीसी सदस्य हैं. बताया जाता है मीरगंज थाना क्षेत्र के बसंतपुर गांव के रहनेवाले बीडीसी गयासुद्दीन उर्फ मुन्ना खान सबेया मोड़ से पैदल अपने घर जा रहे थे. रास्ते में घात लगाये अपराधियों ने उन्हें गोली मार दी.पेट में दो गोली लगने के बाद घायल होकर गयासुद्दीन उर्फ मुन्ना खान सड़क पर गिर गये. अपराधी बीडीसी सदस्य को मरा समझकर हवाई फायरिंग करते हुए फरार हो गये. स्थानीय लोगों की सूचना पर पहुंचे परिजनों ने घायल उन्हें इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया है.

सदर अस्पताल के चिकित्सक डॉ रामाकांत त्रिपाठी का कहना है कि पेट में गोली लगने की वजह से हालत गंभीर है, इसलिए बेहतर इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया है. वहीं परिजनों के अनुसार हरिजन टोली में कुछ लोगों से पुराना विवाद चल चल रहा था.

पुरानी रंजिश में घटना को अंजाम दिया गया है. वहीं घटना की खबर मिलने पर हथुआ एसडीपीओ नरेश कुमार ने मामले की जांच शुरू कर दी है. एसडीपीओ ने कहा कि मीरगंज, हथुआ और उचकागांव थाने की पुलिस छापेमारी कर रही है. अपराधियों की जल्द ही गिरफ्तारी कर ली जायेगी.

..........
0
0 views    0 comment
0 Shares

भारत में भ्रष्टाचार कितना कम हुआ, इसका पता बिहार में अफसरों के घरों पर पड़ते छापों से लगता है। सोने-चांदी की ईंटें, नकदी और प्रॉपर्टी कागजात के ढेर इसकी तस्वीर दिखाते हैं। बिहार में भ्रष्टाचार के प्रति नीतीश सरकार की जीरो टॉलरेंस नीति के बावजूद बहुत से क्लर्कों से लेकर आईपीएस अफसरों तक ने अपनी आय से कई गुणा अधिक संपत्ति अर्जित की है।

