logo
logo
(Trust Registration No. 393)
aima profilepic
Abhishek Jaiswal
Electronic media

बाबा विश्वनाथ धाम लोकार्पण के लिए काशी आए पीएम नरेंद्र मोदी 30 घंटे के प्रवास के बाद मंगलवार की शाम दिल्ली लौट गए। अब 23 दिसंबर को उनका फिर काशी आगमन होगा। इस दौरान वह काशी को 1500 करोड़ की परियोजनाओं की सौगात देंगे। इसमें छह वार्डों के सुंदरीकरण, फोरलेन सड़कों के शिलान्यास सहित कई अन्य परियोजनाएं शामिल हैं। बुधवार को पीएमओ इसकी समीक्षा करेगा।

सोमवार को काशी आए पीएम ने अपने प्रवास के दौरान काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण किया था। देश के 12 राज्यों के सीएम के साथ गंगा घाटों की सुंदरता देखी। गंगा आरती में शामिल हुए। मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर उन्हें काशी के विकास मॉडल अपनाने के लिए प्रेरित किया। मंगलवार को वह स्वर्वेद महामंदिर के वार्षिकोत्सव में शामिल हुए। इसके बाद देर शाम वह दिल्ली लौट गए।

अब 23 दिसंबर को उनका दोबारा आगमन होगा। इस दौरान वह खिड़किया घाट में छह वार्डों के सुंदरीकरण कार्य, बेनियाबाग में मल्टी लेवल पार्किंग सहित 800 करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण करेंगे। इसके अलावा मोहनसराय-लहरतारा व चांदपुर फोरलेन सहित 700 करोड़ की परियोजना का शिलान्यास करेंगे।
प्रधानमंत्री कार्यालय से बुधवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए तैयारियों की समीक्षा की जाएगी। जिला प्रशासन के अफसर उन्हें प्रस्तुति देंगे। पीएमओ के सुझाव के बाद तैयारियों को अंतिम रुप दिया जाएगा।
16 दिसंबर को किसानों संग पीएम करेंगे वर्चुअल संवाद
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 दिसंबर को जैविक और गो आधारित प्राकृतिक खेती(जीरो बजट खेती) पर किसानों से वर्चुअल संवाद करेंगे। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश मंत्री और कार्यक्रम संयोजिका मीना चौबे के अनुसार 16 दिसंबर को सुबह 11 बजे प्रदेश के सभी ब्लॉक और कृषि कल्याण केंद्रों पर किसानों के साथ संवाद करेंगे। पीएम मोदी वर्चुअल माध्यम से इस कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। जिले में यह आयोजन गिरिजा देवी सांस्कृतिक संकुल में होना है, इसमें 800 किसान शामिल होंगे।

..........
0
15 views    0 comment
0 Shares

 बनारस में  महापौर सम्मेलन 17 दिसम्बर को

 वाराणसी। श्रीकाशी विश्वनाथ धाम यात्रा के तहत 17 दिसंबर को बनारस में महापौर सम्मेलन आयोजित होने जा रहा है। प्रदेश के नगर विकास विभाग की ओर से न्यू अर्बन इंडिया थीम पर अखिल भारतीय महापौर सम्मेलन होगा। इसका शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे। वे वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यक्रम में जुड़ेंगे।

सम्मेलन में शामिल होने के लिए सवा दौ सौ शहरों के महापौर को निमंत्रण भेजा गया है। अब तक सवा सौ शहरों के महापौर ने आने की सहमति जताई है। नगर निगम वाराणसी आयोजन की जिम्मेदारी संभाल रहा है। बड़ालालपुर स्थित पं. हस्तकला संकुल में आयोजन किया जाएगा। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री आवासन और शहरी कार्य व पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय हरदीप सिंह पुरी, नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन के अलावा अध्यक्ष अखिल भारतीय मेयर काउंसिल नवीन जैन उपस्थित रहेंगे।


 उत्तर प्रदेश की अमृत नगर पालिकाओं के अध्यक्षगण, स्थानीय जन प्रतिनिधिगण व सम्मानित प्रबुद्धगण तथा विभिन्न योजनाओं के लाभार्थीगण भी प्रतिभाग करेंगे। देश के 4800 स्थानीय निकायों के अध्यक्षगण, पार्षदगण व अधिकारीगण भी वर्चुअल माध्यम से जुड़ेंगे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उद्बोधन सुनेंगे।

..........
0
248 views    0 comment
0 Shares

तमिलानडु के हादसे में जनरल बिपिन रावत का असामयिक निधन हो गया। हादसे की तमाम खबरों के बीच सारे देश की निगाहें नीलगिरि पर्वत की उसी शिरा पर टिकी रही, जहां आखिरी बार जनरल रावत के चॉपर को उड़ते देखा गया। शाम के वक्त आई उनके जाने की तस्वीरों से देश का हर वो इंसान मर्माहत है, जिन्होंने उनके राष्ट्र समर्पण की कहानी सुनी थी।

