logo
(Trust Registration No. 393)
Write Your Expression

लखीमपुर हिंसा के विरोध में माओवादियों ने 17 अक्टूबर को बुलाया बंद

रांची। प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी ने पिछले दिनों उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में हुई हिंसा मामले पर बिहार, झारखंड, उत्तरी छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश में बंद की घोषणा की है।

बंद को देखते हुए झारखण्ड पुलिस ने अलर्ट जारी कर दिया है। रेलवे और झारखंड पुलिस सतर्क हो गई है।झारखण्ड पुलिस ने सभी जिलों के एसपी को सर्तकता के लिए दिशा-निर्देश जारी किया है।

पुलिस मुख्यालय ने जिले के सभी एसपी को अलर्ट रहने और अति संवेदनशील क्षेत्रों में गश्ती बढ़ाने का निर्देश दिया है। निर्देश के बाद जिलों के एसपी ने सभी जवानो को चौकस रहने और अति संवेदनशील इलाकों में दिनभर गश्ती तेज करने का निर्देश दिया है।

भाकपा माओवादी के प्रवक्ता मानस ने प्रेस रिलीज जारी कर बंद का आह्वान किया है। भाकपा माओवादियों ने प्रेस विज्ञप्ति में लिखा है कि तीन कृषि कानूनों (1) किसान उत्पादन व्यापार और वाणिज्य संवर्द्धन और सुविधा विधेयक 2020, (2) आवश्यक वस्तु अधिनियम (संसाधन) बिल 2020 (3) किसान (सशक्तीकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा विधेयक समझौता 2020 के खिलाफ भारतीय किसान यूनियन के नेतृत्व में जारी देशव्यापी किसान आन्दोलन पर मोदी सरकार द्वारा विभिन्न षड्यंत्रों के तहत जारी दमनात्मक मुहिमों की एक और ताज़ा बर्बर मिशाल लखीमपुर खीरी में सामने आयी।

शांतिपूर्ण ढंग से धरना पर बैठे आंदोलनकारी किसानों की भीड़ पर तेज रफ्तार से लाकर कार चढ़ाकर कुचल देना जिससे घटना स्थल पर ही 4 आंदोलनकारियों की मौत हो गई और कई घायल हो गये। ऐसी हृदय विदारक कार्रवाई का अंजाम देना और दिलाना कितनी बड़ी क्रूर मानसिकता का परिचायक हो सकता है। जिसे सुनकर भी रोंगटे खड़े हो जाते हैं। स्वाभाविक है कि ऐसी घटना के बाद कोई भी संयत और शांत नहीं रह सकता और इसी के खिलाफ भाकपा माओवादियों ने 17 अक्टूबर को बिहार झारखंड उत्तरी छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश में बंद का आह्वान किया है।

6
455 Views
7
462 Views
0 Shares
Comment
0
317 Views
11 Shares
Comment
11
91 Views
1 Shares
Comment
6
509 Views
4 Shares
Comment
1
282 Views
0 Shares
Comment