सरकारी एजेंसियों द्वारा की जा रही ताबड़तोड़ कार्रवाई में भ्रष्टाचार में लिप्त सरकारी अधिकारियों के पास अकूत संपत्ति का पता चल रहा है। किसी के घर से सोने-चांदी की ईंटें मिल रही हैं तो कहीं से करोड़ों की नकदी। मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर (एमवीआई) से लेकर डिस्ट्रिक्ट ट्रांसपोर्ट ऑफिसर (डीटीओ) तक, सर्किल आफिसर (सीओ) से लेकर कार्यपालक अभियंता (एक्जीक्यूटिव इंजीनियर) तक, सिपाही से लेकर पुलिस अधीक्षक (एसपी) तक तथा सब रजिस्ट्रार से लेकर वाइस चांसलर (कुलपति) तक, हर स्तर के अधिकारी और कर्मचारी कार्रवाई की जद में आए हैं। सिर्फ दिसंबर माह में की गई कार्रवाई में भ्रष्टाचारियों के कब्जे से चार करोड़ रुपये से अधिक की केवल नकदी बरामद की गई है।
रिश्वतखोरी में और खराब हुई बिहार की रैंकिंग
राज्य सरकार की तीन एजेंसियां, आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू), स्पेशल विजिलेंस यूनिट (एसवीयू) तथा निगरानी अन्वेषण ब्यूरो (विजिलेंस) विभिन्न स्रोतों से प्राप्त सूचनाओं या शिकायतों के आधार पर भ्रष्ट अधिकारियों-कर्मचारियों के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रही है। छापेमारी में बरामद सामान तथा निवेश का पता चलने पर एकबारगी यह अनुमान करना कठिन हो जाता है कि आखिर किस हद तक ये भ्रष्टाचार में लिप्त हैं। इन एजेंसियों ने बीते छह माह में करीब 30 अफसरों के विभिन्न ठिकानों पर छापेमारी कर 600 करोड़ से अधिक की काली कमाई को पकड़ा है।
छापेमारी में करोड़ों की संपत्ति उजागर
1999 में नौकरी में आए हाजीपुर के श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी दीपक कुमार शर्मा के पटना, हाजीपुर व मोतिहारी में निगरानी अन्वेषण ब्यूरो (विजिलेंस) ने बीते 11 दिसंबर को छापेमारी की। ब्यूरो के मुताबिक इस छापेमारी में एक करोड़ 76 लाख रुपये नकद बरामद किए गए। ये रुपये तीन सूटकेस तथा एक ट्रॉली बैग में ठूंस-ठूंस कर रखे गए थे। इसके साथ ही टीम को 47 लाख रुपये के सोने-चांदी के आभूषणों के अलावा जमीन में निवेश किए गए सात करोड़ रुपये के कागजात भी मिले। दीपक कुमार शर्मा 22 साल से नौकरी में हैं। 17 दिसंबर को स्पेशल विजिलेंस यूनिट (एसवीयू) ने समस्तीपुर के सब रजिस्ट्रार मणि रंजन के पटना, मुजफ्फरपुर व समस्तीपुर स्थित ठिकानों पर छापे मारे।
आरोप है कि इन छापों में 60 लाख नकद व लाखों के आभूषण बरामद हुए। इसके अतिरिक्त करोड़ों की जमीन, रियल इस्टेट में निवेश व कई बैंकों के पासबुक व फिक्स्ड डिपॉजिट के कागजात भी मिले। एसवीयू को इनके द्वारा मुजफ्फरपुर में करोड़ों की लागत से 21 कमरों का होटल बनवाने का भी पता चला। अधिकारियों के मुताबिक मणि रंजन सालाना पांच लाख रुपये एलआईसी का प्रीमियम भी भरते थे। कुल मिलाकर इनके पास आय से 165 फीसदी अधिक की संपत्ति होने का अनुमान है।
किलो के हिसाब से चांदी-सोना
इसी तरह पटना जिले के मसौढ़ी में ग्रामीण कार्य विभाग के कार्यपालक अभियंता के पद पर तैनात अजय कुमार सिंह के ठिकानों पर विजिलेंस ने छापेमारी की तो पटना के इंद्रपुरी इलाके में स्थित उनके घर से तलाशी के दौरान 95 लाख रुपये कैश मिले। अधिकारियों के मुताबिक एक किलो 295 ग्राम स्वर्णाभूषण तथा 12 किलो चांदी के जेवर व बर्तन बरामद किए गए। इसमें चांदी की तीन ईंटे भी शामिल हैं। बरामद सोने चांदी की कीमत 66 लाख से अधिक आंकी गई है। विजिलेंस की टीम को नोटों की गिनती के लिए बाहर से मशीन मंगानी पड़ी।
वहीं मोतिहारी (पूर्वी चंपारण) जिले के एक्साइज इंस्पेक्टर (उत्पाद अधीक्षक) अविनाश प्रकाश के ठिकानों पर छापा मारा तो पत्नी के नाम से तीन फ्लैट व पिता के नाम से 20 प्लॉट के अलावा कई जगह निवेश, इंश्योरेंस व बैंकों के पासबुक मिले। इनके यहां से नोट गिनने की मशीन बरामद की गई। बिहार में संभवत: पहली बार ऐसा हुआ कि कार्रवाई के दौरान किसी लोक सेवक के घर से नोट गिनने की मशीन बरामद की गई है। अविनाश के सहयोगी रहे एक व्यक्ति ने बताया कि भ्रष्टाचार को लेकर विभाग में यह कहा जाता था कि ”क्यों अविनाश बन रहे हो”।
रोहतास के जिला भू अर्जन पदाधिकारी राजेश कुमार गुप्ता के यहां तलाशी में विजिलेंस को 29 लाख कैश व 19 करोड़ के जेवर मिले। इसके साथ ही छह फ्लैट व रांची तथा पूर्णिया में जमीन का भी पता चला। ये चंद उदाहरण तो महज बानगी भर हैं। कार्रवाई की लिस्ट तो काफी लंबी है।
अवैध कमाई का बड़ा जरिया बालू और शराब
बिहार में अफसर-राजनेता व माफियाओं के गठजोड़ से बालू का अवैध खनन निर्बाध रूप से जारी है। अवैध खनन की लगातार मिल रही सूचनाओं के आधार पर बीते मई माह में ही आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) को सरकार ने उन लोक सेवकों का पता लगाने का टास्क दिया जिनकी बालू माफिया से साठगांठ थी। पता चलते ही ऐसे 41 प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। इन्हें निलंबित कर दिया गया। इसके साथ ही ईओयू को दोषी पाए गए अधिकारियों द्वारा अर्जित संपत्तियों की जांच का आदेश दिया गया। इसके बाद इन अफसरों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर एक के बाद एक करके छापेमारी का सिलसिला शुरू हो गया।
बालू के खेल में इस साल 13 अगस्त से 21 दिसंबर तक 12 अधिकारियों के ठिकानों पर छापेमारी की गई। इनमें भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी व भोजपुर के एसपी रहे राकेश कुमार दुबे एवं औरंगाबाद के एसपी रहे सुधीर कुमार पोरिका (आईपीएस) भी शामिल हैं। दुबे के पास आय से 90 प्रतिशत अधिक संपत्ति मिली है। इसके अलावा इन अधिकारियों में खान व भूतत्व विभाग के सहायक निदेशक संजय कुमार, औरंगाबाद के पूर्व डीटीओ व दरभंगा के अपर समाहर्ता अनिल कुमार सिन्हा समेत चार एसडीपीओ व दो एमवीआई हैं। राज्य के खनन मंत्री के आप्त सचिव रहे मृत्युंजय कुमार के यहां एसवीयू की छापेमारी में 30 लाख की नकदी तथा 60 लाख के आभूषण एवं सोने के 40 बिस्कुट बरामद किए गए।
शराबबंदी के बाद जारी है तस्करी का धंधा
इसी तरह राज्य में शराबबंदी लागू होने के बावजूद शराब की तस्करी का धंधा धड़ल्ले से आज भी जारी है। इन धंधों से कमाई का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जब बीते एक दिसंबर को वैशाली जिले के लालगंज थाना प्रभारी घनश्याम शुक्ला के ठिकानों पर छापेमारी की गई तो उनके पास आय से 98 फीसद अधिक संपत्ति होने का पता चला। इतना ही नहीं सिपाही रहे बिहार पुलिस मेंस एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र कुमार धीरज के ठिकाने पर ईओयू ने छापेमारी की तो उनके पास आय से 544 प्रतिशत अधिक की संपत्ति होने का पता चला।
आखिर भ्रष्टाचार पर कैसे लगेगी रोक?
जानकार बताते हैं कि जब तक नेता-अफसरों के गठजोड़ की वजह से ट्रांसफर-पोस्टिंग में पैसे व पैरवी का खेल समाप्त नहीं होगा, तब तक लोकसेवकों के भ्रष्टाचार पर अंकुश नहीं लगाया जा सकेगा। पत्रकार सुधीर कुमार मिश्रा कहते हैं, “‘जब कोई अफसर एक निश्चित रकम देकर पोस्टिंग पाता है तो तय है कि वह उससे ज्यादा कमाने का टारगेट रखेगा और इस टारगेट को तो वह भ्रष्टाचार से ही प्राप्त करना चाहेगा। दारोगा, बीडीओ-सीओ, एमवीआई व डीटीओ जैसे मलाईदार पद तो इस राज्य में जैसे काली कमाई के लिए ही सृजित किए गए हैं।”
सामाजिक कार्यकर्ता राजेश चौधरी कहते हैं, “‘आप स्थिति को ऐसे समझिए, जब भोजपुर में राजस्व कर्मचारी 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते पकड़ा गया तो उसने तुरंत ही विजिलेंस की टीम से साफ-साफ कहा कि इसमें सीओ साहब समेत सभी का हिस्सा है। अब आप भ्रष्टाचार की चेन को समझ सकते हैं।”
ऐसा नहीं है कि भ्रष्टाचारी पकड़े नहीं जाते हैं किंतु इतना तो सच है कि सजा कम को ही मिल पाती है। इस मुद्दे पर ईओयू व एसवीयू के अपर पुलिस महानिदेशक नैयर हसनैन खान कहते हैं, ”आय से अधिक संपत्ति (डीए) वाले मामले में सजा मिलने की दर कम है। ऐसा केस के लंबा खिंच जाने के कारण होता है। कोशिश की जा रही है कि समय सीमा के अंदर चार्जशीट हो जाए तथा तेजी से ट्रायल हो सके। कोर्ट में हम पूरे साक्ष्यों के साथ जाएंगे ताकि हर हाल में दोषियों को सजा मिले।”

