logo
logo
(Trust Registration No. 393)
aima profilepic
Prakash Chand Samsukha
All India Media Association
0
0 views    0 comment
0 Shares

बीकानेर। मिट गए जाने कितने इसके मान में, हर घर तिरंगा फहराओ उनकी शान में..! आइये संकल्प लें कि इस बार बीकानेर के हर घर, कार्यालय, स्कूल, कॉलेज, इंस्टीट्यूट आदि सभी संस्थानों पर तिरंगा फहराएंगे। यह विचार भाजपा लघु उद्योग प्रकोष्ठ के प्रदेश सहसंयोजक महावीर रांका ने सोमवार सुबह बाफना स्कूल में तिरंगा वितरण के दौरान व्यक्त किए। बाफना स्कूल में भाजपा जिलाध्यक्ष अखिलेशप्रताप सिंह व अभियान प्रभारी भगवान सिंह मेड़तिया के नेतृत्व में बाफना स्कूल में 3200 तिरंगों का वितरण किया गया। स्कूल के सीइओ डॉ. पीएस वोहरा ने विद्यार्थियों को तिरंगे के सम्मान व नियमों से संबंधी उद्बोधन दिया। छोटे-छोटे बच्चे तिरंगे को हाथ लेकर लहरा कर बहुत प्रसन्न नजर आ रहे थे। कार्यक्रम में चिकित्सा प्रकोष्ठ संयोजक डॉ. सिद्धार्थ असवाल, शम्भू गहलोत, तेजाराम राव, गोविंद सारस्वत, गणेश जाजड़ा, आनंद सोनी, पवन सुराणा व रमेश भाटी आदि उपस्थित रहे।
इसी क्रम में सोमवार को ही हर घर तिरंगा अभियान के प्रति जागरुकता के उद्देश्य से ऑटो रैली निकाली गई। ऑटो रैली संयोजक पवन महनोत ने बताया कि हर घर तिरंगा महावीर रांका कार्यालय से ऑटो रैली को पंक्तिबद्ध कर पब्लिक पार्क स्थित शहीद स्मारक से रवानगी का शुभारम्भ किया गया। भाजपा जिलाध्यक्ष अखिलेशप्रताप सिंह, अभियान प्रभारी भगवान सिंह मेड़तिया ने देशभक्ति गीतों के साथ 101 तिरंगा लगे ऑटो को रवाना किया। महनोत ने बताया कि पब्लिक पार्क, तुलसी सर्किल, अम्बेडकर सर्किल, रानी बाजार पुलिया, रानी बाजार चौराहा, गोगागेट चौराहा, गंगाशहर रोड, रेलवे स्टेशन, राजीव गांधीमार्ग, अणचा बाई अस्पताल, कोटगेट, केईएम रोड, सादुलसिंह सर्किल, गंगा थियेटर होते हुए पुन: महावीर रांका कार्यालय पहुंची। रैली का नेतृत्व रमेश भाटी, आनंद सोनी, आदर्श शर्मा, नरेश जोशी, जितेन्द्रसिंह भाटी, शंभु गहलोत, तेजाराम राव, मधुसूदन शर्मा, श्रवण चौधरी, गौरीशंकर देवड़ा आदि कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया।

..........
0
0 views    0 comment
0 Shares

बीकानेर। मिट गए जाने कितने इसके मान में, हर घर तिरंगा फहराओ उनकी शान में..! आइये संकल्प लें कि इस बार बीकानेर के हर घर, कार्यालय, स्कूल, कॉलेज, इंस्टीट्यूट आदि सभी संस्थानों पर तिरंगा फहराएंगे। यह विचार भाजपा लघु उद्योग प्रकोष्ठ के प्रदेश सहसंयोजक महावीर रांका ने सोमवार सुबह बाफना स्कूल में तिरंगा वितरण के दौरान व्यक्त किए। बाफना स्कूल में भाजपा जिलाध्यक्ष अखिलेशप्रताप सिंह व अभियान प्रभारी भगवान सिंह मेड़तिया के नेतृत्व में बाफना स्कूल में 3200 तिरंगों का वितरण किया गया। स्कूल के सीइओ डॉ. पीएस वोहरा ने विद्यार्थियों को तिरंगे के सम्मान व नियमों से संबंधी उद्बोधन दिया। छोटे-छोटे बच्चे तिरंगे को हाथ लेकर लहरा कर बहुत प्रसन्न नजर आ रहे थे। कार्यक्रम में चिकित्सा प्रकोष्ठ संयोजक डॉ. सिद्धार्थ असवाल, शम्भू गहलोत, तेजाराम राव, गोविंद सारस्वत, गणेश जाजड़ा, आनंद सोनी, पवन सुराणा व रमेश भाटी आदि उपस्थित रहे।
इसी क्रम में सोमवार को ही हर घर तिरंगा अभियान के प्रति जागरुकता के उद्देश्य से ऑटो रैली निकाली गई। ऑटो रैली संयोजक पवन महनोत ने बताया कि हर घर तिरंगा महावीर रांका कार्यालय से ऑटो रैली को पंक्तिबद्ध कर पब्लिक पार्क स्थित शहीद स्मारक से रवानगी का शुभारम्भ किया गया। भाजपा जिलाध्यक्ष अखिलेशप्रताप सिंह, अभियान प्रभारी भगवान सिंह मेड़तिया ने देशभक्ति गीतों के साथ 101 तिरंगा लगे ऑटो को रवाना किया। महनोत ने बताया कि पब्लिक पार्क, तुलसी सर्किल, अम्बेडकर सर्किल, रानी बाजार पुलिया, रानी बाजार चौराहा, गोगागेट चौराहा, गंगाशहर रोड, रेलवे स्टेशन, राजीव गांधीमार्ग, अणचा बाई अस्पताल, कोटगेट, केईएम रोड, सादुलसिंह सर्किल, गंगा थियेटर होते हुए पुन: महावीर रांका कार्यालय पहुंची। रैली का नेतृत्व रमेश भाटी, आनंद सोनी, आदर्श शर्मा, नरेश जोशी, जितेन्द्रसिंह भाटी, शंभु गहलोत, तेजाराम राव, मधुसूदन शर्मा, श्रवण चौधरी, गौरीशंकर देवड़ा आदि कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया।

