logo
logo
(Trust Registration No. 393)
aima profilepic
Manohar Singh Rajput
मनोहर सिंह राजपूत रतलाम डिस्ट्रिक्ट

अपराधियों पर अंकुश लगाकर जनता को राहत दिलवाना पहली प्राथमिकताः मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीसी के प्रथम सत्र में की कानून-व्यवस्था की विस्तार से समीक्षा 

रतलाम मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आपराधिक तत्वों पर अंकुश लगाकर आम जनता को राहत उपलब्ध करवाना सरकार की पहली प्राथमिकता है। चिन्हित अपराधों को रोकने महिलाओं और बालिकाओं को अपराधों से बचाने गुमशुदा बच्चों की तलाश शराब के अवैध व्यवसाय पर नियंत्रण और भूमि पर अवैध रूप से कब्जा करने वालों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गुरूवार को मंत्रालय से वीसी द्वारा कलेक्टर-कमिश्नर कॉन्फ्रेंस की शुरुआत कानून-व्यवस्था की समीक्षा करते हुए ये निर्देश दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह कॉन्फ्रेंस सुशासन का माध्यम है। हमने तय किया है कि 29 दिन कार्य करें और एक दिन कार्यों की समीक्षा करें। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन विनोद कुमार, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी और अन्य अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस तरह की कांफ्रेंस गत 29 नवंबर 2021 को की थी।

इस अवसर पर एनआईसी कक्ष रतलाम में कलेक्टर श्री कुमार पुरूषोत्तम डीआईजी श्री सुशांत सक्सेना पुलिस अधिक्षक श्री गौरव तिवारी अपर कलेक्टर श्री एमएल आर्य सीइओ जिला पंचायत श्रीमती जमुना भिडे तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

महिलाओं के विरूद्ध अपराध और आपरेशन मुस्कान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आपरेशन मुस्कान में प्रदेश में नाबालिग अपहृत तथा गुमशुदा बालिकाओं के प्रकरणों की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने निर्देश दिए कि आपरेशन मुस्कान की नियमित समीक्षा की जाए। मुख्यमंत्री ने इंदौर भोपाल जबलपुर धार और सागर में आपरेशन मुस्कान के तहत प्रभावी कार्यवाही की सराहना की। कांफ्रेंस में बताया गया कि वर्ष 2021 में 13 हजार 108 बालक-बालिकाओं को खोजा गया। प्रदेश में 700 थानों में ऊर्जा महिला हेल्प डेस्क स्थापित की गई है। महिला अपराध के आरोपियों के विरूद्ध कार्यवाही करते हुए 45 हिस्ट्रीशीटर/ गुण्डा फाइल खोलने 6 के विरूद्ध एनएसए और 39 के विरूद्ध जिला बदर की कार्यवाही की गई।

चिन्हित अपराध

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि चिन्हित अपराधों में कुछ जिलों ने अच्छा प्रदर्शन किया है। अन्य जिले भी ऐसे अपराधों पर नियंत्रण के प्रयास करें। मुख्यमंत्री ने रायसेन दतिया भिण्ड शहडोल जिले को शत-प्रतिशत सजायाबी प्रतिशत हासिल करने के लिए बधाई दी। इसी तरह मण्डला, छतरपुर सीधी और रतलाम जिले में भी ऐसे अपराधों पर अच्छा नियंत्रण किया गया है। प्रदेश में चिन्हित अपराधों में सजायाबी औसत 66 प्रतिशत रही है। दोषसिद्धि प्रकरणों में 303 को आजीवन कारावास 149 को कारावास और 3 को मृत्यु-दण्ड दिया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विशेष रूप से रायसेन को चिन्हित अपराध कंट्रोल करने पर बधाई दी। रायसेन जिले में विभिन्न प्रकरणों में न्यायालय स्तर तक फालोअप कर अपराधियों को दंडित किया गया। दतिया भिंड शहडोल और इंदौर जिले भी अपराध नियंत्रण में आगे हैं। अपराधियों को सजा दिलवाने में इन जिलों ने बेहतर कार्य किया है।

गंभीर अपराधों में गिरफ्तारियाँ

हत्या हत्या के प्रयास, लूट डकैती और बलवा जैसे गम्भीर मामलों में अपराध घटित होने के सात दिन के भीतर 24 हजार 736 आरोपी गिरफ्तार किए गए। प्रदेश में 3 हजार 925 अपराधी जिला बदर किए गए। कुल 638 को रासुका में गिरफ्तार किया गया। आर्म्स एक्ट में 13 हजार 233, जुआ एक्ट में 32 हजार 281 और अन्य धाराओं को मिलाकर 9 लाख से अधिक अपराधियों को पकड़ा गया।

भू-माफिया और चिटफंड कम्पनियों के विरूद्ध कार्यवाही और सम्पत्ति संबंधी अपराध

बताया गया कि ग्वालियर इंदौर सीहोर खरगोन जबलपुर और भोपाल में भू-माफिया के विरूद्ध बड़ी कार्यवाहियाँ की गईं। ग्वालियर में 45 बीघा शासकीय भूमि इंदौर में 6.941 हेक्टयर भूमि सीहोर में 51. 45 एकड़ भूमि और जबलपुर में 2.5 भूमि मुक्त कराई गई। भू-माफिया के विरूद्ध एनएसए के 145 मामले दर्ज हुए। राजस्व विभाग ने भी भू-माफिया के विरूद्ध 2 माह में 419 प्रकरण दर्ज किए हैं। प्रदेश में चिटफंड कम्पनियों से गत वर्ष 152 करोड़ रूपये की राशि 46 हजार 245 निवेशकों को वापस दिलवाई गई। दो माह में 62 अपराध पंजीबद्ध किए गए। गिरफ्तार आरोपियों की संख्या 24 है। इस अवधि में 31 करोड़ 5 लाख रूपये की राशि निवेशकों को वापस दिलवाई गई। सतना इंदौर आगर-मालवा और रीवा में सहारा इंडिया कम्पनी से निवेशकों को राशि वापस दिलवाई गई। संगठित अवैध शराब निर्माण बिक्री और परिवहन पर अंकुश लगाते हुए वर्ष 2021 में एक लाख 6 हजार 606 प्रकरण पंजीबद्ध किए गए। कुल 13 लाख 33 हजार 917 लीटर शराब जब्त की गई। अवैध कार्य में लगे 2 हजार 361 वाहन जब्त कर 259 वाहन राजसात भी किए गए। इस श्रेणी में 408 अपराधियों के विरूद्ध जिला बदर की कार्यवाही की गई।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश में सम्पत्ति संबंधी अपराधों की जानकारी प्राप्त की। पुलिस महानिदेशक ने बताया कि वर्ष 2021 में डकैती लूट चोरी और गृहभेदन के प्रकरणों में आम जनता की 190 करोड़ रूपये की सम्पत्ति अपराधियों द्वारा हड़पी गई थी जिसमें से 107 करोड़ की सम्पत्ति मुक्त कराई गई है। राजगढ़ जिले में पुलिस ने ड्रोन का उपयोग कर अपराधी पकड़े हैं।

नशीले पदार्थों की रोकथाम और अवैध खनन रोकने के लिए कार्यवाही

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी जिलों में अवैध शराब के मुद्दे पर जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई जाए। ऐसे अपराधियों को क्रश करना है। किसी भी स्तर पर लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा केमिकल से शराब बनाना जान लेवा है। कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि प्रदेश में नारकोटिक्स विंग ने वर्ष 2021 में 73 नशामुक्ति और जन-जागृति कार्यक्रम आयोजित किए। गत वर्ष एनडीपीएस में 3958 अपराध पंजीबद्ध कर 5 हजार 68 आरोपी गिरफ्तार किए गए। अपराधियों के अवैध आर्थिक स्रोतों को भी बंद करने की कार्यवाही की गई। गत वर्ष अवैध उत्खनन और परिवहन में लगे 323 वाहन राजसात किए गए।

