logo
(Trust Registration No. 393)
अपने विचार लिखें....

पानीपत। उपायुक्त सुशील सारवान ने सोमवार को लघु सचिवालय परिसर में सूचना जन संपर्क एवं भाषा विभाग द्वारा स्वतंत्रता संग्राम में हरियाणा के योगदान पर आधारित तीन दिवसीय प्रदर्शनी का रिबन काटकर उद्घाटन करते हुए कहा कि भारत की आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है।


 भारत का आजादी दिलवाने के लिए 1857 की क्रांति का सबसे अहम योगदान था। आजादी की लड़ाई का बिगुल सबसे पहले 1857 में बजा था और देश के महान क्रांतिकारियों के बलिदान और योगदान से ही भारत को 1947 में आजादी मिली थी। 


इस मौके पर एसडीएम समालखा अश्वनी मलिक, सीईओ जिला परिषद विवेक चौधरी, एसडीएम पानीपत धीरज चहल, सीटीएम रविन्द्र मलिक भी उनके साथ उपस्थित रहे। डीसी सुशील सारवान ने इसके उपरांत प्रदर्शनी का अवलोकन किया।


 इस अवसर पर डीआईपीआरओ देवेन्द्र कुमार व एआईपीआरओ दीपक पाराशर ने उपायुक्त सुशील सारवान का पुष्प गुच्छ के साथ स्वागत किया। उपायुक्त सुशील सारवान ने बताया कि यह तीन दिवसीय प्रदर्शनी 6 अक्तूबर तक चलेगी। 


प्रदर्शनी अवलोकन का समय सुबह 10 बजे से सायं 5 बजे तक रहेगा। उन्होंने कहा कि देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ देश भर में आजादी का अमृत महोत्सव के रूप में मनाई जा रही है। 


हरियाणा प्रदेश ने भी इसमे बढ़चढ़ कर भाग लिया है और देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ को अनूठे ढंग से मनाने के लिए प्रदेश भर में अनेक कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे है। 


इस प्रदर्शनी में जहां देश के महान स्वतंत्रता सेनानियों, वीर शहीदों के जीवन की गौरव गाथा को दर्शाया गया है वहीं देश की आजादी व हरियाणा प्रदेश के गठन के बाद हुई प्रगति को भी प्रदर्शित किया गया है। 


उन्होंने युवाओं का आह्वान किया कि वे इस प्रदर्शनी का अवलोकन जरूर करें और राष्ट्र भक्ति से जुडक़र देश की प्रगति और खुशहाली में अपना योगदान दें और लघु सचिवालय परिसर में लगाई गई इस प्रदर्शनी को जरूर देंखे ताकि आजादी को लाने के लिए जिन देशभक्तों ने अपनी कुर्बानियां दी है उनके बारे में जानकारी हासिल हो सकें और युवाओं का ज्ञानवर्धन भी हो सके। 



डीसी सुशील सारवान ने सूचना, जन संपर्क एवं भाषा विभाग की इस अनूठी पहल की प्रशंसा करते हुए कहा कि प्रदर्शनी के माध्यम से देश के स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने वाले स्वतंत्रता सेनानियों, राजा-महाराजाओं के योगदान को अभिलेखों के माध्यम से आकर्षक ढंग से प्रस्तुत किया गया है। उन्होंने जिलावासियों से अपील की कि वे अधिक से अधिक संख्या में इस 3 दिवसीय प्रदर्शनी का अवलोकन करें और देश की आज़ादी में योगदान देने वाले वीरों के जीवन से जुड़ी अहम जानकारी प्राप्त करें। 


हमारे पूर्वजों व वीर सेनानियों की कुर्बानियों की बदौलत आज हम खुली हवा मे सांस ले रहे हंै। अब यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम उनके बलिदानों से प्रेरणा लेकर देश के नव निर्माण में अपना योगदान दें। 


डीआईपीआरओ देवेन्द्र कुमार ने डीसी सुशील सारवान को प्रदर्शनी की विस्तार से जानकारी देते हुए कहा कि इस प्रदर्शनी का मुख्य उद्देश्य हमारी युवा पीढ़ी को देश के स्वतंत्रता संग्राम में योगदान देने वाले वीर सेनानियों की गाथाओं से अवगत करवाना है। 


युवा पीढ़ी इस प्रदर्शनी के माध्यम से हमारे गौरवशाली इतिहास को याद रखेगी व देश और प्रदेश के नव निर्माण में अपना योगदान देगी। 


उन्होंने बताया कि यह प्रदर्शनी मुख्यमंत्री मनोहर लाल की पहल पर व मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव तथा सूचना, जन संपर्क एवं भाषा विभाग के महानिदेशक डॉ. अमित कुमार अग्रवाल के कुशल मार्गदर्शन में पंचकूला से शुरू की गई है तथा यह प्रदर्शनी प्रदेश के सभी जिलों में भी आयोजित की जाएगी।

13
1958 views
  
3 shares