..........
0
5 views    0 comment
0 Shares

बीकानेर, 7 अगस्त। जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन ऑफ राजस्थान (जार) बीकानेर के तत्वावधान में बीकानेर जिले के पत्रकारों का दल शैक्षणिक एवं संसद भवन भ्रमण के लिए सोमवार सुबह रवाना होगा। बीकानेर से नई दिल्ली के लिए रवानगी के अवसर पर रेलवे स्टेशन पर कार्यक्रम का आयोजन भी किया जाएगा। पत्रकारों के दल के संयोजक वरिष्ठ पत्रकार श्याम मारू व भवानी जोशी ने बताया कि शैक्षणिक एवं संसद भवन भ्रमण पर जिलेभर से पत्रकार जा रहे हैं। जार की ओर से प्रथम बार पत्रकारों का शैक्षणिक एवं संसद भवन भ्रमण कार्यक्रम रखा गया है। रवानगी से पूर्व रेलवे स्टेशन पर होने वाले समारोह में शिक्षा मंत्री डॉ. बीडी कल्ला, उरमूल डेयरी के चैयरमैन नोपाराम जाखड़, भीखाराम चांदमल समूह के प्रबंध निदेशक हरिराम अग्रवाल समेत अनेक प्रशासनिक अधिकारी और पुलिस के अधिकारी मौजूद रहेंगे।

तिरंगा अभियान के तहत होगा संक्षिप्त कार्यक्रम

रवानगी से पूर्व हर घर तिरंगा अभियान के तहत 94.3 मॉय एफएम की ओर से संक्षिप्त कार्यक्रम किया जाएगा। मॉय एफएम के आरजे मयूर तिरंगा अभियान का संयोजन करेंगे।

..........
0
0 views    0 comment
0 Shares

..........
3
183 views    0 comment
0 Shares

बीकानेर , 5 अगस्त।  सेठ भैरूंदान चोपड़ा राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय  गंगाशहर  को राजस्थान राज्य स्तरीय 'स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार 2021-22' से नवाजा गया है। चौपड़ा स्कूल के  प्राचार्य  प्रदीप लोढ़ा व स्कूल स्टाफ की मेहनत की बदौलत इस स्कूल ने अब बीकानेर का नाम राष्ट्रीय स्तर पर चमकाया है। चोपड़ा स्कूल को  यह पुरस्कार स्वच्छता सहित समग्र क्षेत्र में प्रदान किया गया है। पुरस्कार आज जयपुर के क्लार्क्स आमेर होटल में आयोजित एक समारोह के दौरान चोपड़ा स्कूल के प्राचार्य  प्रदीप लोढ़ा को प्रदान किया गया। प्राचार्य  प्रदीप लोढ़ा  ने बताया कि एक लाख राजकीय व निजी विद्यालयों में से चोपड़ा स्कूल को इस पुरस्कार के लिए चुना गया है। राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद के निर्देशानुसार समग्र शिक्षा ने स्कूल को 25 हजार रूपए की प्रोत्साहन राशि भी प्रदान की गयी है। चोपड़ा स्कूल राष्ट्रीय स्तर के लिए भी चयनित हुई है। राजस्थान के 15 जिलों से 26 स्कूलों का चयन हुआ है। 

बीकानेर से एकमात्र चोपड़ा स्कूल का चयन हुआ है। अब  ख़ुशी की बात यह है की पूरे  राजस्थान से राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार हेतु भेजा गया है।  अब  मानव संशाधन मंत्रालय की टीम निरिक्षण के लिए बीकानेर आएगी।  

स्कूल की इस उपलब्धि से गंगाशहर क्षेत्र के लोग व स्कूल व्यवस्था समिति से जुड़े चोपड़ा परिवार के लोग गौरवान्वित महसूस कर रहें  है। आज जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद कलाल को भी चोपड़ा परिवार के कनक चोपड़ा ने  इस उपलब्धि की जानकारी प्रदान की।  