खाद्य पदार्थों में मिलावट पर कार्यवाही

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मिलावटी खाद्य पदार्थ बनाने वालों पर ग्वालियर इंदौर जबलपुर भिंड सतना आगर-मालवा दतिया मुरैना खरगोन कटनी श्योपुर शिवपुरी भिंड धार बुरहानपुर और नीमच में बेहतर कार्रवाई हुई है। जनता में विश्वास का भाव लाना है कि इस दिशा में बेहतर काम हो रहा है। यह कार्यवाही सतत रूप से की जाए। कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि गत दो माह में 67 प्रकरण में 100 आरोपी गिरफ्तार हुए हैं। इस अवधि में 1343 लीटर खाद्य तेल 5341 किलो ग्राम मावा, 1236 किलोग्राम घी 3980 लीटर पेट्रोल-डीजल और केरोसीन जब्त किया गया। इनकी सम्मिलित राशि 7 करोड़ 6 लाख रूपये है। गत दो माह में राशन और खाद्यान्न की कालाबाजारी के 257 प्रकरण में 389 आरोपियों के विरूद्ध कार्यवाही हुई।

विदेशी नागरिक और सायबर क्राइम

कॉन्फ्रेंस में ऐसे विदेशी नागरिक जो वीजा अवधि समाप्ति के पश्चात भी रूकते हैं, उन्हें ट्रेस कर भारत सरकार के निर्देशानुसार कार्यवाही की जानकारी दी गई। प्रदेश में वर्तमान में 1571 नागरिक हैं जिनका ओव्हर स्टे है। मुख्यमंत्री ने इसमें दो श्रेणियों में नागरिकों को शामिल कर न्यायोचित कार्यवाही के निर्देश दिए। उन्होंने किसी विवशता के कारण स्टे करने वाले नागरिकों की और घुसपैठियों की अलग-अलग श्रेणी के अनुसार कार्यवाही करने को कहा। कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि सायबर अपराधों की रोकथाम के लिए रोडमैप बनाया गया है।

..........
1
0 views    0 comment
1 Shares

ग्राम सुराणा में सांप्रदायिक सद्भाव तथा भाईचारा कायम रहेगा

कलेक्टर तथा एसपी गांव में पहुंचे दोनों समुदायों से चर्चा की

अपराधिक तत्वों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई एक माह में अतिक्रमण तोडने तथा जिला बदर कार्रवाई की जाएगी

जिले के रतलाम ग्रामीण क्षेत्र के ग्राम सुराणा में दो समुदायों में उपजे तनाव को लेकर कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम तथा पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी बुधवार को प्रातः गांव में पहुंचे। अधिकारियों ने दोनों समुदायों के व्यक्तियों से चर्चा की। कलेक्टर ने कहा कि गांव में सांप्रदायिक सद्भाव एवं भाईचारे व का वातावरण बनाए रखने के लिए प्रशासन कृत-संकल्पित है। कोई भी व्यक्ति सद्भाव को बिगाड़ नहीं पाएगा। सद्भाव बिगाड़ने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की जाएगी। जो भी अपराधी होंगे वे बच नहीं पाएंगे। उनका सम्पूर्ण नेटवर्क ध्वस्त किया जाएगा। इस दौरान एसडीएम ग्रामीण सुश्री कृतिका भीमावद एसडीओ पुलिस संदीप निगवाल तहसीलदार श्रीमती अनीता चौकोटिया जनपद पंचायत के सीईओ तथा बिलपांक थाना प्रभारी आदि उपस्थित थे।

कलेक्टर द्वारा दोनों समुदायों से जानकारी प्राप्त की गई। कलेक्टर ने कहा कि किसी अफवाह में नहीं आए सोशल मीडिया पर भ्रामक प्रचार से बचें उस पर ध्यान नहीं देवे। गुंडा तत्व कितने भी रसूखदार हो वो बच नहीं पाएंगे। प्रशासन द्वारा निष्पक्ष रूप से कार्रवाई की जाएगी। गांव में जिन व्यक्तियों द्वारा अतिक्रमण किया गया है उनके अतिक्रमण तोड़े जाने की कार्रवाई एक माह में कर दी जाएगी। इसके लिए रिकॉर्ड से जांच करके अतिक्रमणकर्ताओं को चिन्हित किया जाएगा।

कलेक्टर ने कहा कि गांव में अमन-चैन रहे शांति रहे इसके लिए कमेटी गठित की जा रही है जो तथ्यों की पड़ताल कर जानकारी देगी। उस आधार पर निर्णय लेते हुए प्रशासन द्वारा कार्रवाई की जाएगी। कमेटी में दोनों समुदायों से दो-दो व्यक्ति तथा एसडीएम एवं एसडीओपी सम्मिलित किए गए हैं। गांव के आपराधिक तत्वों के विरुद्ध जिलाबदर की कार्रवाई एक माह में कर दी जाएगी। जिन व्यक्तियों के 3 से अधिक अपराध हैं उनको जिला बदर किया जाएगा।

पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी ने कहा कि गांव में सांप्रदायिक सद्भाव एवं सौहार्द बनाए रखने के लिए प्रत्येक संभव कार्रवाई की जाएगी। जो भी आपराधिक तत्व हैं दोषी है उनके विरुद्ध सुनिश्चित रूप से कार्रवाई की जाना है। पूर्व में भी पुलिस विभाग द्वारा बॉन्ड ओवर जैसी कार्रवाई की गई है। सुराणा में अस्थाई पुलिस चौकी स्थापित की जा रही है जब भी जरूरत हो 100 नंबर पर कॉल करें। निचले स्तर पर से यदि सुनवाई नहीं होती है तो वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराएं।

इस दौरान कलेक्टर तथा पुलिस अधीक्षक ने अपने मोबाइल नंबर भी ग्रामीणों को दिए ताकि जब भी जरूरत हो ग्रामीण सीधे संपर्क कर सकते हैं।

..........
1
1517 views    0 comment
16 Shares

मिलावटखोरों के विरुद्ध कार्रवाई क्यों नहीं कर रहे हो
कलेक्टर फूड एंड ड्रग इंस्पेक्टर से हुए सख्त नाराज

रतलाम जिले में मिलावटखोरी की शिकायतें आ रही हैं। मिलावटखोरों के विरुद्ध कार्रवाई क्यों नहीं कर रहे हो। छोटी-मोटी इस हंसी मजाक वाली सेंपलिंग से कोई लाभ नहीं। समयावधि पत्रों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम फूड एंड ड्रग इंस्पेक्टर श्री जमरा से सख्त नाराज रहे। इस दौरान अपर कलेक्टर श्री एम.एल. आर्य ने भी कहा कि फूड एंड ड्रग इंस्पेक्टर्स द्वारा जिले में जो कार्रवाई की जा रही है वह प्रभावी नहीं है। इनके द्वारा छोटी दुकानों के प्रकरण बनाए जाते हैं बड़े दुकानदारों व्यवसायिक प्रतिष्ठानों को छोड़ दिया जाता है। प्रकरण ऐसे बनाए जाते हैं जिसमें बहुत ज्यादा जुर्माना नहीं लगता है। अपर कलेक्टर ने बताया कि फूड एंड ड्रग इंस्पेक्टर द्वारा जिले के ग्रामीण क्षेत्र में ही छोटी दुकानों पर प्रकरण बनाए जाते हैं सैंपल लिए जाते हैं। शहरी क्षेत्र में इनके द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। कलेक्टर श्री पुरुषोत्तम ने कहा कि आगे से मिलावट के संबंध में कोई शिकायत आएगी तो जमरा निलंबित कर दिए जाएंगे। जमरा को  निर्देशित किया कि उनके द्वारा विगत दो माह में क्या काम किया गया है नोटशीट पर लाकर बताएं।

बैठक में सीईओ जिला पंचायत श्रीमती जमुना भिड़े डिप्टी कलेक्टर सुश्री मनीषा वास्कले सुश्री कृतिका भीमावद तथा जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे। कलेक्टर ने जिला खाद्य अधिकारी को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि राशन के मामले में कहीं कोई गड़बड़ी नहीं करें। सभी एसडीएम से कहा कि राशन दुकानों की निरीक्षण रिपोर्ट क्यों नहीं आ रही है। निर्देशित किया कि राशन दुकानों की निरीक्षण रिपोर्ट प्रत्येक माह की तय समय सीमा में उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। जल जीवन मिशन की समीक्षा के दौरान कलेक्टर कार्यपालन यंत्री पीएचई श्री गोगादे से खिन्न नजर आए। कलेक्टर ने कहा कि यदि कोई भी नल-जल योजना बंद मिली तो संबंधित एसडीओ पीएचई सस्पेंड किया जाएगा।

जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास रजनीश सिन्हा ने बताया कि जिले में 624 आंगनवाड़ियां गोद ले ली गई है। अधिकतर आंगनवाड़ी अधिकारियों द्वारा गोद ली गई है। कलेक्टर ने निर्देशित किया कि गोद लेने वाले अधिकारियों को जानकारी देवें कि सुधार के लिए आंगनवाड़ियों में क्या किया जाना है। मुख्यमंत्री हेल्पलाइन में लंबित शिकायतों के निराकरण की समीक्षा भी कलेक्टर ने की। आगामी 20 जनवरी तक सभी विभागों को अपेक्षित कार्य करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने स्पष्ट कहा कि यदि जिले की रैंकिंग खराब होती है तो जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्रवाई की जाएगी। उक्त जिम्मेदार विभागों में कृषि ऊर्जा नगर निगम पीएचई शिक्षा स्वास्थ्य लोक निर्माण तथा राजस्व विभाग शामिल है जिनके परफारमेंस पर जिले की रैकिंग निर्भर करेंगी।

कलेक्टर ने वैक्सीनेशन की समीक्षा भी की बच्चों के वैक्सीनेशन कार्य को 2 दिन में पूर्ण करने के निर्देश दिए। इसके अलावा विगत दिनों वर्षा तथा अतिवृष्टि से हुए फसल नुकसान के सर्वेक्षण का बचा हुआ कार्य भी दो दिवस में पूर्ण करने के निर्देश दिए।

..........
3
180 views    0 comment
1 Shares

7
1509 views    0 comment
11 Shares

तीसरी लहर को जनसहयोग के मॉडल से रोकेंगे मुख्यमंत्री श्री चौहान

मध्यप्रदेश में शासन के साथ इस युद्ध में साथ खड़ा है आमजन प्रदेश में कोविड संक्रमण के नियंत्रण उपचार और प्रबंधन प्रयासों की हुई समीक्षा

कलेक्टर्स से ली गई इंतजामों की जानकारी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप से संवाद

कलेक्टर्स कॉन्फ्रेंस में टीकाकरण कार्य और संक्रमण नियंत्रण की होगी पुनः समीक्षा

रतलाम मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोविड के नियंत्रण में मध्यप्रदेश का जन-भागीदारी मॉडल तीसरी लहर में भी काम आएगा। कोविड की पहली और दूसरी लहर में जिस तरह से जन-सहयोग से संकट की स्थितियों से निपटते हुए कार्य हुआ है उसी तरह एक बार फिर सरकार और नागरिक मिलकर तीसरी लहर को पराजित करेंगे। संयुक्त रूप से किए जाने वाले प्रयत्नों को सफलता मिलेगी मानवता जीतेगी।

इस अवसर पर रतलाम के एनईसी कक्ष में विधायक जावरा डा. राजेंद्र पाण्डेय विधायक ग्रामीण दिलीप मकवाना कमेटी सदस्य राजेंद्रसिंह लूनेरा वीरेंद्र पाटीदार गोविंद काकानी कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी सीईओ जिला पंचायत श्रीमती जमुना भिड़े सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर ननावरे मेडिकल कॉलेज डीन डॉ. जितेंद्र गुप्ता, एपीडीएमओ लाजिस्ट डॉ. गौरव बोरीवाल डा. प्रमोद प्रजापति होमगार्ड कमांडेंट सुश्री रोशनी बिलवाल डिप्टी कलेक्टर सुश्री कृतिका भीमावद जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. वर्षा कुरील जिला समन्वयक जन अभियान परिषद रत्नेश विजयवर्गीय डॉक्टर जयंत सुभेदार आदि उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा निवास से प्रदेश के जिलों में कोविड की स्थिति किए जा रहे प्रयासों की जानकारी ले रहे थे मुख्यमंत्री श्री चौहान ने क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्यों से संवाद कर उनके सुझाव प्राप्त किए। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और राज्य के मंत्री भी वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा चर्चा और बैठक में शामिल हुए। मुख्यमंत्री निवास से हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी उपस्थित रहे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंस से जुड़े सभी जन-प्रतिनिधियों और अधिकारियों को मकर संक्रांति की शुभकामनाएँ दी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि होम आयसोलेशन में ही सबसे ज्यादा लोग रहेंगे इनका ध्यान रखें सावधानियों से अवगत करवाएँ। यह महत्वपूर्ण है। प्रदेश में अभी 21 हजार 394 मरीज होम आयसोलेशन में हैं। इन्हें आवश्यक सुविधाएँ दी जा रही हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान 17 जनवरी को कलेक्टर्स कांफ्रेंस में पुनः टीकाकरण कार्य और संक्रमण नियंत्रण की समीक्षा करेंगे।

3 प्रतिशत के आसपास भर्ती हैं सिर्फ पॉजिटिव रोगी सावधानी बरतना जरूरी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि तीसरी लहर के रूप में एक बड़ी चुनौती हमारे सामने है। घबराना नहीं है सजग और सतर्क रहना है। कोरोना के केस तेजी से बढ़ने की आशंका भी है। पूरी दुनिया की तरफ से एक तथ्य आया है कि इस लहर में जो संक्रमित होते हैं उसकी गंभीरता कम है। इसलिए अस्पताल में भर्ती होने वाले प्रकरण अभी लगभग तीन प्रतिशत से थोड़े ज्यादा है। पिछली लहर में 40 प्रतिशत तक रोगी भर्ती करने पड़ते थे। अब तक हुए शोध के बाद विशेषज्ञों का मत है कि इस वैरिएंट का असर गले तक रहता है। यह लंग्स को अधिक प्रभावित नहीं करता है। लेकिन इसका अर्थ यह कदापि नहीं है कि हम सजग न रहें। पूरी सजगता से इस लहर का मुकाबला करते हुए कोविड महामारी से हमें जीतना है यह हमारा संकल्प भी है।

प्रदेश में हो रहे रोजाना 80 हजार टेस्ट

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज इस चर्चा में ब्लॉक के साथ वार्ड और जिला पंचायतों की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियाँ भी जुड़ी हैं। मैं अपील करता हूँ कि कोरोना टेस्ट के‍ लिए जिलों को जो लक्ष्य दिए हैं वे पूरे होने चाहिए। जन-प्रतिनिधि अपने क्षेत्र में टेस्टिंग पर ध्यान दें। गाँव और पंचायत की क्राइसिस मैनेजमेंट से भी अपील है कि अगर गाँव में किसी को भी जरा भी सर्दी और जुकाम है तो उनका टेस्ट करवाने की प्रेरणा दें। मुख्यमंत्री ने पंचायत स्तरीय क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों से अपील की कि वे यह देखें कि टीकाकरण से कोई न छूटे। घर-घर दस्तक देकर 15 से 18 वर्ष के नौजवानों का 100 प्रतिशत टीकाकरण करवाएँ। कोविड से बचने का यह सशक्त माध्यम है। सभी जिले फीवर क्लीनिकों में टेस्टों की संख्या बढ़ा दें। पर्याप्त मात्रा में फीवर क्लीनिक होना चाहिए। टेस्ट की रिपोर्ट 24 घंटे में आ जानी चाहिए ताकि कोई भी स्प्रेडर के रूप में न घूमें। अगर कोई पॉजिटिव आता है तो उसे घर में आयसोलेट कर मेडिकल किट दी जाए। इससे संक्रमित की दवा समय पर शुरू हो जाएगी और इंफेक्शन नहीं बढ़ेगा। अगर होम आयसोलेशन की व्यवस्था नहीं है तो कोविड केयर सेंटर में संक्रमित को भर्ती किया जाए। संक्रमित व्यक्ति को भर्ती करने के‍ लिए एंबुलेंस की व्यवस्था रहे जिससे उसे समय पर अस्पताल पहुँचाया जा सके। ब्लॉक स्तरीय क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी भी ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी से समन्वय कर संदिग्ध व्यक्तियों की टेस्टिंग करवाएँ। एक कंट्रोल रूम बनाकर 24 घंटे व्यवस्था बनाए रखें।