गढ़वाल के एक सामान्य गांव से निकलकर रायसीना के सबसे ऊंचे सैन्य ओहदे तक पहुंचे जनरल रावत उस विभूति पुरुष की तरह जाने जाएंगे, जिन्होंने भारत की सेनाओं को सशक्त करने, समन्वयित करने और देश की रक्षा के कर्तव्यों को पूरी निष्ठा से निभाने को जीवन दे दिया।

..........
0
468 views    0 comment
0 Shares

0
82 views    0 comment
0 Shares

0
243 views    0 comment
1 Shares

वाराणसी। बनारस में सभी कोरोना पॉजिटिव मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। यह काशीवासियों के लिए सबसे बड़ी राहत की खबर है। रविवार को मिली रिपोर्ट के अनुसार कोई नया संक्रमित मरीज नहीं मिला है। वहीं एक मात्र संक्रमित मरीज भी स्वस्थ हो गया है। जिले में अब एक भी सक्रिय कोरोना मरीज नही है। रविवार को जांच के लिए कुल 3538 सैंपल गए थे। सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं अभी भी 1648 सैंपल की रिपोर्ट आना बाकी है।

रविवार को 2962 कलेक्ट किये गए हैं। वाराणसी में अब तक कुल 82396 कोविड पॉजिटिव मरीज मिल चुके हैं, जिसमें से 81623 मरीज स्वस्थ भी हो गए। वहीं जिले के 773 लोगों को इस महामारी ने जान ले ली।
   जिले में अब तक कुल 1880208 कोविड के सैंपल्स कलेक्ट किये जा चुके हैं। सीएमओ डॉ वीबी सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री की प्रेरणा से 16 जनवरी से शुरू हुए पूरी दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीनशन प्रोग्राम की देन है कि बनारस में कोई भी मरीज नही है। लाखों लोगों का वाराणासी में वैक्सीनशन हो चुका है, जो अभी भी लगातार जारी है, लेकिन सीएमओ ने आगाह करते हुए कहा कि भले ही वाराणसी में अब एक भी कोविड मरीज नहीं है, पर इसका मतलब ये नहीं के खतरा खत्म हो गया। हमे थर्ड वेव को ध्यान में रखते हुए कोविड गाइडलाइन का सख्ती से पालन करना है और आशंकित थर्ड वेव से बच्चों को और स्वयं को बचाना है।

..........
0
347 views    0 comment
0 Shares

वाराणसी। नगर निगम वाराणसी द्वारा 2 अक्टूबर गांधी जयंती के उपलक्ष्य में एक स्वच्छता जन जागरूकता रैली निकाली गयी।

इस रैली में महापौर मृदुला जायसवाल, नगर आयुक्त प्रणय सिंह, सभी पार्षदगण, भाजपा जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा, तथा नगर निगम के सभी कर्मचारी और आम जनता मौजूद रही।

इस रैली में सभी ने आम जनता को स्वच्छता पर ज़ोर देने के लिए जागरूक किया। रैली नगर निगम से होते हुए महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के प्रशासनिक भवन के सामने बने गांधी स्तम्भ पर पहुंचकर समाप्त हुई।

यहाँ महापौर, नगर आयुक्त, जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा ने महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किया और उन्हें नमन किया। इसके अलावा काशी विद्यापीठ के होनहार छात्र और पूर्व प्रधानमंत्री रहे लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा पर भी पुष्प अर्पित किया।

इस दौरान महापौर मृदुला जायसवाल ने उपस्थित लोगों को स्वच्छता की शपथ दिलाई और उनसे अपने शहर को स्वच्छ रखने में योगदान देने की अपील की।

इस दौरान उन्होंने कहा कि गांधी जी के स्वच्छता के सपने को हमारे प्रधानमंत्री आगे बढ़ा रहे हैं। ऐसे में हम सभी का कर्तव्य है कि इस स्वच्छता के कार्यक्रम में योगदान दें और शहर को स्वच्छ रखें।

महापौर मृदुला जायसवाल ने कहा कि साफ़-सफाई की ज़िम्मेदारी सर नगर निगम की नहीं है बल्कि हर नागरिक की ज़िम्मेदारी है कि उसका मोहल्ला, उसका शहर साफ़-सुथरा और स्वच्छ रहे। आज गांधी जी की जयंती पर सबहि लोग संकल्प लें की वो अपने शहर को स्वच्छ कर स्वच्छता रैंकिंग में प्रथम स्थान दिलाने का कार्य करेंगे।

