logo
logo
(Trust Registration No. 393)
aima profilepic
Pawan Sharma
All India Media Association
6
178 views    0 comment
0 Shares

8
1035 views    0 comment
2 Shares

3
467 views    0 comment
3 Shares

0
334 views    0 comment
0 Shares

5
894 views    0 comment
3 Shares

6
1514 views    0 comment
10 Shares

अब वाहन चोर कबाड़ियों की जगह हाकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के नाम से बनेगी मेरठ की पहचान : सिक्का

मेरठ। 'पश्चिमी उत्तर प्रदेश का मेरठ जिला अब तक देश भर में दोपहिया से लेकर चौपहिया वाहनों की चोरी तथा उनके पार्ट्स बेचे जाने के लिए बदनाम था। मेरठ के सो​तीगंज मार्केट में जारी इस काले धंधे ने क्रांतिधरा की छाती पर बदनुमा दाग लगा दिया था, लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शासन काल में कड़क पुलिस ने सो​तीगंज के कबाड़ियों के आलीशान किले को पूरी तरह ढहा दिया है। पुलिस ने इस मार्केट से इस काले कारोबार को जड़ से मिटाने के संकल्प को पूरा कर दिखाया है। यह सब भाजपा के शासनकाल में ही संभव हो पाया है।' उक्त विचार प्रदेश के राज्यमंत्री (दर्जा प्राप्त) संजीव गोयल 'सिक्का' ने आज बागपत रोड स्थित चौधरी कॉलोनी, कृष्णापुर में विक्रान्त शर्मा 'विक्की' के आवास पर आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में व्यक्त किये।  

उन्होंने कहा कि, 'आज मेरठ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 700 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले राज्य के पहले खेल विश्वविद्यालय की आधार शिला रखी । यह विश्वविद्यालय हाकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद उर्फ दद्दा के नाम पर बनाया जा रहा है। इसलिए अब क्रांतिधरा मेरठ की पहचान वाहन कबाड़ियों अथवा कुख्यात अपराधियों के नाम से नहीं, बल्कि हाकी के महान खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद के नाम से होगी।' श्री गोयल ने कहा कि, 'मेजर ध्यानचंद ने मेरठ के भामाशाह पार्क में कई बार आयोजित मैचों में तमाम गोल जड़कर अपनी टीम को जीत दिलाई थी। उन्हीं की याद में इस विश्वविद्यालय का निर्माण किया जा रहा है। यह देश के खिलाड़ियों के लिए बहुत बड़ी सौगात होगी।' 

श्री सिक्का ने कहा कि, 'देश व प्रदेश की डबल इंजन की भाजपा सरकार हर वर्ग के लोगों तथा महिलाओं, युवाओं, छात्रों, बुजुर्गों, खिलाड़ियों, व्यापारियों, वंचितों एवं दलितों के चतुर्दिक विकास के लिए काम कर रही है। देश व प्रदेश के चतुर्दिक विकास के लिए आज भारतीय जनता पार्टी को विजयी बनाना जरूरी हो गया है। जनता अच्छी तरह समझ चुकी है कि भाजपा के शासनकाल में ही उसे सब तरह की सुविधाएं मिल सकती हैं तथा सरकारी दफ्तरों में पारदर्शिता के साथ काम होते हैं।'

कार्यक्रम की अध्यक्षता राजेंद्र तिवारी तथा मंच संचालन नीरज शर्मा व भूपेंद्र सिंह ने किया। इस अवसर पर वरिष्ठ समाजसेवी देवेन्द्र सिंघल, रनवीर सिंह उर्फ लाला प्रजापति, अशोक चौधरी, राकेश चौधरी, विशाल सिंघल, वीरपाल सिंह, रमेश गुप्ता, कपिल शर्मा, सौरभ कौशिक, सौरभ शर्मा,  रविन्द्र बलियान, दीपक शर्मा,सुधीर चौधरी,  रिषभ गणेश सिंघल,  सूरज राजपूत, शुभम यादव व सभी वरिष्ठ कार्यकर्ता व मातृ शक्ति अधिक संख्या मे उपस्थित रहे।

..........
13
1874 views    0 comment
1 Shares

समाजवादी पार्टी पर छाए ग्रहण के बादल, एक और विकेट गिरा, शतरुद्र एमएलसी भाजपा में शामिल

