logo
(Trust Registration No. 393)
Write Your Expression

पंजाब के व्यापारियों-कारोबारियों को इंस्पेक्टरी राज से पूर्ण मुक्ति देगी ‘आप’ की सरकार : मनीष सिसोदिया

रूपनगर।
आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय नेता एवं दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने वीरवार को नवांशहर और रूपनगर (रोपड़) के दुकानदारों, व्यापारियों, कारोबारियों और उद्यमियों को भरोसा दिया कि तीन महीने बाद पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद प्रदेश के समूचे व्यापार-कारोबार को इंस्पेक्टरी राज से पूर्ण रूप से मुक्ति  मिल जाएगी।

इंस्पेक्टरी राज की आड़ में दुकानों, दफ्तरों और फैक्ट्रियों पर डाली जाती क्ववसूली रेड' (छापामारी) हमेशा के लिए बंद हो जाएंगी। 


अपने पांच दिवसीय पंजाब दौरे के आखिरी दिन मनीष सिसोदिया ने संवाद-चर्चा में कारोबारियों और उद्यमियों के साथ बातचीत कार्यक्रम के मौके पर दर्जनों व्यापारियों-कारोबारियों ने अपनी जरूरतों के साथ साथ दरपेश आ रही परेशानियों, समस्याएं और उनके ठोस समाधान भी सुझाए। छोटे-बड़े दुकानदारों से लेकर बड़े व्यापारियों और उद्यमियों ने पंजाब की सत्ता पर काबिज रही राजनीतिक पार्टियों के व्यापारी वर्ग के प्रति रवैए पर निराशा व्यक्त की और इंस्पेक्टरी राज से निजात पाने की मांग की।

इसी कारण हर स्तर पर व्यापारी-कारोबारी भ्रष्ट सरकारी सिस्टम से काफी दुखी है। पंजाब का व्यापारी-कारोबारी और उद्यमी इंस्पेक्टरी राज की आड़ में की जाने वाली वसूली और रेड से मुक्ति चाहता है, लेकिन इससे मुक्ति न तो पहले अकाली-भाजपा सरकार दिला सकी और न ही कांग्रेस की कैप्टन और चरणजीत सिंह चन्नी की सरकार व्यापारियों को इस लूट से निजात दिला सकी।
 
इस मौके पर संबोधित करते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा कि आम आदमी पार्टी की सरकार ने इंस्पेक्टरी राज जैसी भ्रष्ट परंपराओं के लिए कोई जगह नहीं है। दिल्ली में पिछले सात वर्षों का शासन मेरे इस दावे की गवाही देता है। इसलिए वर्ष 2022 में जैसे ही क्वआप' की सरकार बनेगी, उसी दिन इंस्पेक्टरी राज का अंत हो जाएगा। 

मनीष सिसोदिया ने कहा कि हमने दिल्ली में ऐसा करके दिखाया है और पंजाब में क्वआप' की सरकार बनते ही यहां भी करेंगे। पंजाब में भी सभी चोर खिड़कियां, जो दलालों का प्रवेश द्वार होती हैं, को बंद किया जाएगा। 

मनीष सिसोदिया ने कहा कि व्यापारी-कारोबारी व उद्यमी को अपने कामकाज चलाने के लिए शांतिपूर्ण माहौल की जरूरत होती है, उन्हें सरकार से अपने क्षेत्र के विकास और आर्थिक मदद की जरूरत पड़ती है, जो क्वआप' की सरकार पहले दिन से उपलब्ध कराएगी। क्योंकि क्वआप' ने वर्ष 2015 में पहली बार जब दिल्ली में सरकार बनाई तो दिल्ली का बजट महज 30 हजार करोड़ रूपये था लेकिन अरविंद केजरीवाल और अन्य मंत्रियों ने व्यापार जगत के लोगों समेत विभिन्न वर्गों से बैठक की और न केवल टैक्स को 12-13 प्रतिशत से घटाकर महज 5 प्रतिशत किया। इसके अलावा पांच वर्ष में दिल्ली का बजट 30 हजार करोड़ रू पये बढकऱ 60 हजार करोड़ रू पये पर पहुंच चुका है।

 
मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली में 144 सुविधाओं को डोर स्टेप किया गया और केवल 1076 पर संपर्क कर घर बैठे काम करवाने की परंपरा की शुरू आत की गई। इसी कारण मेरे घर पर भी एक बार सीबीआई का छापा पड़ा लेकिन ईमानदारी की ही मिसाल है कि अथक प्रयासों के बाद भी जांच एजेंसी को बैरंग लौटना पड़ा। सिसोदिया ने स्पष्ट किया कि पंजाब में क्वआप' की सरकार बनने पर एक नए पंजाब की इबारत लिखी जाएगी और उसके बाद पंजाब और पंजाबी सभी अन्य पार्टियों को भूल जाएंगे। मनीष सिसोदिया ने कहा कि यह सबकुछ तभी संभव है, जब व्यापारी-कारोबारी और उद्यमियों समेत हर वर्ग क्वआप' का साथ दे, क्योंकि उद्योग जगत खुशहाल होगी और तरक्की करेगा, तो ही रोजागार बढ़ेंगे और पंजाब खुशहाल बनेगा। 
इस दौरान ट्रेड एवं इंडस्ट्री जिला अध्यक्ष संजीव राणा, जिला अध्यक्ष हरमिंदर सिंह ढाहे, जिला सचिव राम कुमार मुकारी, हलका विधायक अमरजीत सिंह, प्रदेश प्रवक्ता वकील दिनेश चड्ढा, जिला खजांची सुरजन सिंह, जिला मीडिया इंचार्ज सुदीप विज, हलका इंचार्ज डॉ. चरणजीत सिंह, स्वर्ण सिंह सांपला, राजिंदर सिंह राजा, प्रदेश संयुक्त सचिव शहरी अध्यक्ष शिव कुमार लालपुरा, इवेंट इंचार्ज संदीप जोशी, जिला अध्यक्ष महिला विंग ऊषा रानी, जिला अध्यक्ष यूथ विंग कमिकर सिंह ढाडी,आप नेता जरनैल सिंह ओलख, हरप्रीत सिंह काहलों, संतोख सिंह वालिया, बलविंदर सिंह, रंजीत सिंह, सहेल सिंह, जसविंदर कौर शाही आदि शामिल रहे।

17
862 views