..........
3
71 views    0 comment
0 Shares

वाराणसी। अस्सी घाट पर भारतीय जनता पार्टी महामना मंडल के द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जन्म जयंती मनायी गयी। इस दौरान नमामि गंगे की टीम भी उपस्थित रही। भारतीय जनता पार्टी काशी क्षेत्र के अध्यक्ष महेश चंद श्रीवास्तव ने के नेतृत्व में सर्वप्रथम महात्मा गांधी व लाल बहादुर शास्त्री के तैल चित्र पर माल्यार्पण व पुष्पांजलि अर्पित किया। इस दौरान काशी क्षेत्र अध्यक्ष महेश चंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि हम सभी लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा बताए गए स्वच्छता अभियान को आगे बढ़ाना है। आज काशी क्षेत्र में साफ सफाई दिख रही है। विकास कार्य में काफी तेजी के साथ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज पूरे देश में भारतीय जनता पार्टी क्लीन इंडिया का एक मुहिम शुरू किया है जो विभिन्न जगहों पर किया जा रहा है या लगातार चलेगा। उन्होंने आगे कहा कि पूरे विश्व में भारत की पहचान बदल रही है आज स्वच्छ भारत के नाम से जाना जा रहा है यहां के 125 करोड़ जनता स्वयं सख्त रहती है और स्वस्थ रहने का काम करती है आज मां गंगा की स्वच्छता अपने भाई बहनों के साथ किया जा रहा है। जो प्रतिदिन बनारस जैसे बड़े शहर को साफ रखने का काम करती हैं उनका आज पैर धूलाकर उन्हें सम्मानित किया जा रहा है। इस दौरान महेश चंद श्रीवास्तव द्वारा साफ सफाई करने वाले कर्मियों का गंगाजल से पैर पखारने के बाद उन्हें सम्मानित भी किया गया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से किशोर न्याय बोर्ड कमेटी सदस्य एवं प्रदेश सह संयोजक बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कि रीता जायसवाल, महामना मंडल अध्यक्ष जगरनाथ ओझा, मंडल महामंत्री अनुराग शर्मा, मीडिया प्रभारी जय जयसवाल बागड़ा, पार्षद राकेश जायसवाल, विश्वनाथ दुबे, सोनू सहित काफी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

..........
1
337 views    0 comment
0 Shares

1
186 views    0 comment
0 Shares

वाराणसी। पुलिस मुख्यालय उत्तर प्रदेश के अवनि सभागार में शनिवार को गांधी जयंती के अवसर पर पुलिस अलंकरण समारोह का आयोजन हुआ। इस आयोजन के मुख्य अतिथि रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। मुख्यमंत्री ने इस समारोह में 75 पुलिसकर्मियों को अलंकृत किया, जिसमे 5 पुलिसकर्मियों को मुख्यमंत्री का उत्कृष्ट सेवा पुलिस पदक भी दिया गया ।

15 अगस्त 2021 को मुख्यमंत्री का उत्कृष्ट सेवा पुलिस पदक की हुई घोषणा में अपर पुलिस महानिदेशक वाराणसी जोन बृजभूषण का भी नाम शामिल था, जिन्हे आज मुख्यमंत्री ने लखनऊ में पदक से अलंकृत किया।

बता दें कि एडीजी बृजभूषण जून 2019 से वाराणसी ज़ोन के एडीजी पद पर तैनात हैं। मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा पुलिस पदक नियमावली के अंतर्गत स्वतंत्रता दिवस 2021 के अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा पांच पुलिस अधिकारियों/कार्मिकों को इस वर्ष का मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा पुलिस पदक प्रदान किये जाने का निर्णय लिया गया था।


इसमें सम्मान पाने वाले अधिकारियों में अपर पुलिस महानिदेशक वाराणसी ज़ोन बृजभूषण, लखनऊ की पुलिस महानिरीक्षक लक्ष्मी सिंह, मुरादाबाद में कोतवाली नगर की पुलिस उपाधीक्षक इंदु सिद्धार्थ, एटीएस के निरीक्षक चैंपियन लाल और गौतमबुद्धनगर में एसटीएफ के आरक्षी ऋतुल कुमार वर्मा शामिल हैं। 1991 बैच के आईपीएस है बृजभूषण एडीजी जोन बृजभूषण 1991 बैच के आईपीएस है। बनारस शहर उनके लिए नया नहीं है। बनारस में 2005 में एसएसपी रह चुके हैं और यहां के आईजी पद भी कार्य किये हैं। मथुरा के मूल निवासी बृजभूषण ने मोतीलाल नेहरू से आईआईटी व आईआईटी दिल्ली से एमटेक भी किया है। लगभग साढ़े तीन साल रेलवे में इंजीनियर की नौकरी करने के बाद उनका सलेक्शन आईपीएस में हुआ था। 14 जिलो के एसएसपी, विभिन्न जिलों में डीआईजी व आईजी पद पर भी कार्य किया था। बनारस के एडीजी बनने से पहले बृजभूषण एडीजी (सतर्कता) के पद पर तैनात थे।

..........
1
1307 views    0 comment
0 Shares

वाराणसी। पेट्रो मूल्य वृद्ध की आंच अब बनारस में भी पहुँच गयी है। काफी दिनों से 99 और 98 रुपये के बीच अटका पेट्रोल का दाम शुक्रवार रात 12 बजे से 100 रुपये 10 पैसा प्रति लीटर हो गया।

इस बात की जानकारी पेट्रोल पंप पहुंचे लोगों को हुई तो उन्होंने कुछ देर पेट्रोल पंप पर खड़े पट्रोल पंप कर्मियों से बहस भी की पर उनकी एक ना चली। इस वृद्धि के खिलाफ सभी ने अपना रोष व्यक्त किया।