..........
13
1119 views    0 comment
0 Shares

गोपालगंज पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है, पुलिस ने लूट की योजना बनाते अंतर राज्यीय 11 लुटेरों को तीन पिस्तौल चार बाइक और 7 जिंदा कारतूस सहित 8 मोबाइल फोन के साथ गिरफ्तार कर लिया है। बता दे की गोपालगंज एसपी आनंद कुमार को यह सूचना प्राप्त हुई थी कि थावे थाना अंतर्गत ग्राम गंवधरी एवं लाखवर मोड़ के पास एक दर्जन से ऊपर की संख्या में हथियार से लैस अपराधी इकट्ठे हुए हैं, सूचना मिलने के बाद गोपालगंज एसपी आनंद कुमार ने मामले में सदर एसडीपीओ संजीव कुमार के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया, जिसमें थावे थाना अध्यक्ष किरण शंकर, नगर थाने से मनोज कुमार, पप्पू कुमार ,विक्रम कुमार ,हरे राम के साथ टीम ने लखवार मोड़ के पास छापेमारी की, जहां से इन लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया गया, गिरफ्तार किए गए लुटेरे मोतिहारी जिले के अतुल कुमार पाठक,अरविन्द कुमार सहनी,ऋषभ मिश्रा,सचिन ठाकुर,सत्यम कुमार तो वही उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के प्रमोद तिवारी, कुशीनगर जिले के कृष्णा पटेल,