..........
7
18 views    0 comment
0 Shares

बीकानेर राजस्थानभाजपा का तिरंगा
भाजपा का तिरंगा वितरण कार्यक्रम: रांंका के कार्यालय से बड़ी संख्या में तिरंगें वितरित
04 अगस्त
बीकानेर। आजादी के अमृत महोत्सव के तहत स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष में भाजपा देश में इस पर्व को जश्न के साथ मना रही है। जिसके तहत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने खुद मन की बात में 13 से 15 अगस्त तक हर घर तिरंगा फहराने का आह्वान किया है। आजादी के इस जश्न में अधिकाधिक लोगों को शरीक करने तथा घर-घर तिरंगा फहराने के उद्देश्य से भाजपा की ओर से गुरुवार को महावीर रांका के कार्यालय से बड़ी संख्या में तिरंगों का वितरण किया गया। इस मौके पर पूर्व यूआईटी चेयरमैन महावीर रांका, भाजपा के शहर जिला अध्यक्ष अखिलेख प्रताप सिंह, भगवान सिंह मेड़तियां सहित अनेक पार्टी के पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

..........
9
1893 views    0 comment
0 Shares

बीकानेर 3 दिवसीय कार्यक्रम के लिए पधारे महामहिम राज्यपाल कलराज मिश्र से महापौर सुशीला कंवर राजपुरोहित ने शिष्टाचार भेंट की । लक्ष्मी निवास पैलेस में हुई शिष्टाचार भेंट करीब 20 मिनट चली। महापौर सुशीला कंवर ने शहर से जुड़े विभिन्न विषयों पर तथा नगर निगम से जुड़े मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की।
इस दौरान महापौर ने राज्य अभिलेखागार से मंगवाए गए पुरातत्व महत्व वाले सुखसेज नामक महिला द्वारा जोधपुर महाराजा को लिखा गया पत्र तथा आजादी के अमृत महोत्सव के दृष्टिगत आईएएस महेंद्र खडगावत द्वारा राजस्थान के स्वतंत्रता सैनानियों की जानकारी संकलित कर उन पर लिखी गई पुस्तक भेंट की।
30/07/2022

..........
5
127 views    0 comment
0 Shares

राज्यपाल श्री मिश्र ने करणी माता मंदिर में किए दर्शन

बीकानेर, 29 जुलाई। राज्यपाल श्री कलराज मिश्र ने शुक्रवार को देशनोक स्थित विश्व प्रसिद्ध करणी माता मंदिर के दर्शन किए तथा देश व प्रदेश में शान्ति व खुशहाली की कामना की।
मंदिर पुजारी श्री मुन्नादान ने विधिवत पूजा करवाई।
राज्यपाल को करणी माता मंदिर निजी प्रन्यास के अध्यक्ष बादल सिंह ने मां करणी के जीवन से जुड़ी जानकारी दी और करणी साहित्य भेंट किया। राज्यपाल ने काबे (सफेद चूहे) के दर्शन भी किए।
इस अवसर पर जिला कलक्टर श्री भगवती प्रसाद कलाल, जिला पुलिस अधीक्षक श्री योगेश यादव, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री अमित कुमार, देशनोक पालिका अध्यक्ष ओम प्रकाश मूधंडा, ट्रस्ट उपाध्यक्ष सीतादान, पूर्व अध्यक्ष गिरिराज सिंह, कैलाश दान चारण, नोखा की उपखंड अधिकारी स्वाति गुप्ता, तहसीलदार बिहारी लाल, नायब तहसीलदार रमेश सिंह मौजूद रहे।

..........
3
139 views    0 comment
0 Shares

तीन दिवसीय पावर लिफ्टिंग एवं वेटलिफ्टिंग रेफरी क्लीनिक का हुआ आयोजन
 July 26, 2022
शिक्षा निदेशालय राजस्थान सरकार बीकानेर के निर्देशन में तीन दिवसीय पावर लिफ्टिंग एवं वेटलिफ्टिंग रेफरी क्लीनिक का आयोजन राजकीय जवाहर उच्च माध्यमिक विद्यालय भीनासर के तत्वाधान में मुरलीधर व्यास कॉलोनी में करणी कृपा भवन में आयोजित हुआ जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में त्रिलोक जी कल्ला कार्यक्रम के अध्यक्ष के रूप में शिक्षा विभाग के श्री अशोक व्यास अन्य अतिथि के रूप में समाजसेवी प्रकाश जी सामसुखा, राम विनोद जी शर्मा वेटलिफ्टिंग कोच बजरंग जी सुथार, शिवजी रंगा, मानक जी व्यास एवं राकेश पुरोहित कार्यक्रम में उपस्थित थे वेटलिफ्टिंग केएमटी विशाल पारीक एवं राजेश मित्तल ने खेल से संबंधित तकनीकी जानकारी दी वही पावरलिफ्टिंग खेल में राकेश पुरोहित संदीप चोयल एवं रवि छंगानी के साथ दीपक रंगा ने पावरलिफ्टिंग खेल के संदर्भ में तकनीकी पक्ष रखा उल्लेखनीय है कि यह पहला अवसर है जब राजस्थान की प्रथम वेटलिफ्टिंग एवं पावरलिफ्टिंग रेफ़री क्लीनिक का आयोजन राजकीय जवाहर उच्च माध्यमिक विद्यालय के तत्वाधान में हो रहा है इस अवसर पर अंतरराष्ट्रीय पदक विजेता राजस्थान के पहले sgfi स्वर्ण पदक विजेता स्ट्रांग मैन ऑफ एशिया दक्ष सिंह चौहान का भी सम्मान किया गया।