कैंट रेलवे स्टेशन के सामने स्थित मुसाराम भगवान् दास पेट्रोल पम्प के मैनेजर विनीत मालवीय ने बताया कि पेट्रोल का रेट सरकार द्वारा बढ़ता है और अपने आप ही हमारी मशीन में आटोमैटिक फीड हो जाता है बढ़ के, पिछले कई दिनों से 99 रुपये 19 पैसे में पेट्रोल बिक रहा था पर तीन चार दिन से पेट्रोल का दाम बढ़ रहा था।

बीती रात 12 बजे से पेट्रोल का दाम 100 रुपये 10 पैसे हो गया है। ग्राहक पेट्रोल पंप पर आ रहे हैं तो कुछ बहस भी कर रहे हैं पर सरकार का बढ़ाया दाम है हम क्या कर सकते हैं उसमे।

विनीत मालवीय ने बताया कि आज से 40-42 साल पहले जब हमने साल 1979 में यहां जॉब शुरू की थी तो उस समय एक लीटर पेट्रोल की कीमत 8 रुपये 88 पैसे थी। वहीं पेट्रोल भरवा रहे चारु ने बताया कि सरकार रोज़ाना दाम बढ़ा रही है पर क्या किया जाए भरवाना तो पडेगा ही। इसलिए भरवा रहे हैं, लेकिन अब सरकार को बदलना पड़ेगा शायद तभी महंगाई ख़त्म होगी।वहीँ सिविल सर्विसेज़ की तैयारी कर रहे विवेक सिंह ने बताया कि सरकार ने इतना ज़्यादा टैक्स बढ़ा दिया है कि तेल का दाम आसमान छू रहा है। नेपाल में बहुत सस्ता है तेल क्योंकि वहां टैक्स में काफी रियायत है पर हमारे यहाँ केंद्र के साथ ही साथ राज्य सरकारें भी टैक्स लेती हैं जिससे तेल का दाम आसमान छू रहा है पेट्रोल पम्प पर पेट्रोल भर रहे पिंटू गुप्ता ने बताया कि वाहन चालकों को बताना पड़ रहा है कि तेल महंगा हो गया है। उन्हें ज़ीरो मशीन में दिखाना पड़ रहा है। उसके बावजूद वो झगड़ा कर रहे हैं कि आप लोग तेल कम भर रहे हैं।

..........
1
939 views    0 comment
0 Shares

वाराणसी। शहर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की स्मृतियों को समेटे बेनियाबाग स्थित गांधी चौरा को विकास के बुल्डोजर ने ढहा दिया है।

आने वाले समय में शहर के मध्य स्थित इस विशाल मैदान में लोगों को चमकता हुआ मल्टीप्लेक्स दिखेगा लेकिन गुलामी की टीस से लोगों को निजात दिलाने वाले इस जननायक की स्मृति को संजोए रखने वाला स्मृति स्थल नहीं दिखेगा।

अगर कभी बात चली तो लोग हैरत से कहेंगे क्या महात्मा से जुड़ी कोई निशानी यहां थी कभी? उन्हें कोई नहीं बतायेगा कि एक सिरफिरे अतिवादी गोडसे द्वारा महात्मा की हत्या के बाद उनके अस्थियों को जनता दर्शन के लिए इसी बेनियाबाग में रखा गया था जहां से लोगों के दर्शन के बाद अस्थियों को गंगा में ले जाकर प्रवाहित किया गया था। बाद में यहां गांधी चौरा का निर्माण किया गया।

स्वतंत्र भारत के पहले गवर्नर जनरल राजगोपालाचारी के हाथों इस चौरा की नींव रखी गई थी। शहर के जाने-माने गांधीवादी प्रोफेसर स्वर्गीय गौरीशंकर दुबे ने बताया था कि कभी यहां 2अक्टूबर पर स्वदेशी मेला का आयोजन किया जाता था। दिन भर रामधुन गायी जाती थी।

पिछले तीन दशक से मैंने इस चौरे की बदहाली और वीरानी देखी और फिर विकास के बुल्डोजर से जमींदोज होते देखा। जिनके लिए गांधी कोई मायने नहीं रखते उनकी तो मन की मुराद पूरी हो गई लेकिन जो गांधी के नाम पर कस्में खाकर उनके बताए रास्तों पर चलने का दम भरते थे वो गांधी चौरा की बदहाली पर भी खामोश बने रहे और गांधी चौरा के जमींदोज होने पर भी गूंगे बने हैं। विद्या और बुद्धिजीवियों के इस शहर में किसी एक ने भी इस पर सवाल नहीं उठाया और न ही विरोध के रास्ते को पकड़ा। महात्मा अपने जीवन काल में शायद दो बार बनारस आए थे। विद्यापीठ में आज भी उनकी स्मृतियां मौजूद हैं लेकिन मृत्यु के बाद उनकी अस्थियों को रखने की जगह बना गांधी चौरा आज बनारस के नक्शे से गायब है।

गांधी जी के नाम पर देश भर में चलाए जा रहे स्वच्छ भारत मिशन के तहत बनारस में गांधी स्मृति स्थल को ही साफ कर दिया है। हैरत की बात तो यह है कि स्थानीय प्रशासन भी इस बारे में मौन है। समय और समाज का ये अनोखा स्वरुप है जहां हत्यारे को महिमा मंडित करने की रवायत बनाने की कोशिशें जारी हैं। मौजूदा हालात पर गांधी जी के अंतिम शब्द ही कहा जा सकता है और वो है….हे राम!