कोविड केयर सेंटर का लाभ लें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि क्राइसिस मैनेजमेंट समिति के सदस्य यह तय कर लें कि संक्रमितों को कोविड केयर सेंटर में भर्ती किया जाए। जिला स्तरीय क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों का महत्वपूर्ण काम है कि वे आमजन में कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन करवाएँ। सभी को जागरूक करें कि घर से बाहर निकलने पर मास्क अवश्य लगाएँ। साथ ही यह भी देखें कि किसी स्थान पर अधिक भीड़-भाड़ न हो और नियमित रूप से टेस्ट होते रहें।

टेस्ट रिपोर्ट जल्दी आए

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सभी कमिश्नर्स को निर्देश दिए कि ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित करें कि 24 घंटे में टेस्टिंग की रिपोर्ट आ जाए। मेडिकल कॉलेजों में जो लेब हैं उसकी निगरानी करें। भारत सरकार के पोर्टल पर आवश्यक जानकारियां अपलोड करने और अन्य सभी व्यवस्थाओं को पब्लिक डोमेन पर रखने का कार्य भी किया जाए। जिले की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी को अपने जिले के कोविड केयर सेंटर की सुचारू संचालन की व्यवस्था देखना है। सिविल अस्पतालों जिला अस्पतालों और मेडिकल कॉलेज की व्यवस्थाएँ चाक-चौबंद रहें। हमारे पास आईसीयू बेड ऑक्सीजन बेड सामान्य बिस्तर पर्याप्त संख्या में हैं। कोविड केयर सेंटर्स के आईसीयू बेड्स ऑक्सीजन बेड्स सामान्य बिस्तर चेक कर लें। ऑक्सीजन प्लांट चलाकर देखें। वेंटीलेंटर्स कन्संट्रेटर सहित जितने भी आवश्यक उपकरण हैं उनकी व्यवस्था देख लें। संसाधनों की कमी नहीं रहनी चाहिए। हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता जनता की जिन्दगी बचाना है और संकट के समय उनके साथ खड़े रहना है।

सार्वजनिक स्थानों पर हो टेस्ट की व्यवस्था

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि रेलवे स्टेशन बस स्टैण्ड और एयरपोर्ट पर टेस्टिंग की व्यवस्था रहे। होम आयसोलेशन में रह रहे मरीजों से बात की जाए। निजी अस्पतालों को मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना में अनुबंधित रखा जाए। निजी अस्प्ताल के लिए जो पैकेज तय किया गया है उससे ज्यादा पैसे अस्पताल प्रबंधन न ले। ऑक्सीजन सिलेण्डर उपलब्ध और क्रियाशील रहें। एक महीने की दवाइयों की व्यवस्था रहे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि टेस्ट कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग पॉजिटिव आने पर होम आयसोलेशन मेडिकल किट वितरण आवश्यकता पड़ने पर एंबूलेंस की व्यवस्था कोविड केयर सेंटर में भर्ती करते हैं तो ऑक्सीजन की व्यवस्था दवाइयों की व्यवस्था टीकाकरण और कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन कर जनता को तीसरी लहर से सुरक्षित निकाल कर ले जाएंगे।

कलेक्टर्स और जन-प्रतिनिधियों से संवाद

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज लगभग डेढ़ घंटे चली वीडियो कॉन्फ्रेंस में अनेक जन-प्रतिनिधियों और कलेक्टर्स से संवाद किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वर्तमान में कोविड के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की लहर पूरे विश्व में चल रही है। इसकी आक्रामकता अधिक नहीं है। लेकिन हमें सावधान और सजग रहना है। साथ ही सभी व्यवस्थाएँ चाक चौबंद रहें यह बहुत आवश्यक है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सबसे पहले कलेक्टर इंदौर से चर्चा की। इंदौर प्रदेश का सबसे बड़ा नगर है जहाँ प्रदेश के नए पॉजिटिव रोगियों में से एक तिहाई रोगी सामने आए हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इंदौर के अस्पतालों में किए गए प्रबंध की जानकारी ली। इंदौर में निजी तौर पर अधिक टेस्ट की जानकारी मिलने पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए यदि प्रायवेट रूप से टेस्ट हों तो उन्हें भी रिकॉर्ड में लिया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भोपाल कलेक्टर से बात की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भोपाल कलेक्टर से व्यवस्थाओं की जानकारी ली। कलेक्टर भोपाल ने बताया कि प्रतिदिन पॉजिटिव रोगियों की सूची आते ही तत्काल उनके लिए आवश्यक प्रबंध किए जाते हैं। शत-प्रतिशत पॉजिटिव रोगियों को मेडिकल किट प्रदान की जाती है। उन्हें समझाइश का पेंपलेट भी देते हैं। उनसे चिकित्सक फोन से संपर्क में रहते हैं। मुख्यमंत्री ने सागर उज्जैन सीधी रीवा ग्वालियर जबलपुर पन्ना बड़वानी विदिशा भिण्ड श्यौपुर और मण्डला के कलेक्टर से भी चर्चा की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर सांसद जर्नादन सिंह श्रीमती रीती पाठक विधायक के साथ बातचीत कर जिलों की स्थिति की जानकारी प्राप्त की। पूर्व मंत्री करण सिंह वर्मा श्रीमती ललिता यादव के साथ ही यशपाल सिंह सिसोदिया मदन कुशवाहा कमल माखीजानी दिलीप परिहार वीरेन्द्र रघुवंशी इंदू तिवारी आदि ने विभिन्न सुझाव भी दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्राप्त सुझावों पर जरूरी कदम उठाने की बात कही।

