logo
(Trust Registration No. 393)
अपने विचार लिखें....

करनाल। पुलिस ने वाहन चोरी की वारदातों पर अंकुश लगाते हुये अलग-अलग जिलों से वाहन चोरी करने वाले एक शातिर चोर सहित कुल तीन आरोपियों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है।

पुलिस अधीक्षक करनाल श्री गंगाराम पूनिया के दिशा-निर्देश में कार्य करते हुये करनाल पुलिस के “वाहन चोरी निरोधक दस्ता” इंचार्ज उप निरीक्षक रोहताश व उनकी सहयोगी टीम द्वारा ऐसे आरोपियों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है।

आरोपियों के कब्जे से जिला करनाल, पानीपत व कुरूक्षेत्र से चोरी की गई 18 मोटरसाईकिलें बरामद की गईं हैं। टीम द्वार कल दिनांक 22.08.2021 को *आरोपी 1. प्रवीन कुमार पुत्र जगदीश चन्द वासी न्यू बाल्मिकी बस्ती हांसी रोड करनाल* को विश्वसनीय सूचना पर कमाण्डो काम्पलैक्स नेवल जिला करनाल के पास से चोरी की एक मोटरसाईकिल सहित गिरफ्तार किया गया।

पूछताछ में आरोपी द्वारा जिला करनाल, पानीपत व कुरूक्षेत्र से अकेले ही मोटरसाईकिल चोरी की कुल 18 वारदातों में 18 मोटरसाईकिल चोरी करने की बात का खुलासा किया गया। जिसमें जिला करनाल के एरिया से मोटरसाईकिल चोरी की सात वारदातें, जिला पानीपत के एरिया से पांच वारदातें व जिला कुरूक्षेत्र के एरिया की छह वारदातें शामिल हैं। आरोपी ने इन सभी वारदातों को पिछले दो-तीन महिने के दौरान ही अंजाम दिया था।

आरोपी ने बताया वह मोटरसाईकिल चोरी करने के बाद मोटरसाईकिलों को अपने एक मकान में छुपा देता था। *फिर बाद में आरोपी हुकमसिंह पुत्र मामराज वासी गांव महमदपुरा जिला करनाल व आरोपी सुरजीत पुत्र रूपचंद वासी गांव नली कलां जिला करनाल को सस्ते दामों पर बेच देता था। जिस बिनाह पर उपरोक्त दोनों आरोपियों हुकमसिंह व सुरजीत को भी कल दिनांक 22.08.2021 को ही गिरफ्तार किया गया।

जांच में खुलासा हुआ कि आरोपी प्रवीण मोटरसाईकिल चोरी करने के बाद पहले मोटरसाईकिलों को आरोपी हुकमसिंह को बेचता था। बाद में आरोपी हुकमसिंह ने आरोपी सुरजीत की पहचान आरोपी प्रवीण से कराई थी। जिसके बाद आरोपी सुरजीत भी आरोपी प्रवीण से सीधा संपर्क करके चोरीशुदा मोटरसाईकिलें खरीदने लगा।

जांच में यह भी पाया कि आरोपी सुरजीत मोटरसाईकिल मैकेनिक है। जिसकी मोटरसाईकिल ठीक करने की अपनी एक दुकान भी है। जो चोरीशुदा मोटरसाईकिलों को खरीदकर अपनी दुकान से ही ऐसी मोटरसाईकिलों को आगे ग्राहकों को मुनाफे के साथ बेच देता था और कागजात के नाम पर बाद में कागजात देने की बात कहकर ग्राहकों से झूठ बोल देता था।

या फिर कुछ दिन बाद मोटरसाईकिल ग्राहक के नाम करवाने की बात कहकर उस समय मोटरसाईकिलों को बेच देता था। आरोपी हुकमसिंह भी चोरीशुदा मोटरसाईकिलों को बेचने के लिये यही तरीका अपनाता था।

इसके बाद उपरोक्त तीनों आरोपियों के कब्जे से तीनों जिलों से चोरीशुदा कुल 18 मोटरसाईकिलें बरामद की गईं।* आरोपी प्रवीण को पहले भी मोटरसाईकिल चोरी के मामलों में गिरफ्तार किया जा चुका है जो फिलहाल जमानत पर बाहर चल रहा था। आरोपियों को आज पेश अदालत करके न्यायिक हिरासत में भेजा गया। आरोपी प्रवीण केवल स्प्लैण्डर मोटरसाईकिलों को ही अपना निशाना बनाता था। आरोपी किसी एंकात या फिर भीडभाड वाली जगह पर खडी मोटरसाईकिलों को मौका देखकर उनमें कोई भी पुरानी चाबी लगाकर उसका लॉक खोलकर या जल्दबाजी में लॉक खुला छोडकर जाने वाले लोगों की मोटरसाईकिलों का प्लग निकालकर उन्हें डायरेक्ट करके मौका से फरार हो जाता था। अतः करनाल पुलिस की आमजन से अपील है कि कंही भी मोटरसाईकिल को खडी करने से पहले मोटरसाईकिल का लॉक अच्छी तरह बंद है, चैक कर लें और एक लॉक की वजाय व्हील लॉक का भी प्रयोग करें। पार्किंग चार्ज का लालच ना करके अपनी मोटरसाईकिल को अधिकृत पार्किंग में ही खडा करें। ये छोटी-2 सावधानियां बरत कर हम वाहन चोरों के हौंसलों को परस्त कर काफी हद तक मोटरसाईकिलों को चोरी होने से बचा सकते हैं। #karnal #haryanapolice #news

25
3882 views
  
25 shares