..........
4
1092 views    0 comment
2 Shares

वाराणसी। 2022 यूपी विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा पूरी तैयारी के साथ जनता के बीच जा रही है। भाजपा सरकार अपने साढ़े चार साल की उपलब्धियों की रिपोर्ट कार्ड जनता के सामने पेश कर रही है।

इसी क्रम में शुक्रवार को पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी ने अपने दक्षिणी विधानसभा क्षेत्र  में हुए विकास कार्यों की रिपोर्ट कार्ड जनता के सामने रखी और कहा कि काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर विधानसभा क्षेत्र की सबसे बड़ी उपलब्धि है।

मैदागिन स्थित पराड़कर भवन में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में मंत्री नीलकंठ तिवारी ने बताया कि रोप वे परियोजना भी प्रस्तावित है, जिसपर काम चल रहा है।

पीएम मोदी और सीएम योगी के मार्ग दर्शन में कज्जाकपुरा ओवरब्रिज, बेनियापार्किंग, टाउनहॉल पार्किंग ये सभी विकास कार्य दक्षिणी विधान सभा में हुए हैं और हो भी रहे हैं।

मंत्री ने बताया कि 17 करोड़ रुपये की लागत से कैंट स्टेशन से पड़ाव तक की सड़क को सिक्स लेन बनाया जा रहा है। गोलगड्डा के पहले तक कार्य पूरा भी हो चुका है। आगे का कार्य भी चल रहा है। कज्जाकपुरा ओवरब्रीच को छोड़कर के पड़ाव तक उस कार्य को महीने भर में पूरा कर लिया जाएगा और लोगों को एक सुंदर स्वरुप देखने को मिलेगा। इसके अलावा दक्षिणी विधान सभा क्षेत्र  के गढ़वासीटोला वार्ड में मणिकर्णिकाघाट स्थित प्रख्यात संत सतुआ बाबा की सिद्धस्थली में पर्यटन विकास और सौन्दर्यीकरण का कार्य, श्री दुर्गा मंदिर के प्रवेश द्वार व प्रांगण क्षेत्र मे सोलर हाई मास्ट अधिष्ठापित किया गया।

दशाश्वमेध घाट पर दशकों से अर्ध निर्मित बीडीए कांप्लेक्स का भाग गंदगी का ढेर बना हुआ था साथ ही साथ अव्यवस्थित मछली मार्केट भी यहां पर था, पीएम मोदी के मार्गदर्शन में इसे पूरा करने के लिए निर्माण कार्य चल रहाहै और अपनी पूर्णता की ओर अग्रसर है।

साथ ही साथ मछली मार्केट के व्यापारियों को अच्छी दुकानें दे कर के दूसरे जगह बसाने का काम भी किया जा रहा है।गौदोलिया से मैदागिन तक की सड़क को एक नई तकनीक से बनाया जा रहा है, जो दशकों तक सड़की की समस्या को समाप्त कर देगा। साथ ही लहुराबीर से राजघाट, लहुराबीर से गिरजाघर इस सड़क का भी नई तकनीक से निर्माण प्रस्तावित है जो शाही नाले के कार्य की पूर्णता के बाद अमल में लाया जाएगा। गोदौलिया चौराहे से दशाश्वमेध की ओर जाने वाली मार्ग पर नये गेट का निर्माण व काशी विश्वनाथ गली के पूर्व निर्मित प्रवेश द्वार का जीर्णोद्धार कार्य भी हुआ है। इसके अलावा दुर्गाकुंड, पितृकुंड, मातृकुंड, पिशाचमोचन, ईश्वरगंगी कुंड, लाट भैरव कुंड, मंदाकिनी कुंड, मछोदरी कुंड का सुंदरीकरण हो चुका है और धनेश कुंड का सुंदरीकरण प्रस्तावित है।

शहर के मध्य में महर्षि व्यास से जुड़ा हुआ कर्णघंटा कुंड जो लुप्त सा हो रहा था आज सुंदरीकरण के बाद अत्यंत सुंदर स्वरुप में लोगों के लिए उपलब्ध है।

..........
4
929 views    0 comment
0 Shares

वाराणसी। फूलपुर थाना क्षेत्र के पिंडरा स्थित नेशनल इंटर कॉलेज के सामने बाजार से मछली बेच कर घर जा रहे स्थानीय निवासी 24 वर्षीय युवक अरविंद राजभर की बस की चपेट में आने से घटनास्थल पर हुई मौत हो गई। इससे नाराज ग्रामीणों ने चक्का जाम कर दिया।