जबकि, गोपालगंज के अमरेन्द्र कुमार यादव,मंजीत सिंह,
मनू कुमार राय ,संदीप सिंह शामिल है जिनके पास से पुलिस ने, एक देसी पिस्तौल दो कट्टा 7 जिंदा कारतूस 8 मोबाइल फोन और चार बाइक बरामद की है,वहीं इस मामले में गोपालगंज एसपी आनंद कुमार ने प्रेस वार्ता कर बताया कि इन अपराधियों का नेटवर्क कई जिलों में है,बिहार और उत्तर प्रदेश के जिलों में लूटपाट की घटना को अंजाम देते हैं, गोपालगंज मे भी इनके द्वारा कई लूटपाट की घटना को अंजाम दिया गया है, साथ ही यह लुटेरे उत्तर प्रदेश के कुशीनगर और गोरखपुर जिले में भी लूटपाट की घटना को अंजाम दे चुके हैं,जबकि बिहार के मोतिहारी में भी इनका नेटवर्क फैला हुआ है,इनकी गिरफ्तारी से गोपालगंज जिले में लूट की घटना पर विराम लगेगा

..........
0
0 views    0 comment
0 Shares

0
0 views    0 comment
0 Shares

0
280 views    0 comment
0 Shares

17
55 views    0 comment
0 Shares

गोपालगंज। आज दिनांक 29.12.2021 को पूर्वाहन 10:00 बजे जिला सभाकक्ष में माननीय मंत्री श्री सैयद शाहनवाज हुसैन , उद्योग विभाग, बिहार पटना की अध्यक्षता में उद्योग विभाग की योजनाओं से संबंधित समीक्षात्मक बैठक की गई। बैठक में सर्वप्रथम जिला पदाधिकारी डॉ नवल किशोर चौधरी (भा.प्र.से) द्वारा बैठक में उपस्थित सभी का स्वागत करते हुए माननीय मंत्री को बुके देकर सम्मानित किया। उसके पश्चात माननीय मंत्री के अनुमति से बैठक की कार्यवाही प्रारंभ की गई। बैठक में माननीय मंत्री महोदय ने गोपालगंज जिले में उद्योग विभाग से संबंधित प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना, मुख्यमंत्री उद्यमी योजना, जिला उद्योग एक नव परिवर्तन योजना के साथ-साथ बिहार राज्य औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन नीति के अंतर्गत जिले में कार्यरत एवं अनुदान प्राप्त इकाइयों की समीक्षा की।
        बैठक में बताया गया कि जिले में प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना के अंतर्गत वित्तीय वर्ष 2020-21 में निर्धारित लक्ष्य 68 आवेदन के अनुरूप 67 आवेदन प्राप्त हुए जिनके बीच 281.85 लाख का सब्सिडी का भुगतान किया गया जबकि वित्तीय वर्ष 2021-22 मैं निर्धारित लक्ष्य 85 आवेदन के अनुरूप 66 आवेदन प्राप्त हुए जिनके बीच 277.08 लाख का सब्सिडी का भुगतान किया गया। मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति/जनजाति उद्यमी योजना के अंतर्गत कुल 157 आवेदन स्वीकृत हुए हैं जिसमें 71 आवेदकों को प्रथम किस्त, 52 आवेदकों को द्वितीय किस्त एवं 24 आवेदकों को तृतीय किस्त का भुगतान किया गया साथ ही मुख्यमंत्री अति पिछड़ा वर्ग उद्यमी योजना के अंतर्गत कुल 140 आवेदन स्वीकृत हुए हैं जिसमें 40 आवेदकों को प्रथम किस्त, 30 आवेदकों को द्वितीय किस्त एवं 6 आवेदकों को तृतीय किस्त का भुगतान किया गया।
           बैठक में बताया गया कि गोपालगंज जिला अंतर्गत एथेनॉल उत्पादन की दो इकाई कार्यरत है -1. सोना सती ऑर्गेनिक्स प्राइवेट लिमिटेड राजापट्टी 2. मगध सूगर एंड एनर्जी लिमिटेड (भारत सुगर मिल) सिधवलिया कार्यरत है जिसकी क्षमता क्रमशः 425 (KLPD) एवं 120 (KLPD) है। साथ ही बताया गया कि बिहार राज्य निवेश प्रोत्साहन पर्षद द्वारा जिले में तीन अनुदानित इकाई कार्यरत है-1. सोना सती ऑर्गेनिक्स प्राइवेट लिमिटेड, राजापट्टी 2. हरिओम फीड्स प्राइवेट लिमिटेड ,मांझागढ़, 3. बलिराम वेयर हाउस, दानापुर।माननीय मंत्री महोदय द्वारा सरकार द्वारा चलाई जा रही सभी योजनाओं का प्रचार-प्रसार करने एवं इस में गति लाने का निर्देश अधिकारियों को दिया।
      माननीय खनन मंत्री श्री जनक राम, माननीय विधायक श्री राम प्रवेश राय, माननीय विधान पार्षद श्री आदित्य नारायण पांडे, उप विकास आयुक्त, महाप्रबंधक जिला उद्योग केंद्र, अग्रणी बैंक प्रबंधक एवं अन्य पदाधिकारी गण उपस्थित थे।

