logo
logo
(Trust Registration No. 393)
aima profilepic
VICTOR GUPTA
All India Media Association

पंजाब के खेल मंत्री राणा गुरमीत सोढ़ी पर उनकी गुरु हरसहाय की जमीन का दो बार अधिग्रहण करवा दोहरा मुआवजा लेने का आरोप लगाते हुए मामले की सीबीआई जांच की पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट से मांग की है। याचिका पर सुनवाई से जस्टिस अरुण पल्ली ने खुद को अलग कर लिया, जिसके चलते अब नई बेंच गठित की जाएगी।


रूपनगर के दिनेश चड्ढा, सुरिंदर पाल सिंह और कमल सिंह ने एडवोकेट समीर सचदेवा के माध्यम से हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की है। उन्होंने सोढ़ी पर आपराधिक मुकदमा दर्ज करने और मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की अपील की है। याची ने बताया कि पंजाब सरकार ने 1962 में फिरोजपुर से फाजिल्का के लिए सड़क निर्माण के लिए राणा गुरमीत सोढ़ी और उनके परिवार की 12 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया था, जिसका मुआवजा 1963 में दे दिया गया।


यहां पर सड़क बना भी दी गई थी। राणा गुरमीत सोढ़ी ने 2000 में इन सभी तथ्यों को छिपा कर निचली अदालत में याचिका दायर कर दी और कहा कि बिना जमीन का अधिग्रहण किए और मुआवजा दिए उनकी जमीन पर सड़क बना दी है। इसलिए उन्हें उनकी जमीन वापस की जाए या उचित मुआवजा दिया जाए। 2007 में फैसला उनके पक्ष में आ गया। 


..........
0
185 views    0 comment
0 Shares

0
284 views    0 comment
0 Shares

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों के समर्थन में आम आदमी पार्टी ने सभी सांसदों को व्हिप जारी किया है। आप के पंजाब प्रदेश प्रधान और सांसद भगवंत मान ने कहा कि कृषि कानूनों के विरोध में 19 जुलाई से शुरू हो रहे मानसून सत्र में पार्टी के सभी सांसद मौजूद रहेंगे। जहां वह किसानों के मुद्दों को प्रमुखता से उठाएंगे। उन्होंने कहा कि आप पहले भी किसानों के साथ थी और आगे भी रहेगी।


गुरुवार को जारी अपने बयान में मान ने कहा कि आप शुरू से ही किसानों की आवाज को बुलंद करती आई है और इस संसद सत्र के दौरान भी जोर-शोर से किसानों के मुद्दे उठाएगी। सांसद होने के नाते हमारा यह फर्ज बनता है कि अन्नदाता की आवाज मोदी सरकार के कानों तक पहुंचाई जाए और इन कृषि कानूनों को रद्द करने की गुहार लगाई जाए।

 
विरोधी दलों के सभी संसद सदस्यों को मान ने कहा कि उनको ऐसे नाजुक समय के दौरान किसानों का साथ देना चाहिए। उन्होंने वादा किया कि वह इस संबंध में सभी विरोधी पक्ष के संसद सदस्यों को भी जागरूक करने का प्रयास करेंगे। मान ने कहा कि उन्होंने इस सत्र के दौरान किसानी के साथ संबंधित कई सवाल भी दाखिल किए हुए हैं और लोकसभा के स्पीकर की इजाजत के साथ वह किसानों के सवाल भी उठाएंगे। 

मोदी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए भगवंत मान ने कहा कि यह अति दुर्भाग्यपूर्ण है कि देश का किसान अपनी जायज मांगों को मनवाने के लिए भी पिछले करीब एक साल से सड़कों पर है। उन्होंने कहा कि सत्र के दौरान जत्थे बनाकर संसद भवन आने वाले किसानों के साथ मुलाकात करते रहेंगे और उनकी हर संभव सहायता करेंगे।


..........
0
371 views    0 comment
0 Shares

अमृतसर। विजिलेंस ब्यूरो ने सरकारी नौकरी लगवाने का झांसा देकर लोगों को ठगने वाले गिरोह का वीरवार को पर्दाफाश किया है। ब्यूरो की टीम ने ट्रैप लगा कर मल्टीपर्पज हेल्थ वर्कर और सरपंच सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के कब्जे में शिकायतकर्ता द्वारा दिए गए 50 हजार रुपये भी बरामद कर लिए हैं।