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ दल भाजपा को पटखनी देने के लिए समाजवादी एड़ी चोटी का जोर लगा रही है। इस बार भाजपा को पराजित करने के लिए समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस अथवा बहुजन समाज पार्टी के बजाय छोटी छोटी क्षेत्रीय पार्टियों से गठजोड़ करने की ठानी है और इसमें उन्हें कामयाबी भी मिली है। इसके बावजूद शायद पार्टी की ग्रहदशा ठीक नहीं चल रही है। यही वजह है कि समाजवादी नेताओं के दामन पर लगे आयकर चोरी के 'इत्र' के दाग से अभी छुटकारा नहीं मिला था कि कानपुर में पीएम की सभा में बवाल की साजिश रचने में भी उसे कामयाबी नहीं मिल पाई और इस मामले में उसके पांच नेता गिरफ्तार हो गये।

अभी समाजवादी पार्टी इन झटकों से उबर नहीं पायी थी कि विद्या​र्थी जीवन से खांटी समाजवादी रहे एमएलसी शतरुद्र प्रकाश ने उप्र विधानसभा चुनाव 2022 से ठीक पहले समाजवादी पार्टी छोड़ कर भाजपा का दामन थाम लिया है। डॉ राममनोहर लोहिया, राजनारायण और जनेश्वर मिश्र के करीबी रहे शतरुद्र प्रकाश समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के भी बेहद नजदीकी रहे। आपात काल के दौर में वो मीसा में जेल भी गए। समाजवादी युवजन सभा के सक्रिय सदस्यों में से एक शतरुद्र प्रकाश इससे पहले एक बार कांग्रेस में भी शामिल हो चुके हैं।

विधान परिषद सदस्य शतरुद्र प्रकाश को भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने भाजपा की सदस्यता दिलाई है। भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के बाद शतरुद्र प्रकाश ने कहा कि, 'हमने शुरू से गैर कांग्रेस वाद की पॉलिटिक्स की। आज समाजवादी लीडर राजनारायण जी की पुण्यतिथि पर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो रहा हूं।' उन्होंने कहा कि, 'कभी पूर्वांचल के जिलों की पहचान माफिया से होती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं है। इसके लिए पधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बधाई के पात्र हैं।'

उन्होंने कहा कि, 'उत्तर प्रदेश सरकार ने काशी विश्वनाथ विशिष्ट क्षेत्र विकास परिषद के तहत वाराणसी में लगभग 800 करोड़ रुपये की लागत से गंगा तट पर नवनिर्मित 5,27,760 वर्ग फीट पर विश्वनाथ धाम का निर्माण कराया जिसका लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। यह अनोखा कार्य कई शताब्दी की पीढ़ियों तक याद किया जाएगा।'

यहां बता दें कि शतरुद्र प्रकाश उन नेताओं में हैं, जोकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समक्ष काशी विश्वनाथ धाम को विश्व धरोहर में शामिल करने की मांग उठा चुके हैं। यही नहीं, श्री काशी विश्वनाथ धाम के प्रधानमंत्री द्वारा लोकार्पण किये जाने के बाद समाजवादी पार्टी में रहते हुए भी उन्होंने यूपी विधानमंडल के शीत सत्र के दौरान धन्यवाद प्रस्ताव भी प्रस्तुत किया था। 
 बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के छात्र रहे शतरुद्र प्रकाश छात्र जीवन से ही खांटी समाजवादी विचारधारा वाले रहे। उनका नाम डॉ राम मनोहर लोहिया और राजनारायण के प्रमुख शिष्यों में लिया जाता है। वो समाजवादी युवजन सभा के सक्रिय सदस्य रहे। उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री रह चुके हैं। एक दौर वो भी था जब उन्होंने कांग्रेस भी ज्वाइन की। इसके अलावा लोकदल के सदस्य भी रह चुके हैं। वास्तविकता यह है कि उन्होंने काशी कोरिडोर के उद्घाटन और काशी के कायाकल्प से प्रभावित होकर भाजपा की सदस्यता ली है। 

खैर, कुछ भी हो समाजवादी पार्टी के इस दिग्गज नेता के पार्टी से नाता तोड़ देने तथा उसके प्रमुख प्रतिद्वन्द्वी सत्तारूढ़ पार्टी में शामिल होने से पार्टी को एक गहरा झटका लगा है, इसमें संदेह नहीं है।

..........
7
499 views    0 comment
1 Shares

व्यापारियों के लिए सबसे बड़ी हितैषी है भारतीय जनता पार्टी : सिक्का

मेरठ। भारतीय जनता पार्टी की केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार एवं उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अपनी नीतियों एवं कार्यों से साबित कर दिया है कि डबल इंजन की सरकार व्यापारियों के लिए सबसे बड़ी हितैषी है। 