..........
17
933 views    0 comment
0 Shares

कुचायकोट थाना क्षेत्र के एनएच-27 पर बलथरी चेकपोस्ट के पास पुलिस पोस्ट पर सोमवार सुबह पुलिस ने एक कंटेनर से शराब की बड़ी खेप बरामद की। हालांकि, कोहरे और धुंध का फायदा उठाकर कंटेनर चालक और तस्कर मौके से फरार हो गए। कंटेनर में कुरकुरे के डिब्बों के बीच छिपाकर शराब लाई जा रही थी। थाने लाकर गिनती कराई तो कुल 9096 बोतल अंग्रेजी शराब थी। पुलिस पोस्ट पर लंबे अंतराल के बाद शराब की इतनी बड़ी खेप बरामद की गई है।

यूपी की ओर से आ रहे कंटेनर में छिपाई गई थी शराब
सोमवार सुबह थानाध्यक्ष अश्विनी कुमार तिवारी के निर्देश पर एसआइ विनोद कुमार और विकास कुमार पुलिस बल के साथ बलथरी पोस्ट पर उत्तर प्रदेश के तरफ से आने वाले वाहनों की जांच कर रहे थे। सघन जांच के चलते पोस्ट के पास गाड़ियों की लाइन लग गई थी। जब आगे की गाड़ियां निकल गईं तो बिना ड्राइवर के खड़े कंटेनर को देखा। जब गहनता से जांच की तो कंटेनर में कुरकुरे के गत्तों के बीच छिपाकर लाई जा रही शराब बरामद की गई। धुंध और कोहरे का फायदा उठाकर ट्रक में सवार तस्कर और चालक मौके से फरार हो चुके थे। पुलिस कंटेनर को जब्त कर थाने ले आई।पुलिस ने हरियाणा निर्मित 247 कार्टन में रखी 9,096 बोतल शराब जब्त की, जो करीब 2170.8 लीटर है। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात तस्करों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू कर दी है।
60 बोतल शराब के साथ तस्कर- कुचायकोट पुलिस ने थाना क्षेत्र के मुर्गिया गांव में छापेमारी कर 60 बोतल शराब के साथ एक तस्कर को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने गिरफ्तार तस्कर से पूछताछ के बाद उत्पाद अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया। कुचायकोट पुलिस को सूचना मिली थी कि मुर्गीया गांव में शराब की तस्करी की जा रही है। इसके बाद पुलिस की एक टीम ने मुर्गीया गांव में छापेमारी की। 60 बोतल शराब के साथ वशिष्ठ नट को गिरफ्तार कर लिया।

..........
1
602 views    0 comment
0 Shares

0
115 views    0 comment
0 Shares

गोपालगंज में एक पति ने अपनी पत्नी की सोमवार की देर शाम गला रेतकर हत्या कर दी. वह ससुराल से विदाई कराकर ले जा रहा था. रास्ते में उसने इस घटना को अंजाम दिया है. वारदात के बाद उसने पुलिस से बचने के लिए मीरगंज थाना क्षेत्र के जिगना में मानिकपुर गांव के समीप एनएच- 531 पर शव को फेंक दिया ताकि सड़क हादसा का रूप दिया जा सके. महिला की पहचान सिवान जिले के बड़हरिया थाने के पकड़ी गांव की रहने वाली गुलाबसा खातून के रूप में की गई है. गोपालगंज एसपी ने इसकी पुष्टि की है.

उधर, हत्या के बाद भाग रहे कातिल पति को पुलिस ने उसके एक अन्य साथी के साथ महम्मदपुर थाना क्षेत्र के डुमरिया पुल से गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तार मृतका का पति छपरा जिले के पानापुर थाने के रसूलपुर का रहने वाला सद्दाम हुसैन और उसका साथ ही आमिर हुसैन बताया गया है. पुलिस ने गिरफ्तार युवकों से हत्या के मामले में पूछताछ शुरू कर दी है.
कार में सवार थे पति-पत्नी
एसपी आनंद कुमार ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि आरोपित पति अपनी पत्नी को ससुराल से विदाई करा कर घर ले जाने की बात कही थी, लेकिन रास्ते में मीरगंज थाना क्षेत्र के जिगना के पास सुनसान इलाका देख चाकू से गला रेतकर हत्या कर दी. हत्या के बाद भागने के दौरान पुलिस की जांच में डुमरिया पुल पर आरोपित पति पकड़ा गया. एसपी के मुताबिक दोनों कार पर सवार थे. पुलिस ने कार को भी जब्त कर लिया है.
इस पूरे मामले में आज मंगलवार को पुलिस कप्तान प्रेस कॉन्फ्रेंस कर खुलासा करेंगे. फिलहाल मीरगंज पुलिस ने मृतका के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया है. हत्या के पीछे क्या वजह है अभी इसकी जानकारी सामने नहीं आई है.