विजिलेंस ब्यूरो के डीजी बीके उप्पल ने वीरवार की देर रात प्रेस को जारी एक बयान में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि तरनतारन ब्यूरो यूनिट के डीएसपी हरजिंदर सिंह ने ट्रैप लगाकर एमपीएच पृथीपाल सिंह और उसके साथी वरपाल गांव के मलकीत सिंह को रंगे हाथों गिरफ्तार करके उनके कब्जे से पीड़ित द्वारा दिए गए 50 हजार रुपये बरामद कर आरोपियों के खिलाफ रिश्वतखोरी का केस दर्ज कर लिया। उन्होंने बताया कि पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि लुधियाना निवासी किंगपिन सुखवंत सिंह यह नैक्सस लुधियाना से चला रहा है, जो लोगों को नौकरी का झांसा देकर अपने जाल में फांसकर ठगी कर रहा है।

पूछताछ में आरोपियों ने खुलासा किया कि सुखवंत सिंह ने तरनतारन के मोहल्ला जसवंत सिंह नगर निवासी बरिंदरपाल सिंह को पीएसपीसीएल में हेल्पर की नौकरी दिलाने के नाम पर उससे तीन लाख रुपये लेने थे, जबकि उन दोनों के हिस्से 25-25 हजार रुपये आने थे। इससे पहले सुखवंत सिंह ने अमृतसर जिले के मल्लियां गांव के रहने वाले हरप्रीत सिंह से भी 1.5 लाख रुपये ठगे थे। मलकीत सिंह ने यह भी बताया कि कद गिल गांव का सरपंच हरपाल सिंह भी तरनतारन और अमृतसर में इसी तरह का गिरोह चला रहा है। डोमनिक सहोता के जरिए साल 2019 में उसने चार लोगों को बीएसएफ में लिखित मेडिकल टेस्ट करवा कर प्रत्येक से 2.80-2.80 लाख रुपये लिए थे।

जांच में यह भी सामने आया कि डोमिनिक सहोता गैंगेस्टर है, जिसे मोहाली पुलिस ने जनवरी 2021 में गिरफ्तार कर 364-ए, 34 आईपीसी और 25-54-59 असलहा एक्ट का केस दर्ज किया था।

मोहाली पुलिस ने इसके कब्जे से 32 बोर के तीन अवैध हथियार और एक देसी कट्टा बरामद करने के साथ ही एक जाली पहचान पत्र, एक यूनिफार्म, एक लैपटॉप और चार वाहन बरामद करने के साथ ही फिरौती के लिए ली गई 2.5 लाख रुपये की राशि भी बरामद की थी। सहोता खुद को बीएसएफ का सहायक कमांडेंट और उसका पिता गोविंदर सिंह इंस्पेक्टर बताया था।

सहोता का भाई मुखत्यार सिंह उर्फ पीटर, अमनदीप सिंह, राजवीर सिंह और युद्धवीर सिंह को भी मोहाली पुलिस ने इस मामले में गिरफ्तार किया था। जो आजकल रोपड़ जेल में बंद हैं। उन्होंने कहा कि रिश्वतखोरी के मामले में सहोता को रोपड़ की जेल से प्रोडक्शन वारंट पर लाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि इस मामले में ने ब्यूरो में शिकायत दी थी। जिसमें उसने बताया था कि वह तरनतारन जिला के गांव धोतियां के प्राइमरी हेल्थ सेंटर में तैनात मल्टीपर्पज हेल्थ वर्कर (एमपीएच) प्रिथीपाल सिंह के साथ उसकी पहचान थी, जिसने उसे सरकारी नौकरी पर रखवाने की पेशकश की। उसने बताया कि वह यह नहीं चाहता लेकिन वह (आरोपी) उसके चक्क सिकंदर गांव के रहने वाले रिश्तेदार हरमनदीप सिंह को नौकरी पर रखवा दे।

शिकायतकर्ता ने बताया कि आरोपी प्रिथीपाल सिंह इसके लिए उसे मलकीयत सिंह से मिलवाया, जिसने खुद को पंजाब सरकार के परसोनल विभाग का कर्मचारी बताया और सरकारी नौकरी लगवाने के बदले 3.50 लाख रुपये की मांग की।

इसमें से आरोपियों ने 1.75 लाख रुपये पहले देने को कहा, जबकि आरोपी पऱिथिपाल सिंह पहले ही 5 जुलाई 2021 को उनसे 10 हजार रुपये ले चुका था। पीड़ित ने ब्यूरो को बताया कि पऱिथीपाल सिंह ने उन्हें फोन करके 1.75 लाख रुपये देने को कहा ताकि भरती पऱकऱिया शुरू की जा सके।