उक्त विचार प्रदेश के राज्यमंत्री (दर्जा प्राप्त) संजीव गोयल 'सिक्का' ने आज यहां  काउंसलिंग ऑफ उद्योग व्यापार मंच की ओर से आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसे व्यापारियों के लिए जो कि खुद अपना व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं, के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की शुरुआत की।  मुद्रा योजना के दो मुख्‍य मकसद हैं पहला, स्वरोजगार के लिए आसानी से लोन देना। दूसरा, छोटे उद्यमों के जरिये रोजगार का सृजन करना। मुद्रा योजना के तहत तीन तरह के लोन दिए जाते हैं। इनमें शिशु लोन, किशोर लोन और तरुण लोन शामिल हैं। शिशु मुद्रा लोन के तहत 50,000 रुपये तक के कर्ज दिए जाते हैं। वहीं, किशोर मुद्रा लोन के तहत 50,000 से 5 लाख रुपये तक का कर्ज दिया जाता है। तरुण मुद्रा लोन के तहत 5 लाख से 10 लाख रुपये तक का कर्ज लिया जा सकता है। पीएम मोदी की इस योजना ने बड़ी संख्या में व्यापारियों को आत्मनिर्भर बनाया।'
,
 उन्होंने कहा कि, 'कोरोना काल में जब छोटे एवं निम्न वर्ग के रेहड़ी वाले, फुटपाथ वाले दुकानदारों की आर्थिक स्थिति पूरी तरह चरमरा गई थी और उनकी कमर टूट गई थी। उस वक्त व्यापारियों की समस्या को ध्यान रखते हुए सरकार ने दस हजार रुपये तक का बहुत मामूली ब्याज दर पर बिना गारंटी कर्ज देने की व्यवस्था की। इस कर्ज में समय से ब्याज दर चुकाने वालों को अनुदान की भी व्यवस्था की गई।'

सिक्का ने कहा कि, 'मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में रोजगार के अवसर सृजित कराने के लिए बड़े उद्योगपतियों को आमंत्रित किया।  भाजपा सरकार के कार्यकाल में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग क्षेत्र (एमएसएमई क्षेत्र) के लिए शुरू की गई तीन लाख करोड़ रुपये की इमरजेंसी लोन गारंटी योजना(ईसीएलजीएस) के तहत कर्ज बांटने का कार्य तेजी से किया गया।' 

 उन्होंने कहा कि, 'प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने व्यापारियों को भयमुक्त होकर व्यापार करने का माहौल दिया है। इससे पहले की सरकारों के कार्यकाल में व्यापारियों से रंगदारी, चौथ तथा फिरौती वसूली जाती थी। यह योगी पुलिस की सख्त नीतियों का नतीजा है कि आज अपराधी जेल में हैं और व्यापारियों को भयमुक्त होकर व्यापार करने का वातावरण मिल रहा है।' सिक्का ने व्यापारियों से 2022 के विधानसभा चुनाव में भाजपा सरकार को बहुमत से विजयी बनाने की अपील की।

इस अवसर पर संजीव गोयल सिक्का ने सह प्रभारी पश्चिमी उत्तर प्रदेश मनीष गर्ग, जिला अध्यक्ष हेमंत पांडे, महानगर अध्यक्ष मेरठ पवन कुमार गोयल के नामों की  घोषणा करते हुए सभी को बधाई दी और उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।

इस कार्यक्रम में प्रदेश पश्चिम प्रभारी मनोज गोयल प्रदेश पश्चिम सह प्रभारी मनीष गर्ग मेरठ जिला प्रभारी देवेंद्र सिंघल (देबू), जिला महामंत्री हेमंत पांडे मोदीनगर, चिराग गुप्ता, हिमांशु शर्मा और उनकी टीम उपस्थित रही।

..........
8
757 views    0 comment
1 Shares

भ्रष्टाचार और अपराधमुक्त शासन देने के लिए कृत संकल्पित भाजपा : संजीव गोयल 'सिक्का'

मेरठ। प्रदेश के राज्यमंत्री संजीव गोयल 'सिक्का' ने कहा कि, 'भारतीय जनता पार्टी भ्रष्टाचार और अपराधमुक्त शासन देने के लिए कृत संकल्पित है।'

श्री सिक्का वार्ड 22 के अंतर्गत गोकुल विहार स्थित विपिन उपाध्याय के आवास पर गोकुल विहार समिति की ओर से आयोजित जन संवाद कार्यक्रम में उपस्थित नागरिकों को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर गो​कुल विहार समिति की ओर से राज्यमंत्री का भव्य स्वागत किया गया। 