..........
77
2102 views    0 comment
0 Shares

गोपालगंज में मीडिया की खबर का एक बार फिर असर हुआ है। यहां पर वायरल वीडियो में दारोगा की पॉकेट में शराब की बोतल दिखाई दी थी। इसके बाद मीडिया ने मामले को प्रमुखता से उठाया था। खबर के बाद एसपी ने पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। एसपी आनंद कुमार ने कहा कि हथुआ एसडीपीओ पूरे मामले की छानबीन करेंगे।

दो दिन पहले मुखिया को शराब के मामले में हिरासत में लिया गया था
दरअसल दो दिनों पूर्व गुरुवार को गोपालपुर के बड़हरा पंचायत के मुखिया को शराब रखने के मामले में हिरासत में लिया गया था। इसके विरोध में मुखिया समर्थक सड़कों पर उतर गए और उत्पाद विभाग के खिलाफ हंगामा करने लगे। इसी दौरान एक शराब तस्कर भीड़ से निकलने की फिराक में था। तभी उसके बाइक पर रखे बोरे से शराब की बोतलें जमीन पर गिर गई। बिखरी हुईं शराब की बोतलों को लूटने की होड़ मच गई।
ड्यूटी पर मौजूद दारोगा के पॉकेट में भी शराब की बोतल दिखाई दी
स्थानीय लोग शराब की बोतलों को लूटने लगे। जिसमें ड्यूटी पर मौजूद दारोगा के पॉकेट में भी शराब की बोतल दिखाई दी। इसका वीडियो वायरल होने लगा। इसी मामले में एसपी ने मीडिया से कहा कि हथुआ एसडीपीओ मामले की जांच करेंगे और जांच के बाद जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। एसपी ने कहा कि मौके से 30 बोतल शराब बरामद की गई थीं और एक तस्कर को भी गिरफ्तार किया गया था।

..........
61
8489 views    0 comment
0 Shares

12
1011 views    0 comment
0 Shares

71
2293 views    0 comment
0 Shares

गोपालगंज पुलिस को एक बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने अंतरराज्यीय लुटेरा गिरोह के मास्टर माइंड समेत तीन कुख्यात अपराधियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गये इन अपराधियों के पास से आभूषण दुकानों से लूटी गई ज्वेलरी और एक पिस्टल, तीन जिंदा कारतूस और लूट के पांच हजार बरामद किए गए हैं। एसपी की ओर से गठित एसटीएफ ने यह कार्रवाई उचकागांव थाना क्षेत्र के भुअला गांव के पास मंगववार को की है।

एसआईटी ने की छापेमारी कर कार्रवाई
एसआइटी की छापेमारी के दौरान अपराधियों ने पुलिस टीम पर फायरिंग भी की, जिसमे पुलिस बाल-बाल बच गयी। गोपालगंज के एसपी आनंद कुमार ने कार्रवाई की जानकारी देते हुए बताया कि गिरफ्तार बदमाश लूट, रंगदारी, डकैती समेत 20 से अधिक अपराधिक घटनाओं में संलिप्त हैं। इनके खिलाफ सीवान और गोपालगंज के विभिन्न थानों में अपराधिक मामले दर्ज हैं।

डकैती की योजना बनाते हुए गिरफ्तार
एसपी ने बताया कि कल शाम गुप्त सूचना मिली कि तीन अंतरराज्यीय अपराधी उचकागांव थाना क्षेत्र के जमसड़ हाता एवं भुअला गांव के बीच सुनसान स्थान पर डकैती की योजना बना रहे हैं। प्राप्त सूचना के आधार पर मामले को गंभीरता से लेते हुए हथुआ एसडीपीओ नरेश कुमार के नेतृत्व में एसटीएफ के सहयोग से छापेमारी की गयी।

छापेमारी के दौरान अपराधियों ने पुलिस को देखते ही गोली चलानी शुरू कर दी। जिसमें पुलिस बाल-बाल बच गयी। हालांकि पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए तीनों अपराधियों को मौके पर दबोच लिया। पकड़े गये अपराधी मीरगंज थाना क्षेत्र के सबेया के रहनेवाले सर्फुद्दीन नट का पुत्र कुख्यात सद्दाम नट, इसी थाने के पेउली गांव के दारोगा मियां का पुत्र मंजूर आलम तथा निजामुद्दीन अली का पुत्र मो. मुस्ताक अली बताये गये हैं। इन तीनों में से लुटेरा गिरोह का मास्टर माइंड सद्दाम नट बताया जाता है।

प्रत्येक फायरिंग पर वसूलता था 50 हजार
गिरफ्तार अपराधियों के बारे में एसपी आनंद कुमार ने खुलासा करते हुए कहा कि तीनों अपराधी पेशेवर लुटेरे हैं। मास्टर माइंड सद्दाम हाल ही में जेल से जमानत पर निकला है। पिछले दिनों बथुआ बाजार में किराना और दवा की होलसेल दुकान पर हुई गोलीबारी में शामिल रहा। जिसमें एक फायरिंग के 50 हजार रुपये वसूल किया था। प्रत्येक गोली की फायरिंग पर 50 हजार रुपये का डिमांड करता था।