शिकायतकर्ता ने ब्यूरो को बताया कि प्रिथीपाल सिंह ने उनसे कहा कि अगर उक्त राशि का प्रबंध नहीं है तो वह एक लाख या पचास हजार रुपये दे दे। शिकायतकर्ता क्योंकि रिश्वत देकर सरकारी नौकरी नहीं पाना चाहता था और इस गिरोह का भी भंडाफोड़ करना चाहता था। तो पीड़ित ने ब्यूरो के पास पहुंच कर बताया कि आरोपी पऱिथीपाल सिंह और मलकीत सिंह उनसे पचास हजार रुपये की मांग कर रहा है।


..........
0
633 views    0 comment
0 Shares

जालंधर । कृषि कानून रद्द न होने से गुस्साए किसानों ने भाजपा के बाद कांग्रेस के मंत्रियों का विरोध करना शुरू कर दिया है। बुधवार को पंजाब के जांलधर में स्वास्थ्य मंत्री बलवीर सिद्धू को गांव धन्नोवाली में अर्बन हेल्थ डिस्पेंसरी का उद्घाटन करने आना था। इससे पहले ही किसानों ने विरोध शुरू कर दिया। इसका पता चलते ही पुलिस अलर्ट हो गई, जिसके बाद मंत्री का दौरा रद्द करा दिया गया। 


किसानों ने कहा कि सभी दलों के नेताओं को गांवों में घुसने नहीं दिया जाएगा। फिलहाल पुलिस ने माहौल बिगड़ते देख उद्घाटन समारोह टाल दिया है। कुछ समय के लिए स्थिति तनावपूर्ण भी हो गई, जब पुलिस अधिकारी किसानों से बातचीत कर रहे थे तो पीछे से डिस्पेंसरी का उद्घाटन करने की कोशिश की गई। 


पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की तरफ से जोर लगाया गया कि किसी तरह से किसान मान जाएं लेकिन किसान नेताओं की नाराजगी कम नहीं हुई और आखिरकार उद्घाटन रद्द करना पड़ा। किसान नेता हरजोत सिंह ने कहा कि डिस्पेंसरी के बने पांच साल हो गए हैं। अब तक यह बंद पड़ी थी लेकिन बुधवार अचानक स्वास्थ्य मंत्री बलवीर सिंह सिद्धू आ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि किसान तीन काले कानूनों के विरोध में संघर्ष कर रहे हैं। इसके बावजूद राजनीतिक दल उनका साथ नहीं दे रहे तो नेताओं को गांवों में नहीं घुसने देंगे। उन्होंने कहा कि डिस्पेंसरी का उद्घाटन करने का हक किसान यूनियन का है। किसान परेशान हैं और नेता राजनीति चमका रहे हैं। जब तक किसानों की मांग पूरी नहीं होती, तब तक हर पार्टी का गांव में घुसने पर विरोध किया जाएगा।


..........
0
419 views    0 comment
0 Shares

स्थानीय बस स्टैंड के पास स्थित एक होटल मालिक ने मंगलवार की देर शाम जहरीला पदार्थ निगलकर आत्महत्या कर ली। कोतवाली थाने की पुलिस को मृतक के पास से चार पन्नों का सुसाइड नोट बरामद हुआ है। पुलिस ने बुधवार को पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया है।


जांच अधिकारी गुरमीत सिंह नागरा ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। होटल मालिक के बेटे हरमनप्रीत सिंह का कहना कि कि उनके पिता कुलवंत सिंह बस स्टैंड के पास एक होटल चलाते थे। उनके पिता एक महिला और उसके साथियों के संपर्क में आए थे। उन्होंने उनके पिता को ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। 


कुलवंत सिंह ने आरोपियों को 10 लाख रुपये की राशि भी दे दी थी। अब आरोपी फिर से 10 लाख रुपये मांग रहे थे। हरमनप्रीत सिंह ने पुलिस को बताया कि उनके पिता कुछ दिनों से काफी परेशान थे। पूछने पर भी उन्हें कुछ नहीं बताया और आत्महत्या कर ली। 

..........
0
327 views    0 comment
0 Shares

रंजीत एवेन्यू पुलिस ने मंगलवार शाम दो युवकों को गिरफ्तार कर उनसे 25 दिन पहले लूटी फीगो कार बरामद की है। पुलिस ने दोनों आरोपियों को अदालत में पेश कर रिमांड पर ले लिया है। यह जानकारी एसीपी सरबजीत सिंह ने दी।

