logo
(Trust Registration No. 393)
Write Your Expression

नई वार्ड बंदी को लेकर बीजेपी ने दर्ज कराए एतराज

डेराबस्सी (चंडीगढ़)। भारतीय जनता पार्टी डेराबस्सी द्वारा सरकार की ओर से वार्ड बंदी को लेकर मांगे गए सुझाव एवं एतराज के तौर पर आज अपने सुझाव एवं एतराज दर्ज करवाए गए।

उन्होंने कहा कि मौजूदा वार्ड बंदी उक्त एक्ट और रूल्स को ताक पर रखकर राजनीतिक उद्देश्य की पूर्ति के तहत की गई है जो कानूनी रूप से ठीक नहीं है।इस वार्ड बंदी को खारिज कर पुरानी वार्ड बंदी को अमल में लाया जाए।

इस मौके डेरा बस्सी नगर कौंसिल के पूर्व वरिष्ठ प्रधान मुकेश गांधी ने बताया कि डीलिमिटेशन करने से पहले कानूनी रूप से डीलिमीटेशन बोर्ड का गठन किया जाना चाहिए था, लेकिन उसका कानूनी रूप में गठन नहीं किया गया। इसके अलावा वार्ड बंदी शुरू करने से पहले एक जिम्मेदार व्यक्तियों की सर्वे टीम हर वार्ड अनुसार बनाई जानी चाहिए थी, जिसमें नगर कौंसिल के जिम्मेवार अफसर शामिल होने चाहिए थे, लेकिन कोई भी टीम नहीं बनाई गई और ना ही वार्ड में जाकर कोई सर्वे किया गया।

उन्होंने कहा कि अगर यह कार्यवाही दफ्तर में बैठकर की गई है तो यह कानूनी रूप से सरासर गलत है। उन्होंने कहा कि नगर कौंसिल की हद में कोई बढ़ोतरी या कमी नहीं की गई है, जिससे ना ही कोई नया एरिया डेराबस्सी काउंसिल की सीमा में आया है। इसलिए नई वार्डबंदी करने का कोई उचित कारण ही नहीं बनता। इसके अलावा रोटेशन पॉलिसी को भी ध्यान में रखना चाहिए था क्योंकि बहुत से वार्ड जो पिछले लंबे समय से महिलाओं के लिए रिजर्व रहे हैं। उन्हें अब भी महिलाओं के लिए रिजर्व रखा गया है, जो वहां के पुरुष व्यक्तियों के साथ नाइंसाफी की गई है।

उन्होंने कहा कि मौजूदा आबादी 62000 बताई गई है जबकि पुरानी आबादी करीब 43000 थी जिस मुताबिक करीब 25 वार्ड बनने चाहिए थे परंतु इस बात को भी नजरअंदाज किया गया है। इसके अलावा वार्ड बंदी करते समय इस बात को भी नजरअंदाज किया गया है कि वार्डों में वोटर संख्या  का फर्क 10 प्रतिशत से अधिक ना हो परंतु वार्ड की भौतिक और भौगोलिक स्थिति को देखते हुए वार्डों के वोटर संख्या में काफी फर्क है और ना ही वार्डों की लगातारता रखी गई है, जिस कारण से वार्ड की बाउंड्री आपस में नहीं मिलती। कई वार्ड तो केवल राजनीतिक हित की पूर्ति के लिए नेशनल हाईवे क्रॉस करके अमल में लाया गया है जैसे कि वार्ड नंबर 11 के बाद नेशनल हाईवे क्रॉस करके वार्ड नंबर 12 को निर्धारित किया गया है। इसके अलावा 14 नंबर वार्ड और 15 नंबर वार्ड के बाद 16 नंबर वार्ड को देखने से साफ पता चलता है कि नियमों की कितनी उल्लंघना की गई है।

भाजपा कार्यकर्ताओं ने इस वार्ड बंदी को खत्म करके पुरानी वार्ड बंदी को अमल में लाने की सरकार से गुजारिश की है और नगर कौंसिल के ईओ जगजीत सिंह जज को एतराज पत्र सौंपा है।

इस मौके पर मुकेश गांधी के अलावा भाजपा नेता मंडल प्रधान टोनी सैनी, रविंद्र बत्रा, मास्टर विपन थम्मन, रजनीश बहल, निर्मल सिंह निम्मा, पवन भटनागर, गुरचरण चौधरी, एडवोकेट राम धीमान, एडवोकेट रजनीश सैली, जसविंदर, दिनेश वैष्णव आदि के अलावा कई अन्य सदस्य उपस्थित थे।




63
11094 Views
63
8589 Views
0 Shares
Comment
63
14143 Views
0 Shares
Comment
63
12574 Views
0 Shares
Comment
63
13893 Views
0 Shares
Comment
63
12241 Views
0 Shares
Comment