logo
(Trust Registration No. 393)
अपने विचार लिखें....

सीतापुर :जिले के थाना क्षेत्र रेउसा अन्तर्गत एक गांव मे लम्बे समय से मुख्य चकमार्ग पर दबंगों का था कज्बा ग्राम प्रधान के प्रयास तथा शासन प्रशासन के हस्तक्षेप से हटवाया गया अवैध कब्जा मनरेगा के तहत पटाई गई सड़क।
थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत सेउता के मजरा केवलपुरवा के दक्षिण को ग्राम पकौरी को जोड़ने तथा लोगो को अपने खेतों मे कृषि कार्य के लिए जुताई आदि के लिए चकबंदी मे चकमार्ग छोड़ा गया था जो अभी भू माफिया के कब्जे था
जानकारी के मुताबिक सन् 1973 मे तहसील बिसवां के गांव सेउता मे चकबंदी की शुरुआत हुई थी और चकबंदी का कार्य 1977 मे फाइनल हो गया था चकमार्ग तो छूट गया लेकिन गांव के एक जमीदार तालिब अली ने जबरन उस पर कब्जा कर रखा था जमीदारी अधिनियम लागू होने से सरकारी तौर पर तो जमीदारी समाप्त हो गई लेकिन सेउता के जमीदार तालिब अली की जमीदारी कायम रही और तमाम सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा बदस्तूर जारी रहा ग्रामीणो तथा चकमार्ग के आस पास के खेत मालिको ने चकमार्ग कब्जामुक्त के तमाम प्रयास किये लेकिन तालिब अली उर्फ गुड्डू मिर्जा पुत्र गालिब अली के दबंग रवैये के आगे सारे प्रयास बिफल रहे सरकार बदली सरकार के काम करने का तरीका बदला गांव की भी सरकार बदली सेउता ग्राम पंचायत की प्रधान अनीता पत्नी नन्दराम गौतम प्रधान बनी लोगो ने एक बार फिर रास्ते को कब्जामुक्त करने के लिए प्रयास करना शुरू किया उधर प्रदेश की योगी सरकार ने भी अवैध कब्जेदारो से सरकारी जमीन खाली कराने के निर्देश दिये जनता की शिकायत तथा सरकारी आदेश का अनुपालन करते हुए क्षेत्रीय बिधायक के सहयोग से ग्राम प्रधान प्रतिनिधि नन्दराम गौतम ने कार्यवाही शुरुकर तहसील को अवगत कराया इस पर क्षेत्रीय लेखपाल राकेश यादव ने पैमाइश की। पूरा चकमार्ग तालिब अली के खेत मे पड़ा। ग्राम पंचायत ने मनरेगा के तहत स्टीमेट पास कराकर उस पर तत्काल कच्ची ड़क पटाई करा दी सड़क पटाई के दौरान तालिब अली ने कार्य को अवरुध करने की पूरी कोशिश की लेकिन प्रशासन के आगे एक न चली यही नही तालिब अली ने अम्बेडर सरोवर निर्माण कार्य को भी रुकवाने के प्रयास किये वहां भी भू माफिया तालिब अली ने अबैध कब्जा कर रखा था कार्य कर रहे मजदूरो को डराया धमकाया अनुसूचित जाति के मजदूरो को मारा पीटा जिसमे तीन मजदूर घायल भी हुए एक मजदूर पर भू माफिया तालिब अली चाकू से जान लेवा हमला किया जैसा कि रामसेवक ने शिकायत मे दर्शाया है ।घायल रामसेवक पुत्र बांके की शिकायत पर तालिब अली के खिलाफ जान से मारने की धमकी दलित उत्पीड़न जैसी संगीन धाराओ मे मुकदमा पंजीकृत हुआ है लेकिन मुल्जिम तालिब अली अपनी ऊंची पहुंच के बदौलत आज भी खुलेआम घूम रहा है जांच चल रही है दबंग मुल्जिम के बाहर होते हुए निष्पक्ष जांच हो इस पर भी सवाल उठ रहा है भू माफिया से चकमार्ग कब्जामुक्त कर रास्ता बन जाने से ग्रामीण सरकार तथा पुलिस प्रशासन ग्राम प्रधान की काफी सराहना कर रहे है ।

0
0 views
  
1 shares