इस अवसर पर श्री सिक्का ने कहा कि, 'मेरठ के सोतीगंज में वर्षों से चल रहा वाहन चोरों के अभेद्य किले को धराशायी करना इसका उदाहरण है। यहां कई सालों से वाहन कबाड़ियों द्वारा देश भर से चुराकर लाये गये दो पहिया से लेकर चौपहिया वाहनों को मिनटों में काटकर उसके पार्ट्स महंगे दामों में बेचने का कारोबार चलाया जा रहा था। योगी सरकार की पुलिस ने वाहन कबाड़ियों का नेटवर्क ढहा दिया। मुख्यमंत्री योगी के शासनकाल में अफसरों के साथ गठजोड़ रखने वाले भ्रष्ट पुलिस अफसरों की कुं​डलियां खंगालकर उन्हें भी कड़ा सबक सिखाया गया है। 

केंद्र व राज्य सरकारों की भ्रष्टाचार के खिलाफ टालरेंस नीति का ही परिणाम है कि कानपुर के समाजवादी इत्र कारोबारी के यहां आयकर छापे में दो सौ करोड़ की नकदी, 23 किलो सोना तथा छह करोड़ रुपये का चंदन का तेल बरामद किया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कड़क रवैये के कारण कुख्यात अपराधी सलाखों के पीछे हैं। 

उन्होंने कहा कि भाजपा के शासनकाल में यूपी विकास के मार्ग पर तेज रफ्तार से दौड़ रहा है। लखनऊ, नोएडा, ग्रेटर नोएडा और अब कानपुर में मेट्रो ट्रेन की शुरुआत भाजपा शासन की देन हैं। भाजपा के शासन में प्रदेश को पूर्वांचल एक्सप्रेस वे, बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे की सौगात मिली है। अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण शुरू होने और काशी विश्वनाथ कारिडोर के बनने से इन स्थलों को वैश्विक पहचान मिली है। 
उन्होंने कहा कि 2022 के विधानसभा चुनाव में भी उत्तर प्रदेश में भाजपा बहुमत के साथ सत्ता में आयेगी। 

कार्यक्रम की अध्यक्षता गोकुल विहार समिति के अध्यक्ष हरवीर सिंह मलिक और संचालन कृष्ण पाल राणा ने किया। इस अवसर पर अनुसूचित मोर्चा के अध्यक्ष रवि भइया, राजपाल उपाध्याय, देवेंद्र सिंघल (देबू), सत्यवीर सोम, सतेंद्र मास्टरजी, अनीस सोलंकी, शोभित गोयल, विक्रम सैनी, करण सिंह, अनिल ठुकराल, महिपाल सिंह राणा, पूर्व ​वार्ड अध्यक्ष  डॉ. पीके सक्सेना, रोहटा रोड व्यापार संघ के अध्यक्ष सुशील कुमार, अंकुर गोयल, विजेंद्र सिंघल, रिषभ सिंघल, सचिन गुप्ता, सूरज राजपूत, शिवम ठाकुर, छोटे भइया आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

..........
32
1969 views    0 comment
1 Shares

मेरठ। आज चरण सिंह विश्विद्यालय के श्री सुभाष चन्द्र बोस प्रेक्षागृह में अन्तराष्ट्रीय व राष्ट्रीय संस्था मेरठ रंगमंच द्वारा आयोजित कलाकार सम्मान समारोह व उसके उपरांत हुए हास्य नाटक में सहभागिता का सौभाग्य प्राप्त हुआ।

कार्यक्रम में सुप्रसिद्ध अभिनेत्री गरिमा अमरीश अग्रवाल, वरिष्ठ रंगमंच कलाकार एवं आइमा के राष्ट्रीय प्रभारी मन मोहन भल्ला, एक्टर ओम दत्त राजपूत, वरिष्ठ रंगकर्मी दादा सुरेंद्र शर्मा, जूही चौहान, सीमा समर, कवि राम गोपाल भारतीय, वीना अरोड़ा, मुकेश तिवारी, वरिष्ठ भाजपा नेता आलोक सिसौदिया, संस्था अध्यक्ष संजय शर्मा, शाहिद,  गौरी कोशिश, सुरेंद्र शर्मा का सानिध्य प्राप्त हुआ। अमेरिका से आए वरिष्ठ कलाकार राकेश कपूर  का उद्धबोधन सुनने को मिला सभी को साधुवाद।

..........
34
1740 views    0 comment
2 Shares

33
3887 views    2 comment
19 Shares

बेटियों के पंखों को उड़ान का अवसर
युवतियों के विवाह की आयु 18 वर्ष से बढ़ाकर 21 वर्ष करने के विधेयक को मंजूरी दे दी है।