इसके बाद सीवान के रघुनाथपुर में हाल में आभूषण में डकैती की। उचकागांव थाना क्षेत्र के अरना बाजार में दो आभूषण दुकानों में डकैती की। एक-एक कर 20 अपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया। ज्वेलरी दुकानों पर लूटपाट करने के बाद यूपी और बिहार के आभूषण दुकानदारों से बेचता था। इस मामले में पांच ज्वेलरी दुकानदारों को भी चिन्हित किया गया है, जिनकी गिरफ्तारी की जायेगी।

सद्दाम ने 2 करोड़ रुपये कमाने रखा था लक्ष्य
एसपी ने बताया कि मास्टर माइंड सद्दाम नट ने लेवी और लूटपाट से दो करोड़ रुपये कमाने का लक्ष्य रखा था। जिसके बाद वह अपराधिक गतिविधियां से बाहर निकलता चाहता था। इन लुटेरों की गिरफ्तारी के बाद से लूट की वारदात में कुछ कमी आने की संभावना बतायी गयी। वहीं पुलिस ने राहत की सांस ली है। एसपी ने बताया कि इन बड़ी वारदात का खुलासा करने में पुलिसकर्मियों का योगदान काफी सराहनीय रहा है। इन्हें पुरस्कृत करने के लिए मुख्यालय को अनुशंसा की जायेगी

..........
89
164 views    0 comment
1 Shares

गोपालगंज_जिला_परिषद के नवनिर्वाचित सदस्य की नाम
1.कटेया- विजय तिवारी
2.कटेया- अमित कुमार उर्फ अंकु राय 
3.पंचदेवरी- अनारकली देवी w/o पूरन सिंह कुशवाहा
4.विजयीपुर- कुमारी पूजा भारती D/O नंदलाल राम
5.पंचदेवरी- धीरेन्द्र कुशवाहा
6.भोरे- ललीता चौहान w/o धर्मेंद्र चौहान
7.भोरे- सुशीला देवी w/o राम अशीष ठाकुर
8.फुलवरिया- राज कुमार सिंह
9.फुलवरिया- इंदु देवी w/o भरत यादव
10.कुचायकोट- शबाना परवीन w/o अब्दुल कलाम
11.कुचायकोट- इन्दु देवी w/o अजय सिंह
12.कुचायकोट- अभिषेक कुमार
13.कुचायकोट- मीरा देवी w/o सुभाष बैठा
14.उचकागांव- ओम प्रकाश सिंह
15.उचकागांव- जीवधन मांझी
16.हथुआ- राम दर्शन उर्फ मुन्ना किन्नर
17.हथुआ- शमीमुन ख़ातून w/o हसमुद्दीन अंसारी
18.हथुआ- माधुरी यादव w/o शांतनु यादव
19.थावे- नीलम देवी w/o ओम प्रकाश सिंह भुट्टो
20.गोपालगंज- रीता देवी w/o वीरेंद्र राय
21.गोपालगंज- सुभाष सिंह
22.मांझा- अवधेश मांझी
23.मांझा- उषा देवी w/o संजीत कुमार चौबे
24.मांझा- दीपिका सिंह w/o विकाश सिंह
25.बरौली- रुखसाना परवीन w/o फ़ैज़ अहमद
26.बरौली- रतिकांत शर्मा
27.बरौली- धर्मेंद्र कुमार
28.सिधवलिया- गुड़िया कुमारी w/o डा. गणेश राय
29.सिधवलिया- ज्योति भूषण कुंवर (प्रिंस नेता)
30.बैकुंठपुर- दीपक कुमार
31.बैकुंठपुर- सुनील सिंह
32.बैकुंठपुर- अशफाक अहमद