..........
0
16 views    0 comment
0 Shares

6
450 views    0 comment
0 Shares

9
604 views    0 comment
0 Shares

0
0 views    0 comment
0 Shares

..........
3
148 views    0 comment
0 Shares

8
745 views    0 comment
0 Shares

..........
3
439 views    0 comment
0 Shares

बीकानेर के वैष्णोधाम मंदिर में इन दिनों 18 फीट ऊंचा शिवलिंग आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। इसे गुजरात के आठ पंडितों ने मिलकर सवा लाख पंचमुखी रुद्राक्ष से तैयार किया गया है। सावन मास समाप्त होने के साथ ही ये सभी रुद्राक्ष श्रद्धालुओं में वितरित कर दिए जाएंगे।
गुजरात के आठ पंडित पिछले दिनों बीाकनेर आए और वैष्णोधाम मंदिर में शिवलिंग बनाने की इच्छा जताई। इस पर मंदिर प्रशासन ने अनुमति दे दी। मंदिर के मुख्यद्वार पर ही वापी गुजरात से आए पंडितों ने शिवलिंग बनाने का काम शुरू किया और आठ दिन में इसे तैयार कर दिया। सावन मास से पहले ही शिवलिंग बनकर तैयार हो गया। 18 फीट ऊंचे शिव लिंग पर जलधारा से अभिषेक करने के लिए बकायदा लोहे की सीढ़ियां लगाई गई है। तीन पंडित हर वक्त यहां जलाभिषेक करते समय मंत्रोचारण करते हैं।

पंडित चिरंजनभाई शास्त्री ने बताया कि न्याय ज्योति चेरिटेबल ट्रस्ट के माध्यम से शिवलिंग बनाने का काम किया जाता है। ये संस्था आदिवासी और गरीब परिवारों के लिए काम करती है। शिवलिंग पर आने वाली धनराशि उन्हीं के काम आएगी। हर साल किसी न किसी शहर में इसी तरह शिवलिंग बनाया जाता है।
नेपाल के हैं रुद्राक्ष
शास्त्री ने बताया कि ये पंचमुखी रुद्राक्ष नेपाल से लिए गए हैं। एक एक रुद्राक्ष को पूजन के बाद शिवलिंग के रूप में चढ़ाने का काम हुआ है। करीब साढ़े छह लाख रुपए की लागत से ये शिवलिंग तैयार किया गया है। सावन खत्म होने के बाद ये रुद्राक्ष भक्तों में वितरित कर दिए जाएंगे। इसके लिए कोई भी भक्त यहां अपना नाम और पता लिखवा सकता है। सावन के बाद इन्हें प्रसाद के रूप में भक्तों के घर पहुंचा दिया जाएगा। मंदिर से भी भक्त ले सकते हैं।
धर्म का प्रचार कर रहे हैं
शास्त्री ने बताया कि जगह-जगह रुद्राक्ष का शिवलिंग बनाने का एक उद्देश्य धर्म का प्रचार प्रसार भी है। आज का युवा धर्म से अलग हो रहा है, उसे फिर धर्म का ज्ञान देने का प्रयास हो रहा है।

..........
0
377 views    0 comment
0 Shares

24
63 views    0 comment
0 Shares

3
605 views    0 comment
0 Shares

4
1651 views    0 comment
0 Shares

बैंक खातों में नामांकन : प्रक्रिया व महत्‍व ।

बैंक, प्राचीन काल से ही मानव जीवन का एक हिस्‍सा रहा है । डिजिटल- इण्डिया युग में तो बैंक, प्रत्‍येक व्‍यक्ति के जीवन का एक अनिवार्य हिस्‍सा बन गये है । वर्तमान समय में लगभग सभी व्‍यक्तियों के एक से अधिक बैंक खातें है । वेतन व अन्‍य भुगतान की प्राप्ति बैंक खातों के माध्‍यम से होती है, इसी प्रकार अधिकांश भुगतान बैंक खातों के माध्‍यम से ही किये जाते है साथ ही अपनी बचत का विनियोग भी बैंक मियादी जमा खातों के माध्‍यम से किया जाता है ।

मानव, हर पल जीवन की एक नयी शुरूवात करता है; हर पल अगले पल के बारे में आशांवित रहता है लेकिन भविष्‍य का प्रत्‍येक पल अनिश्‍चितता से भरा होता है । इसलिए बैंकों में प्रत्येक खाते में नामांकन किये जाने का प्रावधान है ताकि दुर्भाग्‍य से खाताधारक के निधन होने पर उसके वारिसों को बैंक में जमा धन प्राप्‍त करने में कोई दिक्‍कत व देरी न हो ।

