logo
logo
(Trust Registration No. 393)
aima profilepic
Anil k Thapliyal
All India Media Association

उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने फिर विभिन्न विभागों के लिए विज्ञप्ति निकाली है।सरकारी नौकरियों की तैयारियों में जुटे युवाओं के लिए UKSSSC ने चारा सहायक (फीड सहायक) जीआर-2 03,चारा, सहायक (फ़ीड सहायक) ग्रेड-3- 02, सहायक खाद्य निरीक्षक / प्रशिक्षक 01, वरिष्ठ दुग्ध निरीक्षक 03 सहायक कृषि अधिकारी, ग्रेड-3 – 188, उद्यान निरीक्षक/सहायक विकास अधिकारी 26, सहायक मशरूम विकास अधिकारी 03, सहायक पौध संरक्षण अधिकारी/मधु विकास अधिकारी 02, सहायक प्रशिक्षण अधिकारी (उद्यान) 03, सहायक प्रशिक्षण अधिकारी (वनस्पति) 03, मशरूम पर्यवेक्षक 04, प्रयोगशाला सहायक 04, बागवानी विकास शाखा – ग्रेड-3 पर्यवेक्षक – 181 एवं सहायक कृषि अधिकारी (AAO) के 188 पदों समेत कुल 423 रिक्त पदों पर सीधी भर्ती के लिए युवाओं से ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए हैं।



   05 अक्टूबर यानी आज (मंगलवार) 2021 से ऑनलाइन आवेदन शुरू हो चुके हैं जो 18 नवंबर 2021 तक जारी रहेगा। इच्छुक  आवेदक आयोग की वेबसाइट sssc.uk.gov.in पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। परीक्षा शुल्क जमा करने की अंतिम तिथि 20 नवंबर 2021 रखी गई है।


 वैसे सरकार ने आवेदन शुल्क को माफ कर दिया है और इसका शासनादेश भी जारी हो चुका है। लेकिन प्रकिया आप स्वयं जांच ले। विभिन्न पदों के लिये बीएससी, एमएससी के साथ ही आयु सीमा 21 से 43 वर्ष रखी गई है।

..........
8
1982 views    0 comment
0 Shares

रुद्रप्रयाग। यात्रियों को नियंत्रित ढंग से भेजे जाने के लिए जनपद रुद्रप्रयाग का पुलिस बल बैरियरों तैनात है। रात्रि एक बुजुर्ग यात्री श्री केदारनाथ से वापस आ रहे थे। सोनप्रयाग बैरियर ड्यूटी पर नियुक्त आरक्षी विनय एवं महिला आरक्षी विनीता द्वारा उन बुजुर्ग यात्री से वार्ता की तो उन्होंने बताया कि ​वे बाबा के दर से वापस आ रहे हैं, परन्तु अब उनके पास वापस जाने को पैसे इत्यादि भी नहीं है और भूख भी लग रही है। बैरियर पर तैनात दोनों पुलिसकर्मी इन बुजुर्ग यात्रियों को नजदीकी होटल में ले गए तथा उनको भोजन इत्यादि कराया।
इनके रात्रि प्रवास की व्यवस्था कराई गई। आज इनके द्वारा इन बुजुर्ग व्यक्ति को उनके गंतव्य के लिए रवाना कर दिया गया है। आगे के सफर के लिए आवश्यकतानुसार कुछ पैसे भी दिए। दोनों पुलिसकर्मियों की इस कार्य पर काफी तारीफ हो रही है।

..........
10
615 views    0 comment
0 Shares

देहरादून। उत्तराखंड में पुलिस भर्ती का इंतजार कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। पुलिस मुख्यालय ने आज 1521 रिक्त पदों पर सिपाहियों की भर्ती का प्रस्ताव उत्तराखंड अधीनस्थ चयन आयोग को भेज दिया है।

भर्ती में सिविल पुलिस के साथ ही फायर सर्विस, पीएसी, आईआरबी के महिला और पुरुषों की भर्ती होगी। उत्तराखण्ड पुलिस मुख्यालय द्वारा आरक्षियों के 1521 रिक्त पदों की भर्ती हेतु उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को अधियाचन किया गया प्रेषित।

आज दिनांक 27 सितम्बर, 2021 को पुलिस मुख्यालय उत्तराखण्ड द्वारा पुलिस विभाग में आरक्षी संवर्ग के अन्तर्गत आरक्षीयों के सीधी भर्ती से जनपदीय पुलिस (पुरुष) के 785, व पीएसी/आईआरबी (पुरुष) के 291 तथा फायरमैन पुरुष के 291 तथा महिलाओं के 133 पद अनुमन्य करते हुये कुल 445 पद, इस प्रकार कुल 1521 रिक्त पदों की भर्ती किये जाने के सम्बन्ध में अधियाचन अधीनस्थ कर्मचारी चयन आयोग उत्तराखण्ड को प्रेषित किया गया है।

..........
21
1683 views    0 comment
0 Shares

देहरादून।  इंद्रानगर (वसंत विहार) की रहने वाली निहारिका तोमर ने अखिल भारतीय सिविल सर्विसेज परीक्षा में 121वीं रैंक हासिल कर अपना, परिवार, स्कूल और प्रदेश का मान बढ़ाया है। निहारिका ने यह सफलता चौथे प्रयास में हासिल की है।

द्वारीखाल के गॉंव जवाड़ से है नाता
निहारिका मूल रूप से पौड़ी गढ़वाल जिले के द्वारीखाल के ग्राम जवाड़ की रहने वाली हैं। निहारिका ने बताया कि वह बचपन से परिवार के साथ दून में पली-बढ़ी हैं। उनके पिता केवी ओएनजीसी में शिक्षक हैं। मां रिंकी तोमर गृहिणी हैं। निहारिका ने वैकल्पिक विषय पॉलिटिकल साइंस एंड इंटरनेशनल रिलेशन के लिए तीन महीने दिल्ली में कोचिंग ली। इसके अलावा उन्होंने कोई कोचिंग नहीं ली। चौथे प्रयास में मिली सफलता।

निहारिका ने सातवीं कक्षा तक गौतम इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ाई की। आठवीं से 12वीं तक केवि ओएनजीसी में पढ़ाई की। उसके बाद पंतनगर विश्वविद्यालय से बीटेक किया। तीसरे प्रयास में वह इंटरव्यू से बाहर हो गई। फिर भी निहारिका ने हार नहीं मानी और चौथे प्रयास में 121वीं रैंक हासिल की। समाज के लिए कुछ खास करने की चाहत। निहारिका कहती हैं कि उनके मन में हमेशा से यह था कि समाज के लिए कुछ खास करना है।