..........
3
338 views    0 comment
0 Shares

गोपालगंज जिले के बरौली प्रखंड के नवनिर्वाचित मुखिया की सूची

1.महोदी पुर पकड़िया- बिरेन्द्र सिंह
2.देवापुर- पल्लवी देवी w/o विजय सिंह
3.नवादा- दिलीप कुमार
4.सलेमपुर पश्चिमी- संतोष कुमार सिंह
5.बतरदेह- नित्यानंद प्रसाद उर्फ कमलेश पटेल
6.सोनबरसा- सुमन कुमारी w/o विजय शर्मा
7.कहला- ई. राहुल कुमार
8.मोगल विरेचा- मनोज लाल श्रीवास्तव
9.सलेमपुर पूर्वी- उषा देवी w/o मंगल ठाकुर
10.कल्याणपुर- ज्ञानती देवी w/o परमेश्वर सिंह
11.रामपुर- मंजू देवी w/o विरेन्द्र सिंह
12.सरफरा- सत्यवंती देवी w/o गौतम ठाकुर
13.हसन पुर- अमरजीत महतो
14.सदौवा- अमरजीत मांझी
15.पिपरा- राजेश कुमार सिंह
16.सरेया नरेंद्र- चनमन कुमारी w/o रवि कुमार मुन्ना
17.खजुरिया- संदीप कुमार
18.मोहम्मद पुर नीलामी- किरण देवी w/o अजय कुमार सिंह
19.बेलसंड- राज कुमारी देवी w/o कामेश्वर मांझी
20.माधोपुर- संतोष कुमार प्रसाद
21.बघेजी- यशवंती कुँवर w/o रामपति सिंह
22.विशुनपुरा- शेर कुमार साह
23.लरौली- प्रभावती देवी w/o देवराज सिंह

..........
0
394 views    0 comment
0 Shares

10
613 views    0 comment
0 Shares

15
337 views    0 comment
0 Shares

8
678 views    0 comment
0 Shares

भोरे-मीरगंज मुख्य पथ के श्रीपुर ओपी क्षेत्र के शंकर मोड़ के समीप दोपहर कार सवार नवनिर्वाचित पंचायत समिति सदस्य मुन्नी खातून के पति सरफराज आलम व चालक पर बाइक सवार अपराधियों ने फायरिंग की।

अगली सीट पर बैठे बीडीसी के पति के पेट में एक और चालक के कंधे में एक गोली लगने से दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। दोनों को डाक्टरों ने गोरखपुर रेफर कर दिया।

सूचना मिलते ही फुलवरिया थाना के अलावा कई थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और जांच की। सरफराज की पत्नी प्रमुख पद की दावेदार थीं।

पुलिस के अनुसार फुलवरिया थाना क्षेत्र के पाण्डेय परसा गांव निवासी सरफराज आलम की पत्नी मुन्नी खातून क्षेत्र संख्या आठ से बीडीसी निर्वाचित हुई हैं। शनिवार की दोपहर सरफराज अपनी कार से चालक नजरे के साथ श्रीपुर ओपी स्थित मिस्र बतरहा बाजार की ओर जा रहे थे।

कार शंकर मोड़ के समीप पहुंची थी कि बाइक सवार अपराधियों ने घेर कर फायरिंग शुरू कर दी। सरफराज आलम व उनके चालक को गोली लग गई। घटना के बाद आसपास के लोगों ने घायलों को भोरे रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया।

वहां से सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया। सदर अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद दोनों घायलों को गोरखपुर रेफर कर दिया गया। घटना की सूचना मिलते ही हथुआ एसडीपीओ नरेश कुमार सहित कई पुलिस पदाधिकारी मौके से पहुंचकर मामले की जांच में जुट गए।

पुलिस ने घटनास्थल के आसपास के सीसीटीवी फुटेज खंगाले हैं। अपराधियों की पहचान में जुटी है। अपराधियों ने सात राउंड फायरिंग की है।

|
मीरगंज की तरफ फरार हो गए बदमाश
गोली मारने के बाद अपराधी मीरगंज की तरफ फायरिंग करते हुए फरार हो गए।

इसकी जानकारी मिलते ही एसडीपीओ नरेश कुमार ने मीरगंज थाने की पुलिस को वाहन जांच करने व अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी का निर्देश दिया।

हालांकि घंटों वाहन जांच का अभियान चलता रहा। लेकिन अपराधियों का सुराग नहीं मिल सका।

..........
57
3916 views    0 comment
0 Shares

0
501 views    0 comment
0 Shares

गोपालगंज प्रखंड के नवनिर्वाचित मुखिया की सूची

1.रामपुर टेंगराही- चांदनी देवी w/o अजित राय 2.बरईपट्टी- कृष्णा यादव 3.विशुनपुर पश्चिमी- मुकुन्द पासवान 4.विशुनपुर पूर्वी- बन्धु सिंह 5.जादोपुर शुक्ल- सुबुक तारा ख़ातून w/o फतेह आलम 6.एकडेरवा- राज नारायण साह 7.कोंनहवा- बिंदा देवी w/o बिनोद कुमार यादव 8.बसडीला- आरती देवी w/o अरबिंद मिश्र 9.चौराव- परवेज आलम उर्फ छोटे मुखिया 10.भितभेरवा- राम नारायण साह 11.तिरबेरवां- रीता शर्मा w/o राजेश कुमार शर्मा 12.जादोपुर दुखहरण- रामावती देवी w/o धर्मराज प्रसाद 13.कठघरवा- बिंदु देवी w/o परमानंद साहनी 14.ख़्वाजेपुर- मिथिलेश देवी w/o अशोक सिंह 15.जागीरी टोला- सोनी देवी w/o रंजन सिंह 16.मानिक पुर- उषा देवी w/o कृष्णा राम

..........
13
658 views    0 comment
0 Shares