आइये, बैंक खातों में नामांकन की प्रक्रिया को समझे-
• बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 45 व बैंकिंग कम्‍पनी (नामांकन) नियमों, 1985 के तहत वर्ष 1985 से बैंकों में नामांकन की सुविधा उपलब्‍ध है ।
• सभी प्रकार के बचत व सावधि जमा बैंक खातों में नामांकन की सुविधा उपलब्‍ध है । चाहे खाते एकल या सयुक्‍त हैसियत से खोले गये हो सभी बैंक खातों में नामांकन कर सकते है अर्थात सयुक्‍त खातों में भी नामांकन किया जा सकता है ।
• चालू खाते में भी नामांकन की सुविधा उपलब्‍ध है । लेकिन अधिविकर्ष खाते में नामांकन नहीं किया जा सकता भले ही खाते में जमा शेष हो ।
• नामांकन स्‍वयम खाताधारक द्वारा ही किया जा सकता है, खाते के परिचालन हेतु नियुक्‍त प्रतिनिधि, अटांर्नी इत्‍यादि को नामांकन करने का अधिकार नहीं ।
• केवल व्‍यक्ति को ही नामित किया जा सकता है, न्‍यास या अन्‍य किसी गैर-व्‍यक्ति संस्‍था को नहीं ।
• नामांकन केवल एक ही व्‍यक्ति के पक्ष में ही किया जा सकता है । सयुक्‍त खाते की स्थिति में सभी खाताधारक सयुक्‍त रूप से किसी एक व्‍यक्ति के पक्ष में नामांकन कर सकते है ।
• यह आवश्‍यक नहीं कि नामित व्‍यक्ति रिश्‍तेदार या वारिस ही हो । किसी भी स्‍वस्‍थ मस्तिष्‍क वाले व्‍यक्ति को नामित बनाया जा सकता है । अनिवासी व्‍यक्ति के पक्ष में भी नामांकन किया जा सकता है ।
• अवयस्‍क व्‍यक्ति के पक्ष में भी नामांकन किया जा सकता है । ऐसी स्थिति में नामांकनकर्ता को किसी तीसरे वयस्‍क व्‍यक्ति का उल्‍लेख नामांकन प्रपत्र में करना होगा जो कि नामित व्‍यक्ति की अवयस्‍कता के दौरान खाताधारक की मृत्‍यु होने की स्थिति में नामित की ओर से राशि प्राप्‍त करने का अधिकारी होगा ।
• खाते के चालू रहने के दौरान, किये गये नामांकन को कभी भी निरस्‍त किया जा सकता है और उसके पश्‍चात नया नामांकन भी किया जा सकता है ।
जब तक खाताधारक द्वारा न चाहा जायेगा, नामित व्‍यक्ति का नाम गुप्‍त रखा जाता है । पासबुक व जमारसीद पर केवल नामांकन पंजीकरण संख्‍या दर्ज की जाती है । लेकिन खाताधारक की सहमति होने पर नामित व्‍यक्ति का नाम दर्ज किया जाता है ।
• मियादी जमा के नवीनीकरण पर पूर्व में किया गया नामांकन प्रभावी रहता है जब तक कि उसको स्‍पष्‍ट रूप से निरस्‍त या उसमें में परिवर्तन नहीं किया जाये ।
• सयुक्‍त खाते की स्थिति में नामित व्‍यक्ति का अधिकार दोनों खाताधारकों की मृत्‍यु के पश्‍चात ही उत्‍पन्‍न होता है ।
• ग्राहकों की सूविधा के लिए बैंक जमा खाता खोलने के साथ ही नामांकन का प्रपत्र संलग्‍न होता है ।
• नामांकन करने के लिए किसी गवाही की आवश्‍यकता नहीं होती । लेकिन खाताधारक अशिक्षित है तो दो स्‍वतंत्र व्‍यक्तियों का साक्ष्‍य होना जरूरी है ।
• बैंक द्वारा किये गये नामांकन की पावती दी जायेगी । ग्राहक को चाहिए कि वह, अपने व्‍यक्तिगत अभिलेख हेतु इस पावती को अवश्‍य प्राप्‍त करें । और इसको अपने महत्‍वपूर्ण प्रलेखों के साथ फाइल में नत्‍थी कर लें जिससे वारिसों को समय पर सूचना प्राप्‍त हो सके ।
• नामित व्‍यक्ति द्वारा भुगतान प्राप्‍त करना बेहद आसान है । खाताधारक की मृत्‍यु होने पर, मृत्‍यु प्रमाण-पत्र व आधार/अन्‍य केवाईसी प्रलेख के साथ एक पृष्‍ठ का आवेदन प्रस्‍तुत करना होता है । आवेदन पत्र में नामित व्‍यक्ति की किसी राजपत्रित अधिकारी या किसी बैंक अधिकारी या बैंक के दो प्रतिष्‍ठति ग्राहकों द्वारा जान-पहचान की जायेगी । सन्‍तुष्‍ट होने पर देय राशि बैंक द्वारा नामितके खाते में जमा कर दी जायेगी ।
मृतक खाताधारक के एक ही शाखा में परिचालित एक से अधिक बचत व मियादी जमा खातों का निपटान एक ही आवेदन में एक साथ ही हो जाता है ।
• भारतीय रिजर्व बैंक के निर्देशानुसार आवेदन प्राप्ति के पन्‍द्रह दिनों के भीतर दावे का निपटारा करना जरूरी है ।
• नामित के अलाव यदि किसी तीसरे पक्षकार द्वारा मृतक खाताधारक की राशि पर दावा किया जाता है तो उसके आवेदन को स्‍वीकार नहीं किया जायेगा । बैंक द्वारा उसे सलाह दी जायेगी कि वह अदालत से निषेधाज्ञा आदेश प्राप्‍त करें, यदि तीसरा पक्षकार पन्‍द्रह दिनों में निषेघाज्ञा आदेश प्राप्‍त करने में असफल रहता है तो बैंक नामित को भुगतान कर अपने दायित्‍व से मुक्‍त हो जायेगी ।
• खाताधारक द्वारा किसी व्‍यक्ति के पक्ष में नामांकन कर देना का आशय यह नहीं कि उस व्‍यक्ति को प्राप्‍त राशि पर कानूनी अधिकार प्राप्‍त हो गया । नामांकन “मृतक खाताधारकों” के जमा शेष को भुगतान को सरल करने की प्रक्रिया मात्र है ।
• यदि खाताधारक द्वारा कानूनी वारिसों के अलावा अन्‍य किसी व्‍यक्ति को नामित बनाया जाता है तो भी वारिसों का अधिकार अक्षुण्‍ण बना रहता है । ऐसी स्थिति में नामित का यह कानूनी दायित्‍व बनता है कि वह वारिसों को उनकी विधिक स्थिति के अनुसार भुगतान करे ।
• इसको उदाहरण द्वारा समझते है कि मृतक खाताधारक के चार पुत्र थे उनमें से एक को उसने अपना नामित बनाया । दावे के रूप में नामित ने बैंक से एक लाख रूपये प्राप्‍त किये ऐसे में नामित का दायित्‍व बनता है कि अपना एक चौथाई हिस्‍सा, रूपये पच्‍चीस हजार, अपने पास रखते हुवे वह अपने शेष तीनों भाइयों को, प्रत्‍येक को पच्‍चीस हजार का भुगतान करें ।
अगर नामित वारिसों को उनका विधिक हिस्‍सा देने से मना करता है तो वारिस अपना हिस्‍सा प्राप्‍त करने के लिए नामित के विरूद्ध कानूनी दावा प्रस्‍तुत कर सकते है ।
• भारतीय रिजर्व बैंक की अधिसूचना के अनुसार कलैण्‍डर वर्ष 2019 के अन्‍त में 18000 कराड़ रूपये बैंक खातों में अदावा (अनक्‍लेमड) पड़े है जिनका कोई दावेदार नहीं है । अन्‍य कारणों के अलावा एक कारण, खातों का नामांकन न होना भी है ।