इसलिए वह सिविल सर्विस में जाना चाहती थीं। उनकी पहली च्वाइस आईएएस और दूसरी आईपीएस बनने की है। निहारिका कहती हैं कि कोई भी काम असंभव नहीं होता, बल्कि इसके लिए दृढ़ इच्छा शक्ति की जरूरत होती है।

..........
16
8498 views    0 comment
3 Shares

देहरादून । राजधानी देहरादून में रहने वाले माता पिता ,खास तौर पर वो जिनके बच्चों की उम्र 18 वर्ष से कम है , उनके लिए यह खबर महत्वपूर्ण है। राजधानी में नशे के सौदागर फिर सक्रिय हो गए हैं। नशे के इंजेक्शन बेचने वालों की तादाद बढ़ती जा रही है और उनके निशाने पर 18 साल से कम उम्र के बच्चे अधिक हैं।

 हाल ही में रायवाला पुलिस ने नशे के सैकड़ों इंजेक्शन के साथ सेलाकुई के दो नशे कारोबार करने वालों की धरपकड़ के बाद देहरादून के लोगों को सजग करने के लिए इस स्टोरी को सभी लोगों तक पहुंचाने की कोशिश की है।

रायवाला पुलिस के मुताबिक 26 सितंबर की रात्रि को छिद्दरवाला चैक पोस्ट के पास चैकिंग के दौरान नेपाली तिराहे की ओर एक स्विफ्ट कार आती दिखाई दी। चैकिंग होते देख चालक वाहन को वैरियर से पहले ही मोड़ कर वापस जाने की कोशिश करने लगा तो पुलिस को शक हुआ। पुलिस ने वाहन को रोका। जांच करने पर पता चला कि चालक सीट पर बैठे मोहित आले पुत्र हरि सिंह आले निवासी बहादुरपुर थाना सेलाकुई देहरादून उम्र-31 वर्ष के पास से DIAZEPAM INJECTION IP 2ML (डाइजेपाम) के-113 इंजेक्शन व BUPRENORPHINE (ब्यूप्रेनोर्फिन) के-100 इंजेक्शन (कुल 213 इंजेक्शन) बरामद हुए । वाहन की पिछली सीट पर बैठे शहनवाज पुत्र लियाकत अली निवासी जनमपुर थाना सेलाकुई देहरादून उम्र 29 वर्ष के पास से DIAZEPAM INJECTION IP 2ML(डाइजेपाम) के-कुल 125 इंजेक्शन व BUPRENORPHINE (ब्यूप्रेनोर्फिन) की कुल-115 इंजेक्शन (कुल 240 इंजेक्शन) बरामद हुए। पुलिस के मुताबिक दोनों से भारी मात्रा में बरामद इंजेक्शनों को रखने का लाइसेंस मांगा तो उन्होंने लाइसेंस नहीं दिखाया। भारी मात्रा में अवैध नशीले इंजेक्शन बरामद होने के कारण दोनों को गिरफ्तार किया गया। इंजेक्शनों के अवैध बरामदगी के संबन्ध में पूछताछ करने पर दोनो ने बताया कि वह नशीले इंजेक्शनों को सेलाकुई तथा ज्वालापुर आदि स्थानों से चोरी-छिपे लाते हैं तथा इन इन्जेक्शनों को कम उम्र के लड़को को ऊंचे दामों पर बेचते हैं। अभियुक्त द्वारा बताया गया इन इंजेक्शनों की डोज भर कर नसों में लगाया जाता है। जिसका उपयोग कम उम्र के लड़कों द्वारा अत्यधिक रुप से किया जा रहा है।

..........
8
562 views    0 comment
0 Shares

पूर्व मुख़्यमंत्री व एआईसीसी महासचिव हरीश रावत की दलित कार्ड की भाषा को पार्टी के दोनों पूर्व अध्यक्ष प्रीतम सिंह और किशोर उपाध्याय क्या वाकई समझ नहीं रहे हैं या फिर दोनों की एक जैसी पीड़ा है, जिसका शूल हरीश रावत हैं ? जो रह-रहकर कटाक्ष अथवा तीखे बोलों से बाहर निकल रही है। राज्य बनने के बाद वर्ष 2002 से 2007 तक सत्ता संघर्ष में सहयोगी रहे हरीश रावत- प्रीतम सिंह – किशोर उपाध्याय मौजूदा समय में अलग रीति, अलग नीति और अलग – अलग सोच के साथ कांग्रेस को भाजपा से मुकाबले के लिए तैयार कर रहे हैं।

यहां यदि बात करें हरीश रावत के दलित कार्ड की तो उन्होंने कांग्रेस की तरफ से दलित मुख़्यमंत्री की सम्भावनाओं की बात कर एक नई बहस छेड़ दी है।

उनके इस आशय के बयान पर विरोधी दलों से अधिक दिलचस्प टिप्पणी प्रीतम सिंह और किशोर उपाध्याय ने की है। दोनों नेताओं ने त्वरित टिप्पणी कर कहा कि यही दलित प्रेम वर्ष 2002 , 2012 व 2014 में भी दिखाया जाना चाहिए था।

वर्ष 2002 में नारायण दत्त तिवारी , 2012 में विजय बहुगुणा और 2014 में खुद हरीश रावत मुख़्यमंत्री बने। हरीश रावत के दलित मुख़्यमंत्री के बयान की गहराई में जाएं तो पाएंगे कि यह हवा में दिया गया बयान नहीं है। उत्तराखण्ड विधानसभा में अनुसूचित जाति की 13 सीटें आरक्षित हैं।

राज्य की कुल आबादी का लगभग 15 फीसद हिस्सा अनुसूचित जाति का है , जिन्हें कांग्रेस आज भी अपने पाले में मानती है। आम आदमी पार्टी के उत्तराखण्ड में चुनाव में कूदने के बाद कांग्रेस को दलित मतदाताओं की फिक्र अधिक सताने लगी है। कांग्रेस को पहले मैदानों में दलित वोट बैंक पर बसपा की सेंधमारी की चिंता रहती थी और अब आम आदमी पार्टी की चुनौती। उत्तराखण्ड में वर्ष 2017 में सत्ता परिवर्तन के साथ अनुसूचित जाति की सभी 13 सीटें भाजपा की झोली में चली गईं।

दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों में भी अनुसूचित जाति की 12 सीटें आरक्षित हैं जो 2020 के विधानसभा चुनाव में आम आदमी ने जीती हैं।