केंद्र के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल ने गुरुवार 16 दिसम्बर को युवतियों के विवाह की आयु 18 वर्ष से बढ़ाकर 21 वर्ष करने के विधेयक को मंजूरी दे दी है। यह कानून यदि लागू हो गया तो सभी धर्मों, जातियों और वर्गों में युवतियों के विवाह की न्यूनतम आयु बदल जायेगी। जाहिर है कि अपने इस फैसले से मोदी सरकार ने बेटियों के पंखों को उड़ान का मौका प्रदान करते हुए उनके सपनों को साकार करने की दिशा में सकारात्मक पहल की है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते वर्ष स्वाधीनता दिवस पर लालकिले की प्राचीर से राष्ट्र को सम्बोधित करते हुए  लड़कियों और लड़कों के विवाह की न्यूनतम उम्र एक समान करने की घोषणा की थी। पीएम मोदी के कार्यकाल में विवाह सम्बंधी यह दूसरा बड़ा सुधारात्मक कदम है, जोकि कानून बन जाने के बाद समान रूप से सभी धर्मों, वर्गों और जातियों के लोगों पर लागू होगा। इससे पहले प्रवासी भारतीयों के विवाह को 30 दिन अर्थात् एक माह के भीतर पंजीकृत कराने का बड़ा कदम उठाया गया।

युवतियों के एक बड़े वर्ग ने इस फैसले के लिए केंद्र सरकार  का हार्दिक आभार व्यक्त किया है। वास्तविकता यह है कि अभी तक सिर्फ महिला-पुरुष की समानता की बड़ी बडी बातें होती थीं, लेकिन पहली बार केंद्र की मोदी सरकार ने इसे अमली जामा पहनाने की तरफ कदम बढ़ाया है। लड़कियों के विकास के लिए इस तरह का निर्णय बहुत पहले ले लिया जाना चाहिए था, लेकिन देर आयद दुरुस्त आयद। विभिन्न धर्मों और जातियों से ताल्लुक रखने वाली युवतियों ने मोदी कैबिनेट के इस फैसले का खुले दिल से स्वागत किया है और राहत की सांस ली है।

कई परिवारों में लड़कियों को मौजूदा परिवेश में भी भार समझा जाता है। 18 वर्ष की आयु पूरी होने के बाद लड़कियों को लेकर जो सामाजिक दबाव रहता है, वह उनके परिवार पर भी दिखाई देने लगता है। स्थिति यहां तक पहुंच जाती है कि 18 वर्ष की आयु पूरी होने के बाद तमाम युवतियां तो अपने घर परिवार और समाज की नजर में खटकने लगती हैं और जैसे तैसे किसी भी लड़के के साथ उनका विवाह रचा दिया जाता है। बालिग हो जाने के बावजूद लड़कियों से न तो उनकी राय जानी जाती है और न ही उनकी इच्छा की कोई कद्र होती है। ऐसी स्थिति में लड़कियां अपनी जिंदगी सदैव दूसरे के नजरिए से जीने के लिए विवश हो जाती हैं। 

विवाह से पूर्व  लड़कियों को उसके लिए मानसिक व शारीरिक रूप से विकसित करने की  आवश्यकता है।
दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त 2020 को लाल किले की प्राचीर से अपने संबोधन के दौरान कहा था कि बेटियों को कुपोषण से बचाने के लिए यह आवश्यक है कि उनका विवाह सही वक्त पर हो।

अभी तक देश में लागू कानून के मुताबिक, युवकों के विवाह की न्यूनतम आयु 21 वर्ष और महिलाओं की 18 वर्ष है। इससे कम आयु में विवाह करना बाल विवाह रोकथाम कानून 2006 के तहत गैर-कानूनी अपराध है। इसके लिए दो वर्ष की कैद और एक लाख रुपए का जुर्माना हो सकता है। हालांकि केंद्र सरकार अब इस विधेयक के पारित होने के बाद बाल विवाह निषेध कानून, स्पेशल मैरिज एक्ट और हिंदू मैरिज एक्ट में संशोधन करेगी।

बेटियों के विवाह की न्यूनतम आयु 21  वर्ष करने की सिफारिश करने वाली जया जेटली के नेतृत्व वाली टास्क फोर्स का भी कहना था कि ‘पहले शिशु को जन्म देते समय युवतियों की आयु 21 वर्ष होनी चाहिए. विवाह में देरी का परिवारों, महिलाओं, बच्चों, समाज के आर्थिक, सामाजिक ढांचे और सेहत पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।’