जानकारी के मुताबिक, बाबतपुर से जौनपुर की तरफ आ रही प्राइवेट बस की जोरदार टक्कर से अरविंद की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। घटनास्थल पर पहुंची पुलिस को देखते ही लोगों ने चक्का जाम कर दिया और पुलिस को दौड़ा लिया।

काफी जद्दोजहद के बाद पुलिस 108 एंबुलेंस से शव को थाने ले आई और चक्का जाम को समाप्त कराया, जबकि दुर्घटना के बाद भाग रही बस को जौनपुर के जलालपुर पुलिस ने पकड़ लिया है और बस चालक को हिरासत में ले लिया।

..........
0
966 views    0 comment
0 Shares

वाराणसी। पूरे शहर में वाराणसी पुलिस, नगर निगम और पीडब्‍ल्‍यूडी संयुक्त रूप से अतिक्रमण के खि‍लाफ अभियान चला रहा है। इस अभियान में अतिक्रमण करने वालों को दोबारा अतिक्रमण करने पर FIR की चेतावनी भी दी जा रही है।

इसी क्रम में शुक्रवार को पुलिस और नगर निगम के दस्ते ने लंका से मालवीय चौराहा और नारिया मार्ग पर सड़क किनारे अतिक्रमण हटवाया। इस दौरान सड़क की पटरी पर खड़ी एम्बुलेंस और ऑटो चालकों को भी वहां से हटाते हुए दोबारा न खड़ा करने की सख्त हिदायत दी।

इस पूरी कार्रवाई के दौरान एडीसीपी काशी, एसीपी भेलूपुर प्रवीण कुमार सिंह तथा एसीएम प्रथम ने किया। कार्रवाई के दौरान नगर निगम भेलूपुर के जोनल अधिकारी जगदीश यादव नगर निगम प्रवर्तन दल के साथ इंस्पेक्टर लंका महेश पांडेय पीएसी और पुलिस के साथ रहे। लंका चौराहे पर अक्सर और बेश्तर जाम की समस्या बनी रहती है। यहां सड़क की पटरी पर चारों तरफ ठेला-खेमचा, गाड़ियां, एम्बुलेंस और ऑटो रिक्शा खड़े दिखाई देते हैं।

शुक्रवार को इन्हे हटाने के लिए वाराणसी कमिश्नरेट पुलिस और नगर निगम ने बड़ा अभियान चलाया, जैसे ही नगर निगम का बुलडोज़र गरजना शुरू हुआ तो अतिक्रमणकारियों में खलबली मच गयी। दुकानों के बाहर स्थित पटरियों पर दुकान लगाने वालों में खलबली मच गयी और सभी अपना सामान समेट के भागते नज़र आये। नगर निगम के प्रवर्तन दल ने बीएचयू की दीवार से लगायत नाले पर लगायी गयी दुकानों को हटाने के साथ ही साथ ठेले और खेमचे को नगर निगम भेजा। इसके अलावा मेडिकल स्टोरों के सामने बेतरतीब खड़ी मोटरसाइकिलों का चालान भी काटा गया।

इस दौरान लंका एसओ ने दुकानदारों को हिदायत दी कि यदि दुबारा उनकी दुकान के सामने बाइक पार्क हुई तो उनके ऊपर भी कार्रवाई होगीइस दौरान नगर निगम के दस्ते ने लंका माधव मार्केट मोड़ के समीप जेसीबी ने दुकानों के सामने पटरी पर लगाये गए टीनशेड को ध्वस्त कर दिया। दुकानों के सामने पटरी पर बनी अस्थाई भठ्ठियों को तोड़ दिया गया। वी टू माल के सामने एम्ब्रोशिया अपार्टमेंट की तरफ पटरी पर बनाये गए अस्थाई कमरा जिसमें फास्ट फ़ूड की दुकान चलती थी को तोड़कर हटा दिया।

..........
1
2053 views    0 comment
0 Shares

वाराणसी। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में स्वच्छता अभियान ग्रीन परिसर- क्लीन परिसर का शुक्रवार को शुभारम्भ हुआ। इस कार्यक्रम का शुभारम्भ वाराणसी की प्रथम महिला और महापौर मृदुला जायसवाल ने किया।

इस दौरान उन्होंने विश्वविद्यालय के कुलपर संग परिसर में झाड़ू भी लगाया। इसके बाद उन्होंने परिसर में पौधारोपण कर स्वच्छ वातावरण का सन्देश दिया। इस मौके पर महापौर मृदुला जायसवाल ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गांधी जी की प्रेरणा से स्वच्छता अभियान का वाराणसी से साल 2014 में शुभारम्भ किया था। यह अभियान अब विश्व पटल पर सराहा जा रहा है।

