logo
(Trust Registration No. 393)
अपने विचार लिखें....

लखनऊ । उत्तर प्रदेश राज्य विश्वविद्यालय सम्बद्ध महाविद्यालय शिक्षक संघ (फुपुक्टा) के आह्वान पर शिक्षक समस्याओं को लेकर उत्तर प्रदेश के 331 एडेड डिग्री कालेजों के नियमित एवं अनुमोदित शिक्षक संयुक्त रूप से सभी राज्य विश्वविद्यालय मुख्यालयों पर आयोजित धरना व प्रदर्शन में शामिल रहेंगे। इसके कारण आज उत्तर प्रदेश के 331 एडेड डिग्री कालेजों में शिक्षण कार्य बंद रहेगा।

फुपुक्टा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ बीरेंद्र सिंह चौहान के द्वारा जारी किए गए पत्र के अनुसार विगत साढ़े चार वर्ष से उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा एडेड डिग्री कालेजों के शिक्षकों की एक समस्या का न तो समाधान किया जा सका और न ही किसी मांग को पूरा किया गया।

उत्तर प्रदेश की उच्च शिक्षा में एक आंगन में दोहरी व्यवस्था कायम की गयी है एक तरफ प्रदेश में केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में जहां शिक्षकों की अधिवर्षता आयु 65 वर्ष निर्धारित है तो वहीं दूसरी एडेड डिग्री कालेजों के शिक्षकों की अधिवर्षता आयु लाख अनुनय विनय के बाद भी 62 वर्ष से 65 वर्ष नहीं किया जा सका।

इसी प्रकार उत्तर प्रदेश के एडेड डिग्री कालेजों में एक ही छत के नीचे दोहरी व्यवस्था कायम कर दी गयी है जिसके लिए कई बार मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश व उच्च शिक्षा मंत्री उत्तर प्रदेश से मांग किया गया कि एडेड डिग्री कालेजों में संचालित स्ववित्तपोषित पाठ्यक्रमों को अनुदान सूची पर लेते हुए इनमें कार्यरत शिक्षकों को विनियमित किया, लेकिन सैकड़ों आश्वासनों के बावजूद प्रदेश सरकार द्वारा आज तक स्ववित्तपोषित शिक्षकों को विनियमित कर एडेड डिग्री की दोहरी को समाप्त नहीं किया जा सका।

इसके अतिरिक्त पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल करने, पीएचडी इन्क्रीमेंट, राज्य कर्मचारियों के सापेक्ष सुविधाएं, आकस्मिक अवकाश को 08 की पुनः पूर्व की भांति 14 करने सहित 24 सूत्रीय मांगों के सापेक्ष विश्वविद्यालय मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन विश्वविद्यालय कुलपतियो को सौंपा जायेगा।

उक्त धरना प्रदर्शन व ज्ञापन कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश राज्य विश्वविद्यालय सम्बद्ध महाविद्यालय शिक्षक संघ (फुपुक्टा) के संयुक्त आह्वान के समर्थन में अनुदानित महाविद्यालय विश्वविद्यालय स्ववित्तपोषित अनुमोदित शिक्षक संघ उत्तर प्रदेश से सम्बंधित प्रदेश के 331 एडेड डिग्री कालेजों के नियमित एवं अनुमोदित शिक्षक शामिल रहेंगे। इसमें समस्त विश्वविद्यालय ईकाईयों के अध्यक्ष व महामंत्री के नेतृत्व में चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ, डॉ भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय आगरा, रूहेलखंड विश्वविद्यालय बरेली, बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय झांसी, लखनऊ विश्वविद्यालय लखनऊ, सिद्धार्थ विश्वविद्यालय कपिलवस्तु सिद्धार्थनगर, दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय गोरखपुर, डॉ राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय अयोध्या, प्रोफेसर राजेंद्र प्रसाद रज्जू भैया राज्य विश्वविद्यालय प्रयागराज, पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर, जननायक चन्द्र शेखर सिंह विश्वविद्यालय बलिया एवं महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ विश्वविद्यालय वाराणसी से सम्बद्ध एडेड डिग्री कालेजों के नियमित एवं अनुमोदित शिक्षक शामिल रहेंगे।

2
101 views