हालांकि, यहां यह बात भी समझने की आवश्यकता है कि विवाह की आयु बढ़ाने का यह तात्पर्य कतई नहीं है कि लड़कियां शादी को अपनी जिंदगी का केंद्र बना लें।  लड़कियों के लिए आजादी और मानसिक रूप से मजबूती भी मायने रखती है। इसके लिए उनका शिक्षित होना अत्यंत आवश्यक है। लड़कियों को कम से कम अपनी शिक्षा जारी रखने के लिए घर छोड़कर तो नहीं भागना पड़ेगा। गौरतलब है कि बिहार में कुछ समय पूर्व एक लड़की की शादी उसकी इच्छा के बगैर करवा दी गई। वह आगे पढ़ना चाहती थी। इसलिए वह ससुराल से भाग गई।

विवाह की आयु 21 वर्ष  होने पर लड़कियों को शिक्षित होने का अवसर मिलेगा, तभी तो वे पैसे कमाएंगी और स्वावलंबी बनेंगी। 18 साल होते ही खासकर गांवों, कस्बों और छोटे शहरों की लड़कियों पर शादी का दबाव बनने लगता है, वे समझ ही नहीं पातीं कि वे शादी करके ससुराल में जा बसें या अपनी शिक्षा जारी रखें। सच तो यह है कि इस आयु तक लड़कियां मानसिक रूप से पूरी तरह परिपक्व नहीं हो पाती हैं।  आखिरकार उन्हें परिवार वालों की मर्जी से चलना पड़ता है और इस तरह उनके ख्वाब अधूरे रह जाते हैं। पढ़ाई छूटने के कारण वे घरेलू हिंसा का शिकार होती हैं। यह कहना भी गलत नहीं होगा कि कई परिवारों में तो औरते ही औरत की दुश्मन बन जाती हैं। कई लड़कियों की तो कम आयु में प्रसव के दौरान मौत तक हो जाती है। 

बदलते परिवेश में लड़कियों के करियर और पढ़ाई के लिहाज से 18 वर्ष की आयु भी कम ही थी। उनके विवाह की आयु 21 वर्ष किया जाना समय की मांग है, जो अवश्य ही पूरी होनी चाहिए। सरकार के इस फैसले से शादी से पूर्व लड़कियों को शारीरिक और मानसिक रूप से विकसित होने का अवसर मिलेगा। सरकार का यह फैसला युवा उम्र की दहलीज पर खड़ी लड़कियों को कुपोषण से मुक्ति दिलाने में भी सहायक होगा। शादी की उम्र बढ़ाने के इस निर्णय से बेटियां और सक्षम बनेंगी। खास तौर पर पढ़ाई और रोजगार के क्षेत्र में उन्हें और बेहतर अवसर मिलेंगे।

हालांकि यह भी सच है कि पुरुष प्रधान समाज और रूढ़िवादिता में अंधविश्वास करने वाले लोग मोदी सरकार के इस फैसले को पचा नहीं पाएंगे और वे इसका पुरजोर विरोध करेंगे। इसके बावजूद यह उम्मीद ​की जानी चाहिए कि मोदी सरकार इस विधेयक को कानूनी जामा पहनाकर बेटियों के हित में उठाये गये इस कदम को जल्द से जल्द लागू करेगी।

..........
0
162 views    0 comment
1 Shares


हाल के वर्षों में आम लोगों के जीवन की गुणवत्ता में बहुत अधिक सुधार हुआ है, नए भारत का सपना साकार हुआ है - श्री सत्येंद्र प्रकाश

पिछले 75 वर्षों को याद करते हुए अगले 25 वर्ष देश के निर्माण की तैयारी करें युवा - प्रधान महानिदेशक, बीओसी, दिल्ली

कोविड 19 का सामना करने और कोविड टीकाकरण में भारत ने विश्व के अनेक  देशों की तुलना में बहुत बेहतर प्रदर्शन किया है: श्री सत्येंद्र प्रकाश

क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो, मेरठ, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव  के विषय में मेरठ जनपद के लोगों में जागरूकता बढ़ाने के लिए चार दिवसीय मीडियम आईसीओपी जागरूकता अभियान दिनांक 15 - 18 दिसंबर, 2021 को आयोजित किया जा रहा है। 

मेरठ। आज दिनांक 17 दिसंबर 2021 को पूर्वाह्न 11:00 बजे श्री सत्येंद्र प्रकाश, प्रधान महानिदेशक, ब्यूरो आफ आउटरीच एंड कम्युनिकेशन, नई दिल्ली ने आजादी के अमृत महोत्सव  के विषय में मेरठ के लोगों में जागरूकता बढ़ाने के लिए सचल प्रदर्शनी (प्रदर्शनी का दूसरा दिवस) को मेरठ इंस्टीट्यूट आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 58 बागपत क्रॉसिंग बाईपास रोड से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया और क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो मेरठ द्वारा चलाए जा रहे चार दिवसीय आजादी का अमृत महोत्सव जागरूकता अभियान के तीसरे दिन के कार्यक्रमों का शुभारंभ किया।