स्वास्थ्य विभाग का प्रजेंटेशन

अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने कोविड-19 की प्रदेश में वर्तमान स्थिति वैक्सीनेशन की स्थिति और कोविड-19 की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी का प्रेजेन्टेशन दिया। बताया गया कि प्रदेश में गत 24 घंटे में देश में 02 लाख 64 हजार 202 और मध्यप्रदेश में 04 हजार 755 पॉजिटिव प्रकरण आए हैं। एक्टिव केसेस 3 हजार 735 है। कुल 1020 प्रकरण रिकवर हुए हैं। प्रदेश के 30 प्रतिशत केस इंदौर में है। वर्तमान में पॉजिटिव रोगियों में 3.3 प्रतिशत ही एडमिट हैं। देश की पॉजिटिविटी लगभग 13 प्रतिशत और मध्यप्रदेश की लगभग 6 प्रतिशत है। भर्ती मरीजों से सामान्य बिस्तर 416 ऑक्सीजन बिस्तर 212 एचडीयू और आईसीयू बिस्तर 33 का उपयोग हो रहा है। सक्रिय प्रकरणों के 96.7 प्रतिशत रोगी होम आयसोलेशन में हैं। सिर्फ 3.3 रोगी अस्पतालों में दाखिल हैं। उपलब्ध बिस्तर क्षमता 67 हजार 164 है जिसमें से कुल 1.17 प्रतिशत का उपयोग वर्तमान में हो रहा है। होम आयसोलेशन की व्यवस्थाओं को पुख्ता बनाया गया है। डिस्ट्रिक्ट काविड कमांड कंट्रोल सेंटर से प्रतिदिन होम आयसोलेट व्यक्ति को कॉल किया जाता है। चिकित्सकीय परामर्श के लिए टेली कॅन्सलटेशन दिया जाता है। होम आयसोलेशल किट की व्यवस्था और आवश्यकता पड़ने पर एम्बूलेंस के माध्यम से अस्पतात में भर्ती करने की व्यवस्था की गई है। प्रत्येक जिले में एक कोविड केयर सेंटर क्रियाशील करने सेंटर में डॉक्टर आवश्यक सपोर्ट स्टाफ दवाइयों और भोजन की व्यवस्था यथासंभव अशासकीय संस्थाओं को भी कोविड केयर सेंटर के संचालन से जोड़ने और ब्लॉक स्तर पर भी कोविड केयर सेंटर चिन्हांकित करने की पहल की गई है। तीसरी लहर से निपटने के लिए अधो-संरचनात्मक तैयारियों को सुनिश्चित किया गया है। प्रदेश में 22 हजार 332 आयसोलेशन बेड 31 हजार 680 ऑक्सीजन बेड 13 हजार 152 आईसीयू/एचडीयू बेड और 890 पीआईसीयू बेड उपलब्ध हैं।
प्रदेश में ऑक्सीजन व्यवस्थाओं को बनाया गया बेहतर
प्रदेश में वर्तमान में 17 हजार ऑक्सीजन कन्संट्रेटर शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में उपलब्ध हैं। कुल 36 हजार 393 ऑक्सीजन सिलेण्डर भी उपलब्ध हैं। इसके अलावा 51 जिला चिकित्सालयों में 6 KL टेंक स्थापना की पहल और प्रायवेट क्षेत्र में 151 मीट्रिक टन और शासकीय चिकित्सा महाविद्यालयों में 353 मीट्रिक टन क्षमता के टेंक उपलब्ध हैं। प्रदेश में 204 पी.एस.ए. ऑक्सीजन प्लांट मंजूर किए गए हैं। इनमें से 190 प्लांट क्रियाशील हैं। प्रथम मॉक ड्रिल एक से पांच दिसम्बर और द्वितीय मॉक ड्रिल 22 दिसम्बर 2021 को की जा चुकी है। पी.एस.ए. प्लांट का प्रशिक्षण भी दिया गया है। प्रदेश के समस्त मेडिकल कॉलेज और शासकीय अस्पतालों में पी.एम. केयर से प्रदाय एवं अन्य स्त्रोतों से मिले करीब दो हजार वेन्टीलेटर उपलब्ध हैं। मुख्यमंत्री सहायता कोष सहित रेडक्रॉस अजीम प्रेमजी फाउण्डेशन कोल इंडिया एचडीएफसी और अन्य संस्थानों से पी.एस.ए. प्लांट स्थापना में सहयोग मिला है। शाजापुर, नरसिंहपुर डिण्डौरी, छतरपुर, श्योपुर और कटनी में अतिरिक्त बेड व्यवस्था और ऑक्सीजन व्यवस्था के कार्य भी पूर्णता की स्थिति में है।

प्रदेश में वैक्सीनेशन

प्रदेश में 18 वर्ष से अधिक आयु के वैक्सीनेशन के लिए पात्र लोगों में से 96.6 प्रतिशत लोगों को प्रथम डोज और 92.3 प्रतिशत लोगों को प्रथम और द्वितीय डोज लगाया जा चुका है। इसी तरह 15 से 18 के पात्र किशोरों में से 57.6 प्रतिशत को प्रथम डोज़ लगाया जा चुका है। प्रदेश में कुल 1 लाख 3 हजार 118 हेल्थ केयर वर्कर्स 89 हजार 636 फ्रंटलाइन वर्कर्स और गंभीर व्याधियों से ग्रस्त 40 हजार 22 लोगों को प्रीकॉशन डोज लगाया जा चुका है। प्रदेश में 6 लाख 69 हजार 891 डोज़ गर्भवती महिलाओं को लगाए गए हैं। श्रेष्ठ प्रदर्शन वाले प्रथम पाँच जिलों में भोपाल आगर-मालवा इंदौर उमरिया और छिंदवाड़ा जिले शामिल हैं जहाँ सभी श्रेणियों के वैक्सीनेशन में अच्छी प्रगति है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यह भी कहा

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान जन-प्रतिनिधियों की सक्रिय भूमिका पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि रेलवे स्टेशन बस स्टेण्ड आदि पर टेस्टिंग के प्रबंधन हों। जन-प्रतिनिधि औषधियों की व्यवस्था स्वयं देखें। एक माह का स्टॉक रखें। प्रत्येक स्तर की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों को सक्रिय सजग रहना है। अन्य व्याधियों से ग्रस्त किसी रोगी की स्थिति गंभीर है तो एम्बूलेंस तैयार रखी जाए। इससे समय पर अस्पताल में भर्ती करने का कार्य हो सकेगा। अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर भरे रहें यह सुनिश्चित करें। भर्ती रोगियों से सदैव संवाद बनाए रखें। कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग होती रहे। कोविड अनुकूल व्यवहार सुनिश्चित करें। शाला त्यागी बच्चों को भी वैक्सीन लगे। जिलों में कोविड कमांड सेंटर्स की व्यवस्थाएँ देख लें जन-प्रतिनिधि प्रतिदिन इन केन्द्रों को देखने का समय निकालें।
मुख्यमंत्री श्री चौहान के प्रमुख निर्देश
• कक्षा एक से 12वीं तक के सरकारी प्रायवेट स्कूल 15 जनवरी से 31 जनवरी तक बंद रहेंगे।
• राज्य में किसी तरह के मेले नहीं लगेंगे।
• सब रैलियाँ और सभाएँ प्रतिबंधित रहेंगी।
•हॉल की क्षमता के 50 प्रतिशत से कम की उपस्थिति के साथ कार्यक्रम हो सकेंगे।
•मनोरंजन के कार्यक्रम में अधिकतम 250 व्यक्ति रहेंगे।
• बड़ी सभाएँ और आयोजन प्रतिबंधित रहेंगे।
• सभी प्रकार की खेल गतिविधियाँ स्टेडियम की 50 प्रतिशत से खिलाड़ी रहेंगे।
• प्री बोर्ड परीक्षाएँ जो 20 जनवरी से थीं इन्हें टेक होम एग्जाम के रूप में किया जाएगा।
• नाइट कर्फ्यू जारी रहेगा।
• अंत्येष्टि आदि में हिस्सा लेने के लिए 50 लोगों की ही सीमा रहेगी।
• कहीं भी बाजार बंद नहीं होंगे। आर्थिक गतिविधियाँ जारी रहेंगी।
• सामाजिक दूरी बनाए रखें। सभी लोग फेस मॉस्क का उपयोग करें। सार्वजनिक स्थान पर इसका उपयोग अनिवार्य है। फेस मॉस्क का उपयोग न करने पर जुर्माने की कार्यवाही की जाएगी।

..........
3
271 views    0 comment
0 Shares

कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने किया शहर में निरीक्षण

7 दुकाने 48 घंटे के लिए बंद

रतलाम कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी एसडीएम अभिषेक गहलोत सीएसपी हेमंत चौहान आदि अधिकारियों के साथ शहर में निरीक्षण के लिए विभिन्न स्थानों पर पहुंचे।

अधिकारियों द्वारा मित्र निवास रोड राजपूत बोर्डिंग अलकापुरी शहर सराय धानमंडी इत्यादि क्षेत्रों में भ्रमण करके मास्क नहीं पहनने के विरुद्ध कार्यवाही की गई। दुकानदार के मास्क नहीं पहनने पर शहर में 7 दुकाने 48 घंटे के लिए बंद की गई। दुकानदारों के विरुद्ध धारा 188 में प्रकरण दर्ज किए गए। दुकानों पर दो-दो हजार रुपए जुर्माना किया गया। इसके अलावा राहगीरों के निरीक्षण में भी मास्क  नहीं पहने जाने पर नगर निगम टीम द्वारा 200 रुपए स्पाट फाइन किया गया। मास्क नहीं पहनने वालों के विरुद्ध जिला प्रशासन की मुहिम लगातार जारी रहेगी।

कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया

इसके पूर्व कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम ने प्रातः जनपद पंचायत कार्यालय परिसर स्थित ई दक्ष केंद्र में बनाए गए कोविड-कमांड एवं कंट्रोल सेंटर का निरीक्षण किया। इस दौरान होम आइसोलेटेड मरीजों की मानिटरिंग सिस्टम को देखते हुए आवश्यक निर्देश दिए। 175 कॉलिंग सिस्टम की वर्किंग प्रक्रिया की जानकारी ली। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी एसडीएम अभिषेक गहलोत डिप्टी कलेक्टर सुश्री मनीषा वास्कले डॉक्टर प्रमोद प्रजापति डॉक्टर गौरव बोरीवाल आदि उपस्थित थे।