उन्होंने छात्रों का आह्वान करते हुए कहा कि महात्मा गांधी और लाला बहादुर शास्त्री की जयंती के एक दिन पूर्व शुरू हुए इस ग्रीन परिसर- क्लीन परिसर अभियान में छात्र जुड़ें और परिसर को स्वेच्छा बनाये रखने में योगदान देंइसके पहले महापौर ने महात्मा गाँधी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किया।

इस अभियान के तहत कुलपति, महापौर और अन्य अधिकारियों एवं प्रोफेसर्स ने विश्वविद्यालय परिसर में झाड़ू लगाया और परिसर में पौधा रोपण भी किया।

..........
10
2097 views    0 comment
0 Shares

वाराणसी। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में स्वच्छता अभियान ग्रीन परिसर- क्लीन परिसर का शुक्रवार को शुभारम्भ हुआ।

इस कार्यक्रम का शुभारम्भ वाराणसी की प्रथम महिला और महापौर मृदुला जायसवाल ने किया। इस दौरान उन्होंने विश्वविद्यालय के कुलपर संग परिसर में झाड़ू भी लगाया। इसके बाद उन्होंने परिसर में पौधारोपण कर स्वच्छ वातावरण का सन्देश दिया।

इस मौके पर महापौर मृदुला जायसवाल ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गांधी जी की प्रेरणा से स्वच्छता अभियान का वाराणसी से साल 2014 में शुभारम्भ किया था। यह अभियान अब विश्व पटल पर सराहा जा रहा है। उन्होंने छात्रों का आह्वान करते हुए कहा कि महात्मा गांधी और लाला बहादुर शास्त्री की जयंती के एक दिन पूर्व शुरू हुए इस ग्रीन परिसर- क्लीन परिसर अभियान में छात्र जुड़ें और परिसर को स्वेच्छा बनाये रखने में योगदान देंइसके पहले महापौर ने महात्मा गाँधी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किया।

इस अभियान के तहत कुलपति, महापौर और अन्य अधिकारियों एवं प्रोफेसर्स ने विश्वविद्यालय परिसर में झाड़ू लगाया और परिसर में पौधा रोपण भी किया।

..........
0
284 views    0 comment
0 Shares

0
919 views    0 comment
0 Shares

वाराणसी।  संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में भी अब हिंदू धर्म का अध्ययन कराया जाएगा। विश्वविद्यालय में एम ए हिंदू का पाठ्यक्रम तैयार हो चुका है। दो वर्षीय पाठ्यक्रम में वर्तमान सत्र से ही दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।


यह पाठ्यक्रम हिंदू धर्म के वैशिष्ट्य एवं परंपरा पर आधारित है। नई शिक्षा नीति के अनुसार तैयार पाठ्यक्रम में पाश्चात्य दार्शनिकों का तुलनात्मक विवेचन प्रस्तुत किया गया है।

खास बात यह है कि छात्र अब पुनर्जन्म और मोक्ष का पाठ भी पढ़ सकेंगे। कुलपति प्रो. हरेराम त्रिपाठी ने बताया कि पाठ्यक्रम को काशी हिंदू विश्वविद्यालय एवं लालबहादुर शास्त्री केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय नई दिल्ली के पाठ्यक्रमों की समीक्षा के बाद विश्वविद्यालय ने तैयार किया है।

इसमें मुख्य रूप से तत्व एवं प्रमाण विमर्श, वाद परंपरा एवं शास्त्रों के अर्थ निर्धारण की पद्धति, भारतीय दर्शन (शास्त्रार्थ), वेदों, पुराणों एवं दर्शन के सार तत्व, पाश्चात्य ज्ञान मीमांसा, रामायण, महाभारत, स्थापत्य, लोकवार्ता, हिंदू कला, नाट्य एवं भाषा विज्ञान, सैन्य विज्ञान विषयों को रखा गया है। प्रवेश प्रक्रिया जल्दी होगी शुरू प्रो. त्रिपाठी ने बताया कि शीघ्र ही प्रवेश प्रक्रिया प्रारंभ की जाएगी।

पाठ्यक्रम में पाश्चात्य दार्शनिकों का तुलनात्मक विवेचन प्रस्तुत किया गया है। इसके अंतर्गत पाठ्यक्रमों में पेपर चयन करने का भी विकल्प है। पाठ्यक्रम दो वर्षीय और चार सेमेस्टर का है।