दिल्ली में दलित वर्ग की आबादी 16.80 फ़ीसद है जबकि उत्तराखण्ड में 15 फीसद के करीब है। दिल्ली में सुल्तानपुर , माजरा , करोलबाग , सीमापुरी , गोकलपुर , मंगोलपुरी , त्रिलोकपुरी , कोंडली , अम्बेडकर नगर , मोदीपुर , देवली , बवाना और पटेलनगर। कांग्रेस दलित वर्ग पर अपना एकाधिकार मानती आई है। हालांकि समय समय पर इसमें बसपा ने जबरदस्त सेंधमारी की है। हरिद्वार व उधमसिंह नगर में 2002 व 2007 में बसपा का प्रदर्शन काफी बेहतर रहा है। राज्य में अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीट पुरोला , थराली , घनसाली , राजपुर रोड , ज्वालापुर , झबरेड़ा , भगवानपुर , पौड़ी , गंगोलीहाट , बागेश्वर , सोमेश्वर , नैनीताल व बाजपुर। जनपदों में अनुसूचित जाति की आबादी इस प्रकार है। पिथौरागढ़ में 24.90 फीसद , बागेश्वर 27.73 फीसद , अल्मोड़ा 24.25 फीसद , चंपावत 18.25 , नैनीताल 20.03, उधमसिंह नगर 14.46 , हरिद्वार 21.76 , उत्तरकाशी 24.41 , चमोली 20.25 , टिहरी 22.50 , रुद्रप्रयाग 19.68 , देहरादून 13.49 व पौड़ी में 17.80 फीसद अनुसूचित जनजाति की आबादी है।

..........
17
1201 views    0 comment
0 Shares

रायवाला। थाना क्षेत्र की एक महिला ने अपने पड़ोसी पर कार में दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। पीड़िता की तहरीर पुलिस ने संबंधित धारा में केस दर्जकर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। जिसे कोर्ट में पेशकर जेल भेज दिया है।

रायवाला थानाध्यक्ष भुवन पुजारी के क्षेत्र की एक महिला अपने देवर से साथ थाने पहुंची। यहां पर तहरीर देकर बताया कि बीते रोज वह अपने पड़ोसी  धूम सिंह सजवाण के साथ आखों की दवाई लेने के लिए अस्पताल गई थी।

इसी बीच पड़ोसी धूम सिंह सजवाण ने तीन पानी पुल के नीचे कार खड़ी कर उसके साथ दुष्कर्म किया। पीड़िता की तहरीर पर पुलिस ने दुष्कर्म की धारा में केस दर्ज कर शुक्रवार को आरोपी को हाथी पुल, छिद्दरवाला से गिरफ्तार कर लिया। बताया कि आरोपी को कोर्ट में पेशकर जेल भेज दिया गया है।

..........
17
1489 views    0 comment
0 Shares

श्रीनगर पौड़ी गढ़वाल को नगर निगम बनाने की कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है। हाल ही में भाजपा की श्रीनगर में आयोजित आशीर्वाद रैली में मुख़्यमंत्री ने इस आशय की घोषणा की थी।

शासकीय प्रवक्ता व कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल के अनुसार कैबिनेट के अन्य मामलों में राज्य के 7 इंजीनियरिंग संस्थानों में भारत सरकार द्वारा सहायता प्राप्त तकनीकि शिक्षा गुणवत्ता सुधार परियोजना के तहत संविदा पर कार्यरत शिक्षकों को अक्टूबर, 2021 से 31 मार्च, 2022 तक कार्य करने की अनुमति प्रदान कर दी गई।

पारिश्रमिक के रूप में अनुमानित कुल धनराशि 3.83 करोड़ का व्यय भार राज्य सरकार द्वारा वहन किया जायेगा। राज्य कर्मचारियों एवं पेंशनरों को 1 जुलाई, 2021 से  महंगाई भत्ता  दिए जाने का फैसला लिया गया। उत्तराखण्ड भौगोलिक परिस्थितियों के दृष्टिगत जनहित में फिलींग स्टेशन की स्थापना के लिए भवन निर्माण एवं विकास की नीति में संशोधन कर मानको में छूट दी गई।

ग्राम पंचायत नगला, जनपद उधम सिंह नगर को नगरपालिका परिषद् बनाने की मंजूरी दी गई। उत्तराखण्ड सम्मिलित राज्य सिविल/प्रवर अधीनस्थ परीक्षा 2012 के अन्तर्गत सामान्य श्रेणी/पूर्व सैनिक श्रेणी का एक अतिरिक्त पद डिप्टी कलेक्टर पद के लिये आयोग को भेजने की मंजूरी दी गई।

उत्तराखण्ड राज्य में स्थापित चिकित्सा ईकाईयों के आईपीएचएस मानकीकरण के क्रम में जनपदवार चिकित्सीय ईकाइयों को, टाईप ए प्राथमिक चिकित्सा केन्द्र, टाईप बी प्राथमिक चिकित्सा केन्द्र, सामुदायिक चिकित्सा केन्द्र, उपजिला चिकित्सा केन्द्र और जिला चिकित्सा केन्द्र के रूप में पांच वर्गो में बांटने का निर्णय लिया गया है।

उत्तराखण्ड राजस्व चकबन्दी (उच्चतर) सेवा नियमावली-2021 को प्रख्यापित करने का निर्णय लिया गया। शासकीय प्रवक्ता के अनुसार एकल आवास एवं व्यवसायिक भवन, आवासीय भू उपयोग में व्यवसायिक दुकान तथा आवासिय क्षेत्रों में नर्सिंग होम, क्लीनिक , ओपीडी, पैथोलॉजी लैब/नर्सरी स्कूल इत्यादि के विनियमतिकरण के लिए एकल समाधान योजना 24 सितम्बर, 2021 से बढ़ाकर मार्च 2022 तक करने का निर्णय लिया गया है।

उत्तराखण्ड में उप्र आवास विकास परिषद की परिसम्पितयों को सील किया गया था। इस सम्बन्ध में इसके विक्रय, निर्माण अथवा विकास कार्य पर रोक लगी थी, इस रोक को हटाने का निर्णय किया गया।

उत्तराखण्ड पशु चिकित्सा सेवा नियमावली-2021 का प्रख्यापन ,. टिहरी , नरेन्द्रनगर , तपोवन को नगर पंचायत बनाने की अनुमति , उत्तराखण्ड नजूल भूमि प्रबन्धन/व्यवस्थापन एवं निस्तारण अध्यादेश-2021 के प्रख्यापन का बाद पट्टेधारकों को फ्री होल्ड कराने की अनुमति।

जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण को अधिक सुढढ एवं उपयोगी बनाने के लिये मंत्रीमण्डल उपसमिति का गठन किया गया है जिसमे मंत्री बंशीधर भगत, अरविन्द पाण्डेय, सुबोध उनियाल को शामिल किया गया है।

उन्होने कहा कि उत्तराखण्ड पुलिस आरक्षी एवं मुख्य आरक्षी (नागरिक पुलिस अधिसूचना एवं सशक्त पुलिस) सेवा नियमावली-2018 में संशोधन किया गया है। उत्तराखण्ड पुलिस उपनिरीक्षक एवं निरीक्षक (नागरिक पुलिस) सेवा नियमावली-2018 के संदर्भ में मुख्यमंत्री को निर्णय लेने का अधिकार दिया गया है। उत्तराखण्ड स्टाम्प (सम्पति का मुल्यांकन) संशोधन नियमावली-2015 में प्रचलित सर्किल दरों में चमोली के बद्रीनाथ एवं बामणी में पेनाल्टी पांच गुना से कम करके दो गुना वन टाईम सेटलमेंट द्वारा करने का निर्णय लिया गया है। एविएशन टरबाईन फ्यूल की वैट दर 20 प्रतिशत से घटा कर 02 प्रतिशत करने का निर्णय।उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति को दी जाने वाली टैलीफोन सुविधा का वास्तविक व्यय का भुगतान किया जायेगा। उन्होंने बताया कि कान्सटेबिल से हैड कान्सटेबिल बनाने में रैंकर्स परीक्षा को समाप्त कर सौ प्रतिशत पदोन्नति से करने का निर्णय लिया गया है। उनियाल ने कहा कि सरकारी परियोजना में निवेशकों, पटटेधारकों से सम्बन्धित संविदा के विवाद को सुलझाने के लिये कमेटी बनाये जाने के लिये सीएम को अधिकृत किया गया।स्टोन क्रेशर, अवैध खनिज भण्डारों के वन टाईम सैटलमेंट के लिये नियमावली में संशोधन किया जायेगा। स्टोन क्रेशर, प्लान्ट स्वामियों/स्क्रीनिंग प्लांट स्वामी/अवैध खनन कर्ताओं पर आरोपित दण्डारोपण के लिये नियमावली बनेगी । इस मामले को दो माह में निस्तारित करने होंगे और नियमावली बनने के बाद दो माह के लिये प्रभावी होगी। केदारनाथ व बद्रीनाथ में पुनर्निर्माण के तहत नियमावली में छूट दी गई। अब 75 लाख तक के कार्य सिंगल बिड से किये जा सकते हैं। लोहाघाट को नगर पालिका बनाने की मंजूरी। उच्च न्यायालय राज्य वित्त अधिकारी से सम्बन्धित सेवा नियमावली संशोधन की मंजूरी दी गई।

..........
2
9455 views    0 comment
1 Shares

ग्राम उनियाणा, ऊखीमठ निवासी युवक अजीत सिंह पंवार ने साइबर सेल पुलिस कार्यालय रुद्रप्रयाग में शिकायत दर्ज करायी गयी कि, उसके द्वारा माह अगस्त 2021 के शुरूआत में इण्डियामार्ट वेबसाइट (ऑनलाइन खरीददारी) से सम्बन्धित साइट पर जाकर एक मैनुफैक्चर कम्पनी गुरूनानक इण्डस्ट्रीज यमुनानगर हरियाणा, से आनलाइन सम्पर्क हुआ। जिस पर पिको व सिलाई की इंटरलॉक मशीन का आनलाइन ऑर्डर किया गया। ऑर्डर से सम्बन्धित कुल 14240 रुपये सम्बन्धित कम्पनी द्वारा उपलब्ध कराये गये खाते में ऑनलाइन ट्रांसफर किये गये। निर्धारित समयावधि यानि 3 सप्ताह तक भी सामान दिये गये पते पर नहीं पहुंचा। इस सम्बन्ध में कम्पनी से निरन्तर सम्पर्क बनाये रखा गया कि, या तो सामान उपलब्ध करा दो या फिर पैसे ही वापस कर दो, कम्पनी द्वारा कोई रिस्पान्स नहीं दिया गया। जिस पर वापस शिकायत इण्डियामार्ट साइट को की गयी, जिनके द्वारा उनसे जुड़ी इस कम्पनी को डिसेबल कर दिया गया परन्तु फिर भी धनराशि वापस नहीं हुई। बकायदा कम्पनी गुरूनानक इण्डस्ट्रीज द्वारा शिकायतकर्ता के व्हट्सएप एवं कॉल दोनों ही माध्यम से इनको ब्लॉक कर दिया गया। अब कहीं से मदद न मिल पाने पर इनके द्वारा साइबर सैल पुलिस कार्यालय रुद्रप्रयाग को शिकायत की गयी, जिस पर आवेदक द्वारा दिये गये विवरण के आधार पर साइबर सैल द्वारा आवश्यक कार्यवाही करते हुए जिस खाते में आवेदक द्वारा पैसे भेजे गये थे, उसे सम्बन्धित बैंक के माध्यम से डेबिट फ्रीज करा दिया गया। जिस पर सम्बन्धित कम्पनी का स्वयं का खाता डेबिट फ्रीज हो जाने पर उनके द्वारा आवेदक से सम्पर्क स्थापित किया गया तथा आवेदक को दिनांक 22 सितम्बर 2021 को 4000 रुपये तथा दिनांक 23 सितम्बर 2021 को 10240 रुपये ऑनलाइन वापस ट्रांसफर कर दिये गये हैं। साइबर सेल के स्तर से इण्डियामार्ट साइट प्रबन्धन से इस सम्बन्ध में आवश्यक जानकारी ली गयी तो उनके द्वारा बताया गया इस कम्पनी द्वारा नियमों का उल्लंघन करते हुए सीधे ही ग्राहक से सम्पर्क स्थापित कर पैसे ट्रान्सफर किये जाने सम्बन्धी विवरण ग्राहक को दे दिये गये थे, जो कि, उनकी वेबाइसाइट की शर्तों का भी उल्लंघन है। साइबर सेल के स्तर से सम्बन्धित कम्पनी से पूछताछ करने पर उनके द्वारा भी यह बताया गया कि, उनके स्तर से सामान डिलीवर करने में कुछ देर हो गयी थी, तथा उनके द्वारा इनका सामान भी डिलीवर कर दिया गया है, परन्तु अब शिकायतकर्ता सामान को रिसीव करने से इनकार कर रहे हैं। कम्पनी प्रबन्धन को इस बारे में पूछा गया कि, आपके स्तर से यदि ग्राहक को सामान पहुंचाये जाने में देर हो रही थी तो क्यों आपके द्वारा इनके पैसे वापस भेजे जाने के बजाय इनको ब्लॉक कर दिया तो इस पर कम्पनी द्वारा कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया गया। अपनी धनराशि वापस प्राप्त होने पर शिकायतकर्ता इस प्रकरण को आगे नहीं बढ़ाना चाह रहे हैं तथा उनके द्वारा जनपद रुद्रप्रयाग साइबर सैल का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कम्पनी के खाते को अनफ्रीज करने का अनुरोध किया गया है, जिस सम्बन्ध में पुलिस के स्तर से आवश्यक कार्यवाही की जा रही है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस वर्ष अब तक साइबर सेल पुलिस कार्यालय रुद्रप्रयाग टीम द्वारा कुल 1984082/- (उन्नीस लाख चौरासी हजार बयासी हजार रुपए) की धनराशि आर्थिक ठगी के शिकार हुए लोगों को वापस कराई गई है। साइबर सुरक्षा टिप किसी भी प्रकार के ऑनलाइन खरीददारी इत्यादि को विश्वसनीय वेबसाइट से करें, तथा यह हमेशा यह प्रयास करें कि, कैश ऑन डिलीवरी का विकल्प रहे, ताकि किसी भी प्रकार की वित्तीय धोखाधड़ी से बचे रहे।