एसीपी ने बताया कि आरोपियों की पहचान विक्रमजीत सिंह उर्फ विक्की और अमृतपाल सिंह के तौर पर हुई है। इन्होंने 20 जून की रात 11 बजे रंजीत एवेन्यू क्षेत्र में सरबजीत सिंह को पिस्तौल दिखाकर फीगो कार लूट ली थी। जांच में सामने आया है कि आरोपी विक्की के खिलाफ पहले से दो अलग-अलग मामले दर्ज हैं। इसके अलावा दूसरा आरोपी अमृतपाल सिंह आइलेट्स कर रहा था। इसके अलावा इनके दो और साथी भी हैं, जिन्हें भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।


..........
0
707 views    0 comment
0 Shares

रंजीत एवेन्यू पुलिस ने मंगलवार शाम दो युवकों को गिरफ्तार कर उनसे 25 दिन पहले लूटी फीगो कार बरामद की है। पुलिस ने दोनों आरोपियों को अदालत में पेश कर रिमांड पर ले लिया है। यह जानकारी एसीपी सरबजीत सिंह ने दी।

एसीपी ने बताया कि आरोपियों की पहचान विक्रमजीत सिंह उर्फ विक्की और अमृतपाल सिंह के तौर पर हुई है। इन्होंने 20 जून की रात 11 बजे रंजीत एवेन्यू क्षेत्र में सरबजीत सिंह को पिस्तौल दिखाकर फीगो कार लूट ली थी। जांच में सामने आया है कि आरोपी विक्की के खिलाफ पहले से दो अलग-अलग मामले दर्ज हैं। इसके अलावा दूसरा आरोपी अमृतपाल सिंह आइलेट्स कर रहा था। इसके अलावा इनके दो और साथी भी हैं, जिन्हें भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।


..........
0
213 views    0 comment
0 Shares

सरकारी मेडिकल कॉलेज में विद्यार्थियों की न्यूड रैगिंग किए जाने की ईमेल आने से हड़कंप मचा हुआ है। कॉलेज प्रबंधन ने एक तरफ जहां इस बाबत साइबर क्राइम सेल को सूचना दी, तो वहीं दूसरी तरफ कॉलेज की एंटी रैगिंग कमेटी भी जांच में जुट गई है। हालांकि एंटी रैगिंग कमेटी की जांच में इस तरह की कोई बात सामने नहीं आई है।

मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. राजीव देवगन ने बताया कि 11 जून को किसी अज्ञात व्यक्ति ने उनके कॉलेज के एक होस्टल में विद्यार्थियों से न्यूड रैगिंग किए जाने की ईमेल डाली। यह ईमेल नेशनल एंटी रैगिंग पोर्टल पर भी दिखाई दी। इसके बाद कॉलेज की एंटी रैगिंग कमेटी ने कड़ा संज्ञान लेते हुए जांच शुरू कर दी। उन्होंने बताया कि ईमेल में जिस होस्टल की बात कही गई है, वहां हर एंगल पर आठ सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं।

एंटी रैगिंग कमेटी के सदस्यों ने जहां होस्टल के सभी कैमरों की एक-एक मिनट की क्लिपिंग देखी, वहीं उस होस्टल में रहने वाले विद्यार्थियों के बयान भी लिए। इस दौरान होस्टल में काम करने वाले लड़कों और सुरक्षा कर्मियों के भी बयान लिए गए। अभी तक ऐसी कोई बात सामने नहीं आई कि किसी विद्यार्थी की रैगिंग की गई हो।


..........
0
324 views    0 comment
0 Shares

अमृतसर के छेहरटा के हरगोबिंद एवेन्यू इलाके में मशहूर कव्वाल मनमीत की मां कुलजीत कौर अपने बेटे के सिर पर बार-बार हाथ फेर कर बेहोश हो रही थीं। बार-बार यह कह रही थीं कि पुत्त तू तां वड्डा गायक बनना सी। मैं ते तैनूं वड्डा गायक बनदा देखना चाहुंदी सी लेकिन तेरे दुनिया से जाने के बाद यह हसरत दिल में ही रह गई। 


बुधवार को मनमीत का शव हिमाचल प्रदेश से अमृतसर लाया गया था। मनमीत सिंह का अंतिम संस्कार घन्नूपुर काले रोड स्थित श्मशान घाट में किया गया। सैकड़ों की संख्या में पहुंचे लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। संस्कार में एसजीपीसी सदस्य बावा सिंह गुमानपुरा, पार्षद सुरजीत पहलवान सहित भारी संख्या में लोग पहुंचे थे। पिता शंकर सुखदेव सिंह और छोटे भाई किरनपाल ने मुखाग्नि दी।