देखा आपने, कितनी बड़ी राशि है यह । अत: आज ही अपने समस्‍त बैंक खातों में नामांकन की स्थिति की जांच करे । अगर किसी खाते में नामांकन नहीं है तो आज ही बैंक जाये और नामांकन करें व पावती प्राप्‍त करने के पश्‍चात ही वापस आये । अगर आपके परिवार में विवाद नहीं है तो अपने बैंक खातों व नामांकन के बारे में अपने-अपनों को बताये और अगर विवाद है या हो सकता है तो चुपचाप नामांकन पावती को अपने व्‍यक्तिगत कागजों के साथ रख दे ।

याद रखे कि नामांकन न होने पर आपकी जमा राशि का भुगतान “मृतक खाता भुगतान” के लिए निर्धारित प्रक्रिया के तहत किया जायेगा जो कि कागजी व कानूनी प्रावधानों के कारण समय व श्रम साध्‍य है । अत: अपने परिजनों की सुविधा के लिए अपने खातों में नामांकन अवश्‍य करवाये।
......

..........
52
2632 views    0 comment
0 Shares

◆ *शादी होने से पहले ही प्री वेडिंग के नाम पर कई रातें साथ गुजारने लगे हैं युवक युवतियां•••* *पिछले कुछ सालों से देश में भारतीय संस्कृति से होने वाले विवाह समारोह में प्री वैडिंग के नाम पर एक नया प्रचलन सामने आया है। इसके तहत होने वाले दूल्हा-दुल्हन अपने परिवारजनों की सहमति से शादी से पूर्व फ़ोटोग्राफर के एक समूह के साथ देश के अलग-अलग सैर सपाटों की जगह, बड़ी होटलों, हेरिटेज बिल्डिंगों, समुन्द्री बीच व अन्य ऐसी जगहों पर जहाँ सामान्यतः पति पत्नी शादी के बाद हनीमून मनाने जाते हैं, जाकर अलग- अलग और कम से कम परिधानों में एक दूसरे की बाहों में समाते हुए वीडियो शूट करवाते हैं | फिर ऐसी वीडियो/फ़ोटोग्राफी को शादी के दिन एक बड़ी सी स्क्रीन लगा कर जहाँ लड़की और लड़के के परिवार से जुड़े तमाम रिश्तेदार मौजूद होते हैं, की उपस्थिति में सार्वजनिक रूप से उस जोड़े को वो सब करते हुए दिखाया जाता है जिनकी अभी शादी भी नहीं हुई है। जिनको जीवन साथी बनने के साक्षी बनाने और उन्हें आशीर्वाद देने के लिये ही सगे संबंधियों और सामाजिक लोगों को वहाँ बुलाया जाता है। लेकिन यह क्या गेट के अंदर घुसते ही जो देखने को मिलता है वह शर्मसार करने वाला होता है। जिस भावी जोडे को हम वहाँ आशीर्वाद देने पहुँचते हैं, वो वहाँ पहले से ही एक दूसरे की बाहों में झूल रहे होते हैं और सबसे बड़ी बात यह है कि यह सब दोनों परिवारों की सहमति से होता है। लड़का- लड़की कई दिन तक बाहर रह कर साथ में कई रातें बिता चुके होते हैं। यह सब देख कर एक विचार मन में आता है। जब सब कुछ हो चुका है तो आखिर हमें यहाँ क्यों बुलाया गया है। यह शुरुआत अभी उन घरानों से हो रही है, जो समाज के नेतृत्वकर्ता हैं | जो समाज सुधार की दिशा में कार्यक्रम करते रहते हैं। ऐसे बड़े परिवार ऐसी शादियों को जो अपने पैसों के बल पर इस प्रकार की गलत प्रवर्तियों को बढ़ावा देकर समाज के छोटे तबके के परिवारों को संकट में डाल रहे हैं। ऐसी शादियों का सामाजिक बहिष्कार करें |* *जरूर सोचे एवं विचार करे की आखिर हम समाज , परिवार और हमारी भारतीय संस्कृति को कहाँ ले जा रहे हैं और आने वाली पीढ़ियों के सामने क्या उदाहरण प्रस्तुत करना चाहते हैं।*