..........
0
1269 views    0 comment
0 Shares

पंच भैया (मोनू पुरोहित) बद्रीनाथ धाम ने चार धाम यात्रा खोलने के लिए उच्च न्यायालय वह माननीय मुख्यमंत्री जी का हार्दिक आभार व्यक्त किया, साथ ही पंच भैया ने कहा कि चारों धामों की यात्रा खुलने पर सभी लोगों में हर्ष का माहौल है ।

पंच भैया ने कहा कि चारों धामों में लोग अभी भी देवस्थानम बोर्ड का विरोध कर रहे हैं । केदारनाथ में अभी भी धरना प्रदर्शन चल रहा है, बद्रीनाथ की बात कही तो 1000 से 1200 तक ही यात्रियों को जाने की अनुमति सरकार ने दी है, किंतु माह अक्टूबर तक के ऑनलाइन बुकिंग के पास बुक हो चुके हैं, जिससे किसी भी यात्री का आपात नहीं बन रहा है और उनको अनुमति नहीं मिल रही है।

स्थानीय लोगों में नाराजगी है की पूरे भारतवर्ष के किसी भी राज्य में इस प्रकार की यात्री सीमा निर्धारित नहीं की गई है, तो उत्तराखंड में ही क्यों कुछ लोग यात्रा दर्शन करने के बाद वहीं दो-तीन दिन रुक जाते हैं।

हक हकूक धारी पंडा पुरोहित व स्थानीय लोगों का पक्ष रखते हुए पंच भैया ने कहा कि जिन लोगों को दो वैक्सीन लग चुकी हैं उसके बाद उनको RT-PCR की रिपोर्ट क्यों लानी है, ये बात कुछ गले से नही उत्तर रही है। राज्य में इतने धरना प्रदर्शन हो रहे हैं पर उनपर कोई रोक नही है, केवल चार धाम यात्रा पर ही इस तरह के नियम थोपे जा रहे है, जबकि चारधाम यात्रा से हज़ारों लोगों की रोजी रोटी चलती है ।

..........
3
1043 views    0 comment
0 Shares

देहरादून । पुष्कर सिंह धामी ने जब से मुख्यमंत्री का पद संभाला है, तब से आम जनता की समस्याओं का समाधान करने का प्रयास कर रहे हैं।

इसी कड़ी में आज मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने आईएसबीटी देहरादून का औचक निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री ने आईएसबीटी में यात्रियों के बैठने, पेयजल, स्वच्छता, शौचालय की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने परिवहन निगम के अधिकारियों को निर्देश दिए कि यात्रियों की सुविधा के दृष्टिगत सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त रखी जाए।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि एक सप्ताह के अंदर यात्रियों को बैठने के लिए बैंच की पूरी व्यवस्था की जाय। यह सुनिश्चित हो कि पेयजल आपूर्ति बाधित न हो। शौचालय में स्वच्छता का विशेष ध्यान दिया जाए।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने उत्तराखंड परिवहन निगम के काउंटर का निरीक्षण कर निर्देश दिए कि यात्रियों की सुविधा के दृष्टिगत सभी जानकारियां बोर्ड पर चस्पा की जाए। बुजुर्ग लोगों को आवागमन के लिए कोई दिक्कत न हो, काउंटर पर उनकी सहायता के लिए व्यवस्था की जाय। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने उत्तराखंड परिवहन निगम की बसों में जाकर यात्रियों से बातचीत की एवं विभिन्न व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

..........
26
1583 views    0 comment
0 Shares

रुद्रप्रयाग । उच्च न्यायालय के आदेशों के क्रम में उत्तराखण्ड शासन द्वारा जारी एसओपी तथा देवस्थानम बोर्ड द्वारा निर्धारित ई-पास के अनुरूप 18 सितम्बर, 2021 से जनपद रुद्रप्रयाग में स्थित श्री केदारनाथ धाम की यात्रा सभी श्रद्वालुओं के लिए खुल गयी है।

श्री केदारनाथ धाम हेतु एक दिवस हेतु अधिकतम 800 श्रद्वालुओं को ही दर्शन करने की अनुमति है। जनपद रुद्रप्रयाग पुलिस द्वारा निरन्तर अपील की जा रही है कि, एस0ओ0पी0 के प्रावधानों, देवस्थानम बोर्ड द्वारा किये गये ई-पास तथा उक्त ई-पास में अपलोड किये गये मूल दस्तावोजों सहित श्री केदारनाथ धाम यात्रा हेतु आयें। परन्तु कतिपय यात्री बिना ई-पास के ही श्री केदारनाथ धाम यात्रा हेतु आ रहे हैं, जिनको कि, जनपद रुद्रप्रयाग पुलिस द्वारा चेकिंग के दौरान बैरियरों से वापस किया जा रहा है।

अब तक जनपद रुद्रप्रयाग पुलिस द्वारा दिनांक 18 सितम्बर से 21 सितम्बर तक यानि कुल 4 दिनों में बिना ई-पास के 684 तथा गलत ई-पास के कुल 35 यानि कुल 719 यात्रियों को अब तक जनपद के अलग-अलग बैरियरों से वापस लौटाया गया है।