भाई को नहीं बचा पाने का रहेगा हमेशा दुख: किरनपाल सिंह
सूफी गायक के छोटे भाई किरनपाल ने आंखों देखी कहानी सुनाते हुए कहा कि उसे अपने बड़े भाई को नहीं बचाने का हमेशा दुख रहेगा। मंगलवार को उन्हें आना था। सोमवार सुबह भागसूनाग से ऊपर गए थे। करेरी झील देखने के बाद वे लौट रहे थे। कुछ देर पहले ही बादल फटे थे और झील के पानी ने उग्र रूप ले लिया था। 

एक पत्थर को पार करने के लिए जंप लगाते समय भाई मनमीत का पांव फिसल गया और वह खाई में गिर गया। उसने अपने भाई को पकड़ने की कोशिश की और अपना हाथ उसकी ओर बढ़ाया लेकिन पानी का तेज बहाव उसके भाई को हमेशा के लिए अपने साथ बहा कर ले गया।

..........
0
495 views    0 comment
0 Shares

आम आदमी पार्टी नेता हरपाल सिंह चीमा ने आरोप लगाया है कि पंजाब सरकार ने जानबूझकर बिजली कंपनियों को लाभ पहुंचाया है। इसकी सजा पंजाब का आम आदमी भुगत रहा है।

उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार की इस गलती की सजा के रूप में जनता को हर महीने हजारों करोड़ रुपये का बिजली बिल भुगतान करना पड़ रहा है। आप नेता ने दुहराया कि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनते ही बिजली मुफ्त कर दी जाएगी और बिजली कंपनियों के साथ किये समझौते की जांच की जाएगी।    

पंजाब विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि पीएसपीसीएल की एक गलती के कारण पंजाब के व्यापारी और किसान मर रहे हैं। बिजली न आने के कारण जहां उद्योगों को छह हज़ार करोड़ का नुकसान हुआ है, वहीं किसानों को धान के लिए महंगे मूल्य का डीजल खरीदना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि इस नुकसान के लिए सीधे तौर पर सरकार और बिजली कंपनियां जिम्मेदार हैं।


..........
0
403 views    0 comment
0 Shares

पंजाब स्टेट मेडिकल एंड डेंटल टीचर्स एसोसिएशन के आह्वान पर सरकारी मेडिकल व डेंटल कॉलेजों और राजिंदरा अस्पताल के डॉक्टर सोमवार को अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर रहे।

इस दौरान दिन भर मुकम्मल तौर पर ओपीडी व ऑपरेशन सेवाएं बंद रखी गईं और छात्रों की कक्षाओं का भी डॉक्टरों ने बहिष्कार किया। हालांकि इमरजेंसी सेवाओं को पहले की तरह चालू रखा गया। 

हड़ताली डॉक्टरों ने राजिंदरा अस्पताल के नजदीक पटियाला-संगरूर रोड जाम लगा कर पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और छठे वेतन आयोग में एनपीए में कटौती का विरोध किया गया।

डॉक्टरों ने साफ किया कि जब तक उनकी मांगें नहीं मानी जाएंगी, तब तक संघर्ष जारी रहेगा। 

उधर, डॉक्टरों की हड़ताल के कारण ओपीडी बंद रहने से मरीजों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। मरीजों को बिना जांच निराश होकर वापस लौटना पड़ा।

कई मरीज पटियाला से बाहर के थे, जिन्होंने हड़ताल को लेकर रोष व्यक्त किया। पंजाब स्टेट मेडिकल एंड डेंटल टीचर्स एसोसिएशन के महासचिव डॉ. डीएस भुल्लर ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से अपील करते मांग की है कि मरीजों व छात्रों के हित के लिए डॉक्टरों के एनपीए का मामला जल्द हल किया जाए। 

जालंधर: डॉक्टरों की हड़ताल से चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था
छठे वेतन आयोग की लागू सिफारिशों के खिलाफ सोमवार को सरकारी व पैरा मेडिकल स्टाफ हड़ताल पर चला गया। इस हड़ताल के कारण मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। 3 दिवसीय हड़ताल के कारण डॉक्टरों ने सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में ओपीडी ठप रखी व सिविल अस्पताल में रोष प्रदर्शन किया। यहां तक कि डॉक्टरों ने ओपीडी तक जाने वाला रास्ता भी बंद कर दिया व वहीं पर धरना लगाकर बैठ गए। 

ओपीडी बंद होने के कारण मरीजों को निराश होकर लौटना पड़ा। इस हड़ताल के चलते न तो मरीजों को दवा मिली और न ही उनके टेस्ट हो सके। अगर मरीजों को हुई परेशानी की बात करें तो दोपहर तक 200 के करीब मरीजों की पर्ची काटी जा चुकी थी। साथ ही 200 के करीब लोग हड़ताल के कारण अपनी पर्ची नहीं बनवा पाए व लौट गए। 