..........
10
25 views    0 comment
0 Shares

सोशल मीडिया पर सुर्खियों में रहने वाली IAS टीना डाबी ने एक हैरान करने वाला फैसला लिया है. टीना डाबी ने अब सोशल मीडिया से किनारा कर लिया है. टीना ने अपने इंस्टाग्राम, ट्विटर और फेसबुक अकाउंट को बंद कर दिया है. टीना ने शनिवार को यह फैसला लिया. इतना ही नहीं उनके मंगेतर प्रदीप ने भी सोशल मीडिया से दूर रहने का फैसला लिया है. प्रदीप ने अपना इंस्टाग्राम अकाउंट बंद कर दिया है. बता दें कि टीना डाबी की सोशल मीडिया पर खासी फैन फॉलोइंग है और इंस्टाग्राम पर उनके 1.5 मिलियन फॉलोअर्स थे. साथ ही टीना के फेसबुक से भी लाखों लोग जुड़े हुए थे. अब IAS टीना और प्रदीप गवांडे ने सोशल मीडिया को टाटा कह दिया है. हाल ही में अपने रिश्ते के बारे में टीना ने सोशल मीडिया पर ही बताया था. टीना ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर अपने मंगेतर IAS प्रदीप के साथ फोटो शेयर करते हुए अपने रिश्ते के बारे में सभी को बताया था. दोनों जल्द ही शादी करने जा रहे हैं.
टीना की पोस्ट के बाद सोशल मीडिया पर बधाइयों की बाढ़ आ गई थी. टीना की एक फोटो वायरल होने के बाद जमकर पसंद की गई थी. इस फोटो पर डेढ़ मिलियन से ज्यादा लोगों ने लाइक दिया था. वहीं सोशल मीडिया से दूरी बनाने का कारण ट्रोलर्स को माना जा रहा है. शादी की खबर के बाद टीना और प्रदीप को कई लोगों ने बधाई दी थी. वहीं कई लोगों ने टीना को ट्रोल किया था. अब माना जा रहा है कि ट्रोलर्स के कारण टीना और प्रदीप ने सोशल मीडिया से दूरी बनाने का फैसला लिया है.

..........
15
780 views    0 comment
0 Shares

..........
3
219 views    0 comment
0 Shares

बीकानेर प्रेस क्लब का होली स्नेह मिलन समारोह रविवार को हरि हेरिटेज में आयोजित हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि केश कला बोर्ड के अध्यक्ष महेंद्र गहलोत थे। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में पत्रकारिता को चौथे स्तंभ के रूप में मान्यता प्राप्त है। यह अत्यंत महत्वपूर्ण है। उन्होंने बीकानेर में पत्रकारिता की परंपरा को पूरे देश के लिए मिसाल बताया तथा कहा कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत द्वारा पत्रकारों के अधिस्वीकरण की प्रक्रिया के सरलीकरण की घोषणा की गई है। पत्रकार संगठनों द्वारा इसके सुझाव बनाए जाएं। यह सुझाव राज्य सरकार को भिजवाए जाएंगे।
विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद सेवानिवृत्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश नरसिंह दास व्यास ने कहा कि लोकतांत्रिक देश में पत्रकारों के कंधों पर बड़ी जिम्मेदारी होती है। प्रत्येक पत्रकार इसे समझते हुए अपनी कलम से चलाए, जिससे समाज को सही दिशा मिल सके।
सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सहायक निदेशक हरि शंकर आचार्य ने कहा कि प्रेस द्वारा राज्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को अंतिम छोर तक बैठे व्यक्ति तक पहुंचाया जाए। उन्होंने पत्रकार कल्याण से संबंधित विभिन्न योजनाओं के बारे में बताया तथा कहा कि प्रेस क्लब द्वारा समय-समय पर ऐसे कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जो पत्रकारों में नई ऊर्जा का संचार करते हैं।
इससे पहले प्रेस क्लब के अध्यक्ष जयनारायण बिस्सा ने अपने कार्यकाल की विभिन्न उपलब्धियों तथा भावी कार्ययोजना के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि प्रेस और पत्रकारों की प्रत्येक वाजिब मांग को सरकार तक पहुंचाया जाएगा।
जार के जिलाध्यक्ष श्याम मारु ने वरिष्ठ पत्रकार सम्मान योजना के तहत पात्रता की आयु 58 वर्ष करने, जिले की तर्ज पर तहसील स्तर पर पत्रकारों को आवासीय भूखंड देने तथा अधिस्वीकरण नियमों में शिथिलता की मांग रखी।
कार्यक्रम का संचालन ज्योति प्रकाश गंगा ने किया।
इस दौरान वरिष्ठ प्रचार फोटोग्राफर बृज गोपाल बिस्सा, दिनेश गुप्ता, मनीष पारीक, अजीज भुट्टा, विमल छंगाणी, रमेश बिस्सा, सुरेश बोड़ा, मुजीब उर रहमान, रमजान मुगल, भवानी जोशी, रामस्वरूप भाटी, श्याम मारु सहित विभिन्न पत्रकारों का सम्मान किया गया।
इस दौरान विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित हुए।