..........
5
3806 views    0 comment
28 Shares

रतलाम जिला आत्मनिर्भरता की ओर अग्रसर 12 हजार से ज्यादा युवा रोजगार से जुड़े

रोजगार दिवस आयोजित

हितग्राहियों को 47 करोड़ रूपए के वित्त लाभ प्रदान किए गए

रतलाम जिले के लिए 12 जनवरी का दिन स्वर्णिम रहा। शहर में  रोजगार मेला आयोजित हुआ। मेले में आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के तहत शासन की कल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से बड़ी मात्रा में वित्त लाभ हितग्राहियों को प्रदान किए गए। स्वामी विवेकानंद की जयंती युवा दिवस के अवसर पर आयोजित रोजगार दिवस पर जिले के 12 हजार 840 हितग्राही लाभान्वित हुए जिन्हें 47 करोड़ रूपए के वित्त लाभ प्रदान किए गए। बरबड विधायक सभागृह पर आयोजित कार्यक्रम में विधायक शहर श्री चेतन्य काश्यप विधायक जावरा डॉ. राजेंद्र पाण्डेय विधायक ग्रामीण श्री दिलीप मकवाना कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम सीईओ जिला पंचायत श्रीमती जमुना भिड़े निगमायुक्त श्री सोमनाथ झारिया आदि अधिकारी तथा हितग्राही उपस्थित थे।

रोजगार दिवस के अवसर पर जिले के स्वयं सहायता समूहों के 8 हजार सदस्यों को 6 करोड़ 6 लाख रुपए की ऋण सहायता रोजगार के लिए उपलब्ध कराई गई। प्रधानमंत्री ग्राम सृजन योजना अंतर्गत 97 युवाओं को 14 करोड़ 50 लाख रूपए वितरित किए गए। प्रधानमंत्री स्वनिधि में 2001 हितग्राहियों को 2 करोड़ 18 लाख रुपए की ऋण सहायता वितरित की गई। इनमें बगैर ब्याज के 10 हजार तथा 20 हजार रूपए के ऋण सम्मिलित है।

रोजगार दिवस में मुख्यमंत्री स्ट्रीट वेंडर योजना के 985 हितग्राहियों को 98 लाख 50 हजार रुपए की ऋण सहायता वितरित की गई। राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत 440 महिलाओं को तथा राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत 7672 महिलाओं को लाभान्वित किया गया।

शासन की विभिन्न स्वरोजगार योजनाओं में 165 हितग्राहियों को 2 करोड़  88 लाख रुपए की ऋण सहायता दी गई। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री राशन आपके द्वार योजना अंतर्गत 02 हितग्राहियों को ऋण के माध्यम से क्रय वाहन प्रदान किए गए। कृषि अधोसंरचना में भी वितरण किया गया। इसके तहत 60 हितग्राहियों को 12 करोड रूपए की सहायता दी गई। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में 30 हितग्राहियों को 30 लाख रुपए का वितरण किया गया। इसके अलावा उद्यानिकी मत्स्य पशु चिकित्सा सेवाओं विभागों के भी लाभ वितरण किए गए। कार्यक्रम में किसान क्रेडिट कार्ड का भी वितरण किया गया।

कार्यक्रम में संबोधित करते हुए शहर विधायक श्री चेतन्य काश्यप ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा पूरी संवेदनशीलता के साथ सभी वर्गों के विकास के लिए योजनाएं संचालित की जा रही है। वर्तमान में प्रधानमंत्री मुद्रा तथा जनधन जैसी योजनाओं से आम आदमी को भी बैंक बीमा जैसी सेवाओं से जोड़ा गया है जो पूर्व समय में आम आदमी के लिए सुलभ नहीं थी। आज आम आदमी की पहुंच बैंक बीमा सेवाओं तक शासन के प्रयासों से हो गई है जो उनके जीवन में खुशहाली ला रही है। श्री काश्यप ने रोजगार मेले के माध्यम से लाभान्वित हितग्राहियों से आग्रह किया कि बैंकों के माध्यम से मिली धन राशि से अपने व्यवसाय में वृद्धि करें। अपने व्यवसाय को उन्नत करें उद्यमी बनकर दूसरों को भी रोजगार दें। श्री काश्यप ने कहा कि हमारे देश में प्राचीन समय से ही उद्यमिता को सर्वाधिक महत्व दिया गया है क्योंकि उद्यमी आदमी न केवल स्वयं लाभान्वित होता है बल्कि दूसरों को भी रोजगार देकर खुशहाल बनाता है।

विधायक डा. पांडेय ने अपने संबोधन में कहा कि हम आत्मनिर्भर और स्वर्णिम मध्यप्रदेश की ओर बढ़ रहे हैं इसमें सबकी सहभागिता है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान लगातार स्वर्णिम तथा आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए कार्य कर रहे हैं। इसका सुपरिणाम कई क्षेत्रों में देखने को मिल रहा है। आज मध्यप्रदेश ऊर्जा उत्पादन में इतना अग्रणी हो गया है कि दूसरे राज्यों को भी बिजली आपूर्ति करने में सक्षम है। मुख्यमंत्री स्ट्रीट वेंडर योजना छोटे धंधे रोजगार करने वाले बंधुओं के लिए वरदान साबित हो रही है। मध्यप्रदेश में सर्वांगीण विकास को गति दी गई है।

विधायक ग्रामीण श्री दिलीप मकवाना ने अपने संबोधन में कहा कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश की अवधारणा के तहत रोजगार मेले का आयोजन युवाओं को रोजगार स्वरोजगार की दिशा में अग्रणी करेगा। श्री मकवाना ने आग्रह किया कि युवा उद्यमी बने और दूसरों को भी रोजगार देने में सक्षम बने।

कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम ने अपने उद्बोधन में कहा कि जिला तेजी से रोजगार के क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। 47 करोड़ रूपए के ऋण तथा अन्य लाभ विभिन्न योजनाओं में प्रदान किए गए हैं। निश्चित रूप से भविष्य में भी हम अधिकाधिक रूप से रोजगार का सृजन करेंगे। प्रारंभ में स्वागत उद्बोधन देते हुए जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक श्री दिलीप सेठिया ने रोजगार मेला आयोजन के उद्देश्य तथा योजनाओं में वितरण की विस्तृत जानकारी प्रदान की। कार्यक्रम का संचालन श्री आशीष दशोत्तर ने किया। कार्यक्रम में महाप्रबंधक उद्योग मुकेश शर्मा जिला आपूर्ति अधिकारी एस.एच. चौधरी परियोजना अधिकारी शहरी विकास अरुण पाठक एनआरएलएम जिला समन्वयक श्री हिमांशु शुक्ला उप संचालक उद्यानिकी पी.एस. कनेल सहायक आपूर्ति अधिकारी उमेश पांडे नगर निगम कार्यपालन यंत्री श्री सुरेश व्यास सहायक यंत्री श्री श्याम सोनी उपयंत्री श्री आचार्य आदि उपस्थित थे।

..........
0
0 views    0 comment
0 Shares

देश के विकास की अनिवार्य आवश्यकताओं को पूरा करना ही शिक्षा नीति का लक्ष्य

राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन हेतु उन्मुखीकरण कार्यशाला आयोजित

रतलाम राष्ट्रीय शिक्षा नीति 21वीं शताब्दी की पहली शिक्षा नीति है जिसका लक्ष्य देश के विकास के लिए अनिवार्य आवश्यकताओं को पूरा करना है । यह नीति भारत की परंपराओं और सांस्कृतिक मूल्यों के आधार को बरकरार रखते हुए 21वीं सदी की शिक्षा के लिए लक्ष्यों को निर्धारित करती है।  प्रत्येक व्यक्ति में निहित रचनात्मक क्षमताओं के विकास पर जोर देती है। 