हड़ताल से परेशानी केवल आम जनता को ही नहीं हुई, बल्कि पुलिस वालों को भी खामियाजा भुगतना पड़ा। दरअसल, आरोपियों के मेडिकल के लिए आए पुलिस वालों को भी खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। इसके अलावा ईएसआई अस्पताल में भी डॉक्टरों की हड़ताल के कारण काफी मरीज लौटे।


..........
0
330 views    0 comment
0 Shares

अमृतसर में शनिवार को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई। गुरु नानक देव अस्पताल के बेबे नानकी जच्चा-बच्चा वार्ड के पास पार्किंग में शनिवार तड़के दो नवजात बच्चियों के शव मिलने से हड़कंप मच गया। एक शव को कुत्तों ने नोचा हुआ था। पुलिस ने दोनों शवों को कब्जे में ले लिया है। इन बच्चियों को फेंकने वालों का पता लगाने के लिए जांच भी शुरू कर दी गई है। 

शनिवार सुबह करीब आठ बजे अस्पताल के एक गार्ड ने मजीठा रोड थाना की पुलिस को फोन करके सूचना दी कि बेबे नानकी वार्ड के पास स्थित पार्किंग में दो नवजात बच्चियों के शव पड़े हुए हैं। पुलिस तुरंत मौके पर पहुंच गई।

एक बच्ची का शव जमीन में गड्डा खोद कर दबाया गया था जबकि दूसरी बच्ची का शव उसके निकट ही जमीन पर पड़ा हुआ था। पुलिस ने दोनों बच्चियों के शव कब्जे में ले लिए। एक शव को कुत्तों ने बुरी तरह से नोचा हुआ था। प्राथमिक जांच के दौरान सामने आया है कि कोई व्यक्ति पैदा होने के तुरंत बाद दो बच्चियों को फेंक गया था।

पुलिस की कई टीमें इसकी जांच में लग गई हैं। एक तरफ पिछले 24 घंटों के दौरान बेबे नानकी वार्ड में हुई डिलीवरियों का रिकार्ड कब्जे में लेकर खंगाला जा रहा है, तो दूसरी तरफ घटनास्थल तक लगे हर सीसीटीवी की फुटेज को अपने कब्जे में लिया जा रहा है। 

मजीठा रोड थाना के प्रभारी इंस्पेक्टर गुरमीत सिंह का कहना है कि दोनों बच्चियों का पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है। फिलहाल अज्ञात के खिलाफ पर्चा दर्ज कर लिया गया है और बहुत जल्द आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 


..........
0
397 views    0 comment
0 Shares

भाजपा से निष्कासित किए जाने के बाद पूर्व मंत्री अनिल जोशी ने कहा कि अब वे किसी राजनीतिक पार्टी से नहीं हैं। अगर उन्हें इजाजत मिली तो वह दिल्ली बार्डर पर जाकर किसानों के जज्बे को सलाम करेंगे। पंजाब के पूर्व कैबिनेट मंत्री अनिल जोशी रविवार को अपने निवास स्थान पर मीडिया से बात कर रहे थे।


जोशी ने कहा कि उन्होंने किसानों की बात कर पंजाब के पानी और अन्न का हक अदा किया है। किसानों की बात करने पर पार्टी से निकाला जाना उनके लिए दुख नहीं, बल्कि गर्व की बात है और यह किसी गोल्ड मेडल से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर इजाजत मिली तो वे किसानों के धरने में शामिल होने दिल्ली बार्डर पर जाएंगे और किसानों के संघर्ष के जज्बे को सलाम करेंगे।


भाजपा से निष्कासित किए जाने के बाद किसी अन्य पार्टी में जाने के सवाल पर जोशी ने कहा कि फिलहाल कोई भी पार्टी उनके लिए मायने नहीं रखती। वैसे इसके लिए कई लोग उनसे संपर्क कर रहे हैं। सिर्फ राज करने वाले नेताओं को पंजाबी पसंद नहीं करते, क्योंकि राजनीति के नाम पर पंजाब के लोग हमेशा ठगे गए हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि भविष्य में देखेंगे कि कौन पंजाब के लोगों की बात करता है, उन्हें अपने चुनावों की एक फीसदी की चिंता नहीं है, क्योंकि वह जमीन से जुड़े नेता हैं और आज भी लोग अमृतसर के नॉर्थ हलके से ही नहीं, बल्कि पूरे पंजाब से उन्हें फोन कर साथ खड़े होने की बात कर रहे हैं।


