logo
(Trust Registration No. 393)
अपने विचार लिखें....

ठाणे।- पूरे विश्व में शिक्षा व्यवस्था में शारीरिक शिक्षा को प्रमुख स्थान दिया गया है | पिछले दो साल से कोरोना महामारी ने दिखा दिया है कि आपको शारीरिक रूप से फिट रहने की कितनी जरूरत है। इसने आपको इसके प्रति जागरूक किया है, जैसे कि यह एक दर्पण हो जो आपको दिखा रहा हो कि इस आधुनिक जीवन शैली के कारण आपका शरीर कितना विकृत है। यदि आप जीवन का भरपूर आनंद लेना चाहते हैं तो अपने शरीर को स्वस्थ रखना बहुत जरूरी है, इसलिए शारीरिक शिक्षा समाज के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है। शारीरिक शक्ति होने पर ही देश और मजबूत होगा और देश को अपंगता से बचाया जा सकता है। जब सभी देश स्वस्थ होंगे, तो वैश्विक स्तर पर, विशेष रूप से ओलंपिक में, हमारा खेल प्रदर्शन निश्चित रूप से उल्लेखनीय होगा, लेकिन इसे प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालय स्तर से तैयार किया जाना चाहिए। कम से कम प्रशासन को तो अब आंखें खोलनी चाहिए। महाराष्ट्र में शारीरिक शिक्षा पर हड़ताल करने का सरकार का फैसला पिछले दस से बारह वर्षों में लिया गया लगता है। पिछले कुछ वर्षों से महाराष्ट्र में शारीरिक शिक्षा शिक्षकों के विभिन्न ज्वलंत मुद्दे लंबित हैं पिछले दस वर्षों से इस मुद्दे का समाधान नहीं किया गया है। सरकार को इन मुद्दों पर ध्यान देने के लिए सोमवार १८ अक्टूबर २०२१ को सुबह १० बजे सेंट्रल बिल्डिंग, पुणे में विशाल सोलंकी साहब, आयुक्त शिक्षा, महाराष्ट्र राज्य, पुणे के कार्यालय के सामने एक दिवसीय विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। मजबूत राष्ट्र निर्माण के लिए शारीरिक शिक्षा और खेलकूद की बहुत आवश्यकता है।हम पूरे महाराष्ट्र से आंदोलन तेज कर रहे हैं ताकि सरकार इसके लिए ठोस निर्णय ले सके। संघ की प्रमुख मांगें- 1) शारीरिक शिक्षा शिक्षक के पद के संबंध में मानदंड जो सेट की मान्यता में एक अन्यायपूर्ण कारक है, उसको तुरंत बदला जाना चाहिए। 2) शारीरिक शिक्षा शिक्षक के पूर्णकालिक पद के लिए शारीरिक शिक्षा विषय के पूर्ण प्रभार की शर्त को हटाया जाना चाहिए। 3) मुंबई विश्वविद्यालय, मुंबई क्षेत्राधिकार के सब्सिडी वाले और गैर-सब्सिडी वाले कॉलेजों में 188 सीटें भरी जानी चाहिए। 4) अन्य मांगों को लेकर पुणे में शारीरिक शिक्षा शिक्षकों का आंदोलन होगा | इसकी जानकारी महासंघके अध्यक्ष श्री तयप्पा शेंडगे और मुंबई विभाग प्रमुख डॉ सचिन शिंदे ठाणे जिलाध्यक्ष श्री राहुल अकुल एवं सचिव डॉ. सुनील पवार ने दी जानकारी हालांकि संगठन ने शारीरिक शिक्षा शिक्षकों से आंदोलन में शामिल होने की अपील की है।

16
8572 views
  
91 shares