उक्त तथ्य राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 के क्रियान्वयन हेतु शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय शिवगढ़ में आयोजित उन्मुखीकरण कार्यशाला में परिसंवाद के दौरान उभर कर सामने आए।  संस्था प्राचार्य जितेंद्र कुमार गुप्ता के मार्गदर्शन में आयोजित कार्यशाला में जनप्रतिनिधि समरथ टांक सहित विद्यालय परिवार के सदस्य मौजूद थे। कार्यशाला में श्रीमती हंसा चौहान ने प्रारंभिक बाल्यावस्था एवं शिक्षा पर विचार व्यक्त किए। श्री यदुनंदन सोलंकी ने बुनियादी साक्षरता एवं संख्यात्मक ज्ञान की अवधारणा पर विस्तार से प्रकाश डाला राकेश बर्मा ने ड्रॉपआउट बच्चों की संख्या को कम करने के लिए शिक्षा नीति में बताए गए बिंदुओं की व्याख्या की।

उमेश बारोदिया ने स्कूलों के पाठ्यक्रम और शिक्षण शास्त्र पर विचार व्यक्त किए। श्रीमती मनीषा मालवीय शिक्षा नीति में शिक्षक के लिए निर्धारित दायित्वों पर प्रकाश डाला। जितेंद्र सिंह खराड़ी ने विद्यार्थियों के विकास में शिक्षक की भूमिका के संबंध में विचार व्यक्त किए। श्री बी.एस. राठौर एवं श्रीमती प्रगति शर्मा ने समतामूलक व समावेशी शिक्षा की अवधारणा को स्पष्ट किया। श्रीमती आरती कौशिक एवं जगदीश सुमन ने स्कूल कांपलेक्स एवं क्लस्टर पर अपने विचार व्यक्त किए। सुश्री वंदना बामनिया ने स्कूली शिक्षा के लिए मानक निर्धारण संबंधी बिंदुओं को समझाया रुद्रेश देराश्री ने प्रौद्योगिकी एवं एकीकरण तथा कौशल विकास में विद्यार्थियों की भूमिका के संबंध में विचार व्यक्त किए।

..........
1
277 views    0 comment
1 Shares

*कभी मैजिक वाहन में तो कभी पैदल चले कलेक्टर एसपी शहर में मास्क पहने लोगों को शाबासी दी नहीं पहनने वालों पर जुर्माना किया दुकानदार मास्क पहने नहीं दिखे तो लगभग 15 दुकानें 48 घंटे के लिए बंद की गई*

रतलाम कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम तथा पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी कोरोना संक्रमण नियंत्रण के दृष्टिगत रविवार दोपहर अलग ही रूप में नजर आए। दोनों अधिकारी मास्क पर निगरानी के लिए शहर में निकले। कलेक्टर एसपी ने कभी मैजिक वाहन में बैठकर तो कभी पैदल चलकर लोगों के मास्क पहनने का जायजा लिया। मास्क नहीं पहनने वालों के विरुद्ध जुर्माना किया और सभी से मास्क पहनने की अपील भी की मास्क पहने लोगों को शाबासी दी। इस दौरान पुलिस का वज्र वाहन साथ चल रहा था। साथ ही निगमायुक्त सोमनाथ झारिया सिटी एसडीएम अभिषेक गहलोत सीएसपी हेमंत चौहान तहसीलदार गोपाल सोनी भी थे जिनके द्वारा मास्क नहीं पहनने वाले दुकानदारों और राहगीरों पर जुर्माना किया जा रहा था और मास्क प्रदान किए जा रहे नगर निगम के शैलेंद्र गोठवाल भी टूव्हीलर वाहन पर चलते हुए माईक से मास्क पहनने की समझाईश दे रहे थे।

मैजिक वाहन में बैठकर या पैदल चलते हुए कलेक्टर तथा एसपी दो बत्ती क्षेत्र से मुहिम प्रारंभ की। वे न्यू रोड लोकेन्द्र टॉकीज चौराहा सैलाना बस स्टैंड होते हुए पुनः दो बत्ती से स्टेशन रोड होते हुए फव्वारा चौक तक पहुंचे। इस दौरान कड़ी निगाह रखते हुए जिन लोगों ने मास्क नहीं पहना था उनको समझाईश दी और जुर्माना भी वसूला गया। पूरी मुहिम में करीब 15 व्यापारिक प्रतिष्ठान इस कारण बंद कराए गए क्योंकि वहां दुकानदारों द्वारा मास्क नहीं पहना गया था। प्रत्येक दुकान से 2000 जुर्माना राशि वसूली गई। दुकान 48 घंटे के लिए बंद कर दी गई और धारा 188 के तहत प्रकरण दर्ज किया गया।

दुकानदारों के मास्क नहीं पहनने पर जो दुकाने 48 घंटे के लिए बंद कर दी गई उनमें दो बत्ती क्षेत्र की इंडिया वॉच इंडियन फैशन स्टेशन रोड पर शंकर डेयरी महू रोड पर कोहिनूर रिपेयरिंग पोस्ट ऑफिस रोड पर जेपी मेडिकल धर्मवीर ऑटो गैरेज न्यू रोड पर बालाजी रेस्टोरेंट द बेकरी रॉयल पेंट्स आदि शामिल है।

मास्क नहीं पहनने वाले करीब 50 से 60 लोगों को ओपन जेल भेजा गया। कलेक्टर श्री पुरुषोत्तम ने बताया कि मास्क नहीं पहनने वालों के विरुद्ध शहर में मुहिम सतत जारी रहेगी कार्रवाई औचक रूप से की जाएगी। इस दौरान राजस्व विभाग नगर निगम तथा पुलिस की टीम साथ चल रही थी। उनके द्वारा मास्क नहीं पहनने वाले व्यक्तियों से जुर्माना वसूल किया गया। टू व्हीलर फोर व्हीलर पर चलने वाले लोगों पर निगाह रखी गई दुकानों में बैठे लोगों को समझाईश दी गई।

..........
10
2792 views    0 comment
25 Shares

पुलिस थाना बिलपांक अंतर्गत हुए 

जघन्य हत्याकाण्ड का पर्दाफाश

घटना का संक्षिप्त विवरण 

दिनांक 04.01.22 को ग्राम रत्तागढ़खेड़ा में ब्लास्टिंग से लालसिंह पिता नरसिंह कतीजा की मृत्यु की सूचना पुलिस थाना बिलपांक को प्राप्त हुई थी घटना की प्रकृती व वारदात के तरीके की गंभीरता को देखते हुए घटना स्थल का मुआयना पुलिस अधीक्षक रतलाम श्री गौरव तिवारी(भा0पु0से0) के साथ एस0डी0ओ0पी0 ग्रामीण संदीप निगवाल एफ.एस.एल.अधिकारी अतुल मित्तल थाना प्रभारी बिलपांक दीपक सेजवार एवं बिलपांक पुलिस टीम रतलाम  BD & DS  की टीम के साथ घटना स्थल का मौका निरीक्षण किया घटना स्थल के निरीक्षण पर मृतक का शरीर ब्लास्ट से काफी क्षतविक्षिप्त हो गया था एवं धमाके से घटना स्थल पर ज़मीन पर गद्दा हो गया था मौके पर पुलिस FSL एवं BD & DS टीम के द्वारा महत्वपूर्ण आवश्यक भौतिक साक्ष्य एकत्रित किए गये जिससे पाया गया की घटना को जिलेटिन रॉड व डेटोनेटर का प्रयोग कर कारित किया गया है ।  मृतक का पोस्ट मार्टम कराया गया जिसमें मृतक की मृत्यु ब्लास्टिंग से होना पाया गया । मृतक की मृत्यु पर मर्ग एवं अपराध धारा 302 भादवि का अज्ञात आरोपी के विरुद्ध पंजीबद्ध कर विवेचना प्रारम्भ की गयी