..........
0
516 views    0 comment
0 Shares

अमृतसर। पिछले तीन दिनों से पड़ रही भीषण गर्मी से रविवार की सुबह उस समय राहत मिली जब सुबह करीब 11.15 बजे अचानक शहर में मुसलाधार बारिश शुरू हो गई। आसमान में घनघोर बादलों ने शहरवासियों को दिन के समय ही देर शाम का आभास करवा दिया, जब कई इलाकों में अंधेरा हो गया। इससे लोगों को गर्मी से राहत मिली और कई बाजारों में पानी भर गया।

वीना महाजन और आशीष कुमार ने बताया कि कई दिन से बहुत गर्मी पड़ रही थी। रविवार को हुई बारिश ने लोगों को गर्मी से राहत तो दी, लेकिन करीब आधा घंटा हुई बारिश से शहर के कई बाजारों में पानी भर गया। उन्होंने कहा कि अपनी बहन का हाल जानने के लिए अमृतसर से चलने वाली सियालदा गाड़ी से उन्हें जालंधर जाना था।

बारिश के कारण बहुत मुश्किल से वह रेलवे स्टेशन तक पहुंच सके। रेलवे स्टेशन पर कैंटीन चलाने वाले दीपक राय और बुक स्टाल चलाने वाले रवि महाजन ने बताया कि अचानक हुई तेज बारिश से बचने के लिए प्लेटफार्म से पीछे होकर शेड में बैठ गए। उन्होंने कहा कि बारिश ने जहां लोगों को राहत दी, वहीं कई मुश्किलें भी झेलनी पड़ीं।

..........
0
516 views    0 comment
0 Shares

लुधियाना में टिब्बा रोड के गोपाल नगर चौक के पास गुरुवार देर शाम मां के साथ सामान लेकर घर जा रही थी छह साल की बच्ची को एक तेज रफ्तार पुलिसवाले की गाड़ी ने टक्कर मार दी। हादसे में बच्ची गंभीर रूप से घायल हो गई।


पहले तो पुलिसवाले ने भागने की कोशिश की, मगर भीड़ होने के कारण वह भाग नहीं सका, जिसके बाद उसने खुद ही बच्ची को उठाया और गाड़ी से निजी अस्पताल ले गया, जहां से बच्ची को सीएमसी अस्पताल रेफर किया गया। 


सीएमसी अस्पताल में डॉक्टरों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया। बच्ची की पहचान गोपाल नगर निवासी देविका (6) के रूप में हुई है। सूचना मिलने के बाद बच्ची के परिजन गोपाल नगर चौक पर इकट्ठे हो गए। जब उन्हें बच्ची की जानकारी नहीं मिली तो उन्होंने चौक पर जाम लगा दिया। 

करीब दो घंटे तक धरना प्रदर्शन चलता रहा और पुलिस पर आरोप लगते रहे। सूचना के बाद इंस्पेक्टर प्रमोद कुमार पुलिस टीम के साथ पहुंचे और उन्होंने प्रदर्शनकारियों को समझा कर धरना समाप्त करवाया। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल भेज दिया है।

इंस्पेक्टर प्रमोद कुमार ने बताया कि जसपाल सिंह ड्यूटी पर किसी काम से गया था, जब वह अपनी कार से थाने वापस आ रहा था तो गोपाल नगर चौक के पास एक महिला अचानक गाड़ी के आगे आ गई। उसे बचाने के चक्कर में जसपाल की कार से 6 साल की देविका टकराकर बुरी तरह से घायल हो गई। 

जसपाल ने बच्ची को गाड़ी में सीएमसी अस्पताल पहुंचाया, जहां उसकी मौत हो गई। इंस्पेक्टर प्रमोद कुमार ने बताया कि बच्ची के परिवार वालों को तुरंत बता दिया गया था कि बच्ची सीएमसी अस्पताल में है, जहां उसकी मौत हो चुकी है। परिवार वालों से बात करने के बाद धरना समाप्त करवा दिया है। अगर परिवार वाले कोई कार्रवाई करवाना चाहेंगे तो कार्रवाई की जाएगी।

..........
17
4055 views    0 comment
19 Shares

पंजाब में भीषण गर्मी और धान सीजन के बीच गुरुवार को बिजली संकट उस समय और गहरा गया, जब तकनीकी खराबी के चलते रोपड़ थर्मल प्लांट और लहरां मुहब्बत थर्मल प्लांट की 210-210 मेगावाट क्षमता वाली एक-एक यूनिट बंद हो गई। इससे बिजली उत्पादन में 420 मेगावाट की कमी आई और पंजाब के कई इलाकों में लोगों को अघोषित कट का सामना करना पड़ा। 