जनपद रुद्रप्रयाग पुलिस का आने वाले सभी श्रद्वालुओं से अपील है कि, उत्तराखण्ड सरकार द्वारा जारी निर्धारित एस0ओ0पी0 तथा देवस्थानम बोर्ड द्वारा निर्धारित किये गये ई-पास के अनुरूप ही श्री केदारनाथ धाम (चारधाम यात्रा) पर आयें। नियमों का पालन न करने पर आवश्यक वैधानिक कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।

..........
17
610 views    0 comment
0 Shares

देहरादून । उत्तराखंड में रोजगार की तलाश कर रहे बेरोजगार युवाओं के लिए एक अच्छी खबर है। राजधानी देहरादून में 27 सितंबर को रोजगार मेला लगने जा रहा है। इस रोजगार मेले में 16 से ज्यादा बड़ी कंपनियां आएंगी और मौके पर ही युवाओं का सिलेक्शन होगा।

कौशल विकास एवं सेवायोजन विभाग उत्तराखंड द्वारा इस बारे में प्रेस विज्ञप्ति जारी की गई है। इसमें लिखा गया है एक क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय देहरादून द्वारा परिसर में 27 सितंबर 2021 को सुबह 10:00 बजे से जनपद के बेरोजगार अभ्यर्थियों के लिए इस मेले का आयोजन किया जा रहा है। विज्ञप्ति में यहां आने वाली कंपनियों के नाम भी दिए गए हैं। कोरोनावायरस के दृष्टिगत रोजगार मेला में प्रतिभागियों की संख्या सीमित रखने हेतु इच्छुक अभ्यर्थियों का पूर्व पंजीकरण कार्यालय परिसर में  किया जाएगा और इस दौरान अभ्यर्थियों द्वारा निर्धारित प्रारूप पर फॉर्म भरा जाएगा। यह फॉर्म विभाग की वेबसाइट rojgar.uk.gov.in पर उपलब्ध रहेगा इसे डाउनलोड कर प्राप्त किया जा सकता है।

साक्षात्कार 27 सितंबर 2021 को सुबह 10:00 बजे से क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय परिसर में निर्धारित समय के अनुसार प्रारंभ होंगे। अभ्यर्थी अपने साथ अनिवार्य रूप से अपने मूल प्रमाण पत्रों और उनकी छाया प्रति इस कार्यालय में पंजीयन कार्ड पासपोर्ट साइज फोटो और आईडी प्रूफ लाना सुनिश्चित करें। मेले में प्रतिभाग करने हेतु  अभ्यर्थियों को फेस मास्क पहनना एवं सामाजिक दूरी का पालन अनिवार्य है। अधिक जानकारी के लिए आप कार्यालय के फोन नंबर 0135-2653665 पर संपर्क कर सकते हैं।

..........
33
1919 views    0 comment
0 Shares

  रुद्रप्रयाग।  आज  पुलिस और परिवहन विभाग के अधिकारियों द्वारा प्रचलित चारधाम यात्रा का सकुशल संचालन किए जाने के दृष्टिगत संयुक्त चेकिंग अभियान चलाया गया।

मोटर वाहन अधिनियम के तहत कुल 17 चालान किए गए, जिसमें निर्धारित गति सीमा से अधिक की स्पीड से चलने वाले 7 वाहनों से सम्बन्धित वाहन चालकों के डीएल सस्पेंशन की कार्यवाही की गई।
चारधाम यात्रा पर आने वाले सभी श्रद्धालुओं एवं वाहन चालकों से अनुरोध है कि, पहाड़ी मार्ग पर निर्धारित गति सीमा से कम की स्पीड में ही अपने वाहन का संचालन करें।

लगातार लंबी अवधि तक वाहन का संचालन बिल्कुल भी ना करें, विशेषकर जो वाहन चालक हो वह अपनी पर्याप्त नींद इत्यादि पूरी करें। किसी भी प्रकार के नशे के हालत में वाहन का संचालन बिल्कुल न करें।

इस संयुक्त चेकिंग अभियान में पुलिस उपाधीक्षक रुद्रप्रयाग श्री गणेश लाल कोहली, सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी श्री मोहित कोठारी, यातायात निरीक्षक श्री श्याम लाल अपने अधीनस्थ सहकर्मियों सहित उपस्थित रहे।

..........
3
168 views    0 comment
1 Shares

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि‍ आत्महत्या मामले में पहली एफआईआर प्रयागराज के जॉर्ज टाउन थाने में दर्ज की गई है।

महंत नरेंद्र गिरि‍ के शिष्य अमर गिरि‍ पवन महाराज की तरफ से दर्ज करवाई गई एफआईआर में सिर्फ उनके शिष्य आनंद गिरि‍ को नामजद आरोपी बनाया गया है।

आनंद गिरि‍ के खिलाफ आईपीसी की धारा 306 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। आनंद गिरि‍ को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप है।

पुलिस ने आनंद गिरि‍ को हरिद्वार से गिरफ्तार कर लिया है और अब उन्हें सड़क मार्ग से प्रयागराज लाया जा रहा है। उधर बड़े हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी को भी पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। एफआईआर के मुताबिक नरेंद्र गिरि सोमवार दोपहर लगभग 12:30 बजे बाघम्बरी गद्दी के कक्ष में भोजन के बाद रोज की तरह विश्राम के लिए गए थे। रोज 3 बजे दोपहर में उनके चाय का समय होता था,लेकिन चाय के लिए उन्होंने पहले मना किया था और यह कहा था जब पीना होगा तो वह स्वयं सूचित करेंगे। शाम करीब 5 बजे तक कोई सूचना न मिलने पर उन्हें फोन किया गया। लेकिन महंत नरेंद्र गिरि‍ का फोन बंद था। इसके बाद दरवाजा खटखटाया गया तो कोई आहट नहीं मिली।

इसके बाद सुमित तिवारी, सर्वेश कुमार द्विवेदी, धनंजय आदि ने धक्का देकर दरवाजा खोला। तब महाराज जी पंखे में रस्सी से लटकते हुए पाए गए। महंत नरेंद्र गिरी की मौत मामले में यह पहला कानूनी कदम है, जिसमें आनद गिरी को आरोपी बनाया गया है। अब उनकी मौत हत्या थी या आत्महत्या इसका पता पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही चलेगा. फिलहाल डॉक्टरों के पैनल द्वारा उनका पोस्टमॉर्टम करवाया जाएगा. उसके बाद उनके पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए बाघंबरी पीठ मठ में रखा जाएगा. जानकारी के मुताबिक मठ में ही नरेंद्र गिरी को भू-समाधि दी जाएगी।