प्रत्येक सेमेस्टर में चार-चार प्रश्नपत्र कुल 100-100 अंकों के होंगे। एम ए हिंदू अध्ययन दो वर्षीय पाठ्यक्रम संक्षिप्त परिचय प्रथम सेमेस्टर संस्कृत परिचय- (संस्कृत अध्ययन के उद्देश्य और प्रयोजन, संधि, समास आदि) प्रमाण-सिद्धांत- वाद परंपरा तथा उनकी परंपराएं (विकास और ज्ञान का सातत्य) तत्व विमर्श (हिंदूवाद का मूल एवं क्रमिक इतिहास, वैदिक दृष्टि आदि) द्वितीय सेमेस्टर विमर्श की पाश्चात्य प्रविधि धर्म एवं कर्म विमर्श वैदिक परंपरा के सिद्धांत (वैदिक परंपरा एवं उसके आधारभूत तत्व, यज्ञ एवं इष्टियां,यज्ञ मीमांसा, वेद व्याख्या की प्रमुख परंपराएं आदि) या (वैकल्पिक) जैन परंपरा के सिद्धांत या बौद्ध परंपरा के सिद्धांत (वैकल्पिक) वेदांग- शिक्षा ,व्याकरण, निरुक्त, छड़, कल्प एवं ज्योतिष या पाली भाषा तथा साहित्य या प्राकृत भाषा एवं साहित्य तृतीय सेमेस्टर पुनर्जन्म-बंधन-मोक्ष-विमर्श रामायण (वैकल्पिक) लोकवार्ता अथवा भारतीय नीति शास्त्र (वैकल्पिक) नाट्यम अथवा तुलनात्मक धर्म चतुर्थ सेमेस्टर महाभारत (वैकल्पिक) पुराण परिचय या भारतीय स्थापत्य या पाणिनीय एवं पाश्चात्य भाषा विज्ञान (वैकल्पिक) साहित्य सिद्धांत या भारतीय सैन्य विज्ञान व रणनीति (वैकल्पिक) भारतीय कला या विधि तथा न्यायशास्त्र

..........
0
1140 views    0 comment
0 Shares

वाराणसी । विश्व प्रसिद्ध और राजघरानों की पहली पसंद बनारसी साड़ी को डाक विभाग ने अपने डाक टिकट पर जगह दिया।

वाराणसी के कमिश्नरी सभागार में आज पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने बनारसी सिल्क साड़ी पर डाक टिकट जारी किया।

वहीं लखनऊ में भी भारतीय डाक विभाग द्वारा उत्तर प्रदेश के सभी 75 जिले के ODOP (एक जिला एक उत्पाद) प्रोडक्ट पर एक साथ डाक टिकट निकाले गए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के चीफ पोस्टमास्टर जनरल कौशलेंद्र कुमार सिन्हा के साथ इसे जारी किया।

मुख्यमंत्री ने डाक विभाग को बधाई देते हुए कहा कि यह पहली बार हुआ है जब एक साथ किसी भी प्रदेश में इतनी बड़ी संख्या में सभी जिला मुख्यालयों पर डाक टिकट जारी हुए हैं।

वाराणसी के डाक टिकट में बनारसी सिल्क साड़ी के साथ ही इंडियन फैशन सीरीज में शामिल बनारस के वीव्स को भी डाक टिकट जगह दिया गया है।

बनारस की धरोहर दुनिया में फैलेगी पोस्टमास्टर कृष्ण कुमार ने वाराणसी के कमिश्नरी सभागार में कहा कि बनारसी सिल्क साड़ी के बुनकरों को डाक टिकट ग्लोबल पहचान देगा।

इसके माध्यम से बनारस की संस्कृति, कला, धरोहर दुनिया भर में फैलेगी। कहा कि वाराणसी का रेशम पूरी दुनिया में वैभव और राजशाही का पर्याय है। यहां रेशम पर की गई डिजाइनिंग, आकर्षक रूप व एक यूनिक पैटर्न में बुने जाते हैं। बनारसी सिल्क साड़ियां राजघरानों के पहनावे का पर्याय हैं। 5 सदी से चली आ रही इस कला से आज शहर के 29,802 बुनकर जुड़े हुए हैं। वहीं इन उत्पादों को जीआई टैग भी मिला हुआ है। पहचान खा रहे थे ये उत्पाद पोस्टमास्टर यादव ने बताया कि वाराणसी में बनारसी सिल्क साड़ी के साथ ही पूर्वांचल में भी कई खास प्रोडक्ट पर डाक टिकट जारी हुए हैं। भदोही में दरी, चंदौली में जरी जरजोदी, गाजीपुर में जूट वाल हैंगिंग, जौनपुर में वुलेन कारपेट और बलिया में बिंदी (टिकुली) ओडीओपी प्रोडक्ट डाक विभाग ने जारी किए गए हैं। इसमें से तमाम ऐसे उत्पाद हैं जो अपनी पहचान खो रहे थे और मॉडर्न स्वरूप देने के साथ ही प्रचार की खासा जरूरत है।

संयुक्त आयुक्त उद्योग उमेश कुमार सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार की महत्त्वाकांक्षी ODOP स्कीम से काशी की विशिष्ट शिल्प कलाओं और वस्तुओं को अलग पहचान दी रही है। वहीं बनारसी सिल्क साड़ी डाक टिकट पर स्थान देकर विभाग ने इस पहचान को और भी गाढ़ा कर दिया है।

इस दौरान कार्यक्रम में संयुक्त आयुक्त उद्योग उमेश कुमार सिंह, उपायुक्त उद्योग वीरेंद्र कुमार, प्रवर डाक अधीक्षक वाराणसी मंडल राजन राव, सहायक डाक अधीक्षक पंकज श्रीवास्तव उपस्थित रहे।

..........
0
1413 views    0 comment
0 Shares