..........
10
1334 views    0 comment
1 Shares

3
34 views    0 comment
0 Shares

0
85 views    0 comment
0 Shares

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक होना एक गंभीर मामला है। पूर्व में भारत के दो प्रधानमंत्रियों श्रीमती इन्दिरा गांधी एवं श्री राजीव गांधी की हत्या हो चुकी है जिसके बाद प्रधानमंत्री की सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी एसपीजी को दी गई। पीएम की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एसपीजी एक्ट में विशेष प्रावधान किए गए हैं। पीएम के दौरे पर सुरक्षा की जिम्मेदारी एसपीजी एवं आईबी की होती है तथा राज्य पुलिस एसपीजी के निर्देशों एवं सलाह का पालन करती है। एसपीजी की अनुमति के बिना पीएम का काफिला आगे नहीं बढ़ सकता है।एसपीजी को बताना चाहिए कि बिना पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के प्रधानमंत्री को 2 घंटे से अधिक समय की सड़क यात्रा क्यों करवाई गई? पंजाब के सीएम ने बताया कि किसानों के प्रदर्शन के बारे में पूर्व में जानकारी दे दी गई थी तब भी प्रदर्शन वाले रास्ते में पीएम के काफिले को जाने की अनुमति एसपीजी ने क्यों दी?यह एक गंभीर मुद्दा है जिस पर राजनीति करने की बजाय एसपीजी, आईबी तथा अन्य एजेंसियों की जिम्मेदारी तय होनी चाहिए। भाजपा द्वारा इस मुद्दे पर कांग्रेस एवं पंजाब के मुख्यमंत्री श्री चन्नी के खिलाफ की जा रहीं टिप्पणियां मुद्दे की गंभीरता को कम करती है। इसकी निंदा की जानी चाहिए।

..........
0
33 views    0 comment
0 Shares

बीकानेर। भाजपा लघु उद्योग प्रकोष्ठ के प्रदेश सहसंयोजक महावीर रांका के जन्मदिन पर पार्क पैराडाइज में उनके मित्रों , परिजनों व समर्थकों ने  रक्तदान कर उन्हें शुभकामनाएं दी। रामझरोखा कैलाश धाम के महंत महामंडलेश्वर  सरजूदासजी महाराज ने रांका को शुभाशीष प्रदान करते हुए कहा कि सेवा कार्यों में महावीर रांका  उत्साह और कहीं नहीं देखा गया।

रक्तदान शिविर में रक्तदाताओं का उत्साहवर्धन करने पहुंचे पूर्व संसदीय सचिव डॉ. विश्वनाथ मेघवाल ने कहा कि समर्थकों द्वारा  रक्तदान कर जन्मदिन की शुभकामनाएं देना महावीर रांका के व्यक्तित्व को दर्शाता है।

भाजपा के पवन महनोत ने बताया कि पूर्व यूआईटी चैयरमेन महावीर रांका के जन्मदिन पर 1028 जनों ने रक्तदान किया जिनका ब्लड पीबीएम सहित पांच अलग-अलग संस्थाओं ने एकत्र किया।

शिविर का शुभारम्भ सूरजदेवी रांका, लालजी गुरुजी, गणेश बोथरा, हनुमानमल रांका द्वारा किया गया। रक्तदान शिविर में मस्त मंडल सेवा संस्था, बाबा रामदेव सेवा समिति, लूणकरण सरोज देवी सामसुखा चैरिटेबल ट्रस्ट, पूनमचन्द झंवरी देवी कच्छावा चैरिटेबल ट्रस्ट, रामलाल सूरजदेवी रांका चैरिटेबल ट्रस्ट, रक्त एकत्र संस्थाओं, चिकित्सा कर्मियों तथा टीम महावीर रांका का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

डेंगू प्रकोप में रक्तदान की महत्ती आवश्यकता : महावीर रांका कोरोना महामारी जैसी विकट स्थितियों में महावीर रांका ने अपने सेवा कार्यों से लोगों की सहायता में हर समय तत्पर रहे।

इसी क्रम में  सेवा कार्यों में महावीर रांका ने अपने जन्मदिन पर रक्तदान शिविर आयोजित करने का निर्णय लिया। रांका ने बताया कि वर्तमान में डेंगू के प्रकोप को देखते हुए हॉस्पिटल में रक्त की महत्ती आवश्यकता है। इसी कमी को पूरा करने का उद्देश्य रखते हुए रक्तदान का शिविर आयोजित किया गया।

..........
14
1571 views    0 comment
0 Shares