घटना के संबंध में ग्रामीणो से पूछताछ करते ग्रामीणो द्वारा बताया गया की उक्त ब्लास्टिंग जैसी घटना करीब 06 माह पहले उसी खेत के पास पुर्व सरपंच भंवरलाल के खेत के ट्युबवेल पर ब्लास्टिंग लगाकर हुई थी जिसमें तत्समय पुर्व सरपंच भंवरलाल बच गए थे एवं उन्हे मामूली चोटे आई थी । उक्त घटना पुलिस के संज्ञान में आने पर दोनों घटनाओ में समानता को देखते हुए एवं मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक रतलाम  श्री गौरव तिवारी
(भा0पु0से0) के द्वारा एस0आई0टी0 का गठन किया गया एवं पुलिस अधीक्षक रतलाम द्वारा अज्ञात आरोपी की पतारसी हेतु 10,000/- रूपये का ईनाम की घोषणा भी की गई

टीम का गठन :- 
उक्त घटना की प्रकृती तरीका और पेचिदगी को देखते हुए और अंधे कत्ल का पर्दाफाश करने व उत्कृष्ठ विवेचना हेतु श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय जिला रतलाम श्री गौरव तिवारी (भा.पु.से.) के व्दारा श्रीमान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महोदय रतलाम (शहर) डॉ. इन्द्रजीत बाकलवार एवं श्रीमान अति. पुलिस अधीक्षक महोदय(ग्रामीण) श्री सुनिल पाटीदार के मार्गदर्शन में अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) रतलाम (ग्रामीण) संदीप कुमार निगवाल के  निर्देशन में थाना प्रभारी बिलपांक देपक सेजवार व थाना प्रभारी बाजना रेवलसिंह बरडे के नेतृत्व में 16 सदस्यीय टीम का गठन किया गया । 

कार्यवाही का विवरण

जघन्य हत्याकाण्ड के मृतक लालसिंह उर्फ लाला कतीजा के सम्बन्ध में उसके परिजन व अन्य साक्षीगणो के कथन लिये गये व संदेही व्यक्तियो से पुछताछ की गयी तथा घटना स्थल के आसपास के खेत वालो से काफी पुछताछ की गयी व मुखबीर लगाए गया तथा सायबर टीम की सहायता प्राप्त की गयी   सतत पूछताछ मुखबिर तंत्र की सहायत से उक्त घटना को उसी गाँव के रहने वाले सुरेश पिता रमेश लोढ़ा निवासी रत्तागढ़खेड़ा के द्वारा घटित करना ज्ञात हुआ जिससे पूछताछ हेतु संदेही की तलाश की गई 

संदेही सुरेश लोढ़ा की तलाश करते आसपास के लोगो से पुछताछ करते लोगो द्वारा बताया कि गांव के लालसिंह कतीजा की मृत्यु दिनांक 04.01.22 को हुई थी तभी से सुरेश लोढ़ा के घर पर ताला लगा है व घर से गायब है जिससे पुलिस की शंका में और इजाफा हुआ । अतः संदेही सुरेश लोढ़ा की तलाश सरगर्मी से की गई आरोपी के हर संभव ठिकाने पर दबिश दी गई तलाशी मे संदेही सुरेश लोढ़ा को उसके ससुराल आकतवासा लसोड़ा व बाबरेचा में तलाश हेतु दबिश दी गयी और संदेही सुरेश लोढ़ा व उसकी पत्नी को अभिरक्षा में लेकर पुछताछ की गयी पुछताछ में आरोपी सुरेश लोढ़ा ने जुर्म करना स्वीकार किया 

तरीका-ए-वारदात 

मृतक लालसिंह की हत्या करने के उद्देश्य से आरोपी द्वारा उसके खेत के ट्युबवेल के पास विस्फोटक पदार्थ (टोटे) एवं ब्लास्टिंग डेटोनेटर लगाकर ट्युबवेल के स्टाटर से कनेक्ट कर दिया था जैसे ही सुबह मृतक अपने खेत पर पाणत करने के लिये आया  जैसे ही स्टाटर को स्टार्ट किया जोरदार धमाके के साथ ब्लास्ट हुआ और लालसिंह की मृत्यु हो गयी

घटना का उदेश्य 

आरोपी सुरेश लोढ़ा से पूछताछ पर बताया गया की आरोपी की पत्नी के साथ मृतक लालसिंह भंवरलाल व दिनेश द्वारा सामूहिक दुष्कर्म किया गया जिसके प्रतिशोध में आरोपी सुरेश द्वारा दिनांक 03.01.22 की रात्रि में मौका मिलते ही लालसिंह के खेत पर लगे जान से मारने के उद्देश्य से ट्युबवेल के स्टाटर के विद्युत तार से कनेक्शन देकर टोटे व डेटोनेटर लगाये थे  दिनांक 04.01.22 को सुबह लालसिंह मोटर चालू करने हेतु स्टाटर का बटन दबाते ही विस्फोट के साथ लालसिंह की मृत्यु हो गयी

विवेचना में आए तथ्यो एवं आरोपी सुरेश की पत्नी के कथनो के आधार पर थाना बिलपांक में अपराध क्रमांक :- 16/22 धारा 376(D),342,506,34 भा0द0वि0 का आरोपी भंवरलाल व दिनेश तथा मृतक लालसिंह के विरूद्ध पंजीबद्ध कर आरोपी भंवरलाल व दिनेश जादव को अभिरक्षा में लिया गया है 

आरोपी सुरेश लोढ़ा से घटना में प्रयुक्ट टोटे व डेटोनेटर के सम्बन्ध में पुछताछ करते बताया कि मैने टोटे व डेटोनेटर बद्री पिता रामेश्वर पाटीदार निवासी सिमलावदा से खरीदे थे आरोपी बद्री पिता रामेश्वर पाटीदार को गिरफ्तार किया गया व आरोपी सुरेश लोढा के घर से बचे हुए टोटे व डेटोनेटर जप्त किये गये

प्रकरण में विवेचना के दौरान आए तथ्यो के आधार पर विस्फोटक अधीयम व ST/SC एक्ट की धाराओ का इजाफा किया गया है 

गिरफ्तार आरोपी 

अपराध क्रमांक :- 13/22 धारा 302 भा0द0वि0 

 (01) सुरेश पिता रमेश जादव जाति लोढ़ा उम्र 32 वर्ष निवासी रत्तागढ़खेड़ा

(02) बद्रीलाल पिता रामेश्वर पाटीदार उम्र 40 साल निवासी सिमलावदा

अपराध क्रमांक :- 16/22 धारा 376(D),342,506,34 भा0द0वि0 

1.आरोपी भंवरलाल पिता पूना जी 

2.दिनेश पिता जगदीश  

 

जप्त संपत्ति

आरोपी सुरेश से जप्ती – 05 जिलेटिन के टोटे व 05 डेटोनेटर 

आरोपी बद्रीलाल पाटीदार से जप्ती  -- 07 जिलेटिन के टोटे व 10 डेटोनेटर     

पर्दाफाश करने में सराहनीय भूमिका

श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय रतलाम श्री गौरव तिवारी के मार्गदर्शन में श्रीमान अति. पुलिस अधीक्षक महोदय(शहर) इन्द्रजीत बाकरवार श्रीमान अति. पुलिस अधीक्षक महोदय(ग्रामीण) सुनिल पाटीदार श्रीमान SDOP महोदय रतलाम ग्रामीण संदीप निगवाल के निर्देशन में थाना प्रभारी बिलपांक निरीक्षक दीपक सेजवार निरीक्षक रेवलसिंह बरड़े उनि अमित शर्मा उनि अनुराग यादव उनि लोकेन्द्रसिंह डावर उनि सपना राठौर प्र.आर. राजू अमलियार प्र. आर. नीरज त्यागी प्र.आर.गजेन्द्र शर्मा प्र.आर. लाखनसिंह प्रआर राजेन्द्र जगताप आर. राकेश वर्मा आर.अशोक यादव आर.पप्पू चौहान आर. दुर्गालाल गुजराती तथा सायबर सेल रतलाम से उनि श्रवणसिंह भाटी प्र.आर. मनमोहन शर्मा प्र.आर. हिम्मतसिंह आर. विपुल भावसार एवं BD&DS टीम की सराहनीय भूमिका रही जिन्हे पुरुसकृत किया जावेगा।

..........
<