..........
0
460 views    0 comment
0 Shares

हर वर्ष श्राद्ध पक्ष में आश्विन कृष्ण प्रतिपदा से लेकर आश्विन अमावस्या तक लाखों हिंदू धर्मावलंबी अपने पूर्वजों की पितृ योनि में भटकती हुई आत्मा को मुक्ति मोक्ष के लिए पिंडदान व तर्पण के लिए ब्रह्मकपाल जाया करते हैं।

मान्यता है कि विश्व में एकमात्र श्री बदरीनाथ धाम ही ऐसा है जहां ब्रह्मकपाल तीर्थ में पिंडदान के बाद पितृ मोक्ष को प्राप्त हो जाते हैं। यहां पर पितरों का उद्धार होता है। इसलिए इसे पितरों की मोक्ष प्राप्ति का सुप्रीम कोर्ट कहा जाता है।

ब्रह्मकपाल के बाद कहीं भी पिंडदान करने की आवश्यकता नहीं है। पिंडदान लिए पुष्कर, हरिद्वार, प्रयाग, काशी, गया प्रसिद्ध हैं लेकिन ब्रह्मकपाल में किया गया पिंडदान आठ गुना फलदायी है। माना जाता है कि श्राद्ध पक्ष में ब्रह्मकपाल में पितर तर्पण करने से वंश वृद्धि होती है। भू बैकुंठ बदरीनाथ धाम स्थित ब्रहमकपाल तीर्थ पर भी कोरोना की आपदा की मार श्राद्ध पक्ष में दिख रही है। बदरीनाथ के ब्रह्मकपाल तीर्थ में श्राद्ध पक्ष में पिंडदान के लिए देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी हिंदू धर्म के लोग जाते थे। श्राद्ध पक्ष से पूर्व बदरीनाथ की यात्रा सुचारु न होने के चलते इस बार श्रद्धालु पितृक्षेत्रों तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। *पुराणों में लिखा है…* ‘‘आयुः प्रजां धनं विद्यां, स्वर्गं मोक्ष सुखानि च। प्रयच्छति तथा राज्यं पितरः मोक्षतर्पिता।। मान्यता है कि जब ब्रह्मा ने अपनी पुत्री पृथ्वी पर गलत दृष्टि डाली तो, शिव ने त्रिशूल से ब्रह्मा का एक सिर धड़ से अलग कर दिया। ब्रह्मा का यह सिर शिव के त्रिशूल पर चिपक गया और उन्हें ब्रह्महत्या का पाप भी लगा था। महादेव शिव इस पाप के निवारण के लिए संपूर्ण आर्यावर्त भारत भूमि के अनेक तीर्थ स्थानों पर गये परंतु फिर भी इस जघन्य पाप से मुक्ति नहीं मिली। जब वे अपने धाम कैलास पर जा रहे थे तो बद्रीकाश्रम में अलकापुरी कुबेर नगरी से आ रही मां अलकनंदा में स्नान करके भगवान शिव बद्रीनाथ धाम की ओर बढ़ने लगे कि 200 मी. पूर्व ही एक चमत्कार हुआ। ब्रह्माजी का पांचवां सिर उनके हाथ से वहीं नीचे गिर गया। बद्रीनाथ धाम के समीप जिस स्थान पर वह सिर (कपाल) गिरा वह स्थान ब्रह्मकपाल कहलाया और भगवान देवाधिदेवमहादेव को इसी स्थान पर ब्रह्म हत्या के पाप से मुक्ति मिली।

..........
0
310 views    0 comment
0 Shares

जनपद रुद्रप्रयाग में निर्धारित समयावधि पूर्ण करने वाले 01 निरीक्षक तथा 02 उपनिरीक्षकों को आज उनके स्थानान्तरित जनपद हेतु कार्यमुक्त किया गया है।

निरीक्षक श्री होशियार सिंह पंखोली का जनपद देहरादून तथा उपनिरीक्षक मुकेश थलेड़ी एवं उपनिरीक्षक श्री विजेन्द्र सिह कुमाईं का जनपद हरिद्वार स्थानान्तरण हुआ है।

निरीक्षक, श्री होशियार सिंह पंखोली जो कि, जनपद में वर्ष 2017 से नियुक्त थे। वर्तमान समय में इनके द्वारा प्रभारी डीसीआरबी तथा प्रभारी साइबर सैल के दायित्वों का निर्वहन किया जा रहा था। इससे पूर्व ये जनपद में प्रभारी निरीक्षक, कोतवाली सोनप्रयाग, थाना प्रभारी गुप्तकाशी, थाना प्रभारी ऊखीमठ, प्रभारी निरीक्षक कोतवाली रुद्रप्रयाग तथा वाचक पुलिस अधीक्षक, के दायित्वों का निर्वहन किया गया। उपनिरीक्षक मुकेश थलेड़ी जो कि, जनपद में वर्ष 2016 से नियुक्त थे। वर्तमान समय में इनके द्वारा थानाध्यक्ष ऊखीमठ के दायित्वों का निर्वहन किया जा रहा था। इससे पूर्व ये वरिष्ठ उपनिरीक्षक कोतवाली सोनप्रयाग तथा थाना अगस्त्यमुनि पर नियुक्त रहे।।
उपनिरीक्षक श्री विजेन्द्र सिंह कुमाईं, जो कि, जनपद में वर्ष 2016 से नियुक्त थे। वर्तमान समय में इनके द्वारा वरिष्ठ उपनिरीक्षक, कोतवाली रुद्रप्रयाग के दायित्वों का निर्वहन किया जा रहा था। इससे पूर्व ये जनपद की चौकी गौरीकुण्ड, थाना गुप्तकाशी एवं चौकी श्री केदारनाथ में नियुक्त रहे। जनपद रुद्रप्रयाग पुलिस परिवार स्थानान्तरित इन पुलिस कार्मिकों को नव नियुक्त जनपद हेतु अपनी शुभकामनायें प्रेषित करता है।

..........
1
1447 views    0 comment
0 Shares

पिथौरागढ़।   गुलदार ने पूरे उत्तराखंड में आतंक मचा रखा है। हर दिन आम लोगों के साथ कुछ न कुछ घटित हो रहा है। ऐसे ही गुलदार के हमले का एक मामला पिथौरागढ़ से सामने आया है। जहां गुलदार ने एक 8 साल की बच्ची को अपना निवाला बना दिया। घटना रविवार रात की बताई जा रही है। पिथौरागढ के पाटा बजेटी इलाके में गुलदार एक मासूम को उठा ले गया।