वहीं किसानों को भी वादे के मुताबिक आठ घंटे बिजली सप्लाई नहीं मिल पाई। हालांकि लहरां मुहब्बत थर्मल प्लांट की खराब हुई यूनिट को पावरकाम के इंजीनियरिंग स्टाफ ने खबर लिखे जाने तक चालू कर दिया था लेकिन दिन भर इस यूनिट के बंद रहने से दिक्कतें बनी रहीं।


2620 मेगावाट बिजली उत्पादन में कटौती रही 
सरकार व पावरकाम के दावों के विपरीत पंजाब में बिजली संकट दिन ब दिन गहराता जा रहा है। 1980 मेगावाट क्षमता वाले तलवंडी साबो थर्मल प्लांट की दो यूनिट पहले ही तकनीकी खराबी के चलते बंद पड़ी हैं, जबकि तीसरी यूनिट खराबी के चलते फिलहाल 50 फीसदी बिजली दे रही है। ऐसे में गुरुवार को रोपड़ व लहरां मुहब्बत थर्मल प्लांटों की भी एक-एक यूनिट बंद होने से पावरकाम की मुसीबतें बढ़ गईं। 

बताया जा रहा है कि रोपड़ यूनिट के बॉयलर ट्यूब में लीकेज हो गया है। वहीं मानसून में देरी के चलते बांधों में पानी का स्तर कम होने के कारण बिजली का उत्पादन घटा है। आंकड़ों के मुताबिक 600 मेगावाट कम बिजली का उत्पादन हो रहा है। इसके चलते गुरुवार को कुल 2620 मेगावाट बिजली उत्पादन में कमी रही।

पावरकाम को खरीदनी पड़ रही महंगी बिजली
बिजली उत्पादन में भारी कमी व बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए पंजाब स्टेट पावर कारपोरेशन लिमिटेड (पावरकाम) को 4.09 रुपये प्रति यूनिट मिलने वाली बिजली गुरुवार को एनर्जी एक्सचेंज से 12.40 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से खरीदनी पड़ी। पावरकाम ने गुरुवार को 400 मेगावाट अतिरिक्त बिजली खरीदी। पावरकाम के सीएमडी ए वेणू प्रसाद के मुताबिक कम उत्पादन का बड़ा कारण तलवंडी साबो थर्मल प्लांट की असफलता, बीबीएमबी से कम बिजली उत्पादन है। इसलिए बिजली की कमी को पूरा करने के लिए पावरकाम को दक्षिणी व सरहदी जोन पर पावर रेगुलेटरी उपाय लगाने को मजबूर होना पड़ा है।


..........
0
3943 views    0 comment
0 Shares

इस्लामाबाद रेलवे लाइनों के पास सोमवार की शाम मामूली विवाद के बाद दो सगे भाइयों ने एक युवक की चाकू घोंपकर हत्या कर दी। जीआरपी ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। पुलिस ने आरोपी भाइयों के खिलाफ केस दर्ज करके कार्रवाई शुरू कर दी है।

छोटा हरीपुरा के सोनू ने बताया कि उसका भतीजा रोबर्ट सुनार का काम करता था। सोमवार को शाम करीब 7:30 बजे वह अपने घर के पास स्थित रेलवे लाइनों के पास बैठा था। इस दौरान उसी इलाके में रहने वाला गोला वहां से निकला तो उसका पांव उसके भतीजे के पांव पर पड़ गया। इस पर रोबर्ट ने उसे कहा कि वह ध्यान से देखकर चले, जिसके बाद दोनों में बहस हो गई।

सोनू ने बताया कि इसके बाद गोला अपने घर चला गया और कुछ समय बाद अपने छोटे भाई के साथ चाकू लेकर आ पहुंचा। आरोपी गोला के छोटे भाई ने उसके भतीजे को पकड़ा और गोला ने रोबर्ट के चेहरे पर चाकू से चार वार किए। इसके अलावा एक वार उसके भतीजे की छाती पर किया। हमले में रोबर्ड गंभीर रूप से घायल हो गया। जिसके बाद दोनों भाई फरार हो गए।


उन्होंने बताया कि आसपास के लोगों की मदद से रोबर्ट को सिविल अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत बता दिया। वहीं दूसरी तरफ जीआरपी थाना प्रभारी इंस्पेक्टर बलबीर सिंह घुम्मन ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। दोनों आरोपी भाइयों गोलू और जीत के खिलाफ केस दर्ज करने के बाद उन्हें गिरफ्तार करने के लिए दबिश दी जा रही है।


..........
0
841 views    0 comment
0 Shares