मेरठ इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी मेरठ में  क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो मेरठ की ओर से एकीकृत संचार एवं लोक संपर्क कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित विद्यार्थियों, शिक्षकों , गणमान्य नागरिकों और पत्रकारों को संबोधित करते हुए ब्यूरो आफ आउटरीच एंड कम्युनिकेशन दिल्ली के प्रधान महानिदेशक श्री सत्येंद्र प्रकाश ने कहा कि स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात 75 वर्ष पूरे हो रहे हैं इस के उपलक्ष में पूरे 75 सप्ताह तक कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। प्रधान महानिदेशक श्री सत्येंद्र प्रकाश ने कहा कि स्वतंत्रता की पश्चात 75 वर्षों में हमने  कई उपलब्धियां हासिल की हैं और हाल के वर्षों में जो नया भारत निर्मित हो रहा है उसमें हम सभी को अपना योगदान देना है। भारत की आजादी की लड़ाई की महान विरासत में कई धाराओं का समावेश है, हमें उन सभी धाराओं का सम्मान करना है और कृतज्ञता पूर्वक उनका स्मरण करना है। लोक संपर्क और संचार ब्यूरो, दिल्ली स्वतंत्रता संघर्ष के गुमनाम नायकों के बारे में निरंतर जागरूकता  की सामग्री ऑनलाइन माध्यमों पर उपलब्ध कराई जा रही है। नए भारत की उपलब्धियों और संभावनाओं पर केंद्रित 'न्यू इंडिया समाचार' अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचे इसका प्रयास किया जा रहा है। हमारे देश में मीडिया की सामग्री को और मीडिया में हो रहे विमर्श में बदलाव लाकर सकारात्मक दृष्टि से सूचना, जागरूकता और मनोरंजन की सामग्री प्रस्तुत करनी चाहिए। देश ने कोविड 19 महामारी से बचाव और टीकाकरण के लिए जिस नेतृत्व क्षमता, एकजुटता और सामर्थ्य से कार्य किया है, वह पूरे विश्व के सामने एक उदाहरण बन गया है।

एकीकृत संचार एवं लोक संपर्क कार्यक्रम में मेरठ इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी में आजादी के अमृत महोत्सव के संबंध में आयोजित प्रतियोगिताओं में सर्वोत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले 30 प्रतिभागियों को श्री सत्येंद्र प्रकाश ने पुरस्कृत किया। प्रादेशिक लोक संपर्क ब्यूरो, लखनऊ के संयुक्त निदेशक श्री मनोज कुमार वर्मा और पत्र सूचना कार्यालय, लखनऊ के उपनिदेशक श्री एम एस यादव ने कार्यक्रम में भागीदारी की और कार्यक्रम के संकल्पना और क्रियान्वयन में महत्त्वपूर्ण दिशा निर्देश प्रदान किया। क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी, मेरठ शिवानंद पांडे ने एकीकृत लोक संपर्क एवं संचार कार्यक्रम के विषय में परिचय दिया। कार्यक्रम में प्रादेशिक लोक संपर्क ब्यूरो लखनऊ में पंजीकृत मुक्ताकाश नाट्य संस्था ने स्वतंत्रता संघर्ष के विषय में मनोरंजक एवं शिक्षाप्रद लघु नाटिका प्रस्तुत की। कार्यक्रम में मेरठ इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के चेयरमैन श्री विष्णु शरण अग्रवाल,  श्री पुनीत अग्रवाल,संकाय सदस्यों और विद्यार्थियों ने भागीदारी की।

..........
15
1065 views    0 comment
3 Shares


हाल के वर्षों में आम लोगों के जीवन की गुणवत्ता में बहुत अधिक सुधार हुआ है, नए भारत का सपना साकार हुआ है - श्री सत्येंद्र प्रकाश

पिछले 75 वर्षों को याद करते हुए अगले 25 वर्ष देश के निर्माण की तैयारी करें युवा - प्रधान महानिदेशक, बीओसी, दिल्ली

कोविड 19 का सामना करने और कोविड टीकाकरण में भारत ने विश्व के अनेक  देशों की तुलना में बहुत बेहतर प्रदर्शन किया है: श्री सत्येंद्र प्रकाश