रातभर की तलाश के बाद ग्रामीणों ने बालिका के शव को दो किमी. दूर झाड़ियों से बरामद किया। हमले के वक्त आठ वर्षीय मानसी घर के अंदर थी। गुलदार ने घात लगाकर उसपर हमला किया और उसे उठा ले गया। इस दौरान मानसी के भाई ने शोर मचाया तो आसपास के लोग जुट गए।

लोगों ने रातभर आसपास के इलाके में छानबीन की। तब करीब तीन-चार बजे के बीच बच्ची का शव दूर झाड़ियों में मिला। गुलदार के हमले के बाद से क्षेत्र में खासी दहशत है।
।बताया जा रहा है कि तहसीलदार और रेंजर भी सुबह मौके पर पहुंच गए। लोगों ने क्षेत्र में पिंजरा लगाने की मांग की है ।

..........
21
736 views    0 comment
0 Shares

पौड़ी गढ़वाल। थाना क्षेत्र पैठाणी के खंडखिल गांव में शनिवार 18 सितंबर को फांसी के फन्दे पर झूलती हुई मृत हालत में मिली महिला का हत्यारा उसका ही पति निकला। उसने पुलिस के सामने अपना जुर्म कबूल किया है। पुलिस ने अभियुक्त को 12 घंटे में धर दबोचा।

थाना प्रभारी पैठाणी प्रताप सिंह के अनुसार शनिवार 18 सितंबर को राजस्व उप निरीक्षक सुनील सिंह ने सूचना दी कि ग्राम खण्डखिल में पुष्कर सिंह रावत की पत्नी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। सूचना पर वह मय पुलिस टीम के साथ तत्काल मौके पर गए । घटना स्थल का निरीक्षण कर घटना के पाया कि *मृतका के गले पर फंदे का निशान पड़ा है एवं शरीर के अन्य हिस्से में कोई चोट के निशान नहीं थे।

पुलिस के अनुसार रात्रि का वक्त होने की वजह से शव के पंचायतनामें की कार्यवाही नही हो पायी। अगले दिन सुबह फोरेन्सिक टीम को मौके पर बुलाकर आवश्यक कार्यवाही कर शव को पंचायतनामा करने के लिए जिला चिकित्सालय पौड़ी भेजा गया।।

इसी बीच रविवार को विनोद सिंह चौहान पुत्र स्व श्री मंगशीर सिंह चौहान निवासी ग्राम क्वीली, पट्टी बच्छण्स्यूँ जनपद रूद्रप्रयाग (मृतक महिला के भाई) ने थाना पैठाणी पर प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करायी कि उसकी बहन ने आत्महत्या नही की है बल्कि उसके पति पुष्कर सिंह रावत ने चुन्नी से गला घोंटकर हत्या की है।

प्रथम सूचना रिपोर्ट के आधार पर थाना पैठाणी पर मुअसं0-19/2021, धारा 302 भादवि बनाम पुष्कर सिंह पंजीकृत किया गया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, पौड़ी गढ़वाल कुमारी पी रेणुका देवी द्वारा उक्त ह्त्या की घटना को गम्भीरता से लेते हुये अभियोग के सफल निस्तारण करने व अभियुक्त की शीघ्र गिरफ्तारी के निर्देश दिए गए।

अपर पुलिस अधीक्षक, कोटद्वार श्रीमती मनीषा जोशी , क्षेत्राधिकारी सदर पौड़ी प्रेमलाल टम्टा , थानाध्यक्ष प्रताप सिंह के नेतृत्व में उनि ओमप्रकाश मय पुलिस टीम का गठन किया गया।

अभियोग में संलिप्त अभियुक्त पुष्कर सिंह रावत मैलसैण तिराहे के पास से गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जा रहा है। अभियुक्त के अन्य आपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है।

..........
26
363 views    0 comment
0 Shares

उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस की गढ़वाल मण्डल की मीडिया प्रभारी गरिमा महरा दसौनी ने सोमवार को प्रदेश मुख्यालय में पत्रकारों से मुखातिब होते हुए केजरीवाल के हल्द्वानी दौरे के दौरान उत्तराखण्ड के युवाओं से रोजगार के सम्बन्ध में किये गये वादे छलावा और राजनीति से प्रेरित बताया। 


दसौनी ने बताया कि केजरीवाल पिछले सात सालों से दिल्ली की सत्ता सम्हाल रहे फिर भी दिल्ली उच्च बेरोजगारी से जूझ रही है।


 दसौनी ने कहा कि मई 2021 में, दिल्ली में बेरोजगारी दर 45.6 प्रतिशत तक पहुंच गई, जो देश में सबसे अधिक है। तकनीकी रूप से, मई में हर दूसरा नौकरी तलाशने वाला व्यक्ति बेरोजगार था। दसौनी ने कहा कि इसे विडंबना ही कहा जा सकता है कि राजधानी में युवा बेरोजगारी खतरनाक स्तर पर पहुंच गई है।


 दसौनी ने पत्रकारों के समक्ष आंकडे रखते हुए कहा कि जनवरी-अप्रैल 2021 की अवधि में, 15-19 आयु वर्ग के लिए बेरोजगारी दर 50 प्रतिशत थी, 20-24 आयु वर्ग के लिए 49 प्रतिशत थी, और 25-29 आयु वर्ग के लिए 24/54 प्रतिशत थी। बेरोजगारी के मामले में दिल्ली में महिलाओं की स्थिति और भी बदतर है जो कि 67.7 प्रतिशत (आयु वर्ग 20- 24) आंकी गयी है। 


दसौनी ने कहा कि आम आदमी पार्टी झूठे वादे करने में माहिर है। 2015 में, आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में लोगों के लिए 8 लाख नौकरियों का वादा किया था। यह वादा पूरा नहीं हुआ व दिल्ली में उच्च बेरोजगारी साबित करती है कि कैसे आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के युवाओं के साथ छलावा किया है।


 दसौनी ने बताया कि नौकरियां पैदा करने में अपनी विफलता को महसूस करते हुए, आम आदमी पार्टी के 2020 के घोषणापत्र में दिल्ली में नौकरियों के लिए कोई वादा नहीं किया गया। दसौनी ने बताया कि दिल्ली सरकार ने स्कूलों में रिक्त शिक्षक पदों को तक नहीं भरा है पिछले साल सितंबर में दिल्ली में करीब 11 फीसदी शिक्षक पद खाली थे। 


<