क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो, मेरठ, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव  के विषय में मेरठ जनपद के लोगों में जागरूकता बढ़ाने के लिए चार दिवसीय मीडियम आईसीओपी जागरूकता अभियान दिनांक 15 - 18 दिसंबर, 2021 को आयोजित किया जा रहा है। 

मेरठ। आज दिनांक 17 दिसंबर 2021 को पूर्वाह्न 11:00 बजे श्री सत्येंद्र प्रकाश, प्रधान महानिदेशक, ब्यूरो आफ आउटरीच एंड कम्युनिकेशन, नई दिल्ली ने आजादी के अमृत महोत्सव  के विषय में मेरठ के लोगों में जागरूकता बढ़ाने के लिए सचल प्रदर्शनी (प्रदर्शनी का दूसरा दिवस) को मेरठ इंस्टीट्यूट आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 58 बागपत क्रॉसिंग बाईपास रोड से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया और क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो मेरठ द्वारा चलाए जा रहे चार दिवसीय आजादी का अमृत महोत्सव जागरूकता अभियान के तीसरे दिन के कार्यक्रमों का शुभारंभ किया।

मेरठ इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी मेरठ में  क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो मेरठ की ओर से एकीकृत संचार एवं लोक संपर्क कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित विद्यार्थियों, शिक्षकों , गणमान्य नागरिकों और पत्रकारों को संबोधित करते हुए ब्यूरो आफ आउटरीच एंड कम्युनिकेशन दिल्ली के प्रधान महानिदेशक श्री सत्येंद्र प्रकाश ने कहा कि स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात 75 वर्ष पूरे हो रहे हैं इस के उपलक्ष में पूरे 75 सप्ताह तक कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। प्रधान महानिदेशक श्री सत्येंद्र प्रकाश ने कहा कि स्वतंत्रता की पश्चात 75 वर्षों में हमने  कई उपलब्धियां हासिल की हैं और हाल के वर्षों में जो नया भारत निर्मित हो रहा है उसमें हम सभी को अपना योगदान देना है। भारत की आजादी की लड़ाई की महान विरासत में कई धाराओं का समावेश है, हमें उन सभी धाराओं का सम्मान करना है और कृतज्ञता पूर्वक उनका स्मरण करना है। लोक संपर्क और संचार ब्यूरो, दिल्ली स्वतंत्रता संघर्ष के गुमनाम नायकों के बारे में निरंतर जागरूकता  की सामग्री ऑनलाइन माध्यमों पर उपलब्ध कराई जा रही है। नए भारत की उपलब्धियों और संभावनाओं पर केंद्रित 'न्यू इंडिया समाचार' अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचे इसका प्रयास किया जा रहा है। हमारे देश में मीडिया की सामग्री को और मीडिया में हो रहे विमर्श में बदलाव लाकर सकारात्मक दृष्टि से सूचना, जागरूकता और मनोरंजन की सामग्री प्रस्तुत करनी चाहिए। देश ने कोविड 19 महामारी से बचाव और टीकाकरण के लिए जिस नेतृत्व क्षमता, एकजुटता और सामर्थ्य से कार्य किया है, वह पूरे विश्व के सामने एक उदाहरण बन गया है।

एकीकृत संचार एवं लोक संपर्क कार्यक्रम में मेरठ इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी में आजादी के अमृत महोत्सव के संबंध में आयोजित प्रतियोगिताओं में सर्वोत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले 30 प्रतिभागियों को श्री सत्येंद्र प्रकाश ने पुरस्कृत किया। प्रादेशिक लोक संपर्क ब्यूरो, लखनऊ के संयुक्त निदेशक श्री मनोज कुमार वर्मा और पत्र सूचना कार्यालय, लखनऊ के उपनिदेशक श्री एम एस यादव ने कार्यक्रम में भागीदारी की और कार्यक्रम के संकल्पना और क्रियान्वयन में महत्त्वपूर्ण दिशा निर्देश प्रदान किया। क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी, मेरठ शिवानंद पांडे ने एकीकृत लोक संपर्क एवं संचार कार्यक्रम के विषय में परिचय दिया। कार्यक्रम में प्रादेशिक लोक संपर्क ब्यूरो लखनऊ में पंजीकृत मुक्ताकाश नाट्य संस्था ने स्वतंत्रता संघर्ष के विषय में मनोरंजक एवं शिक्षाप्रद लघु नाटिका प्रस्तुत की। कार्यक्रम में मेरठ इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के चेयरमैन श्री विष्णु शरण अग्रवाल,  श्री पुनीत अग्रवाल,संकाय सदस्यों और विद्यार्थियों ने भागीदारी की।

..........
0
17 views    0 comment
0 Shares